बकरीद त्योहार का महत्व क्या है?...


play
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:25

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मोहित जी जो बकरीद है वह मुस्लिमों का बहुत ही पेमेंट के हाल है और पीछे महत्व यह है कि देखिए इस दिन किसी जानवर की भेड़ बकरी ऊंट गायक किसी भी जानवर की बलि चढ़ाई जाती है मुस्लिमों के द्वारा मान्यता यह है कि हर कोई अमीर नहीं होता गरीब लोग भी होते हैं तो उसका महत्व यह कि जो भी बकरी चराई बलि चढ़ाई जाएगी उसमें से कुछ पोषण Flash का गरीब होते रहेगा कुछ आने की Wanted उसके बाद बाकी का Wanted रिलेटिव के बीच में बांटा जाएगा क्योंकि यह खुशी का और उल्लास बनाने का त्यौहार है और बचाव अंदर खुद की उसके लिए सेल्फी उसके लिए इस्तेमाल किया जाएगा इसके पीछे नहीं कर सकते जो लोग इतने अमीर नहीं है उन तक भी खाना पहुंचे उन तक भी सब चीज पहुंचे इसलिए जो भी मुस्लिम जिसके पास 90 ग्राम के बराबर 90 ग्राम सोने के बराबर मैं उनके पास इतना सोना है उतने पैसे हैं बोलो यह बलि देते हैं यह बलि चढ़ाते हैं तो यह इस त्यौहार का महत्व है कि सब के पास जो लोग गरीब है उनके पास भी और जो लोग नहीं और किसी के पास खाने को नहीं है उनके लिए भी तो हर महत्व रखते हैं कि जो अमीर लोगों को उनके बीच में बाटी अपने पास उनके पास जो कुछ भी है

mohit ji jo bakri eid hai vaah muslimo ka bahut hi payment ke haal hai aur peeche mahatva yah hai ki dekhiye is din kisi janwar ki bhed bakri unth gayak kisi bhi janwar ki bali chadhai jaati hai muslimo ke dwara manyata yah hai ki har koi amir nahi hota garib log bhi hote hain toh uska mahatva yah ki jo bhi bakri charai bali chadhai jayegi usme se kuch poshan Flash ka garib hote rahega kuch aane ki Wanted uske baad baki ka Wanted relative ke beech mein baata jaega kyonki yah khushi ka aur ullas banane ka tyohar hai aur bachav andar khud ki uske liye selfie uske liye istemal kiya jaega iske peeche nahi kar sakte jo log itne amir nahi hai un tak bhi khana pahuche un tak bhi sab cheez pahuche isliye jo bhi muslim jiske paas 90 gram ke barabar 90 gram sone ke barabar main unke paas itna sona hai utne paise hain bolo yah bali dete hain yah bali chadhate hain toh yah is tyohar ka mahatva hai ki sab ke paas jo log garib hai unke paas bhi aur jo log nahi aur kisi ke paas khane ko nahi hai unke liye bhi toh har mahatva rakhte hain ki jo amir logo ko unke beech mein bati apne paas unke paas jo kuch bhi hai

मोहित जी जो बकरीद है वह मुस्लिमों का बहुत ही पेमेंट के हाल है और पीछे महत्व यह है कि देखिए

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  176
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!