सृष्टि बनी है या किसी के द्वारा बनाई गई है, अगर बनाई गई है, तो उसका कारण क्या है?...


user
0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ईश्वर के द्वारा सृष्टि का निर्माण किया गया है और सृष्टि के निर्माण के पीछे यही कारण था कि एक सुंदर दुनिया वैसे उसमें प्रकृति के रूप से फोन प्राप्त हो जय हो जीव-जंतुओं मनुष्य और उसके बनाने के पीछे कारण यह था कि एक नया सुंदर लोग बसे और लोग यहां प्रेम भाई सुशील हैं और साथ ही ईश्वर की आराधना करें

ishwar ke dwara shrishti ka nirmaan kiya gaya hai aur shrishti ke nirmaan ke peeche yahi karan tha ki ek sundar duniya waise usme prakriti ke roop se phone prapt ho jai ho jeev jantuon manushya aur uske banane ke peeche karan yah tha ki ek naya sundar log base aur log yahan prem bhai sushil hain aur saath hi ishwar ki aradhana kare

ईश्वर के द्वारा सृष्टि का निर्माण किया गया है और सृष्टि के निर्माण के पीछे यही कारण था कि

Romanized Version
Likes  369  Dislikes    views  3412
WhatsApp_icon
10 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  25  Dislikes    views  294
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

61st बनाई गई सृष्टि बनाई गई है

61st banai gayi shrishti banai gayi hai

61st बनाई गई सृष्टि बनाई गई है

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user
2:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सृष्टि बनी है या किसी के द्वारा बनाई गई आपको बता देना चाहता है या करो वर्ष पहले रचना की गई थी जो आदमी या किसी के जिओ निवास करते हैं इस पर समय-समय पर जो है कहीं भूकंप कहीं विनाशकारी तूफान तो कहीं महामारी कुछ न कुछ आते रहते हैं जिसके कारण से यहां आप कह सकते हैं कि आपकी जो है नश्वर है यहां जिसने जन्म लिया है उसको एक ना एक दिन मरना पड़ता है इंडिया से आप कह सकते हो कि जो आया है वह उसको जाना जरूर है तो मैं आपको बता देना चाहता हूं कि हमारे पृथ्वी के पुराने समय में डायनासोर रहते थे और जब उन डायनासोर को पृथ्वी पर जो आप लोग कल्पना कर रहे हो अफवाहों के कारण कि चलता हो सॉरी 29 अप्रैल को दुनिया नष्ट हो जाएगी जो नक्षत्र में जो है जो पिंड पृथ्वी और आ रहा है तो वहां पर ही से होकर के गुजरी गाना कि वापिस तक रहेगा जैसे कि जब डायनासोर रहते हो उस समय में भी ऐसा ही पृथ्वी सी कोई पिंडा से टकराया था जिसके कारण डायनासोर जो थे हमारे पैसे खत्म हो गए थे तब फिर धीरे-धीरे जीवो की उत्पत्ति हुई और इस पर कैसे प्रकृति की रचना हुई और जीव-जंतु और अन्य प्राणी बढ़ने लगे और इसी जिले की रचना जो है सृष्टि के जो होता है ब्रह्मा जी द्वारा की गई

shrishti bani hai ya kisi ke dwara banai gayi aapko bata dena chahta hai ya karo varsh pehle rachna ki gayi thi jo aadmi ya kisi ke jio niwas karte hain is par samay samay par jo hai kahin bhukamp kahin vinashkari toofan toh kahin mahamari kuch na kuch aate rehte hain jiske karan se yahan aap keh sakte hain ki aapki jo hai nashwar hai yahan jisne janam liya hai usko ek na ek din marna padta hai india se aap keh sakte ho ki jo aaya hai vaah usko jana zaroor hai toh main aapko bata dena chahta hoon ki hamare prithvi ke purane samay me dinosaur rehte the aur jab un dinosaur ko prithvi par jo aap log kalpana kar rahe ho afavahon ke karan ki chalta ho sorry 29 april ko duniya nasht ho jayegi jo nakshtra me jo hai jo pind prithvi aur aa raha hai toh wahan par hi se hokar ke gujari gaana ki vaapas tak rahega jaise ki jab dinosaur rehte ho us samay me bhi aisa hi prithvi si koi pinda se takaraya tha jiske karan dinosaur jo the hamare paise khatam ho gaye the tab phir dhire dhire jeevo ki utpatti hui aur is par kaise prakriti ki rachna hui aur jeev jantu aur anya prani badhne lage aur isi jile ki rachna jo hai shrishti ke jo hota hai brahma ji dwara ki gayi

सृष्टि बनी है या किसी के द्वारा बनाई गई आपको बता देना चाहता है या करो वर्ष पहले रचना की गई

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  1098
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई चीज खुद से बनकर नहीं तैयार रहती रचना यदि हां तो उसका रचनाकार जरूर होगा लेकिन यह बात मैं नहीं जानता किस ने सृष्टि क्यों न लगे इतना जरूर कहूंगा की रचना किस का रचना काल होगा यदि निर्माता

koi cheez khud se bankar nahi taiyar rehti rachna yadi haan toh uska rachnakar zaroor hoga lekin yah baat main nahi jaanta kis ne shrishti kyon na lage itna zaroor kahunga ki rachna kis ka rachna kaal hoga yadi nirmaata

कोई चीज खुद से बनकर नहीं तैयार रहती रचना यदि हां तो उसका रचनाकार जरूर होगा लेकिन यह बात मै

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सृष्टि जो है प्रभु परमेश्वर ने अपनी खुशी में आकर बनाई है और परमात्मा की जरूरत नहीं है तो परमात्मा ने सृष्टि बनाई है अपनी खुशियां करके अपने ख्यालों में आकर के जब परमात्मा में देखा कि सभी रहे संसार में विचलित हो गई है अब मगन हो रही है यह तो वापस नहीं आ रही इसलिए बंद करना नहीं रूह को वापिस जाने के लिए अपने हाथ में संत महात्मा दूरसंचार परिजनों ने हमारे लिए कुर्बानी दी अपनी सीट बताएं जिला बड़वानी उसने अपने लहू का बदला दिया उसने अपने शरीर का बलिदान दिया परमात्मा परमात्मा परमात्मा देना क्योंकि परमात्मा का एक-एक अभी दोपहर हमारे लिए कहा परंतु हम नासमझी के कारण पैदल चलने के कारण हम जाने का कैसे बना इतना बड़ा सुहाना सफर और शाम के 11:30 बजे तक जान है तब तक अपना घर संसार में दो ही काम करती हैं कि परमात्मा और शैतान शाम के विश्वात्मा होते हैं जो हमें काफी कारणों से बनवा कर सकता है काम क्रोध मोह लोभ अहंकार के कारण इसके कारण हम संसार में ही उलझे रहते हैं परिवार में मुंह में 1 साल हो रही प्रभु से अलग हुए बताते हुए पर हमारा प्रभु ने हमें बापूधाम छपरा जाने के लिए काफी सुर्खियों से भेजा जिन्होंने अपनी कुर्बानी दी मार देंगे तभी समझ ना पाए उसे बचाने की कोशिश करता है आपको भी काम लीजिए आप फिल्म देखनी चाहिए कि आपका कितना मन लगेगा कि आप सच में जानना चाहेंगे तो आपका मन नहीं लगेगा तो और भाई कार्यों में मारा नहीं लगता है जब तक हमारी आत्मा बलराम नहीं होगी तब तक हमारा मन ऐसा ही नजारा पड़ेगा फिर भी आपने कहा था बंधन से अनंत अनंत है आपका फोटो किसने बनाई है क्या बनाई है उसका क्या कारण है परमात्मा वेकेशंस महात्मा जोधपुर में बता सकते हैं फिल्मी गाना अच्छे कर्म भी हम मरते हैं MP3 से ज्यादा मुझे करते हैं तो मैं बताता हूं पड़ सकता है संसार में तो मेरा तो यही मानना है तो यही है परमात्मा की बहुत जबरदस्त परमात्मा की शक्ति है आ जाइए कराना बारिश हो रही है गूगल पे परमात्मा नाम से विजेताओं के नाम से हमारे धर्म को अपने द्वारा जॉब मिल सकती है अपने समाज के लिए हमने कहा कल जो लड़का से बात नहीं करेगी सूत्रों के मुताबिक आवास योजना मम्मी ने प्यार दिया

shrishti jo hai prabhu parmeshwar ne apni khushi me aakar banai hai aur paramatma ki zarurat nahi hai toh paramatma ne shrishti banai hai apni khushiya karke apne khyalon me aakar ke jab paramatma me dekha ki sabhi rahe sansar me vichalit ho gayi hai ab mogun ho rahi hai yah toh wapas nahi aa rahi isliye band karna nahi ruh ko vaapas jaane ke liye apne hath me sant mahatma doorsanchar parijanon ne hamare liye kurbani di apni seat bataye jila badvani usne apne lahoo ka badla diya usne apne sharir ka balidaan diya paramatma paramatma paramatma dena kyonki paramatma ka ek ek abhi dopahar hamare liye kaha parantu hum nasamajhi ke karan paidal chalne ke karan hum jaane ka kaise bana itna bada suhana safar aur shaam ke 11 30 baje tak jaan hai tab tak apna ghar sansar me do hi kaam karti hain ki paramatma aur shaitaan shaam ke vishwatma hote hain jo hamein kaafi karanon se banwa kar sakta hai kaam krodh moh lobh ahankar ke karan iske karan hum sansar me hi ulajhe rehte hain parivar me mooh me 1 saal ho rahi prabhu se alag hue batatey hue par hamara prabhu ne hamein bapudham chapra jaane ke liye kaafi surkhiyon se bheja jinhone apni kurbani di maar denge tabhi samajh na paye use bachane ki koshish karta hai aapko bhi kaam lijiye aap film dekhni chahiye ki aapka kitna man lagega ki aap sach me janana chahenge toh aapka man nahi lagega toh aur bhai karyo me mara nahi lagta hai jab tak hamari aatma balaram nahi hogi tab tak hamara man aisa hi najara padega phir bhi aapne kaha tha bandhan se anant anant hai aapka photo kisne banai hai kya banai hai uska kya karan hai paramatma vekeshans mahatma jodhpur me bata sakte hain filmy gaana acche karm bhi hum marte hain MP3 se zyada mujhe karte hain toh main batata hoon pad sakta hai sansar me toh mera toh yahi manana hai toh yahi hai paramatma ki bahut jabardast paramatma ki shakti hai aa jaiye krana barish ho rahi hai google pe paramatma naam se vijetaon ke naam se hamare dharm ko apne dwara job mil sakti hai apne samaj ke liye humne kaha kal jo ladka se baat nahi karegi sootron ke mutabik aawas yojana mummy ne pyar diya

सृष्टि जो है प्रभु परमेश्वर ने अपनी खुशी में आकर बनाई है और परमात्मा की जरूरत नहीं है तो प

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सृष्टि ईश्वर के द्वारा बनाई गई है और यह कि हम को जैसा चाहे वैसा काम करवाता है और हमेशा है

shrishti ishwar ke dwara banai gayi hai aur yah ki hum ko jaisa chahen waisa kaam karwata hai aur hamesha hai

सृष्टि ईश्वर के द्वारा बनाई गई है और यह कि हम को जैसा चाहे वैसा काम करवाता है और हमेशा है

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  96
WhatsApp_icon
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दृष्टि बनी है या बनाई गई है यह एक बहुत ही रोचक विषय है भारतीय और संपूर्ण विश्व के जो वैज्ञानिक है वह इस सृष्टि को लेकर लगातार अध्ययन करते रहते हैं और उनके अध्ययन के अनुसार जो सृष्टि हैं यह एक आकाश में हुई घटना का नतीजा है आकाश में कोई पेंट के टकराने के कारण यह सारे ग्रह जो है यह उसी के टूटे हुए हिस्से माने जाते हैं और इसी प्रकार से संपूर्ण ब्रह्मांड की पृष्टि मानी जाती है कि इस प्रकार से ब्रह्मांड का सर्जन हुआ इसके अलावा भी कई सारी खोजें अभी चल रही है जो कि काफी पुराने समय से चलती आ रही है लेकिन अगर हम माने धर्म ग्रंथों की तो धर्म ग्रंथों के अनुसार जो सृष्टि है उसे स्वयं भगवान ने बनाया है यदि हम कुरान को देखते हैं तो कुरान में भी जो कहा है उसके अनुसार पहला जो मनुष्य बना था वह आदम उसका मुख्य नाम दिया गया है उसके इसी प्रकार बाइबिल में भी उसे आदम के नाम से संबोधित किया गया है कुरान में जो आदम का नाम है वह उनके धर्म के अनुसार प्रमुख नाम उसका आदम परंतु पीछे उसके जो उनके धर्म का उपनाम है वह जुड़ा हुआ है लेकिन बाइबल में सिर्फ आदम नाम से उसको परिचित कराया गया है लेकिन अगर हम हिंदू धर्म की बात मानते हैं तो इस धर्म के अनुसार सर्वप्रथम जो शिव पुराण का हम विक्रय देखते हैं तो उनका अर्थात निराकार स्वरूप चैन का स्वरूप धारण करने के बाद भगवान शिव ने अर्धनारीश्वर स्वरूप धारण किया फिर स्वयं को विभाजित करके मां शक्ति और सिम दोनों अलग हुए फिर उसके उपरांत उन्होंने अपने शरीर से ही विविध देवताओं को प्रकट किया और उन्हीं देवताओं में से भगवान ब्रह्मा और विष्णु को भी माना जाता है फिर भगवान विष्णु ब्रह्मा जी द्वारा सृष्टि की रचना किए जाने का जिक्र शिव पुराण में मिलता है जिसके अनुसार समस्त सृष्टि जो है उसको बनाने बनाने के बाद सबसे पहले उन्होंने 5 बालकों को नया उनकी रचना करी लेकिन उन्होंने उस समय ब्रह्मा जी का जो उद्देश्य था जो कि आपने पूछा है कि क्या कारण था सृष्टि को बनाने का तो यहां पर हमको कारण स्पष्ट किया हुआ मिलता है कि ब्रह्मा जी ने सृष्टि इसलिए बनाई थी ताकि जहां पर वह एक खेल का खेल सकें जिससे नैतिकता पूर्ण हो और इसी प्रकार जिस तरह बालक अक्सर खेला करते हैं तो उस समय ब्रह्मा जी ने जब इस खेल की रचना की तो सर्वप्रथम उन्होंने पांच बालक बनाएं तो जब उन्हें कहा कि तुम छुट्टी में रहो विचरण करो यहां पर और मेरी बन आई सृष्टि को आगे बढ़ाओ इसमें और मनुष्यों को उत्पन्न न करो ऐसी शक्तियां मैं तुम्हें दे देता हूं वगैरा वगैरा तो उस समय उन्होंने ब्रम्हदेव को अपना पिता कहा और कहा कि क्योंकि जो हमारी सिर्फ हम आपके पुत्र हैं अतः हम आपके ही जो दिशा निर्देश है जो कार्य आप करते हैं उसी कार्य के अनुसार हम चलेंगे हम रिश्ते करने में किसी प्रकार से रूचि नहीं रखते जोकर कर्म और धर्म हमारे पिता का है हम भी उसी धर्म पर चलेंगे ब्रह्मा जी से काफी नाराज हुए उन्होंने उन्हें पांचों को स्थापित कर दिया लेकिन उसके बाद उन्होंने फिर इस प्रकार की सृष्टि भगवान विष्णु और शिव की सहायता लेकर बनाई जिसमें सभी देवताओं का कुछ न कुछ योगदान रहा है इस प्रकार से इसकी का निर्माण शिव पुराण में मिलता है लेकिन भारतीय वैज्ञानिकों का कहना है कि जब पृथ्वी का निर्माण किया गया फिर से अंदर कुछ उस समय पृथ्वी के निर्माण के समय कुछ ऐसी घटनाएं हुई जिसके कारण यहां पर जीवन की उत्पत्ति हुई और उसी के कारण विविध प्रकार के जीव जंतु मनुष्य आदि का निर्माण हुआ परंतु उसमें सृष्टि के निर्माण का कोई कारण स्पष्ट नहीं होता है जितेंद्र का के सिद्धांत के अनुसार कई वैज्ञानिकों ने यह स्पष्ट करने का प्रयास किया है कि संसार के अंदर जितनी भी घटनाएं हुई वह सारी जीवन के इर्द-गिर्द घूमती हैं अर्थात जीवनी ब्रह्मांड का केंद्र उन्होंने बताया है और इस आधार पर पृथ्वी को समस्त ब्रह्मांड का केंद्र भी माना जाता था लेकिन बाद में दावा फेल हुआ इस रिसर्च को फेल किया गया कि प्रति जो है वह ब्रह्मांड का केंद्र नहीं है क्योंकि पृथ्वी सूर्य के चारों तरफ चक्कर लगाती है तो धर्म ग्रंथों में काफी हद तक कारण बताया गया है कि सृष्टि का निर्माण क्यों हुआ लेकिन जो वैज्ञानिक है अभी तक वह इस कारण का पता नहीं लगा पाए कि सृष्टि का निर्माण हुआ तो हुआ क्या जो सबसे पहले पिंड था जिस की टक्कर से सारे गृह बने हैं जिससे टुकड़े हैं सारे ग्रह वह सारे पिंड कहां से आए थे और वह पिंड क्या थे उनकी उपस्थिति कैसे हुई इस बारे में अभी तक किसी भी वैज्ञानिक को कुछ भी पता नहीं लग पाया 21st की रचना के कारणों को अभी तक समझ नहीं पाए हैं

drishti bani hai ya banai gayi hai yah ek bahut hi rochak vishay hai bharatiya aur sampurna vishwa ke jo vaigyanik hai vaah is shrishti ko lekar lagatar adhyayan karte rehte hain aur unke adhyayan ke anusaar jo shrishti hain yah ek akash me hui ghatna ka natija hai akash me koi paint ke takrane ke karan yah saare grah jo hai yah usi ke tute hue hisse maane jaate hain aur isi prakar se sampurna brahmaand ki prishti maani jaati hai ki is prakar se brahmaand ka Surgeon hua iske alava bhi kai saari khojen abhi chal rahi hai jo ki kaafi purane samay se chalti aa rahi hai lekin agar hum maane dharm granthon ki toh dharm granthon ke anusaar jo shrishti hai use swayam bhagwan ne banaya hai yadi hum quraan ko dekhte hain toh quraan me bhi jo kaha hai uske anusaar pehla jo manushya bana tha vaah aadam uska mukhya naam diya gaya hai uske isi prakar bible me bhi use aadam ke naam se sambodhit kiya gaya hai quraan me jo aadam ka naam hai vaah unke dharm ke anusaar pramukh naam uska aadam parantu peeche uske jo unke dharm ka upnaam hai vaah juda hua hai lekin bible me sirf aadam naam se usko parichit karaya gaya hai lekin agar hum hindu dharm ki baat maante hain toh is dharm ke anusaar sarvapratham jo shiv puran ka hum vikray dekhte hain toh unka arthat nirakaar swaroop chain ka swaroop dharan karne ke baad bhagwan shiv ne ardhnareshwar swaroop dharan kiya phir swayam ko vibhajit karke maa shakti aur sim dono alag hue phir uske uprant unhone apne sharir se hi vividh devatao ko prakat kiya aur unhi devatao me se bhagwan brahma aur vishnu ko bhi mana jata hai phir bhagwan vishnu brahma ji dwara shrishti ki rachna kiye jaane ka jikarr shiv puran me milta hai jiske anusaar samast shrishti jo hai usko banane banane ke baad sabse pehle unhone 5 baalakon ko naya unki rachna kari lekin unhone us samay brahma ji ka jo uddeshya tha jo ki aapne poocha hai ki kya karan tha shrishti ko banane ka toh yahan par hamko karan spasht kiya hua milta hai ki brahma ji ne shrishti isliye banai thi taki jaha par vaah ek khel ka khel sake jisse naitikta purn ho aur isi prakar jis tarah balak aksar khela karte hain toh us samay brahma ji ne jab is khel ki rachna ki toh sarvapratham unhone paanch balak banaye toh jab unhe kaha ki tum chhutti me raho vichran karo yahan par aur meri ban I shrishti ko aage badhao isme aur manushyo ko utpann na karo aisi shaktiyan main tumhe de deta hoon vagera vagera toh us samay unhone bramhadev ko apna pita kaha aur kaha ki kyonki jo hamari sirf hum aapke putra hain atah hum aapke hi jo disha nirdesh hai jo karya aap karte hain usi karya ke anusaar hum chalenge hum rishte karne me kisi prakar se ruchi nahi rakhte joker karm aur dharm hamare pita ka hai hum bhi usi dharm par chalenge brahma ji se kaafi naaraj hue unhone unhe panchon ko sthapit kar diya lekin uske baad unhone phir is prakar ki shrishti bhagwan vishnu aur shiv ki sahayta lekar banai jisme sabhi devatao ka kuch na kuch yogdan raha hai is prakar se iski ka nirmaan shiv puran me milta hai lekin bharatiya vaigyaniko ka kehna hai ki jab prithvi ka nirmaan kiya gaya phir se andar kuch us samay prithvi ke nirmaan ke samay kuch aisi ghatnaye hui jiske karan yahan par jeevan ki utpatti hui aur usi ke karan vividh prakar ke jeev jantu manushya aadi ka nirmaan hua parantu usme shrishti ke nirmaan ka koi karan spasht nahi hota hai jitendra ka ke siddhant ke anusaar kai vaigyaniko ne yah spasht karne ka prayas kiya hai ki sansar ke andar jitni bhi ghatnaye hui vaah saari jeevan ke ird gird ghoomti hain arthat jeevni brahmaand ka kendra unhone bataya hai aur is aadhar par prithvi ko samast brahmaand ka kendra bhi mana jata tha lekin baad me daawa fail hua is research ko fail kiya gaya ki prati jo hai vaah brahmaand ka kendra nahi hai kyonki prithvi surya ke charo taraf chakkar lagati hai toh dharm granthon me kaafi had tak karan bataya gaya hai ki shrishti ka nirmaan kyon hua lekin jo vaigyanik hai abhi tak vaah is karan ka pata nahi laga paye ki shrishti ka nirmaan hua toh hua kya jo sabse pehle pind tha jis ki takkar se saare grah bane hain jisse tukde hain saare grah vaah saare pind kaha se aaye the aur vaah pind kya the unki upasthitee kaise hui is bare me abhi tak kisi bhi vaigyanik ko kuch bhi pata nahi lag paya 21st ki rachna ke karanon ko abhi tak samajh nahi paye hain

दृष्टि बनी है या बनाई गई है यह एक बहुत ही रोचक विषय है भारतीय और संपूर्ण विश्व के जो वैज्ञ

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  259
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने आप बनी है

apne aap bani hai

अपने आप बनी है

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  45
WhatsApp_icon
user
0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो नमस्ते सृष्टि बनी हुई है और बनाई भी गई है और उसका कारण यही है कि सब सब इस प्रकृति का आनंद ले सकें और अपने अपने कर्म कर सकें अगर अच्छे कर्म करते हैं तो और अच्छा रहेगा बुरे कर्म करते हैं तो उस प्रकार से उसका जीवन चलेगा हर जनम चलेगा

hello namaste shrishti bani hui hai aur banai bhi gayi hai aur uska karan yahi hai ki sab sab is prakriti ka anand le sake aur apne apne karm kar sake agar acche karm karte hain toh aur accha rahega bure karm karte hain toh us prakar se uska jeevan chalega har janam chalega

हेलो नमस्ते सृष्टि बनी हुई है और बनाई भी गई है और उसका कारण यही है कि सब सब इस प्रकृति का

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!