क्या आप मुझे समझा सकते हैं की अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है?...


user

Ridhaan Panwar

Entrepreneur

2:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है तो दोस्तों अभिमान और स्वाभिमान में काफी ज्यादा अंतर है यह दोनों वर्ष देखते और पढ़ते तो लगभग एक जैसे हैं लेकिन इनमें काफी ज्यादा डिफरेंस है स्वाभिमान एक पॉजिटिव हमारा पॉजिटिव नेचर हमारा शो करता है और अभिमान लिखने के लिए नीचे शो करता है तो स्वाभिमान की बात करें तो स्वाभिमान होता है सिर्फ रिस्पेक्ट स्वाभिमान मतलब खुद की रिस्पेक्ट करना खुद की इज्जत करना खुद को प्यार करना कि जब आप खुद को प्यार करेंगे तभी तो भी आपको प्यार करेंगे और आप भी लोगों को प्यार करता है इसलिए सबसे जरूरी है कि आपके अंदर सरफेस तक होना चाहिए आपको अपने लिए रिस्पेक्ट हो मुझे पता भी तो भी आपको रिश्ता करेंगे दूसरा है अभिमान अभिमान का मतलब होता है और आउटपुट पॉजिटिव एंड नेगेटिव नेगेटिव बताओ देखने की टीवी में आ जाता है तो भैंस का रूप ले लेता है इन सब आदमी को छोटी सी कोई सक्सेस मिली तो वह थोड़ा प्राउड फील करता है फिर थोड़ा और मेरी तो और ज्यादा प्रमोट फिर करता है और उसके अंदर मिट्टी प्राउड आ जाता है और वह सोचता है कि मैं तेरे से बड़ा कोई नहीं है या मैं जो किया मैंने जो किया वह कोई नहीं कर सकता एक तरह से उसके अंदर आंकड़ा जाती है जैसे रामायण का एग्जांपल आफ ले सकते हैं रावण के अंदर बहुत ज्यादा अभिमान हो गया था उसे लगता था कि मेरा सामना कोई नहीं कर सकता मुझे कोई नहीं मार सकता और यही उसके अंत कारण कि कान्हा किसली अभिमान आपको कभी नहीं करना है यह आपको अंत की ओर ले जाता है आपको सक्सेस पाने के बाद खुशी मना सकते हैं ब्राउन भी फेल कर सकते हैं पटाखे ना आपने अपने लिखने से सुरेश चंद को ध्यान में रखते हैं अभिमान एक शराब पी पी के सो जाते हैं और आपको सिर्फ जाम रहता है कि हां मैं यह भी कर सकता हूं वह भी कर सकता हूं और इसी वजह से आप फिर मुंह के बाल कैसे करते हैं दोस्तों आपको स्वाभिमान को अपना बनाना है अपनाना है और अभिमान को फिर से दूर है

kya aap mujhe samjha sakte hain ki abhimaan aur swabhiman me kya antar hai toh doston abhimaan aur swabhiman me kaafi zyada antar hai yah dono varsh dekhte aur padhte toh lagbhag ek jaise hain lekin inmein kaafi zyada difference hai swabhiman ek positive hamara positive nature hamara show karta hai aur abhimaan likhne ke liye niche show karta hai toh swabhiman ki baat kare toh swabhiman hota hai sirf respect swabhiman matlab khud ki respect karna khud ki izzat karna khud ko pyar karna ki jab aap khud ko pyar karenge tabhi toh bhi aapko pyar karenge aur aap bhi logo ko pyar karta hai isliye sabse zaroori hai ki aapke andar surface tak hona chahiye aapko apne liye respect ho mujhe pata bhi toh bhi aapko rishta karenge doosra hai abhimaan abhimaan ka matlab hota hai aur output positive and Negative Negative batao dekhne ki TV me aa jata hai toh bhains ka roop le leta hai in sab aadmi ko choti si koi success mili toh vaah thoda proud feel karta hai phir thoda aur meri toh aur zyada promote phir karta hai aur uske andar mitti proud aa jata hai aur vaah sochta hai ki main tere se bada koi nahi hai ya main jo kiya maine jo kiya vaah koi nahi kar sakta ek tarah se uske andar akanda jaati hai jaise ramayana ka example of le sakte hain ravan ke andar bahut zyada abhimaan ho gaya tha use lagta tha ki mera samana koi nahi kar sakta mujhe koi nahi maar sakta aur yahi uske ant karan ki kanha kisli abhimaan aapko kabhi nahi karna hai yah aapko ant ki aur le jata hai aapko success paane ke baad khushi mana sakte hain brown bhi fail kar sakte hain patakhe na aapne apne likhne se suresh chand ko dhyan me rakhte hain abhimaan ek sharab p p ke so jaate hain aur aapko sirf jam rehta hai ki haan main yah bhi kar sakta hoon vaah bhi kar sakta hoon aur isi wajah se aap phir mooh ke baal kaise karte hain doston aapko swabhiman ko apna banana hai apnana hai aur abhimaan ko phir se dur hai

क्या आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है तो दोस्तों अभिमान और स्

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:41
Play

Likes  133  Dislikes    views  2661
WhatsApp_icon
user

Anil Bajpai

Writer | Publisher | Investor | Hotelier | Devloper

1:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है अभिमान वह है जो दूसरों को भी महसूस होता है और स्वाभिमान वह है जो सिर्फ हमको मालूम है ठीक है अभिमान कैसा जैसे कि दुर्योधन को शांत ऐसा जैसे रावण को था उसको सत्य बात भी समझ में ना आए उसको भी मानते हैं कि जैसे हमको किसी से कोई चीज नहीं लेनी सुबह हमारा किसी के सामने अनावश्यक नहीं देखना है वह स्वाभिमान है कोई गलत काम नहीं करना है वह स्वाभिमान है

kya aap mujhe samjha sakte hain ki abhimaan aur swabhiman me kya antar hai abhimaan vaah hai jo dusro ko bhi mehsus hota hai aur swabhiman vaah hai jo sirf hamko maloom hai theek hai abhimaan kaisa jaise ki duryodhan ko shaant aisa jaise ravan ko tha usko satya baat bhi samajh me na aaye usko bhi maante hain ki jaise hamko kisi se koi cheez nahi leni subah hamara kisi ke saamne anavashyak nahi dekhna hai vaah swabhiman hai koi galat kaam nahi karna hai vaah swabhiman hai

क्या आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है अभिमान वह है जो दूसरों

Romanized Version
Likes  115  Dislikes    views  1110
WhatsApp_icon
user

डा आचार्य महेंद्र

Astroloser,Vastusastro,pravchankarta

4:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है वास्तव में देखे तो अभिमान और स्वाभिमान बहुत निकट के शब्द है किंतु उनमें जो दूरियां है वह बहुत बड़ी स्वाभिमान का मतलब है विनम्रता के साथ अपने को मिली हुई वस्तु का अभिमान रखना और जबकि अभिमान का मतलब यह होता है दृष्टि ता पूर्वक मिले हुए अपने पद एवं वस्तुओं का अत्यधिक घमंड कर करके दूसरे को उसे अपने आप में कुछ नीचा दिखाने का भाव मेरे को याद है कि मारवाड़ मुंडवा राजस्थान के पंडित जी थे और उनका लड़का सरकारी सेवा में सेलेक्ट हो गया अच्छी पोस्ट थी उससे सरकारी सेवा को उस लड़के ने ज्वाइन कर लिया जब उस व्यक्ति के वृद्ध पिता को मालूम चला कि मेरे लड़के ने सरकारी सेवा को स्वीकार कर लिया है वह 1 मिनट भी अपने घर में रुके और अपने लड़के के पास गए और उसे अपने स्वाभिमान की दुहाई देते हुए कहा कि मैं एक ब्राह्मण हूं और ब्राह्मण उस सरकार की सेवा में नहीं रह सकता जहां पर वह मांस का विक्रीकर करके राजस्व वसूल किया जा सकता है अपने पुत्र को हम ब्राह्मणों के स्वाभिमान को समझाते हुए नौकरी से तुरंत हटने का आग्रह किया उसी ब्राह्मण ने अपने ग्राम में एक सामान्य परिवार ने जब आमंत्रित कर कर के शादी के लिए जीने के लिए कहा तो वह उसके घर में ब्राह्मण तो होने का स्वाभिमान समझ कर के और जीने के लिए चला जाता है वैसे बुरा नहीं मानता वह दूसरी तरफ ए के पैसे वाला व्यक्ति उसे अपने घर बुलाना चाहता है तो उसके घर पर नहीं जाता वहीं दूसरी तरफ कोई व्यक्ति के स्टैंड जैसे कर करके किसी अच्छे पद पर पहुंच जाता है और दूसरे व्यक्तियों को अपने ब्राह्मणों का झूठा अभिमान दिखाता है तो उस व्यक्ति को स्वाभिमान न करके कह कर के अभिमान बोला जाएगा स्वाभिमान का सीधा साधा था अपने श्वेता अभिमान रखना बिना किसी की ईर्ष्या द्वेष के साथ बिना किसी की भावनाओं को दबाने के साथ और अभिमान का मतलब होता है आप प्राप्त विषय वस्तु संपत्ति पद का अहंकार करना जिससे दूसरों को भावनाओं में कुछ मलिलता महसूस हो

kya aap mujhe samjha sakte hain ki abhimaan aur swabhiman me abhimaan aur swabhiman me kya antar hai vaastav me dekhe toh abhimaan aur swabhiman bahut nikat ke shabd hai kintu unmen jo duriyan hai vaah bahut badi swabhiman ka matlab hai vinamrata ke saath apne ko mili hui vastu ka abhimaan rakhna aur jabki abhimaan ka matlab yah hota hai drishti ta purvak mile hue apne pad evam vastuon ka atyadhik ghamand kar karke dusre ko use apne aap me kuch nicha dikhane ka bhav mere ko yaad hai ki marwad mundwa rajasthan ke pandit ji the aur unka ladka sarkari seva me select ho gaya achi post thi usse sarkari seva ko us ladke ne join kar liya jab us vyakti ke vriddh pita ko maloom chala ki mere ladke ne sarkari seva ko sweekar kar liya hai vaah 1 minute bhi apne ghar me ruke aur apne ladke ke paas gaye aur use apne swabhiman ki duhaai dete hue kaha ki main ek brahman hoon aur brahman us sarkar ki seva me nahi reh sakta jaha par vaah maas ka vikrikar karke rajaswa vasool kiya ja sakta hai apne putra ko hum brahmanon ke swabhiman ko smajhate hue naukri se turant hatane ka agrah kiya usi brahman ne apne gram me ek samanya parivar ne jab aamantrit kar kar ke shaadi ke liye jeene ke liye kaha toh vaah uske ghar me brahman toh hone ka swabhiman samajh kar ke aur jeene ke liye chala jata hai waise bura nahi maanta vaah dusri taraf a ke paise vala vyakti use apne ghar bulana chahta hai toh uske ghar par nahi jata wahi dusri taraf koi vyakti ke stand jaise kar karke kisi acche pad par pohch jata hai aur dusre vyaktiyon ko apne brahmanon ka jhutha abhimaan dikhaata hai toh us vyakti ko swabhiman na karke keh kar ke abhimaan bola jaega swabhiman ka seedha saadha tha apne shweta abhimaan rakhna bina kisi ki irshya dvesh ke saath bina kisi ki bhavnao ko dabane ke saath aur abhimaan ka matlab hota hai aap prapt vishay vastu sampatti pad ka ahankar karna jisse dusro ko bhavnao me kuch malilata mehsus ho

क्या आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर ह

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
user

Dr.Nisha Joshi

Psychologist

1:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आप मुझे आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है जी हां जरूर एक छोटा सा दोनों में छोटा छोटा सा एग्जांपल विकेट बचे अभिमान किसी चीज का स्कूल में पढ़ते हो आप का फर्स्ट नंबर आता ही जा रहा है आता ही जा रहा है आपको गर्व हो रहा है उसके गर्भ में से जरूर आपको बीमार हो रहा है इस क्लास में हर जगह मेरा ही फर्स्ट नंबर आता है मैं ही सब कुछ करती हूं मैं ही सब कुछ करता हूं तो वह आपको उस चीज का अभिमान चढ़ा है कि नहीं सर वह मेरे अलावा और कोई नहीं हो सकता इस स्कूल में इस क्लास में बाकी सब लोग कुछ नहीं कर पाते सिर्फ मैं ही हूं मेरा ही फर्स्ट नंबर नहीं आगे बढ़ेगा वह कभी मान अभिमान क्या है आपको पैसों की जरूरत है लेकिन अब किसी के पास पैसे नहीं मांगे ठीक है हाउस के सामने हाथ नहीं चलाते और जितने में उतने में पूरा करते एक टाइम अगर आप को बुखार सुना पड़ी तब को खुश हो जाओगे लेकिन किसी से पैसे नहीं लोगे क्योंकि उसमें आपका स्वाभिमान के पैसे नहीं दूंगी मैं पैसे मैं जितने में उतने में ही पूरा करोगी उसे बोलते हैं साथ ही मान अभिमान और स्वाभिमान में यही फर्क है कि छोटे बच्चों जैसा मैंने आपको जो एग्जांपल दे उससे आपको स्वाभिमान और अभिमान के बारे में क्या अंतर है वह पता चल गया होगा ठीक है आपका दिन शुभ हो धन्यवाद

kya aap mujhe aap mujhe samjha sakte hain ki abhimaan aur swabhiman mein kya antar hai ji haan zaroor ek chota sa dono mein chota chota sa example wicket bache abhimaan kisi cheez ka school mein padhte ho aap ka first number aata hi ja raha hai aata hi ja raha hai aapko garv ho raha hai uske garbh mein se zaroor aapko bimar ho raha hai is class mein har jagah mera hi first number aata hai main hi sab kuch karti hoon main hi sab kuch karta hoon toh vaah aapko us cheez ka abhimaan chadha hai ki nahi sir vaah mere alava aur koi nahi ho sakta is school mein is class mein baki sab log kuch nahi kar paate sirf main hi hoon mera hi first number nahi aage badhega vaah kabhi maan abhimaan kya hai aapko paison ki zaroorat hai lekin ab kisi ke paas paise nahi mange theek hai house ke saamne hath nahi chalte aur jitne mein utne mein pura karte ek time agar aap ko bukhar suna padi tab ko khush ho jaoge lekin kisi se paise nahi loge kyonki usmein aapka swabhiman ke paise nahi dungi main paise main jitne mein utne mein hi pura karogi use bolte hain saath hi maan abhimaan aur swabhiman mein yahi fark hai ki chhote bacchon jaisa maine aapko jo example de usse aapko swabhiman aur abhimaan ke bare mein kya antar hai vaah pata chal gaya hoga theek hai aapka din shubha ho dhanyavad

क्या आप मुझे आप मुझे समझा सकते हैं कि अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है जी हां जरूर एक

Romanized Version
Likes  412  Dislikes    views  5096
WhatsApp_icon
play
user

Dr Anil Goyal

Rehabilitation Psychologist

1:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले self-respect तो हम अच्छी तरह से करते हैं जो भगवान ने हम इंसानों को जैसे बनाया है तो उसके अकॉर्डिंग हमारी हर एक सुमन बीन की रिस्पेक्ट है जो उसकी ड्यूटी है ना गाड़ी सेल्फ रिस्पेक्ट अगर मैं अपनी सेल्फ रिस्पेक्ट कर रहा हूं जाता हूं अगर मैं अपने आप को पॉजिटिव लाइफ में देख रहा हूं तो मेरे को अपनी सेल्फ रिस्पेक्ट को मेंटेन कराने के लिए जो बिहेवियर सोसाइटी में करना चाहिए तो वह भी मेरे लिए जैसे राइटफुल सेल्फ रिस्पेक्ट के लिए अकॉर्डिंग्ली मेरी रिस्पांसिबिलिटी सेल्फ रिस्पेक्ट है अपनी नजर में भी बनी रहे तो मैं अपना मुरली गुड बिहेवियर करूं तो सेल्फ रिस्पेक्ट बनी रहेगी दूसरी बात है प्राइड जो प्राइड है कि कंपोनेंट ऑफ सेल्फ रिस्पेक्ट पर प्राइड के लिए एक तो रियल प्राइड होता है जैसे कि हम कहते हैं कि वही प्राउड ऑफ माय सख्त है यह तो रियल प्राउड है एक प्राईड जो आप बात कर रहे हैं जो जिसको हम थोड़ा रोगेटरी देर में देखते हैं उसमें क्या होता है हम अपनी रिस्पेक्ट करते हैं किसी दूसरे को डिफ्यूज करते

sabse pehle self respect toh hum achi tarah se karte hain jo bhagwan ne hum insanon ko jaise banaya hai toh uske according hamari har ek suman bean ki respect hai jo uski duty hai na gaadi self respect agar main apni self respect kar raha hoon jata hoon agar main apne aap ko positive life mein dekh raha hoon toh mere ko apni self respect ko maintain karane ke liye jo behaviour society mein karna chahiye toh vaah bhi mere liye jaise raitful self respect ke liye akardingli meri responsibility self respect hai apni nazar mein bhi bani rahe toh main apna murli good behaviour karun toh self respect bani rahegi dusri baat hai pride jo pride hai ki kamponent of self respect par pride ke liye ek toh real pride hota hai jaise ki hum kehte hain ki wahi proud of my sakht hai yah toh real proud hai ek praid jo aap baat kar rahe hain jo jisko hum thoda rogetari der mein dekhte hain usmein kya hota hai hum apni respect karte hain kisi dusre ko diffuse karte

सबसे पहले self-respect तो हम अच्छी तरह से करते हैं जो भगवान ने हम इंसानों को जैसे बनाया है

Romanized Version
Likes  117  Dislikes    views  1507
WhatsApp_icon
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं बहुत ही आसान तरीके से आपको यह समझाने की कोशिश करती हूं स्वाभिमान तब कहां जाता है जब आप स्वयं को मानदेय जब आप स्वयं की इज्जत करें अपने आप वैल्यू दे और अभिमान तब होता है जब आप अपने आप को वैल्यू देते हुए सामने किसी और को वैल्यू नहीं दे रहे जब आप सिर्फ खुद की वैल्यू कर रहे हैं तो उसे अभिमान कहते हैं

main bahut hi aasaan tarike se aapko yah samjhaane ki koshish karti hoon swabhiman tab kahaan jata hai jab aap swayam ko manday jab aap swayam ki izzat karen apne aap value de aur abhimaan tab hota hai jab aap apne aap ko value dete hue saamne kisi aur ko value nahi de rahe jab aap sirf khud ki value kar rahe hain toh use abhimaan kehte hain

मैं बहुत ही आसान तरीके से आपको यह समझाने की कोशिश करती हूं स्वाभिमान तब कहां जाता है जब आप

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  360
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वाभिमानी सेल्फ रिस्पेक्ट और अभिमान का मतलब है कोई बहुत ज्यादा है तो प्रिंट हो गया हो गया तो इसका मतलब तो जरूरी है क्योंकि सेल्फी बिना हम आगे नहीं बढ़ सकते हमारे अंदर कॉन्फिडेंस उसी से आता है हमारे अंदर दूसरों को रिस्पेक्ट करना भी आता है तो चल फिर से का मतलब है कि कुछ चीजें ऐसी हैं जो नहीं करेंगे कुछ गलत बात नहीं करेंगे कोई हमारे साथ ज्यादा कोई अनरीजनेबल बात कर रहा है तो हम उससे कोई लड़ जगह की बात नहीं करेंगे कोई लोड लेवल की बात नहीं करेंगे लेकिन हम अपनी डिग्निटी को मेंटेन करते हुए फॉर्म न सकेंगे स्वाभिमान हमारा बना रहता है गुडविल बना रहता है लोग हमें रिस्पेक्ट करते हैं और स्वाभिमान बहुत जरूरी होता कई बार लोग बड़े लोग से गुजरते हैं लेकिन अपना सेल्फ रिस्पेक्ट को देते तू जब हमारा कोई टोपी रेट भी आते हैं डाउन कोई बहुत ज्यादा मुश्किल लाइफ पीरियड आता है तभी हमें स्वाभिमान बनाकर रखना और अभिमान स्क्रीन की लाइट कम बिफोर ऑफ ऑल दैट मेड यू कम टू प्राऊड ज्यादा अपने आप को समझने लगे यारों कंस रखें कहते हैं कि अगर आपकी लाइफ की सीडी के ऊपर चल रहे हैं तो कुछ लोग आपको मिलेंगे अगर आप उनके साथ अच्छे नहीं है तो वह वापसी में जवाब नीचे आ रहे हैं लाइफ में तो भी वही लोग मिलेंगे तब उनको तो याद रहेगा ना कि आप अच्छे नहीं थे और अब आप डाउन खोलते हैं तो बहुत ज्यादा आपके साथ रहेंगे जो भी अरविंद नहीं होना मैं ज्यादा अभिमान नहीं करता उससे हम डाउनफॉल योगा स्वाभिमान अभिमानी होने से हमें क्या होगा कि अपनी पिक ने सिर्फ को नहीं देख पाएंगे हम अपनी फ्रेंड को समझते रहेंगे कि हम तो बहुत अच्छे हैं बढ़िया तो फिर भी कहते हैं कि आगे बढ़ना चाहिए मजबूती से और तुलसी और स्वाभिमान लेकिन ज्यादा अभिमान नहीं हो

svaabhimaani self respect aur abhimaan ka matlab hai koi bahut zyada hai toh print ho gaya ho gaya toh iska matlab toh zaroori hai kyonki selfie bina hum aage nahi badh sakte hamare andar confidence usi se aata hai hamare andar dusron ko respect karna bhi aata hai toh chal phir se ka matlab hai ki kuch cheezen aisi hain jo nahi karenge kuch galat baat nahi karenge koi hamare saath zyada koi unreasonable baat kar raha hai toh hum usse koi lad jagah ki baat nahi karenge koi load level ki baat nahi karenge lekin hum apni dignity ko maintain karte hue form na sakenge swabhiman hamara bana rehta hai goodwill bana rehta hai log hamein respect karte hain aur swabhiman bahut zaroori hota kai baar log bade log se gujarate hain lekin apna self respect ko dete tu jab hamara koi topi rate bhi aate hain down koi bahut zyada mushkil life period aata hai tabhi hamein swabhiman banakar rakhna aur abhimaan screen ki light kam before of all that made you kam to praud zyada apne aap ko samjhne lage yaaron kans rakhen kehte hain ki agar aapki life ki CD ke upar chal rahe hain toh kuch log aapko milenge agar aap unke saath acche nahi hai toh vaah wapsi mein jawab neeche aa rahe hain life mein toh bhi wahi log milenge tab unko toh yaad rahega na ki aap acche nahi the aur ab aap down kholte hain toh bahut zyada aapke saath rahenge jo bhi arvind nahi hona main zyada abhimaan nahi karta usse hum downfall yoga swabhiman abhimani hone se hamein kya hoga ki apni pic ne sirf ko nahi dekh payenge hum apni friend ko samajhte rahenge ki hum toh bahut acche hain badhiya toh phir bhi kehte hain ki aage badhana chahiye majbuti se aur tulsi aur swabhiman lekin zyada abhimaan nahi ho

स्वाभिमानी सेल्फ रिस्पेक्ट और अभिमान का मतलब है कोई बहुत ज्यादा है तो प्रिंट हो गया हो गया

Romanized Version
Likes  234  Dislikes    views  3933
WhatsApp_icon
user

Jigar Doshi

Life Coach

2:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सारे लोगों के सवाल के जवाब सुन लो समझ लो उसके बाद यह सुनना अपने आप अंतर मिल जाएगा अभिमान स्वाभिमान किसने बनाया भैया दुनिया में आकर हम ही लोगों ने बनाया ना भगवान ने जब ऊपर से नीचे भेजा था तो ऐसा कुछ दिमाग में डाल कर भेजा था इसकी कोई लिमिट बांध के भेजा था इतना इतना कोई बोलेगा तो अभिमान कहलाएगा इतना इतना कोई नहीं बोलेगा तो स्वाभिमान कल आएगा क्या बात कर रहे हैं इस घटिया सोच हम इंसानों ने पैदा की है अपने अपने हिसाब से 50 60 70 साल के बाद जब मर जाएंगे राख बन जाएंगे यह जमीन के नीचे दफन हो जाएंगे तब आएगा कोई अभिमान है स्वाभिमान तब वहां से हम लोग यह बोलेंगे कि नहीं नहीं नहीं मेरी चिता में तो हजार लकड़ी रखनी दी आपने 800 की रखी मैं वापस खड़ा हो जाऊंगा वापस वापस आऊंगा ऐसा कर सकते हो तो किस चीज का अभिमान और किस चीज का स्वाभिमान चुपचाप आराम से जिओ मधु जिओ खुशियों के पल जिंदगी में इकट्ठा करो बाकी अभिमान स्वाभिमान जैसा कुछ नहीं है जब जरूरत होती है और मन के अंदर बहुत ज्यादा अपने आप को कुछ भी बेस्ट या समथिंग समझ लिया होता है ओके नौकरी करनी पड़ जाती है तो वही अभिमान स्वाभिमान बनाकर जीना पड़ता है बॉस अगर डांटता है तो चुपचाप सहना पड़ता क्योंकि सामने परिवार खड़ा है इनकी जरूरतों को पूरा करना तब कहां जाता है अभिमान तब हम अपने अभिमान का जो लेवल है वह थोड़ा नहीं चला लेते चलो छोड़ो चलो यह भी तो चलाना है तो क्या होता है हम अपने हिसाब से रोज अभिमान स्वाभिमान को बदलते रहते हैं अपने आपको खुद भी अहित करते रहते हकीकत में कुछ है ही नहीं हमारी हंकार की परिभाषाएं है और कुछ नहीं हमारे मन के अंदर अहंकार है एक मनुष्य की तरह हम अपने आपको करता की तरह देखते हैं हम सिर्फ ट्रस्टी है यह बॉडी के बाकी कुछ नहीं है बाकी सब ऊपर वाला कराया को प्रकृति की कोई अदृश्य शक्ति कर रही है चुपचाप आराम से जिंदगी जिंदगी जीना और खुशियों के पल इकट्ठा करना यही जीवन है उसमें कहीं अभिमान स्वाभिमान नहीं आता ऊपर चले जाओगे तब हो जाएगा सोचो जरा आराम से और अपने मन को शांत रखो बस खुश रखो चौबीसों घंटे तक के आसपास का वातावरण भी प्रफुल्लित रहेगा और जहां रहोगे वहां पर भी कच्छावा बनेगा जिसमें लोग आपकी सराहना भी करेंगे क्या भैया आता है यह तो माहौल खुशनुमा रहता है कुछ रहता है लोग स्माइल और पील अच्छा करते क्यों क्योंकि आपका और अच्छा है आपके वाइब्रेशन सच्चे हैं इतना कर लोगे अपने आप भगवान को पा लोगे और वहीं पर अभिमान स्वाभिमान जाकर दिखाना यहां दिखाने की कोई जरूरत ही नहीं है बस खुश रहना जरूरी है जय हिंद वंदे मातरम

saare logo ke sawaal ke jawab sun lo samajh lo uske baad yah sunana apne aap antar mil jaega abhimaan swabhiman kisne banaya bhaiya duniya me aakar hum hi logo ne banaya na bhagwan ne jab upar se niche bheja tha toh aisa kuch dimag me daal kar bheja tha iski koi limit bandh ke bheja tha itna itna koi bolega toh abhimaan kehlaega itna itna koi nahi bolega toh swabhiman kal aayega kya baat kar rahe hain is ghatiya soch hum insano ne paida ki hai apne apne hisab se 50 60 70 saal ke baad jab mar jaenge raakh ban jaenge yah jameen ke niche dafan ho jaenge tab aayega koi abhimaan hai swabhiman tab wahan se hum log yah bolenge ki nahi nahi nahi meri chita me toh hazaar lakdi rakhni di aapne 800 ki rakhi main wapas khada ho jaunga wapas wapas aaunga aisa kar sakte ho toh kis cheez ka abhimaan aur kis cheez ka swabhiman chupchap aaram se jio madhu jio khushiyon ke pal zindagi me ikattha karo baki abhimaan swabhiman jaisa kuch nahi hai jab zarurat hoti hai aur man ke andar bahut zyada apne aap ko kuch bhi best ya something samajh liya hota hai ok naukri karni pad jaati hai toh wahi abhimaan swabhiman banakar jeena padta hai boss agar daantata hai toh chupchap sahna padta kyonki saamne parivar khada hai inki jaruraton ko pura karna tab kaha jata hai abhimaan tab hum apne abhimaan ka jo level hai vaah thoda nahi chala lete chalo chodo chalo yah bhi toh chalana hai toh kya hota hai hum apne hisab se roj abhimaan swabhiman ko badalte rehte hain apne aapko khud bhi ahit karte rehte haqiqat me kuch hai hi nahi hamari hankar ki paribhashayen hai aur kuch nahi hamare man ke andar ahankar hai ek manushya ki tarah hum apne aapko karta ki tarah dekhte hain hum sirf trustee hai yah body ke baki kuch nahi hai baki sab upar vala karaya ko prakriti ki koi adrishya shakti kar rahi hai chupchap aaram se zindagi zindagi jeena aur khushiyon ke pal ikattha karna yahi jeevan hai usme kahin abhimaan swabhiman nahi aata upar chale jaoge tab ho jaega socho zara aaram se aur apne man ko shaant rakho bus khush rakho chaubison ghante tak ke aaspass ka vatavaran bhi prafullit rahega aur jaha rahoge wahan par bhi kacchava banega jisme log aapki sarahana bhi karenge kya bhaiya aata hai yah toh maahaul khushnuma rehta hai kuch rehta hai log smile aur pill accha karte kyon kyonki aapka aur accha hai aapke vibration sacche hain itna kar loge apne aap bhagwan ko paa loge aur wahi par abhimaan swabhiman jaakar dikhana yahan dikhane ki koi zarurat hi nahi hai bus khush rehna zaroori hai jai hind vande mataram

सारे लोगों के सवाल के जवाब सुन लो समझ लो उसके बाद यह सुनना अपने आप अंतर मिल जाएगा अभिमान स

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
user
9:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वाभिमान अच्छा क्या अभिमान अच्छा आई एस आई इंडियन एंबेसी न्यू सर्विस एडमिनिस्ट्रेटिव किसके अंतर्गत आती है राष्ट्रपति के अंदर का लेकिन आप का ट्रांसफर कौन करता है गुंडे लोग एक मामूली एमिल क्या चीज है जनता को पैसा देकर चुन कर आया हूं इसको आप आईएएस आईपीएस अधिकारी कब समझेंगे इसलिए आप आम जनता का भला नहीं कर सकती गाड़ी बंधु बांग्ला मान तो सब कुछ आपके पास है उसके सामने आप स्वाभिमान बिक्री करके हर जो स्वाभिमान बिक्री करता है उसके बसा अभिमान आता है मुझे कौन पूछने वाला है मेरी पिक्चर है ना वह अब लेकिन स्वाभिमानी रहना है तो कई जगह ट्रांसफर बांग्ला बनने की खासियत नहीं रहती तनखा जीवनी घर वालों ने क्या इज्जत नहीं रहती सही तन के में टॉप स्वाभिमान बिक्री करके तब आपको अभिमान आता है घर बनते मेरा घर हो गया बच्चों को डॉक्टर होना क्या जनाब स्वाभिमान बिक्री नहीं करोगे सब कुछ भी नहीं कर सकते लेकिन शान से जिंदगी जी सकते हैं अब देखना है क्या एक आईपीएस अफसर है आईएएस अफसर है महाराष्ट्र में सोनोग्राफी तुकाराम मुंडे मंत्रियों को विधान भवन में विधान परिषद में मतदान लेना पड़ा वोटिंग लेना पड़ा उसको ट्रांसफर करने के लिए हर 1 साल में उसका ट्रांसफर करते क्यों अपने स्वाभिमान को बिक्री नहीं करता स्वाभिमान बिक्री नहीं करने वाला आदमी किसी नैतिकता निचले स्तर के आदमी को उसके नजर रतन निचले स्तर के आदमी को दुश्मन बिक्री करता है स्टैंडर्ड में जाता है तू स्वाभिमान में ना भी मन में फर्क बहुत कुछ है स्वाभिमान के पास अभिमान नहीं रहता ना अभिमान के पास स्वाभिमान नहीं रहता इसको कोई चेंज करेगा इसके तकरार कौन करेगा आपके पास पावर है ना पावली शिक्षण मारना आपके पास जितने पावर है जनता के नेता नहीं को 10 मिनट में अंदर कर सकते हो जो पावर लेकिन वह आपके ऊपर दबाव डालकर आपके स्वाभिमान को तेज पहुंचने वाले आदमी के पास अब रह सकते हैं पंजाबी सॉन्ग MP3 करते उसके बाद प्रतिज्ञा नहीं करते करते हैं आईपीएस रहो आईएस नो सब्रो गरीबों को चिंता ता चिता तकलीफ देंगे निश्चित तौर पर चौकशी नहीं करते या ताकि जीव जड़ी करना कि वो ट्रांसफर कर दे गुंजन यातायात आपके पास नहीं आता है आपके पास इसको चेंज करो आप आइए से राष्ट्रपति सविधान को पत्नी को राष्ट्रपिता दिन चुनौती आपने लिखा हुआ कोई जज ने काट सकता अपने लिखे हुए नोट को कोई नकार नहीं सकता रिजेक्ट नहीं कर सकता उन्हें राष्ट्रपति के अलावा यह पावर किस ने दिखाया कि हिंदुस्तान में आज तक तो नहीं मुझे यशवंत चांद एक आईपीएस अफसर मिला था उसने यह बातें बताई थी रेलवे स्टेशन के ऊपर 3 घंटा डेड 10 दिन तक मैं कौन हूं और बाकी इंदिरा गांधी से टकराया था आपको बता दूं गुवाहाटी रेलवे स्टेशन मैं यहां से नहीं लूंगा तुम चाहे कुछ भी करो नौकरी चली गई पड़ेगा लेकिन मैं यहां से नहीं मिलूंगा ऐसा कोई आईईएस आईपीएस अफसर है सीधा डायरेक्ट तो लिखा राष्ट्रपति को इंदिरा गांधी चित्र करने वाला उपाय लाभशंकर मेरी नजर में अरे उसने अपने मन की बात करके दिखाइए पीएम तक ने डरा कोविड-19 पीएम ऐसा कोई काम करो ना जनता की भलाई के लिए अपने आदमी रहने के लिए आदमी के लिए स्वाभिमानी स्वाभिमानी स्वाभिमान कब दिखी होते आपको मालूम ही नहीं होता कुल टकराया नहीं टकराए अभी तक अगर तुम्हारे दिल को ऊंचा है तेरे को आज इधर का उधर कल उधर फिर भी वह डरता नहीं है किधर ही चलेगा उचित चमक नहीं चाहिए शाइनिंग में चाहिए वह खुद हो गए स्वाभिमान कपड़ा पहनने की से नींद नहीं आती कार में घूमने से क्या नींद नहीं आती नेचर सैनिकाची ऐसा कुछ काम करो आईएएस आईपीएस अफसर है बड़े-बड़े इनको फेल होने के बाद कर रहे हैं आप लोग एग्जाम देने के लिए अब जनता के एडमिशन के लिए आपको चुना जाता है लेकिन सवाल पूछते सबसे लंबी नदी कौन सी है अप्रतिम डिस्ट्रिक्ट क्या पूछेंगे अभी चले बीच में नहीं लूट से में जवाब शाम को जनता की हमारे नेता को जनता की सेवा नहीं करना जनता से किसे लूटमार करना हमारा पेट भर ना इसलिए आपको आईपीएस जनता चिचोली करोगे सपना दिखाकर उनसे कलेक्शन करके हमारे पास दे दो s.i.s. आईपीएस अफसर चाहिए उनको हिंदुस्तान के नेताओं को जिन आपकी ड्यूटी क्या बोलती है कॉपी में हम जनता की भलाई के लिए उल्टा पुल्टा हुए इसको कल पूछ कर देखो कुछ आपके पास ताकत है मेरे पास ताकत नहीं ताकत होती तो जरा बीआईपी ऐसा पर आपको सुनता नहीं था अपने चुनाव का कार्तिकेयन राजीव गांधी मर्डर केस का राजीव गांधी बम सपोर्ट सिस्टम होता है क्या मुझको 24option यह वह भी देख ले सका पूछो मैं जनता के लिए लड़ा हूं जनता के लिए मैंने किया है लेकिन सब छोड़ देते एक बार गाड़ी मिल गई चार नौकर मिल गए घर में दो ड्राइवर मिल गए बस जाने दो जनपद से क्या लेना देना ऐसा नजरिया रखने से स्वाभिमान बिक्री हो जाता है दोनों ऑपोजिट चीजें स्वाभिमान और अभिमान स्वाभिमान बिक्री होने के बाद याद आता है

swabhiman accha kya abhimaan accha I S I indian embassy new service administrative kiske antargat aati hai rashtrapati ke andar ka lekin aap ka transfer kaun karta hai gunde log ek mamuli emil kya cheez hai janta ko paisa dekar chun kar aaya hoon isko aap IAS ips adhikari kab samjhenge isliye aap aam janta ka bhala nahi kar sakti gaadi bandhu bangla maan toh sab kuch aapke paas hai uske saamne aap swabhiman bikri karke har jo swabhiman bikri karta hai uske basa abhimaan aata hai mujhe kaun poochne vala hai meri picture hai na vaah ab lekin svaabhimaani rehna hai toh kai jagah transfer bangla banne ki khasiyat nahi rehti tankha jeevni ghar walon ne kya izzat nahi rehti sahi tan ke me top swabhiman bikri karke tab aapko abhimaan aata hai ghar bante mera ghar ho gaya baccho ko doctor hona kya janab swabhiman bikri nahi karoge sab kuch bhi nahi kar sakte lekin shan se zindagi ji sakte hain ab dekhna hai kya ek ips officer hai IAS officer hai maharashtra me sonography tukaram munde mantriyo ko vidhan bhawan me vidhan parishad me matdan lena pada voting lena pada usko transfer karne ke liye har 1 saal me uska transfer karte kyon apne swabhiman ko bikri nahi karta swabhiman bikri nahi karne vala aadmi kisi naitikta nichle sthar ke aadmi ko uske nazar ratan nichle sthar ke aadmi ko dushman bikri karta hai standard me jata hai tu swabhiman me na bhi man me fark bahut kuch hai swabhiman ke paas abhimaan nahi rehta na abhimaan ke paas swabhiman nahi rehta isko koi change karega iske takrar kaun karega aapke paas power hai na pavli shikshan marna aapke paas jitne power hai janta ke neta nahi ko 10 minute me andar kar sakte ho jo power lekin vaah aapke upar dabaav dalkar aapke swabhiman ko tez pahuchne waale aadmi ke paas ab reh sakte hain punjabi song MP3 karte uske baad pratigya nahi karte karte hain ips raho ias no sabro garibon ko chinta ta chita takleef denge nishchit taur par chaukshi nahi karte ya taki jeev jadi karna ki vo transfer kar de gunjan yatayat aapke paas nahi aata hai aapke paas isko change karo aap aaiye se rashtrapati samvidhan ko patni ko rashtrapita din chunauti aapne likha hua koi judge ne kaat sakta apne likhe hue note ko koi nakar nahi sakta reject nahi kar sakta unhe rashtrapati ke alava yah power kis ne dikhaya ki Hindustan me aaj tak toh nahi mujhe yashvant chand ek ips officer mila tha usne yah batein batai thi railway station ke upar 3 ghanta dead 10 din tak main kaun hoon aur baki indira gandhi se takaraya tha aapko bata doon guwahati railway station main yahan se nahi lunga tum chahen kuch bhi karo naukri chali gayi padega lekin main yahan se nahi milunga aisa koi ies ips officer hai seedha direct toh likha rashtrapati ko indira gandhi chitra karne vala upay labhshankar meri nazar me are usne apne man ki baat karke dikhaiye pm tak ne dara kovid 19 pm aisa koi kaam karo na janta ki bhalai ke liye apne aadmi rehne ke liye aadmi ke liye svaabhimaani svaabhimaani swabhiman kab dikhi hote aapko maloom hi nahi hota kul takaraya nahi takraye abhi tak agar tumhare dil ko uncha hai tere ko aaj idhar ka udhar kal udhar phir bhi vaah darta nahi hai kidhar hi chalega uchit chamak nahi chahiye shining me chahiye vaah khud ho gaye swabhiman kapda pahanne ki se neend nahi aati car me ghoomne se kya neend nahi aati nature sainikachi aisa kuch kaam karo IAS ips officer hai bade bade inko fail hone ke baad kar rahe hain aap log exam dene ke liye ab janta ke admission ke liye aapko chuna jata hai lekin sawaal poochhte sabse lambi nadi kaun si hai apratim district kya puchenge abhi chale beech me nahi loot se me jawab shaam ko janta ki hamare neta ko janta ki seva nahi karna janta se kise lutmar karna hamara pet bhar na isliye aapko ips janta chicholi karoge sapna dikhakar unse collection karke hamare paas de do s i s ips officer chahiye unko Hindustan ke netaon ko jin aapki duty kya bolti hai copy me hum janta ki bhalai ke liye ulta pulta hue isko kal puch kar dekho kuch aapke paas takat hai mere paas takat nahi takat hoti toh zara BIP aisa par aapko sunta nahi tha apne chunav ka kartikeyan rajeev gandhi murder case ka rajeev gandhi bomb support system hota hai kya mujhko 24option yah vaah bhi dekh le saka pucho main janta ke liye lada hoon janta ke liye maine kiya hai lekin sab chhod dete ek baar gaadi mil gayi char naukar mil gaye ghar me do driver mil gaye bus jaane do janpad se kya lena dena aisa najariya rakhne se swabhiman bikri ho jata hai dono opposite cheezen swabhiman aur abhimaan swabhiman bikri hone ke baad yaad aata hai

स्वाभिमान अच्छा क्या अभिमान अच्छा आई एस आई इंडियन एंबेसी न्यू सर्विस एडमिनिस्ट्रेटिव किस

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
user

Yashwant Singh Lodhi

प्राकृत-शिक्षक (प्राकृत धर्म ही सर्वोपरि है, इसका बचाव ही जीवन है।)

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय माता की दोस्तों जैसा कि आप लिखते हैं क्या आप मुझे समझा सकते हैं क्या ही मानव स्वाभिमान में क्या अंक अभिमान एक क्षण मान होता है जिसका ही पड़ा है अपनी योग्यता सामर्थ दूसरों की अपेक्षा सर्वश्रेष्ठ मार्गदर्शन और स्वाभिमान है जिसमें तक द्वारा आप अपने साथ अन्य व्यक्तियों को ही समान मानते हुए उनका मान सम्मान करते हैं उनको इज्जत देते हैं यही है स्वाभिमान और अभिमान स्वाभिमान व्यक्ति का प्राकृतिक रूप से अपनी योग्यता सामर्थ्य दिखाना होता है जबकि अभिमान अपनी योग्यता व सामर्थ अमरसागर दुरुपयोग जनता के शोषण प्राकृतिक बनाता है क्लियर करने के लिए तत्पर

jai mata ki doston jaisa ki aap likhte hain kya aap mujhe samjha sakte hain kya hi manav swabhiman me kya ank abhimaan ek kshan maan hota hai jiska hi pada hai apni yogyata samarth dusro ki apeksha sarvashreshtha margdarshan aur swabhiman hai jisme tak dwara aap apne saath anya vyaktiyon ko hi saman maante hue unka maan sammaan karte hain unko izzat dete hain yahi hai swabhiman aur abhimaan swabhiman vyakti ka prakirtik roop se apni yogyata samarthya dikhana hota hai jabki abhimaan apni yogyata va samarth amarsagar durupyog janta ke shoshan prakirtik banata hai clear karne ke liye tatpar

जय माता की दोस्तों जैसा कि आप लिखते हैं क्या आप मुझे समझा सकते हैं क्या ही मानव स्वाभिमान

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

स्वाभिमान किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व की एक बहुत बड़ी खूबी है स्वाभिमानी व्यक्ति आपको अलग ही नजर आ जाएंगे और स्वाभिमान इंसान को अपनी नजरों में ऊपर उठा देता है जबकि अभिमान आपको दूसरे लोगों की नजरों में गिरा देता है जब लोगों को देखते हैं और आप के अभिमान को देखते हैं तुम्हें अच्छा महसूस नहीं होता है चाहे आप व्यक्तिगत तौर पर कितने ही अच्छे हो और आपने कितने ही बढ़िया काम किए हो लेकिन अगर उन कार्यों का आप को अभिमान है तुम लोगों को अच्छा नहीं लगता है आप का अभिमान आप तक ही सीमित रहें तो ठीक है अगर वह जनता में दिखाई दे जाता है परिवार में दिखाई देता देता है यह लोगों को दिखाई देता है तो लोहा से कटने लगते हैं क्योंकि स्वाभिमानी व्यक्ति सभी को अच्छे लगते हैं लेकिन अभी मैं अमीर व्यक्ति से लोग अपने आप में हिलता महसूस करते हैं और उन्हें लगता है कि आप खुद को बहुत ज्यादा समझ रहे हैं तो उन्हें आप की कोई जरूरत नहीं है इसीलिए स्वाभिमान आप को एक अलग पहचान दिलाता है आपको अपनी ही नजरों में ऊंचा उठा देता है और अभिमान आपको लोगों की नजरों से गिरा देता है

swabhiman kisi bhi vyakti ke vyaktitva ki ek bahut badi khoobi hai svaabhimaani vyakti aapko alag hi nazar aa jaenge aur swabhiman insaan ko apni najaron mein upar utha deta hai jabki abhimaan aapko dusre logon ki najaron mein gira deta hai jab logon ko dekhte hain aur aap ke abhimaan ko dekhte hain tumhe accha mahsus nahi hota hai chahen aap vyaktigat taur par kitne hi acche ho aur aapne kitne hi badhiya kaam kiye ho lekin agar un kaaryon ka aap ko abhimaan hai tum logon ko accha nahi lagta hai aap ka abhimaan aap tak hi simit rahein toh theek hai agar vaah janta mein dikhai de jata hai parivar mein dikhai deta deta hai yah logon ko dikhai deta hai toh loha se katane lagte hain kyonki svaabhimaani vyakti sabhi ko acche lagte hain lekin abhi main amir vyakti se log apne aap mein hilata mahsus karte hain aur unhe lagta hai ki aap khud ko bahut zyada samajh rahe hain toh unhe aap ki koi zaroorat nahi hai isliye swabhiman aap ko ek alag pehchaan dilata hai aapko apni hi najaron mein uncha utha deta hai aur abhimaan aapko logon ki najaron se gira deta hai

स्वाभिमान किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व की एक बहुत बड़ी खूबी है स्वाभिमानी व्यक्ति आपको अल

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon
user

विकास सिंह

दिल से भारतीय

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है तो देखिए अभिमान का जो तथ्य पर ही होता है क्या होता है वह धर्म के अनुसार स्वयं की आन बान और शान को बरकरार रखना तथा स्वयं के अर्थ यथार्थ और के साथ साथ पर्यटक की रक्षा करना तो इसे आप सभी महान बोल सकते हैं और अगर अभी मन की बात करें तो अपने लिए अतिशय पुजित होने की भावना को अभिमान कहते हैं तो दूसरे सपना बोल सकते हैं अपने आपको जो भी दूसरे के सामने सिर्फ समझना को भी अभिमान कहते हैं

vicky abhimaan aur swabhiman mein kya antar hai toh dekhiye abhimaan ka jo tathya par hi hota hai kya hota hai vaah dharam ke anusaar swayam ki Aan Baan aur shan ko barkaraar rakhna tatha swayam ke arth yatharth aur ke saath saath paryatak ki raksha karna toh ise aap sabhi mahaan bol sakte hain aur agar abhi man ki baat karen toh apne liye atishay pujit hone ki bhavna ko abhimaan kehte hain toh dusre sapna bol sakte hain apne aapko jo bhi dusre ke saamne sirf samajhna ko bhi abhimaan kehte hain

विकी अभिमान और स्वाभिमान में क्या अंतर है तो देखिए अभिमान का जो तथ्य पर ही होता है क्या हो

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
abhiman aur swabhiman me antar ; swabhiman aur abhiman me antar ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!