राज्यपाल का के क्या कार्य होते हैं तथा यह किसके प्रति उत्तरदाई होते हैं...


play
user

umrao Singh

Professor ( Ph.d)

2:08

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में एक संघात्मक शासन प्रणाली अपनाई गई है जिसमें केंद्र और राज्यों को अलग-अलग सेट किया एवं कार्यों का आवंटन किया गया है जिस प्रकार के लिए मैं राष्ट्रपति संघ की कार्यपालिका का प्रधान होता है उसी प्रकार प्रत्येक राज्य में उस राज्य का राज्यपाल संविधान के अनुसार राज्य की कार्यपालिका का प्रधान होता है राज्यपाल को उस राज्य के तहत विधाई शक्तियां कार्यपालिका शक्तियां न्यायिक शक्तियां व अन्य प्रकार के विशेष अधिकार प्राप्त हैं राज्यपाल ही राज्य के तहत सभी प्रकार के प्रमुख संवैधानिक और प्रशासनिक पदों की नियुक्ति करता है राज्यपाल की नियुक्ति के तहत मुख्यमंत्री की नियुक्ति करता है और उसके सलाद सहित अन्य मंत्रियों की नियुक्ति करता है राज्यपाल की राज्य की विधानसभाओं द्वारा पारित कानूनों को व्यथित रूप से लागू करता है राज्यपाल की राज्य के मुख्य न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए या राज्य के अन्य उच्च न्यायालय के न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए राष्ट्रपति व मुख्य न्यायाधीश को सलाह एवं परामर्श देता है राज्य के राज्यपाल की नई शक्ति के तहत राज्यपाल को अपने राज्य के अधीन क्षेत्र के अंतर्गत अनेक प्रकार के दंड की शक्तियों को माफ करने का अधिकार है अतः ऐसे ही कई प्रशासनिक और न्यायिक कार्य हैं जो राज्यपाल को करने होते हैं राज्यपाल मुझसे कहा हम के तहत जनता के प्रति ही या संविधान के प्रति ही उत्तरदाई होता है धन्यवाद

bharat me ek sanghatmak shasan pranali apnai gayi hai jisme kendra aur rajyo ko alag alag set kiya evam karyo ka aawantan kiya gaya hai jis prakar ke liye main rashtrapati sangh ki karyapalika ka pradhan hota hai usi prakar pratyek rajya me us rajya ka rajyapal samvidhan ke anusaar rajya ki karyapalika ka pradhan hota hai rajyapal ko us rajya ke tahat vidhai shaktiyan karyapalika shaktiyan nyayik shaktiyan va anya prakar ke vishesh adhikaar prapt hain rajyapal hi rajya ke tahat sabhi prakar ke pramukh samvaidhanik aur prashaasnik padon ki niyukti karta hai rajyapal ki niyukti ke tahat mukhyamantri ki niyukti karta hai aur uske salad sahit anya mantriyo ki niyukti karta hai rajyapal ki rajya ki vidhansabhaon dwara paarit kanuno ko vyathit roop se laagu karta hai rajyapal ki rajya ke mukhya nyaydhisho ki niyukti ke liye ya rajya ke anya ucch nyayalaya ke nyaydhisho ki niyukti ke liye rashtrapati va mukhya nyayadhish ko salah evam paramarsh deta hai rajya ke rajyapal ki nayi shakti ke tahat rajyapal ko apne rajya ke adheen kshetra ke antargat anek prakar ke dand ki shaktiyon ko maaf karne ka adhikaar hai atah aise hi kai prashaasnik aur nyayik karya hain jo rajyapal ko karne hote hain rajyapal mujhse kaha hum ke tahat janta ke prati hi ya samvidhan ke prati hi uttardai hota hai dhanyavad

भारत में एक संघात्मक शासन प्रणाली अपनाई गई है जिसमें केंद्र और राज्यों को अलग-अलग सेट किया

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!