सायकोलॉजी विषय जो है, वह माइंड पर किस तरह प्रभाव डालता है?...


user

Nita Nayyar

Writer ,Motivational Speaker, Social Worker n Counseller.

1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

साइकोलॉजी विषय दिमाग पर क्यों असर करेगा वह तो पढ़ाई का एक विषय है उसको यदि आप गहराई से पड़ेंगे तो बल्कि दिमाग को अच्छी तरीके से जान पाएंगे कि किस स्थिति में दिमाग किस तरीके से लिया करता है क्या सोचता है हमारे मस्तिष्क के कितने भाग हैं कैसे हम मेमोरी को सही कैसे हम आगे के प्लांट को जब बनाते हैं तो उसकी योजनाएं बनाएं या दिमाग का कौन सा भाग हमारी कौन से समवेत को कंट्रोल करता है यह सब जान पाते हैं यह दिमाग पर क्यों असर करेगा साइकोलॉजी कोई ऐसा विषय नहीं है कि इससे दिमागी संतुलन खराब हो बल्कि यह तो एक बहुत ही इंटरेस्टिंग और बहुत ही शिक्षाप्रद एक विषय है जिसके विषय में जानकारी सबको खुशी होती है हां थोड़ा कठिन जरूर है क्योंकि मैं भी जब एमेसर कॉलेज कर रही थी तो मुझे कई बात है ऐसी लगी जो मेरे दिमाग के ऊपर से निकल जाती थी लेकिन मैं धीरे-धीरे अपने गाइड के माध्यम से जब मैंने उन बातों को सीखना शुरू किया तो सच में मुझे मजा आया और इसमें बहुत सारे प्रयोग ऐसे हैं जो बहुत से मनोविज्ञान इन लोगों ने ग्रुप में या अकेले में या मनोरोगी के ऊपर किए हैं तो वह बहुत ही अच्छे मालूम देते हैं तो आप बिल्कुल यह मत समझना कि यह किसी भी तरह से आपके दिमाग के ऊपर कुछ भारी असर करेगा यह बहुत ही अच्छा विषय है और इसे पड़ेंगे इसकी गहराई में अगर जाएंगे तो आपको जरूर जरूर चाहिए अच्छा लगेगा

psychology vishay dimag par kyon asar karega vaah toh padhai ka ek vishay hai usko yadi aap gehrai se padenge toh balki dimag ko achi tarike se jaan payenge ki kis sthiti me dimag kis tarike se liya karta hai kya sochta hai hamare mastishk ke kitne bhag hain kaise hum memory ko sahi kaise hum aage ke plant ko jab banate hain toh uski yojanaye banaye ya dimag ka kaun sa bhag hamari kaun se samvet ko control karta hai yah sab jaan paate hain yah dimag par kyon asar karega psychology koi aisa vishay nahi hai ki isse dimagi santulan kharab ho balki yah toh ek bahut hi interesting aur bahut hi shikshaprad ek vishay hai jiske vishay me jaankari sabko khushi hoti hai haan thoda kathin zaroor hai kyonki main bhi jab emesar college kar rahi thi toh mujhe kai baat hai aisi lagi jo mere dimag ke upar se nikal jaati thi lekin main dhire dhire apne guide ke madhyam se jab maine un baaton ko sikhna shuru kiya toh sach me mujhe maza aaya aur isme bahut saare prayog aise hain jo bahut se manovigyan in logo ne group me ya akele me ya manorogi ke upar kiye hain toh vaah bahut hi acche maloom dete hain toh aap bilkul yah mat samajhna ki yah kisi bhi tarah se aapke dimag ke upar kuch bhari asar karega yah bahut hi accha vishay hai aur ise padenge iski gehrai me agar jaenge toh aapko zaroor zaroor chahiye accha lagega

साइकोलॉजी विषय दिमाग पर क्यों असर करेगा वह तो पढ़ाई का एक विषय है उसको यदि आप गहराई से पड़

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  585
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए ने कोई साइकोलॉजी कल डॉक्टर तो नहीं है पर मुझे जहां तक लगता है मैं उतना जवाब दूंगा आपको साइकोलॉजिकल नॉलेज जैसे कि दूसरे व्यक्ति को देखकर कोई इस तरह व्यक्ति उसके बारे में लिख लेता है अच्छे या बुरे चीजें गुस्सा जैसे कि तनाव ऐसी चीजों को देख सकते हो लोग ऐसा क्यों होता है और कैसे देख सकते हैं क्योंकि फौजी कल डिसऑर्डर जीतने है ज्यादातर लोगों क्या होते हैं खुद पर कंट्रोल नहीं कर पाते इसीलिए साइकोलॉजी के साथ जीते रहते हैं और मैं तो देता हूं दुनिया में वास्तव में सही है मैं उनके जो लोग मेडिसिन देते हैं जो उनका बचाव पद्धति है उसके बारे में मैं नहीं जानता और मैं उसने बोलना भी नहीं चाहता हूं होती है कि अगर कोई आदमी भड़क रहा है तो उसे कुछ पता नहीं होता पर उसके सामने जो भी आदमी शांत बैठा हो तो उसकी गतिविधियों पर पर गतिविधि पर जो आदमी आपको सुन रहा है या जो आदमी आपको देख रहा है या जो आदमी आप का इलाज कर रहा है वह आदमी इतना शांत है कि वह कोई साइकोलॉजिकल डिसऑर्डर कि पैसे नहीं है इसीलिए आपके खामियां आंखों मियां बता सकता है अंदर हिसाब से एक साइकोलॉजिकल डिसऑर्डर के बारे में उसे दूर करने के तरीके होते संभव हो सकता है

dekhiye ne koi psychology kal doctor toh nahi hai par mujhe jaha tak lagta hai main utana jawab dunga aapko saikolajikal knowledge jaise ki dusre vyakti ko dekhkar koi is tarah vyakti uske bare me likh leta hai acche ya bure cheezen gussa jaise ki tanaav aisi chijon ko dekh sakte ho log aisa kyon hota hai aur kaise dekh sakte hain kyonki fauji kal disorder jitne hai jyadatar logo kya hote hain khud par control nahi kar paate isliye psychology ke saath jeete rehte hain aur main toh deta hoon duniya me vaastav me sahi hai main unke jo log medicine dete hain jo unka bachav paddhatee hai uske bare me main nahi jaanta aur main usne bolna bhi nahi chahta hoon hoti hai ki agar koi aadmi bhadak raha hai toh use kuch pata nahi hota par uske saamne jo bhi aadmi shaant baitha ho toh uski gatividhiyon par par gatividhi par jo aadmi aapko sun raha hai ya jo aadmi aapko dekh raha hai ya jo aadmi aap ka ilaj kar raha hai vaah aadmi itna shaant hai ki vaah koi saikolajikal disorder ki paise nahi hai isliye aapke khamiyan aakhon miyan bata sakta hai andar hisab se ek saikolajikal disorder ke bare me use dur karne ke tarike hote sambhav ho sakta hai

देखिए ने कोई साइकोलॉजी कल डॉक्टर तो नहीं है पर मुझे जहां तक लगता है मैं उतना जवाब दूंगा आप

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केवल अपने दिमाग को घुमा नहीं इंसान का दिमाग कौन था चिंग चिंग चिंग सोचो सोचो सोचो तो सोचता रहता है खंबा पकड़ लिया उसके मायने नहीं तो एक सोचने की माइंड पर परेशान ना हो हम बना पकड़े

keval apne dimag ko ghuma nahi insaan ka dimag kaun tha ching ching ching socho socho socho toh sochta rehta hai khamba pakad liya uske maayne nahi toh ek sochne ki mind par pareshan na ho hum bana pakde

केवल अपने दिमाग को घुमा नहीं इंसान का दिमाग कौन था चिंग चिंग चिंग सोचो सोचो सोचो तो सोचता

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!