भारत इतने लंबे समय तक गुलाम क्यों रहा भारत का लंबे समय तक गुलामी का कारण क्या था?...


play
user

Manish Bhargava

Trainer/ Mentor in Delhi education deptt.

2:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है भारत लाल इतने लंबे समय तक गुलाम क्यों रहा भारत का लंबे समय तक गुलामी का क्या कारण था भारत लंबे समय तक गुलाम रहने का सबसे बड़ा कारण है ताकि यहां की जनता में अपने किसी क्षेत्र के प्रति अवेयरनेस नहीं थी कोई ऐसा नहीं था कि किसी जनता में कोई राष्ट्र की भावना हो या कोई बड़े क्षेत्र की भावना हो वह सिर्फ अपने छोटे संगठित क्षेत्र तक सीमित है उसको चलाने वाले एक राजा था तो राजा के बदलने से जनता को ज्यादा फर्क पड़ता नहीं था क्योंकि लगभग सभी की एक सी नीतियां होती थी कभी भी ऐसे राजा बहुत कम हुई जो जनता के समर्थन से राजा बनेगा तो निश्चित रूप से जनता के समर्थन से नहीं होता तो जनता को ज्यादा फर्क नहीं पड़ता कि हमारा देश अलग टुकड़ों में बंटा हुआ था इसलिए इस पर आसानी से किया जा सका जब अब बेटे आए और ब्रिटिश के बाद जब हमारे देश में आंदोलन शुरू 18 57 का आंदोलन हुआ था उस समय तक देश अलग अलग बेटा हुआ उसके बाद लोगों में एक भावना डिवेलप हुई उन्होंने एक देश स्वीकार किया और कई ऐसे नेता मर गया जिन्होंने लोगों को एक रास्ते में प्रोग्राम था इसी दौरान भाषा भी कुछ ऐसी क्रिएट मुझे इंग्लिश थी जिसने पूरे देश को जोड़ा ट्रेन का आना जाना हुआ लोगों के आने-जाने के रास्ते शुभम हुए तो कई प्रकार की चीजें बड़ी पोस्ट ऑफिस बड़े पत्रकार बने न्यूज़पेपर बने इन सब चीजों से देश को एक सूत्र में पिरोया जा सका और जब सब एकजुट हुए तो पर आजादी की मांग उठने लगी पहले सब लोग अलग-अलग थे किसी को कोई ज्यादा फर्क नहीं था सब लोग अपने-अपने में एक छोटे से दायरे में खुश थे एक ग्रामीण परिवेश था और उसमें लोगों का एक अलग से माहौल था सब कुछ पूरा विश्व उनका उसी गांव तक सीमित था वही सब कुछ निर्मित होता था वही उत्पादन होता था तो सब लोग अपने-अपने व्यस्त थे जब अंग्रेज आए उस दौरान उन्होंने व्यवसाय के रूप में पूरे देश को एकजुट करने की कोशिश की व्यवसाय के लिए इस दौरान राजनीतिक रूप से विदेश में चेतना उत्पन्न हुई और सब लोग एकजुट होकर एक आजादी की मांग करने लगे इसलिए इसके पहले यही कारण है कि कोई भी शासक आया और देश पर शासन करके चला गया जनता शासकों से ज्यादा महत्व नहीं रखती थी जनता काला काम तेज जनता कभी भी शासक जनता के समर्थन से नहीं बने तो जनता को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता था कौन सा आसन करना है कौन नहीं कर रहा

namaskar aapka prashna hai bharat laal itne lambe samay tak gulam kyon raha bharat ka lambe samay tak gulaami ka kya karan tha bharat lambe samay tak gulam rehne ka sabse bada karan hai taki yahan ki janta me apne kisi kshetra ke prati awareness nahi thi koi aisa nahi tha ki kisi janta me koi rashtra ki bhavna ho ya koi bade kshetra ki bhavna ho vaah sirf apne chote sangathit kshetra tak simit hai usko chalane waale ek raja tha toh raja ke badalne se janta ko zyada fark padta nahi tha kyonki lagbhag sabhi ki ek si nitiyan hoti thi kabhi bhi aise raja bahut kam hui jo janta ke samarthan se raja banega toh nishchit roop se janta ke samarthan se nahi hota toh janta ko zyada fark nahi padta ki hamara desh alag tukadon me bata hua tha isliye is par aasani se kiya ja saka jab ab bete aaye aur british ke baad jab hamare desh me andolan shuru 18 57 ka andolan hua tha us samay tak desh alag alag beta hua uske baad logo me ek bhavna develop hui unhone ek desh sweekar kiya aur kai aise neta mar gaya jinhone logo ko ek raste me program tha isi dauran bhasha bhi kuch aisi create mujhe english thi jisne poore desh ko joda train ka aana jana hua logo ke aane jaane ke raste subham hue toh kai prakar ki cheezen badi post office bade patrakar bane Newspaper bane in sab chijon se desh ko ek sutra me piroya ja saka aur jab sab ekjut hue toh par azadi ki maang uthane lagi pehle sab log alag alag the kisi ko koi zyada fark nahi tha sab log apne apne me ek chote se daayre me khush the ek gramin parivesh tha aur usme logo ka ek alag se maahaul tha sab kuch pura vishwa unka usi gaon tak simit tha wahi sab kuch nirmit hota tha wahi utpadan hota tha toh sab log apne apne vyast the jab angrej aaye us dauran unhone vyavasaya ke roop me poore desh ko ekjut karne ki koshish ki vyavasaya ke liye is dauran raajnitik roop se videsh me chetna utpann hui aur sab log ekjut hokar ek azadi ki maang karne lage isliye iske pehle yahi karan hai ki koi bhi shasak aaya aur desh par shasan karke chala gaya janta shaasakon se zyada mahatva nahi rakhti thi janta kaala kaam tez janta kabhi bhi shasak janta ke samarthan se nahi bane toh janta ko isse koi fark nahi padta tha kaun sa aasan karna hai kaun nahi kar raha

नमस्कार आपका प्रश्न है भारत लाल इतने लंबे समय तक गुलाम क्यों रहा भारत का लंबे समय तक गुलाम

Romanized Version
Likes  80  Dislikes    views  1711
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!