सत्य का रास्ता कठिन होता है, सबको मालूम है, तो क्या इस लिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सहारा लेते हैं?...


user

Kanhaiya Bhardwaj

Yoga Expert, M D Panchgavya, Spiritual ,National & Motivational Speaker

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

झूठ का सहारा जो लेते हैं वह फर्स्ट ऐड हो सकते से पराजित हो जाते हैं सत्य को सहन करने की क्षमता नहीं है शहंशाह से डर जाते हैं इसलिए वह सच्चे का सहारा लेते हैं मगर सत्य का जो सहारा है वह सुखद होता है और टिकाऊ होता है और अस्थाई होता है और सत्य के मार्ग पर चलने वाला व्यक्ति को अंत में और सत्य चीजें हासिल होती हैं उसे सही कुछ भी प्राप्त नहीं हो सकता है उसे चोरी फरेबी बेईमानी यह उसी में संयुक्त रहेगा जो सत्य का रास्ता चुनता है उसे सत्य का ही फल अंत में प्राप्त होता है वह अच्छी चीजों को नहीं प्राप्त कर सकता है

jhuth ka sahara jo lete hain vaah first aid ho sakte se parajit ho jaate hain satya ko sahan karne ki kshamta nahi hai shahanshah se dar jaate hain isliye vaah sacche ka sahara lete hain magar satya ka jo sahara hai vaah sukhad hota hai aur tikauu hota hai aur asthai hota hai aur satya ke marg par chalne vala vyakti ko ant me aur satya cheezen hasil hoti hain use sahi kuch bhi prapt nahi ho sakta hai use chori farebi baimani yah usi me sanyukt rahega jo satya ka rasta chunta hai use satya ka hi fal ant me prapt hota hai vaah achi chijon ko nahi prapt kar sakta hai

झूठ का सहारा जो लेते हैं वह फर्स्ट ऐड हो सकते से पराजित हो जाते हैं सत्य को सहन करने की क्

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  930
WhatsApp_icon
21 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप इस सप्ताह का रास्ता ना कंकर मेहनत का रास्ता करिए आप किसी भी मार्ग में सफलता चाहते हैं किसी भी क्षेत्र में सफलता जाते हैं तो आपको मेहनत करनी पड़ेगी अगर आप झूठ या शॉर्टकट बनाएंगे तो लंबी रेस के घोड़े नहीं बन पाएंगे

dekhiye aap is saptah ka rasta na kankar mehnat ka rasta kariye aap kisi bhi marg me safalta chahte hain kisi bhi kshetra me safalta jaate hain toh aapko mehnat karni padegi agar aap jhuth ya shortcut banayenge toh lambi race ke ghode nahi ban payenge

देखिए आप इस सप्ताह का रास्ता ना कंकर मेहनत का रास्ता करिए आप किसी भी मार्ग में सफलता चाहते

Romanized Version
Likes  164  Dislikes    views  2069
WhatsApp_icon
user

POOJA SHARMA

Health Coach

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हर दोस्तो आपने पूछा सत्य का रास्ता कठिन होता है लेकिन आपको पता है कि इस सत्य बोलना चली चाहिए क्योंकि झूठ की जो पैर है वह कम होते हैं और सत्य का जो होता है वह हमारे साथ भी हमारे बात भी है तो हमेशा सच बोलना चाहिए और कभी झूठ का सहारा नाले झूठ बोलना चाहिए या किसी की जिंदगी बच रही हो किसी की जान बच रही हो तो प्लीज अगर कोई क्वेश्चन और करना चाहते हैं तो नहीं नहीं 11827 पर कॉल कीजिए धन्यवाद

har doston aapne poocha satya ka rasta kathin hota hai lekin aapko pata hai ki is satya bolna chali chahiye kyonki jhuth ki jo pair hai vaah kam hote hain aur satya ka jo hota hai vaah hamare saath bhi hamare baat bhi hai toh hamesha sach bolna chahiye aur kabhi jhuth ka sahara naale jhuth bolna chahiye ya kisi ki zindagi bach rahi ho kisi ki jaan bach rahi ho toh please agar koi question aur karna chahte hain toh nahi nahi 11827 par call kijiye dhanyavad

हर दोस्तो आपने पूछा सत्य का रास्ता कठिन होता है लेकिन आपको पता है कि इस सत्य बोलना चली चाह

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  88
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य का रास्ता रास्ता रास्ता रास्ता रास्ता अगर आप मूल्य आधारित जीवन संस्कार आधारित जीवन जीना चाहते हैं तो उसमें साधना है श्रम है इसकी आवश्यकता पड़ती झूठ का सहारा लेते हैं

satya ka rasta rasta rasta rasta rasta agar aap mulya aadharit jeevan sanskar aadharit jeevan jeena chahte hain toh usme sadhna hai shram hai iski avashyakta padti jhuth ka sahara lete hain

सत्य का रास्ता रास्ता रास्ता रास्ता रास्ता अगर आप मूल्य आधारित जीवन संस्कार आधारित जीवन जी

Romanized Version
Likes  320  Dislikes    views  2322
WhatsApp_icon
user

S Bajpay

Yoga Expert | Beautician & Gharelu Nuskhe Expert

2:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विज्ञान का प्रश्न सबसे ज्यादा कठिन होता सबको मालूम है तू क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुनते झूठ का सहारा लेती सत्य का रास्ता वास्तव में कठिन होता है कि रास्ते में बहुत सी मुश्किलें आती है बहुत ही परीक्षाएं देनी पड़ती है बहुत बड़ी कठिनाइयां आती है सत्य पर सौ पर्सेंट तो चलना नामुमकिन जगत के लिए आपने राजा हरिश्चंद्र का नाम सुना होगा उन्होंने शक्ति को नहीं छोड़ा सत्य के लिए अपना राज्य छोड़ दिया सत्य के लिए अपने आपको बेच दिया चांडाल बन गए हो श्मशान घाट में नौकरी करने लगे अपनी बीवी बच्चों को सत्य का मार्ग जितना कठिन है कि मैं आपसे अपेक्षा नहीं करूंगा कि आप सत्यवादी हरिश्चंद्र ने इतना सब से बोले आप के आधुनिक काल में शब्द का मतलब यह है कि हम चोरी बेईमानी गलत रास्तों का निर्धारण न करें हमें पैसे कमाने के लिए यह सफलता प्राप्त करने के लिए हम बूट जहां में शब्द के दो झूठ का सहारा ना लें तो वहां मेरा मतलब होता है कि हमें सत्यवादी हरिश्चंद्र ने की कोई जरूरत नहीं है इस काल में कोई बंद नहीं सकता है लेकिन हम जहां तक संभव हो सके का सहारा न लें तो सफलता मिल जाएगी भूत का रास्ता अपनाने वाले लोग देखिए हो सकता है आपसे जल्दी सफल हो जाए मैं यह जरूर कहूंगा झूठ पर धोखेबाजी में बेईमानी में चलकर रूम आपसे पहली सफल हो सकते हैं लेकिन उनकी सफलता चिर स्थाई नहीं रहेगी वह एक न एक दिन डूब जाएंगे क्योंकि पाप की ना हो तो दुखी है अनिल जी आपको हो सकता आप सत्य के मार्ग पर झूठ कपट के मार्ग पर न चलें जितना संभव हो आप सत्र पर धर्म पर सही रास्ते पर चलेंगे आपको सफलता मिलने में थोड़ी देर लग सकती लेकिन वह सफलता आपकी चिरस्थाई रहेगी जिंदगी भर रहेगी जब तक जीवित रहेंगे तब तक आपकी सफलता

vigyan ka prashna sabse zyada kathin hota sabko maloom hai tu kya isliye log aasaan rasta chunte jhuth ka sahara leti satya ka rasta vaastav me kathin hota hai ki raste me bahut si mushkilen aati hai bahut hi parikshaen deni padti hai bahut badi kathinaiyaan aati hai satya par sau percent toh chalna namumkin jagat ke liye aapne raja harishchandra ka naam suna hoga unhone shakti ko nahi choda satya ke liye apna rajya chhod diya satya ke liye apne aapko bech diya chandal ban gaye ho shmashan ghat me naukri karne lage apni biwi baccho ko satya ka marg jitna kathin hai ki main aapse apeksha nahi karunga ki aap satyawadi harishchandra ne itna sab se bole aap ke aadhunik kaal me shabd ka matlab yah hai ki hum chori baimani galat raston ka nirdharan na kare hamein paise kamane ke liye yah safalta prapt karne ke liye hum boot jaha me shabd ke do jhuth ka sahara na le toh wahan mera matlab hota hai ki hamein satyawadi harishchandra ne ki koi zarurat nahi hai is kaal me koi band nahi sakta hai lekin hum jaha tak sambhav ho sake ka sahara na le toh safalta mil jayegi bhoot ka rasta apnane waale log dekhiye ho sakta hai aapse jaldi safal ho jaaye main yah zaroor kahunga jhuth par dhokhebaji me baimani me chalkar room aapse pehli safal ho sakte hain lekin unki safalta chir sthai nahi rahegi vaah ek na ek din doob jaenge kyonki paap ki na ho toh dukhi hai anil ji aapko ho sakta aap satya ke marg par jhuth kapat ke marg par na chalen jitna sambhav ho aap satra par dharm par sahi raste par chalenge aapko safalta milne me thodi der lag sakti lekin vaah safalta aapki chirasthai rahegi zindagi bhar rahegi jab tak jeevit rahenge tab tak aapki safalta

विज्ञान का प्रश्न सबसे ज्यादा कठिन होता सबको मालूम है तू क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुनते

Romanized Version
Likes  361  Dislikes    views  4016
WhatsApp_icon
user

Niraj Devani

PHILOSOPHER

1:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए लोग सत्य का रास्ता कठिन है इसलिए तुमसे नहीं है यह बात सही है लेकिन झूठ का रास्ता आसान है इसलिए नहीं सुनते झूठ का रास्ता इसीलिए चुनता है क्योंकि इस रास्ते पर लोगों को करीबी फायदा नजर आता है तुरंत का फायदा नजर आता है झूठ से और ऐसे गलत कामों से इसीलिए लोग अपने ख्वाबों को पूरा करने के लिए अपनी महत्वाकांक्षाओं को जल्दी से पूरा करने के लिए झूठ का सहारा लेते हैं लेकिन सत्य है वह सच है झूठ कभी ना कभी तो अपना रिंग दिखाता ही है चाहे कई साल बीत जाए लेकिन वह एक बार सामने आकर रहता है और जो सच है वह शाश्वत है और उससे जो आनंद मिलता है वह संतुष्टि का और शांति का आनंद मिलता है तो सत्य के रास्ते पर चलने बहुत ही जरूरी है अगर आप सत्य का रास्ता कई बार ऐसा होता है कि हमारे फैमिली की वजह से या कुछ सोशल प्रॉब्लम्स की वजह से सत्य का रास्ता तो नहीं तुम बातें तो इस वक्त हमें थोड़ा संयम से काम लेना है लेकिन झूठ का कभी साथ नहीं देना है

dekhiye log satya ka rasta kathin hai isliye tumse nahi hai yah baat sahi hai lekin jhuth ka rasta aasaan hai isliye nahi sunte jhuth ka rasta isliye chunta hai kyonki is raste par logo ko karibi fayda nazar aata hai turant ka fayda nazar aata hai jhuth se aur aise galat kaamo se isliye log apne khwabon ko pura karne ke liye apni mahatwakankshaon ko jaldi se pura karne ke liye jhuth ka sahara lete hain lekin satya hai vaah sach hai jhuth kabhi na kabhi toh apna ring dikhaata hi hai chahen kai saal beet jaaye lekin vaah ek baar saamne aakar rehta hai aur jo sach hai vaah shashvat hai aur usse jo anand milta hai vaah santushti ka aur shanti ka anand milta hai toh satya ke raste par chalne bahut hi zaroori hai agar aap satya ka rasta kai baar aisa hota hai ki hamare family ki wajah se ya kuch social problems ki wajah se satya ka rasta toh nahi tum batein toh is waqt hamein thoda sanyam se kaam lena hai lekin jhuth ka kabhi saath nahi dena hai

देखिए लोग सत्य का रास्ता कठिन है इसलिए तुमसे नहीं है यह बात सही है लेकिन झूठ का रास्ता आसा

Romanized Version
Likes  72  Dislikes    views  828
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका कहना कि सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है पता है सब को तो पता है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूट पसंद ऐसा नहीं है तो क्यों होता क्या है ना यहां तक है सत्य बोलने में लोग क्यों कतराते हैं पता है लेकिन सत्य बोलना चाहिए सत्य भले ही भेजो है एक बार बोलने वाले कष्ट हो सकता है कोई बात नहीं मानता है उसको विभिन्न प्रकार की परिस्थितियों से उसको उसको गुजारना पड़ जाता लेकिन सत्य कभी पराजित नहीं होता है ऐसा कभी नहीं और हां जो सत्य बोलता है ना तो उस पर लोग भरोसा करते हैं अब कुछ भी बुरा किसी भी प्रॉब्लम मैं ऑफिस जाने के ना कर सकती बोल नहीं तो आपकी कहीं भी बात पर सभी भरोसा करेंगे एक प्रकार अगर कोई कितना भी गलत कार्य किया हो अगर उसके जान के लाले पड़ गए होंगे अगर आप आपसे कोई पूछ लेगा भले उस वक्त झूठ बोलेंगे उसको बचाने के लिए लेकिन तब भी साथ ही माना जाएगा सत्यम बहुत ताकत बहुत दम है लेकिन क्या होता है ना झूठ नहीं होता कि लोग क्या करते हैं कि झूठ में एक साथी को छिपाने के लिए गेम बहुत सारे झूठ बोलते हैं और लोग झूठ पर ज्यादा भरोसा करते हैं आदमी सत्य कर बोल दे तो आदमी गुस्सा हो जाता बिगड़ जाता है और नाराज हो किसको चला जाए लेकिन वही अबे झूठ कर दो बढ़िया मुस्कुराके झूठ बोल देगा एक पर भरोसा कर लेता है झूठ बोलते हैं झूठ बोलना चाहता है लेकिन क्या होता है कि झूठ बोलना शुरु होता तो उसको झूठ बोलने की आदत सी बन जाती है और अभी भी कई काफी लोग सत्य बोलते हैं ऐसा तो नहीं कि सारे लोग झूठी बोलते हैं सच बोलते हैं बहुत सारे लोग झूठ भी बोलते यानी 75 परसेंट ज्यादातर लोग झूठी बोलते 25% हमेशा सच बोलते हैं तो आपके समझ में आ गया होगा धन्यवाद

aapka kehna ki satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai pata hai sab ko toh pata hai toh kya isliye log aasaan rasta chunkar jhoot pasand aisa nahi hai toh kyon hota kya hai na yahan tak hai satya bolne me log kyon katrate hain pata hai lekin satya bolna chahiye satya bhale hi bhejo hai ek baar bolne waale kasht ho sakta hai koi baat nahi maanta hai usko vibhinn prakar ki paristhitiyon se usko usko gujarana pad jata lekin satya kabhi parajit nahi hota hai aisa kabhi nahi aur haan jo satya bolta hai na toh us par log bharosa karte hain ab kuch bhi bura kisi bhi problem main office jaane ke na kar sakti bol nahi toh aapki kahin bhi baat par sabhi bharosa karenge ek prakar agar koi kitna bhi galat karya kiya ho agar uske jaan ke lale pad gaye honge agar aap aapse koi puch lega bhale us waqt jhuth bolenge usko bachane ke liye lekin tab bhi saath hi mana jaega satyam bahut takat bahut dum hai lekin kya hota hai na jhuth nahi hota ki log kya karte hain ki jhuth me ek sathi ko chipane ke liye game bahut saare jhuth bolte hain aur log jhuth par zyada bharosa karte hain aadmi satya kar bol de toh aadmi gussa ho jata bigad jata hai aur naaraj ho kisko chala jaaye lekin wahi abe jhuth kar do badhiya muskurake jhuth bol dega ek par bharosa kar leta hai jhuth bolte hain jhuth bolna chahta hai lekin kya hota hai ki jhuth bolna shuru hota toh usko jhuth bolne ki aadat si ban jaati hai aur abhi bhi kai kaafi log satya bolte hain aisa toh nahi ki saare log jhuthi bolte hain sach bolte hain bahut saare log jhuth bhi bolte yani 75 percent jyadatar log jhuthi bolte 25 hamesha sach bolte hain toh aapke samajh me aa gaya hoga dhanyavad

आपका कहना कि सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है पता है सब को तो पता है तो क्या इसलि

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  422
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

2:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य का मार्ग कठिन नहीं होता है लेकिन सत्य का मार्ग चलते उनके लिए बहुत आसान होता है और जो चर्च के मार्क सिटी की जानकारी एक सच और झूठ को कमजोर कर देते हैं और एक चुटकुले इंसान को शो झूठ बोलने पड़ते देख ले लो जल्दी से मुक्ति पाने के लिए सच का सामना नहीं कर पाते और तुरंत छोड़ कर चला दे देते क्योंकि छूटना कस्टर्ड होता है और सत्य मित्र नहीं होता जितना कठिन वाली चीज जो है बहुत जल्दी प्रभावित नहीं होती इस टाइम बात करना पसंद नहीं करेगा लेकिन एक बार सुनना हर तरह से पसंद करेगा ताकि मान कर चलिए यह जिंदगी में झूठ का सहारा अगर लेते हैं तो इसका मतलब आप शब्द का दामन छोड़ चुके तो यह कहना किस तत्व का रास्ता कठिन होता उसको अपनाना और चाची को पकड़ना आज के युग में मुश्किल है क्योंकि लोग ऐसा ही नहीं है कि वह कुछ मार्गों को अपने और आप पथभ्रष्ट हो जाए इसलिए झूठ बोलना ले बहुत जल्दी दूसरों को परखना छूट का प्रभाव डालने थे उनका कार्य निकल जाता है सच बोलने की जरूरत क्यों है

satya ka marg kathin nahi hota hai lekin satya ka marg chalte unke liye bahut aasaan hota hai aur jo church ke mark city ki jaankari ek sach aur jhuth ko kamjor kar dete hain aur ek chutkule insaan ko show jhuth bolne padate dekh le lo jaldi se mukti paane ke liye sach ka samana nahi kar paate aur turant chhod kar chala de dete kyonki chutana Custard hota hai aur satya mitra nahi hota jitna kathin wali cheez jo hai bahut jaldi prabhavit nahi hoti is time baat karna pasand nahi karega lekin ek baar sunana har tarah se pasand karega taki maan kar chaliye yah zindagi me jhuth ka sahara agar lete hain toh iska matlab aap shabd ka daman chhod chuke toh yah kehna kis tatva ka rasta kathin hota usko apnana aur chachi ko pakadna aaj ke yug me mushkil hai kyonki log aisa hi nahi hai ki vaah kuch margon ko apne aur aap path bhrasht ho jaaye isliye jhuth bolna le bahut jaldi dusro ko parakhana chhut ka prabhav dalne the unka karya nikal jata hai sach bolne ki zarurat kyon hai

सत्य का मार्ग कठिन नहीं होता है लेकिन सत्य का मार्ग चलते उनके लिए बहुत आसान होता है और जो

Romanized Version
Likes  309  Dislikes    views  5007
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

3:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य का रास्ता सबको मालूम के लोग आसान रास्ता चुन कर सकता है वह लंबा हो सकता है इस सत्य जोक सकता है लेकिन सत्य कभी पराजित नहीं हो सकता यह सिद्ध की कथा सत्य के रास्ते पर चलने वाले वीर होते हैं यह भी स्वीकार करना पड़ेगा उसके लिए परेशानियां आ सकती हैं लेकिन अंत में सत्य की ही इसीलिए कहा गया सत्यमेव जयते अंत में सत्य की ही जीत होती जो कि हमारे राष्ट्रपति के नीचे लिखा रहता है इसलिए झूठ का सहारा लेकर भले ही कुछ समय के लिए हुए आगे निकल जाए लेकिन आगे चलकर उसको काफी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है वह सकता है कि उसकी की प्रगति है वह हमेशा के लिए रुक क्योंकि झूठ के पैर बहुत छोटे हो और सत्य के पैर बहुत लंबे हो सत्य लंबा चलता है सत्य बोलने के बाद याद नहीं रखना पड़ता कि हम ने क्या बोला है और झूठ बोलने के बाद हमेशा याद रखना पड़ता है कि हमने फिर से क्या बोला यही सोचता कि ताकत को दर्शाता है सत्य बोलने वाला हमेशा के चेहरे पर एक तरह का आत्मविश्वास और सत्य बोलने वाले की आंखें चमकने वाला अगर भुजा भुजा इंसान है यानी कि बहुत तंग करने वाले की आंख प्रकाश को समझ जाता है कि वह सच बोला जा रहा है सुना जा रहा है सच बोलना वह अपने-अपने अदिति होती है यानी कि मम्मी को शांति हो तुमको प्रभाव जो पैदा होता है और जो मिलता है वह अपने आप में बहुत ही सुंदर होता है इसलिए झूठ बोलने के बदले हम सच का सहारा लेना चाहिए अगर द्वारा लिखित सत्य के प्रयोग बहुत-बहुत शुभकामनाएं धन्यवाद

satya ka rasta sabko maloom ke log aasaan rasta chun kar sakta hai vaah lamba ho sakta hai is satya joke sakta hai lekin satya kabhi parajit nahi ho sakta yah siddh ki katha satya ke raste par chalne waale veer hote hain yah bhi sweekar karna padega uske liye pareshaniya aa sakti hain lekin ant me satya ki hi isliye kaha gaya satyamev jayate ant me satya ki hi jeet hoti jo ki hamare rashtrapati ke niche likha rehta hai isliye jhuth ka sahara lekar bhale hi kuch samay ke liye hue aage nikal jaaye lekin aage chalkar usko kaafi pareshaniyo ka samana karna pad sakta hai vaah sakta hai ki uski ki pragati hai vaah hamesha ke liye ruk kyonki jhuth ke pair bahut chote ho aur satya ke pair bahut lambe ho satya lamba chalta hai satya bolne ke baad yaad nahi rakhna padta ki hum ne kya bola hai aur jhuth bolne ke baad hamesha yaad rakhna padta hai ki humne phir se kya bola yahi sochta ki takat ko darshata hai satya bolne vala hamesha ke chehre par ek tarah ka aatmvishvaas aur satya bolne waale ki aankhen chamakane vala agar bhuja bhuja insaan hai yani ki bahut tang karne waale ki aankh prakash ko samajh jata hai ki vaah sach bola ja raha hai suna ja raha hai sach bolna vaah apne apne aditi hoti hai yani ki mummy ko shanti ho tumko prabhav jo paida hota hai aur jo milta hai vaah apne aap me bahut hi sundar hota hai isliye jhuth bolne ke badle hum sach ka sahara lena chahiye agar dwara likhit satya ke prayog bahut bahut subhkamnaayain dhanyavad

सत्य का रास्ता सबको मालूम के लोग आसान रास्ता चुन कर सकता है वह लंबा हो सकता है इस सत्य जो

Romanized Version
Likes  270  Dislikes    views  3085
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के टाइम में झूठ बोलने वाला आदमी ज्यादा सेक्स होता है जो जितना सच बोलता है उतना ज्यादा पछताता है जो जितना सच बोलते हैं उतना ज्यादा रोता है उसको उतनी तकलीफ होती है उतनी सोच के टाइम में जितना ज्यादा झूठ बोलता है और आज के समाज में सबसे ज्यादा पैसा जो है वह इंपॉर्टेंट है उसके लिए आदमी हाथरस झूठ बोल सकता है हमसे

aaj ke time me jhuth bolne vala aadmi zyada sex hota hai jo jitna sach bolta hai utana zyada pachtata hai jo jitna sach bolte hain utana zyada rota hai usko utani takleef hoti hai utani soch ke time me jitna zyada jhuth bolta hai aur aaj ke samaj me sabse zyada paisa jo hai vaah important hai uske liye aadmi hathras jhuth bol sakta hai humse

आज के टाइम में झूठ बोलने वाला आदमी ज्यादा सेक्स होता है जो जितना सच बोलता है उतना ज्यादा प

Romanized Version
Likes  109  Dislikes    views  2504
WhatsApp_icon
user

Yogi Prashant Nath

Business Consultant / M D

10:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार सर्वप्रथम में सराहना करता हूं आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न का जो सत्य पर आधारित हैं उसके उपरांत में अपना परिचय कराना चाहूंगा आपसे मेरा नाम है योगी योगी प्रशांत रात चलिए बढ़ते हैं आपके प्रश्न की तरह आप ने प्रश्न किया है सत्य का रास्ता कठिन होता है सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सहारा लेते हैं लेकिन सत्य का रास्ता कठिन नहीं होता अपितु बहुत सी ऐसी परिस्थिति आती है जो आपकी परीक्षा ली जाती है जिसमें वास्तव में आप सत्य पर टिके रहने के लिए सक्षम है या नहीं और इसलिए आपको तरह-तरह के प्रलोभन दिए जाते हैं और तरह-तरह के लालच जैसे कह सकते हैं तरह-तरह के डर दिखाए जाते हैं हर तरफ से आपको सही राशि भटकाने की कोशिश की जाती है और यह सब चीजें तभी तक आपके पीछे रहती हैं जब तक आप टूट नहीं जाते जब तक आप अपने रास्ते से भटक नहीं जाते जी हां आप अगर दृढ़ निश्चय और संकल्प के साथ किसी सही राह पर चलेंगे तो बहुत से ऐसे लोग हैं जिन्हें यह चीजें सही रास्ता गवारा नहीं होता वह सोचते हैं कि इस व्यक्ति को किस तरह से गलत रास्ते पर लाया जाए या किस तरह से उसे भट्ट खाया जाए इसलिए हम जब भी सही काम या सही रास्ते पर चलते तो बहुत से ऐसे लोग आपके आपके पास आते हैं तरह-तरह की बातें करते हैं तरह-तरह की आपका माइंड बट करने की कोशिश करेंगे क्योंकि यह एक तरह की चुनौती होती एक तरह से आपकी परीक्षा ली जाती है अगर आप इसमें खरे उतरते हैं तो उसके बाद जो आपको सुख मिलता है वह आपका स्थाई सुख होता है उसका जो आनंद इसका जो फल आपको मिलता वह स्थाई तौर पर रहता है और जो कह सकते हैं आप जैसा कह रहे हैं झूठ के सहारे झूठा साल लेते हैं लोग क्योंकि वह गलत रास्ता आसान लगता है लेकिन वह तभी तक लगता है आसान जब तक आप सत्य पथ पर हैं और जिस जिस दौरान आप उस गलत रास्ते पर पहुंच जाते गलत रास्ते पर मोड़ जाता तो वह चीजें आपका साथ छोड़ देते हैं आपको इतना आपको इतना आगे चलकर आपको इतना कमजोर कर देती हैं कि आपका अंता का विनाश हो जाता है तो कभी भी आपको छोटे-मोटे सुख के पीछे नहीं भागना चाहिए एक स्थाई सुख एक अस्थाई आनंद बनाने के लिए अपने जीवन में हमें सत्य का सहारा लेना चाहिए क्योंकि सत्य कभी भी मिटता नहीं है सत्य हमेशा अजर अमर अविनाशी है असत्य चाहे कितना भी ताकतवर क्यों ना कितना भी बलवान क्यों ना बुराई चाहे कितनी भी ताकतवर क्यों ना हो उसका अंत निश्चित होता है हमने अपने इतिहास में अपने पुराणों में देखा है कितने बड़े बड़े योद्धा कितने बड़े-बड़े महारथी यहां तक कि रावण जैसे महा ज्ञानी महाबली साली जबकि वह पंडित पर थे तभी उनका अभिमान उनका गुरुर नहीं टिक पाया क्योंकि वह गलत रास्ते पर चल रहे थे तो यह बहुत बड़ी सीख मिलती हमें चीजों से हमें सीख लेनी चाहिए अपने जीवन में कभी भी हमें गलत रास्ते पर नहीं जाना चाहिए क्योंकि गलत रास्ता का बुराई का हमेशा अंत होता है और सच्चाई कभी मिट्टी नहीं है याद रखें सच्चाई हमेशा अमर हो जाती अमर रहती है इसके बहुत से उदाहरण है गीता में इसका बहुत अच्छा उदाहरण दिया है गीता एक बहुत अच्छा इसका उदाहरण है जिसमें महाभारत की में का उल्लेख है श्री कृष्ण भगवान श्री कृष्ण उपदेश दिया है कि धर्म और अधर्म सत्य और असत्य के बीच में जो है जो तालमेल बना था वह परमपिता परमेश्वर है उसकी निगाह सब पर होती है वह मौका देता सबको अपनी मनमानी अपने करने करने का वह किसी का हस्तक्षेप नहीं करता आप अपने जीवन के विधाता आप अपने जीवन का निर्णय ले सकते हैं जब तक आपको जब आप इस संसार में आते तो आपको पूरी छूट दी जाती है पूरी मनमानी करने की किसी को किसी प्रकार की रोक-टोक करने के रोक-टोक कि नहीं की जाती आपको पूरी कर सकते हैं पूरी आजादी अपने जीवन में हर एक से बुरे निर्णय लेने का आप अगर अपने जीवन में चोरी करना चाहते हैं तो चोरी कर सकते हैं आप चाहे तो अपने जीवन को भाई के लिए ना चाहते भलाई कर सकते आप चाहे तो अपने जीवन को वह बुराई में लगाना चाहते तो बुराई कर सकते हैं उसमें को भी भी परमेश्वर आपको हस्तक्षेप नहीं करेगा क्या क्यों कर रहे हैं क्या करें लेकिन अंत समय जो इन सब का परिणाम जो है ना परिणाम वह परमेश्वर देता परिणाम का जो फल होता है वह परमेश्वर देता है आपने सारी जिंदगी जो भी काम किया उन्होंने कुछ नहीं कहा ना ही वह कुछ कहेंगे लेकिन अंत समय में उसी के नापतोल पर ही आप की गति होती है आपका रिजल्ट जो कहते हैं वास्तव में तो हमें इन चीजों में यह सब मोहमाया होती है दिखावा होता है हमें में नहीं भ्रमित होना चाहिए 12 से दिखने वाली चमक होती है जो हमें आकर्षित तो करती अपनी ओर खींचती है लेकिन जब हम वहां जाते तो वहां कुछ भी नहीं होता उसका क्यों स्थाई नहीं होता उसका कोई स्थिरता नहीं होता इसलिए मैं आपसे यही कहूंगा कि जीवन में कभी भी सत्य का साथ ना छोड़े सत्य के रास्ते पर ही चले यकीनन आपको बहुत से बुरे लोग बुरे विचार और बहुत से ऐसी कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा क्योंकि वह आप को तोड़ना चाहते हैं लेकिन आप वही टूटता है जो कमजोर होता है अगर आप मजबूत है आप सक्षम है तो आपको कोई दुनिया की ताकत नहीं कर सकते और यकीन मानिए आप तभी तक हार मानते हैं जब आप खुद से हारते हैं और जब अगर आप आप खुद से हार नहीं मानते तो आपको कोई भी माई का लाल हरा नहीं सकता याद रखें आपकी जीत आप पर ही निर्भर करती आपकी हर आप पर ही निर्भर करते आपकी सोच के ऊपर अगर आप सोच से हार जाते हैं तो आप कहीं ना कहीं हारे हारे हुए होते तो कोई भी अगर आपकी मानसिकता हारी हुई है तो कोई भी व्यक्ति आपको जीता नहीं सकता याद रखे आपके पास कितने भी अस्त्र-शस्त्र कितना भी बल क्यों ना हो अगर आपकी सोच हारी हुई है तो आपको कोई चिंता नहीं सकता और अगर आपकी सोच रही थी हुई है तो आपको कोई हरा नहीं सकता याद रखिए चाहे आपके पास कुछ भी ना कुछ भी ना हो किसी प्रकार की कोई बोल ना हो लेकिन आपके मन में आपके आत्मविश्वास में यह है कि निर्णय है कि मैं जीत सकता हूं मेरे अंदर जीत है मैं मुझे कोई हरा नहीं सकता तब तक आपको कोई नहीं हरा सकता याद रखेगा यह बहुत बड़ी बातें इसमें सच्चाई है इसका सबसे सर्वोत्तम उदाहरण है गीता गीता में महाभारत का जो मैं जो श्री कृष्ण का योगदान है वह अतुलनीय है क्योंकि उसमें उन्होंने किसी प्रकार का अस्त्र उठाने की शपथ ली थी कि मैं किसी प्रकार का स्तर नहीं उठाऊंगा ना उठाने की और बिना कोई अस्त्र शस्त्र के उन्होंने पूरी महाभारत जीती तो यह बहुत बड़ी बात है क्योंकि अपने अंदर एक परसेंट की भी नकारात्मक नेगेटिव थॉट विचार नहीं लाने चाहिए वह परमपिता परमेश्वर थे उनके अंदर सकारात्मक ऊर्जा टी सकारात्मक सोच थी उनमें 1% तक भी नकारात्मकता बुराई असत्य के भाव शो थे वह सत्य की तरफ से इसलिए उन्होंने हर एक चीज से अपने आप को ऊपर रखा और अर्जुन कोई जो मानसिकता थी उसको भी सही कर कर उसे युद्ध में विजय बनाया बहुत बड़ी बात है बहुत सीख लेने वाली बात है इन चीजों को हम अनदेखा नहीं कर सकते और यह बहुत अच्छी चीज है जिसे हम अपने जीवन में उतारना चाहिए यकीन मानिए आप आपका अस्तित्व तभी तक है आपको लोग तभी तक कुछ तो जब तक आप अस्तित्व में सत्य की तरफ अगर आपको किसी लालच में पड़कर किसी भी कैसे सुख सुविधा में पढ़कर अगर आपने अपना अस्तित्व खो दिया ना सत्य से भटक गए तो आपकी कोई इज्जत कोई आपका स्थान कोई नाम नहीं रहेगा आप दुत्कार दिया जाएंगे शुरू शुरू में लगता है आप जैसे ही उस गलत रास्ते पर चल कर देखें बस लोग आपको भटका ना चाहते हैं आपको कहेंगे कि हम आपके तरफ से आपको बहुत से साथ देंगे और सपोर्ट करेंगे लेकिन जैसे ही आप अच्छा ही रास्ते को अपने अपने स्कूल के अंतरण को छोड़कर निकलते हैं तो वह भी अपना हाथ चप्पल हटा लेते ओल्ड आपको दोस्त कहेंगे कि हमारे कहने से आप कोई ऐसा करेंगे अगर हम कुएं में कूदने को कहेंगे तो क्या आपको देंगे बाद में वह भी अपना पल्ला झाड़ लेते हैं वह भी आपका सपोर्ट नहीं करते हो सिर्फ दिखावा होता है इसलिए संत झूठ की चमक हमेशा नकली होती है इस चीज को ध्यान में रखकर आशा करता हूं यह पोस्ट आपको अच्छा लगा तो आप जरूरी चल लाइक करेंगे और मैं आपका आभार व्यक्त करता हूं कि आपने अपना अमूल्य समय दिया इस पोस्ट को सुनने के लिए धन्यवाद आपका आप मुझसे जुड़ने के लिए फॉलो कर सकते हमारा वह कल प्रोफाइल पर योगी प्रशांत नाथ करके मेरा वह कल प्रोफाइल पेज फॉलो फॉलो कर सकते हैं जुड़ सकते हैं इस तरह की सकारात्मक बातों को सुनने के लिए जो आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न होते हैं उनके मैं जवाब देता हूं चुनिंदा प्रश्नों के

namaskar sarvapratham me sarahana karta hoon aapke dwara pooche gaye prashna ka jo satya par aadharit hain uske uprant me apna parichay krana chahunga aapse mera naam hai yogi yogi prashant raat chaliye badhte hain aapke prashna ki tarah aap ne prashna kiya hai satya ka rasta kathin hota hai satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya isliye log aasaan rasta chunkar jhuth ka sahara lete hain lekin satya ka rasta kathin nahi hota apitu bahut si aisi paristhiti aati hai jo aapki pariksha li jaati hai jisme vaastav me aap satya par tike rehne ke liye saksham hai ya nahi aur isliye aapko tarah tarah ke pralobhan diye jaate hain aur tarah tarah ke lalach jaise keh sakte hain tarah tarah ke dar dekhiye jaate hain har taraf se aapko sahi rashi bhatkane ki koshish ki jaati hai aur yah sab cheezen tabhi tak aapke peeche rehti hain jab tak aap toot nahi jaate jab tak aap apne raste se bhatak nahi jaate ji haan aap agar dridh nishchay aur sankalp ke saath kisi sahi raah par chalenge toh bahut se aise log hain jinhen yah cheezen sahi rasta gawara nahi hota vaah sochte hain ki is vyakti ko kis tarah se galat raste par laya jaaye ya kis tarah se use bhatt khaya jaaye isliye hum jab bhi sahi kaam ya sahi raste par chalte toh bahut se aise log aapke aapke paas aate hain tarah tarah ki batein karte hain tarah tarah ki aapka mind but karne ki koshish karenge kyonki yah ek tarah ki chunauti hoti ek tarah se aapki pariksha li jaati hai agar aap isme khare utarate hain toh uske baad jo aapko sukh milta hai vaah aapka sthai sukh hota hai uska jo anand iska jo fal aapko milta vaah sthai taur par rehta hai aur jo keh sakte hain aap jaisa keh rahe hain jhuth ke sahare jhutha saal lete hain log kyonki vaah galat rasta aasaan lagta hai lekin vaah tabhi tak lagta hai aasaan jab tak aap satya path par hain aur jis jis dauran aap us galat raste par pohch jaate galat raste par mod jata toh vaah cheezen aapka saath chhod dete hain aapko itna aapko itna aage chalkar aapko itna kamjor kar deti hain ki aapka anta ka vinash ho jata hai toh kabhi bhi aapko chote mote sukh ke peeche nahi bhaagna chahiye ek sthai sukh ek asthai anand banane ke liye apne jeevan me hamein satya ka sahara lena chahiye kyonki satya kabhi bhi mitta nahi hai satya hamesha ajar amar avinashi hai asatya chahen kitna bhi takatwar kyon na kitna bhi balwan kyon na burayi chahen kitni bhi takatwar kyon na ho uska ant nishchit hota hai humne apne itihas me apne purano me dekha hai kitne bade bade yodha kitne bade bade maharathi yahan tak ki ravan jaise maha gyani mahabali saali jabki vaah pandit par the tabhi unka abhimaan unka guroor nahi tick paya kyonki vaah galat raste par chal rahe the toh yah bahut badi seekh milti hamein chijon se hamein seekh leni chahiye apne jeevan me kabhi bhi hamein galat raste par nahi jana chahiye kyonki galat rasta ka burayi ka hamesha ant hota hai aur sacchai kabhi mitti nahi hai yaad rakhen sacchai hamesha amar ho jaati amar rehti hai iske bahut se udaharan hai geeta me iska bahut accha udaharan diya hai geeta ek bahut accha iska udaharan hai jisme mahabharat ki me ka ullekh hai shri krishna bhagwan shri krishna updesh diya hai ki dharm aur adharma satya aur asatya ke beech me jo hai jo talmel bana tha vaah parampita parmeshwar hai uski nigah sab par hoti hai vaah mauka deta sabko apni manmani apne karne karne ka vaah kisi ka hastakshep nahi karta aap apne jeevan ke vidhata aap apne jeevan ka nirnay le sakte hain jab tak aapko jab aap is sansar me aate toh aapko puri chhut di jaati hai puri manmani karne ki kisi ko kisi prakar ki rok tok karne ke rok tok ki nahi ki jaati aapko puri kar sakte hain puri azadi apne jeevan me har ek se bure nirnay lene ka aap agar apne jeevan me chori karna chahte hain toh chori kar sakte hain aap chahen toh apne jeevan ko bhai ke liye na chahte bhalai kar sakte aap chahen toh apne jeevan ko vaah burayi me lagana chahte toh burayi kar sakte hain usme ko bhi bhi parmeshwar aapko hastakshep nahi karega kya kyon kar rahe hain kya kare lekin ant samay jo in sab ka parinam jo hai na parinam vaah parmeshwar deta parinam ka jo fal hota hai vaah parmeshwar deta hai aapne saari zindagi jo bhi kaam kiya unhone kuch nahi kaha na hi vaah kuch kahenge lekin ant samay me usi ke naptol par hi aap ki gati hoti hai aapka result jo kehte hain vaastav me toh hamein in chijon me yah sab mohmaya hoti hai dikhawa hota hai hamein me nahi bharmit hona chahiye 12 se dikhne wali chamak hoti hai jo hamein aakarshit toh karti apni aur khichti hai lekin jab hum wahan jaate toh wahan kuch bhi nahi hota uska kyon sthai nahi hota uska koi sthirta nahi hota isliye main aapse yahi kahunga ki jeevan me kabhi bhi satya ka saath na chode satya ke raste par hi chale yakinan aapko bahut se bure log bure vichar aur bahut se aisi kathinaiyon ka samana karna padega kyonki vaah aap ko todna chahte hain lekin aap wahi tootata hai jo kamjor hota hai agar aap majboot hai aap saksham hai toh aapko koi duniya ki takat nahi kar sakte aur yakin maniye aap tabhi tak haar maante hain jab aap khud se harte hain aur jab agar aap aap khud se haar nahi maante toh aapko koi bhi my ka laal hara nahi sakta yaad rakhen aapki jeet aap par hi nirbhar karti aapki har aap par hi nirbhar karte aapki soch ke upar agar aap soch se haar jaate hain toh aap kahin na kahin hare hare hue hote toh koi bhi agar aapki mansikta haari hui hai toh koi bhi vyakti aapko jita nahi sakta yaad rakhe aapke paas kitne bhi astra shastra kitna bhi bal kyon na ho agar aapki soch haari hui hai toh aapko koi chinta nahi sakta aur agar aapki soch rahi thi hui hai toh aapko koi hara nahi sakta yaad rakhiye chahen aapke paas kuch bhi na kuch bhi na ho kisi prakar ki koi bol na ho lekin aapke man me aapke aatmvishvaas me yah hai ki nirnay hai ki main jeet sakta hoon mere andar jeet hai main mujhe koi hara nahi sakta tab tak aapko koi nahi hara sakta yaad rakhega yah bahut badi batein isme sacchai hai iska sabse sarvottam udaharan hai geeta geeta me mahabharat ka jo main jo shri krishna ka yogdan hai vaah atulniya hai kyonki usme unhone kisi prakar ka astra uthane ki shapath li thi ki main kisi prakar ka sthar nahi uthaunga na uthane ki aur bina koi astra shastra ke unhone puri mahabharat jeeti toh yah bahut badi baat hai kyonki apne andar ek percent ki bhi nakaratmak Negative thought vichar nahi lane chahiye vaah parampita parmeshwar the unke andar sakaratmak urja T sakaratmak soch thi unmen 1 tak bhi nakaratmakta burayi asatya ke bhav show the vaah satya ki taraf se isliye unhone har ek cheez se apne aap ko upar rakha aur arjun koi jo mansikta thi usko bhi sahi kar kar use yudh me vijay banaya bahut badi baat hai bahut seekh lene wali baat hai in chijon ko hum andekha nahi kar sakte aur yah bahut achi cheez hai jise hum apne jeevan me utarana chahiye yakin maniye aap aapka astitva tabhi tak hai aapko log tabhi tak kuch toh jab tak aap astitva me satya ki taraf agar aapko kisi lalach me padhkar kisi bhi kaise sukh suvidha me padhakar agar aapne apna astitva kho diya na satya se bhatak gaye toh aapki koi izzat koi aapka sthan koi naam nahi rahega aap dutkar diya jaenge shuru shuru me lagta hai aap jaise hi us galat raste par chal kar dekhen bus log aapko bhataka na chahte hain aapko kahenge ki hum aapke taraf se aapko bahut se saath denge aur support karenge lekin jaise hi aap accha hi raste ko apne apne school ke antran ko chhodkar nikalte hain toh vaah bhi apna hath chappal hata lete old aapko dost kahenge ki hamare kehne se aap koi aisa karenge agar hum kuen me koodne ko kahenge toh kya aapko denge baad me vaah bhi apna palla jhad lete hain vaah bhi aapka support nahi karte ho sirf dikhawa hota hai isliye sant jhuth ki chamak hamesha nakli hoti hai is cheez ko dhyan me rakhakar asha karta hoon yah post aapko accha laga toh aap zaroori chal like karenge aur main aapka abhar vyakt karta hoon ki aapne apna amuly samay diya is post ko sunne ke liye dhanyavad aapka aap mujhse judne ke liye follow kar sakte hamara vaah kal profile par yogi prashant nath karke mera vaah kal profile page follow follow kar sakte hain jud sakte hain is tarah ki sakaratmak baaton ko sunne ke liye jo aapke dwara pooche gaye prashna hote hain unke main jawab deta hoon chuninda prashnon ke

नमस्कार सर्वप्रथम में सराहना करता हूं आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न का जो सत्य पर आधारित हैं

Romanized Version
Likes  108  Dislikes    views  1240
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

झूठ का सहारा जो लेते हैं उजाला टिक नहीं पाते एक झूठ को छुपाने के लिए सोच होता है सत्य सबसे अच्छा होता है अगली जरूर होता है लेकिन देख सकते बोल देंगे तो सारे शंकर चौक

jhuth ka sahara jo lete hain ujaala tick nahi paate ek jhuth ko chhupaane ke liye soch hota hai satya sabse accha hota hai agli zaroor hota hai lekin dekh sakte bol denge toh saare shankar chauk

झूठ का सहारा जो लेते हैं उजाला टिक नहीं पाते एक झूठ को छुपाने के लिए सोच होता है सत्य सबसे

Romanized Version
Likes  152  Dislikes    views  1564
WhatsApp_icon
user

Pinkesh Negi

Yoga Ayurveda

3:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या है इसलिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सहारा लेते हैं आपका सवाल बड़ा सुंदर है बड़ा अच्छा है सट्टे का रास्ता बिल्कुल सही बात है सच्चे का रास्ता बहुत कम है और यह सबको पता है लेकिन यहां पर सब लोग नहीं होते कि जो झूठ के सहारा लेकर अपना रास्ता बनाएं बहुत से लोग ऐसे भी है भाई जो सत्य के रास्ते पर चल के आगे बढ़ते हैं उनको हमेशा आगे बढ़ना सत्य के रास्ते पर चलती है वह किसी के साथ धोखा नहीं करते अब बड़े-बड़े उदाहरण कीजिए वह अपने कार्य को पूछते हैं अपने कार्य को पूजनीय मानते हैं इसलिए वह अपने कर्मों को करते जाते हैं जितने भी लोग हैं वह कुछ लोगों ने मैसेज सकते के रास्ते पर चले हैं और कुछ लोग असत्य के रास्ते बस यहां पर फर्क सिर्फ इतना है क्या आपने सही रास्ता चुना है अगर आपने झूठ का रास्ता चुना है सॉरी आपने अपने अनुकूल कोई रास्ता नहीं चुना अपने आपके प्रतिकूल का रास्ता चुना है जिसमें आप कंप्यूटर बंद हो तो जाहिर सी बात है आप उस रास्ते पर झूठ बोल बोल कर झूठ बोल बोल के चलोगे लेकिन आपको जिस चीज में इंटरेस्ट है जिस चीज में आपके आपको मेहनत करने का मन करता है जिस चीज में आप लगन के साथ काम करना चाहते हो उस रास्ते आप कभी झूठ नहीं बोलोगे उदाहरण के लिए जैसे मानो आपको स्विमिंग करना नहीं आता लेकिन फिर भी आप अपने दोस्तों को कहते हैं कि नहीं स्विमिंग करने चलना स्विमिंग करते हैं फिर आप उनको बोल कर आपको लगता कि आपके दोस्त से मिल करने आएंगे मेरे साथ कि मैं आएंगे आपका वहां पर कुछ काम है या कुछ और चीज है आप अपने स्वार्थ के लिए अगर कुछ गलत करते हो उस रास्ते पर तो यह भी गलत है आपको स्विमिंग करनी है तो आपको भी ज्यादा पड़ेगा उनका उसमें कोई काम नहीं है तो इस तरह का रास्ता नहीं अपनाना अपने आपको आपको स्विमिंग करनी है तो आप को अकेले जाना पड़ेगा आपको सही नहीं आती और आपको मजा आना चाहिए उसमें ऐसा नहीं होना चाहिए कि नहीं मुझे स्विमिंग करना है तो मुझे मेरे साथ कोई होना चाहिए या फिर मुझे अगर मैं अगर ढूंढ जाऊं तो कोई बचाने वाला होना चाहिए नहीं तो आपने गलत रास्ता चुना है जब आपको सी नींद आती नहीं है तो आप स्विमिंग क्यों कर रहे हो आप मत करो आप झूठ बोलकर स्विमिंग करोगे तो आप दोगे तो कहने का मतलब जो भी काम करो सही चुनाव के साथ करो आप उसमें झूठ नहीं हो सकते आप उस रास्ते पर अच्छे से जानते हो उस रास्ते को और आपको उस रास्ते में मजा आता है चलने में और आप उसे अपनी पूरी लोग बोलते हैं जिन्होंने अपने कार्यक्षेत्र को सही से नहीं सुनाएं

satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya hai isliye log aasaan rasta chunkar jhuth ka sahara lete hain aapka sawaal bada sundar hai bada accha hai satte ka rasta bilkul sahi baat hai sacche ka rasta bahut kam hai aur yah sabko pata hai lekin yahan par sab log nahi hote ki jo jhuth ke sahara lekar apna rasta banaye bahut se log aise bhi hai bhai jo satya ke raste par chal ke aage badhte hain unko hamesha aage badhana satya ke raste par chalti hai vaah kisi ke saath dhokha nahi karte ab bade bade udaharan kijiye vaah apne karya ko poochhte hain apne karya ko pujaniya maante hain isliye vaah apne karmon ko karte jaate hain jitne bhi log hain vaah kuch logo ne massage sakte ke raste par chale hain aur kuch log asatya ke raste bus yahan par fark sirf itna hai kya aapne sahi rasta chuna hai agar aapne jhuth ka rasta chuna hai sorry aapne apne anukul koi rasta nahi chuna apne aapke pratikul ka rasta chuna hai jisme aap computer band ho toh jaahir si baat hai aap us raste par jhuth bol bol kar jhuth bol bol ke chaloge lekin aapko jis cheez me interest hai jis cheez me aapke aapko mehnat karne ka man karta hai jis cheez me aap lagan ke saath kaam karna chahte ho us raste aap kabhi jhuth nahi bologe udaharan ke liye jaise maano aapko Swimming karna nahi aata lekin phir bhi aap apne doston ko kehte hain ki nahi Swimming karne chalna Swimming karte hain phir aap unko bol kar aapko lagta ki aapke dost se mil karne aayenge mere saath ki main aayenge aapka wahan par kuch kaam hai ya kuch aur cheez hai aap apne swarth ke liye agar kuch galat karte ho us raste par toh yah bhi galat hai aapko Swimming karni hai toh aapko bhi zyada padega unka usme koi kaam nahi hai toh is tarah ka rasta nahi apnana apne aapko aapko Swimming karni hai toh aap ko akele jana padega aapko sahi nahi aati aur aapko maza aana chahiye usme aisa nahi hona chahiye ki nahi mujhe Swimming karna hai toh mujhe mere saath koi hona chahiye ya phir mujhe agar main agar dhundh jaaun toh koi bachane vala hona chahiye nahi toh aapne galat rasta chuna hai jab aapko si neend aati nahi hai toh aap Swimming kyon kar rahe ho aap mat karo aap jhuth bolkar Swimming karoge toh aap doge toh kehne ka matlab jo bhi kaam karo sahi chunav ke saath karo aap usme jhuth nahi ho sakte aap us raste par acche se jante ho us raste ko aur aapko us raste me maza aata hai chalne me aur aap use apni puri log bolte hain jinhone apne karyakshetra ko sahi se nahi sunaen

सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या है इसलिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सह

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

Jitendra Goswami

Meditation Expert

3:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सहारा लेते हैं दोस्त यह आपसे किसने कह दिया सत्य का रास्ता कठिन होता है और यह आपसे किसने कह दिया कि झूठ का रास्ता आसान होता है दरअसल सत्य का रास्ता आसान है और झूठ का रास्ता कठिन है आपको एक उदाहरण देकर समझाता हूं एक बच्चा स्कूल जाता है उसकी मां उसे टिफिन बना कर देने में थोड़ी लेट हो जाती है और उसकी वजह से वह स्कूल में लेट पहुंचता है उसके स्कूल का टीचर उससे पूछता है तुम लेट क्यों हुए तो बच्चा अभी छोटा है उसी का सत्य बोल देता है कि मैं इसलिए लेट हो गया क्योंकि मेरी मां ने मुझे टिफिन बना कर थोड़ा देरी से दिया मेरी मां टिफिन बना कर देने में लेट हो गई वहीं एक बड़ा व्यक्ति ऑफिस जाने के लिए घर से निकल रहा होता है लेकिन किसी वजह से उसकी पत्नी एक्शन बनाकर नहीं दे पाई थोड़ी लेट हो गई थोड़ी देर हो गई इस वजह से वह ऑफिस लेट पहुंचा उसके बॉस ने उनसे सवाल किया तुम क्यों लेट हो गए तो क्या वह व्यक्ति सीधा सीधा बोल सकता है कि मेरी पत्नी ने टिफिन बनाकर लेट दिया इसलिए मिली नहीं बोल सकता वहां उसे उसकी इज्जत उसकी पत्नी की इज्जत उसके घर की जो स्थिति उसके बारे में उसकी जो धारणा है उन सब को ठेस लग जाएगी यदि वह सब तो बोल देता है इन सब को छुपाने के लिए बहुत से कोई और कहानी बनाएगा झूठी कहानी बहुत से कहेगा तो आसान क्या हुआ उस बच्चे का सीधे से सीधा बोल देना सब तो बोल देना कि मेरी पत्नी मेरी मां ने टिफिन डेड बना है इसलिए मैं स्कूल आने में लेट हो गया या उस व्यस्क व्यक्ति का झूठ बोलना मुश्किल रहा जो सीधे से नहीं बोल पाया कि मेरी पत्नी ने टिफिन बना कर लेट दिया इसलिए मैं लेट हुआ तो आसान क्या है सत्य झूठ वह झूठी हुआ ना उस जो इज्जत उसने अपने मन में बना रखी अपने घर की अपनी पत्नी की वह चाहता है कि उसको अगर वह किसी को बता देगा तो उसको ठेस पहुंच जाएगी तो वह सब झूठ है ना तो झूठ क्या है हमारी शान और शौकत हमारी यह इज्जत जो हम सोचते हैं हमारा यह नजरिया जिस नजर से हम देखते हैं यह झूठ है तो कठिन झूठ का रास्ता होता है मेरे दोस्त सत्य का रास्ता बहुत आसान है

satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya isliye log aasaan rasta chunkar jhuth ka sahara lete hain dost yah aapse kisne keh diya satya ka rasta kathin hota hai aur yah aapse kisne keh diya ki jhuth ka rasta aasaan hota hai darasal satya ka rasta aasaan hai aur jhuth ka rasta kathin hai aapko ek udaharan dekar samajhaata hoon ek baccha school jata hai uski maa use tiffin bana kar dene me thodi late ho jaati hai aur uski wajah se vaah school me late pahuchta hai uske school ka teacher usse poochta hai tum late kyon hue toh baccha abhi chota hai usi ka satya bol deta hai ki main isliye late ho gaya kyonki meri maa ne mujhe tiffin bana kar thoda deri se diya meri maa tiffin bana kar dene me late ho gayi wahi ek bada vyakti office jaane ke liye ghar se nikal raha hota hai lekin kisi wajah se uski patni action banakar nahi de payi thodi late ho gayi thodi der ho gayi is wajah se vaah office late pohcha uske boss ne unse sawaal kiya tum kyon late ho gaye toh kya vaah vyakti seedha seedha bol sakta hai ki meri patni ne tiffin banakar late diya isliye mili nahi bol sakta wahan use uski izzat uski patni ki izzat uske ghar ki jo sthiti uske bare me uski jo dharana hai un sab ko thes lag jayegi yadi vaah sab toh bol deta hai in sab ko chhupaane ke liye bahut se koi aur kahani banayega jhuthi kahani bahut se kahega toh aasaan kya hua us bacche ka sidhe se seedha bol dena sab toh bol dena ki meri patni meri maa ne tiffin dead bana hai isliye main school aane me late ho gaya ya us vyasak vyakti ka jhuth bolna mushkil raha jo sidhe se nahi bol paya ki meri patni ne tiffin bana kar late diya isliye main late hua toh aasaan kya hai satya jhuth vaah jhuthi hua na us jo izzat usne apne man me bana rakhi apne ghar ki apni patni ki vaah chahta hai ki usko agar vaah kisi ko bata dega toh usko thes pohch jayegi toh vaah sab jhuth hai na toh jhuth kya hai hamari shan aur shoukat hamari yah izzat jo hum sochte hain hamara yah najariya jis nazar se hum dekhte hain yah jhuth hai toh kathin jhuth ka rasta hota hai mere dost satya ka rasta bahut aasaan hai

सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सहारा

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

Dr Sanjay Kumar

Life Coach, Parenting Mentor, Relationship Coach

3:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों मैं डॉक्टर संजय कुमार आपका मेंट और गाइड और लाइफ कोच वह कल परसों से आपका स्वागत करता हूं बहुत ही इंटरेस्टिंग प्रश्न है सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसके लिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सहारा लेते हैं तो दोस्तों जैसी आप की सोच होती है बाकी दुनिया वैसी ही हमें नजर आती बहुत इंटरेस्टिंग प्रश्न है और बहुत लोग इसमें कंफ्यूज रहते हैं बस क्लेरिटी की आवश्यकता है मैं पूरा प्रयत्न करता हूं इस सुंदर विषय के ऊपर बात करने के लिए किस सत्य है क्या सत्य वही है जो आप सोचते हैं कि सत्य हर एक व्यक्ति का अपना अपना सकते हैं गौतम बुद्ध ने बोला है कि सत्य यह है कि सत्य कुछ है ही नहीं तो अल्टीमेटली आपको अपने हिसाब से ऑथेंटिक रहना होगा जिसे बोलते हम सच्चे मन से तो सच्चे मन और सच्चे हृदय और सच्चे मस्तिष्क के साथ में लॉजिकली और साइंटिफिकली चीजों को देखना होगा उसी हिसाब से संकल्प करने होंगे कमेंट करने होंगे कि यह चीजें मुझे करनी है और इस तरीके से करनी है और जो आपको लगता है कि सत्य है उसी के हिसाब से काम करें जब जब करेक्शन की जरूरत हो बहुत बार ऐसी सिचुएशन आती है कि आपको लगता है कि यार मैं तो यह गलत सोच रहा था असली सत्य तो यह है मैं इस व्यक्ति को गलत समझ रहा था असली सत्य तो यही है जैसे ही उस समय उस सत्य का भान हो उसको स्वीकार ने बिना किसी गिल्टी या रिग्रेट खेद को लाए हुए और आगे बढ़ते चले जो आपको चीज लगने लगे और मुश्किल फुल लाइफ में कुछ नहीं होता सब जो है आपका जो मस्तिष्क है वह आपको ऐसे सचिव आता है या बताता है कि आसान है मुश्किल है या आप जब मस्तिष्क को या मन को गबन करने लगते हैं तब आप यह डिसाइड करते की आसार हैं हम उसके चीजों की इंफॉर्मेशन जब आपके पास में होती है पूरा विस्तृत ब्योरा आपके पास में होता है प्रोसेस आपके साथ में नहीं होते हैं साथ में होते हैं सामने होते स्पर्श आपके साथ में होते हैं और साथ में ही आपके पास मैसेज होते हैं अपने टारगेट कि जो भी अचीवमेंट्स है उनको मैसेज करने के लिए और टारगेट मेजरेबल फॉर्म में आपके पास अवेलेबल होते हैं फीडबैक सिस्टम आपके पास अवेलेबल होता है नॉलेज और स्किल्ड पीपल आपके साथ में होते हैं जब आप कमिटमेंट के साथ प्रॉपर डिक्लेरेशन के बाद कमिटमेंट के साथ चीजों को बिना मन की सुने में बार बार में एक ही सपने सच सच में बोलता हूं मंकी सुनने में जवाब किसको करते हैं तो आपको चीजें आसान लगने लगती हैं और डेफिनेटली एक्स्ट्रा उड़ने की सक्सेस उन्हीं लोगों को मिलती है जो हमेशा ऑथेंटिक रहते हैं अपने से प्रति अपने आसपास के लोगों के प्रति अपनी आर्गेनाइजेशन के प्रति अपने देश के प्रति संसार के प्रति समाज के प्रति वही लोग अक्सर नरेश को प्राप्त कर पाते हैं तो आपकी जिंदगी में हमेशा सत्य रहे सत्य के साथ में रहे सत्य के लिए काम करते रहे सत्य के साथ काम करते रहे और अपनी जिंदगी के सभी टारगेट्स को उपलब्धियों को उच्च रूप की उपलब्धियों को प्राप्त करें उच्च श्रेणी की उपलब्धियों को प्राप्त करें कुछ श्रेणी का सुंदर भविष्य आपके सामने इसी शुभकामना के साथ ही स्टेशन को मैं यहीं समाप्त करता हूं आपका यह दिन और आने वाली जिंदगी सत्य से भरपूर प्रेम से भरपूर और सुंदरता से भरपूर हो नमस्कार

namaskar doston main doctor sanjay kumar aapka ment aur guide aur life coach vaah kal parso se aapka swaagat karta hoon bahut hi interesting prashna hai satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya iske liye log aasaan rasta chunkar jhuth ka sahara lete hain toh doston jaisi aap ki soch hoti hai baki duniya vaisi hi hamein nazar aati bahut interesting prashna hai aur bahut log isme confuse rehte hain bus kleriti ki avashyakta hai main pura prayatn karta hoon is sundar vishay ke upar baat karne ke liye kis satya hai kya satya wahi hai jo aap sochte hain ki satya har ek vyakti ka apna apna sakte hain gautam buddha ne bola hai ki satya yah hai ki satya kuch hai hi nahi toh altimetli aapko apne hisab se authentic rehna hoga jise bolte hum sacche man se toh sacche man aur sacche hriday aur sacche mastishk ke saath me logically aur scientifically chijon ko dekhna hoga usi hisab se sankalp karne honge comment karne honge ki yah cheezen mujhe karni hai aur is tarike se karni hai aur jo aapko lagta hai ki satya hai usi ke hisab se kaam kare jab jab correction ki zarurat ho bahut baar aisi situation aati hai ki aapko lagta hai ki yaar main toh yah galat soch raha tha asli satya toh yah hai main is vyakti ko galat samajh raha tha asli satya toh yahi hai jaise hi us samay us satya ka bhan ho usko sweekar ne bina kisi guilty ya rigret khed ko laye hue aur aage badhte chale jo aapko cheez lagne lage aur mushkil full life me kuch nahi hota sab jo hai aapka jo mastishk hai vaah aapko aise sachiv aata hai ya batata hai ki aasaan hai mushkil hai ya aap jab mastishk ko ya man ko gaban karne lagte hain tab aap yah decide karte ki aasaar hain hum uske chijon ki information jab aapke paas me hoti hai pura vistrit byora aapke paas me hota hai process aapke saath me nahi hote hain saath me hote hain saamne hote sparsh aapke saath me hote hain aur saath me hi aapke paas massage hote hain apne target ki jo bhi achievements hai unko massage karne ke liye aur target measurable form me aapke paas available hote hain feedback system aapke paas available hota hai knowledge aur Skilled pipal aapke saath me hote hain jab aap commitment ke saath proper declaration ke baad commitment ke saath chijon ko bina man ki sune me baar baar me ek hi sapne sach sach me bolta hoon monkey sunne me jawab kisko karte hain toh aapko cheezen aasaan lagne lagti hain aur definetli extra udane ki success unhi logo ko milti hai jo hamesha authentic rehte hain apne se prati apne aaspass ke logo ke prati apni organisation ke prati apne desh ke prati sansar ke prati samaj ke prati wahi log aksar naresh ko prapt kar paate hain toh aapki zindagi me hamesha satya rahe satya ke saath me rahe satya ke liye kaam karte rahe satya ke saath kaam karte rahe aur apni zindagi ke sabhi targets ko uplabdhiyon ko ucch roop ki uplabdhiyon ko prapt kare ucch shreni ki uplabdhiyon ko prapt kare kuch shreni ka sundar bhavishya aapke saamne isi shubhkamna ke saath hi station ko main yahin samapt karta hoon aapka yah din aur aane wali zindagi satya se bharpur prem se bharpur aur sundarta se bharpur ho namaskar

नमस्कार दोस्तों मैं डॉक्टर संजय कुमार आपका मेंट और गाइड और लाइफ कोच वह कल परसों से आपका स्

Romanized Version
Likes  33  Dislikes    views  341
WhatsApp_icon
user

Dileep Kumar

आध्यात्मिक

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुन कर जो बता रहे थे देखिए झूठ का ही रास्ता बहुत कठिन होता है क्योंकि यह झूठ बोलने को रमेश और झूठ बोलने पड़ते हैं उस बचाव के लिए किसी बचाव के लिए और हम एक शब्द बोल देते हैं तो जहां तक होता है मेरा वहां बच्चा हो जाता है तो मैं यही कहूंगा कि शब्द का रास्ता बहुत आसान है और अगर हम एक झूठ बोलते हैं तो उस झूठ छुपाने के लिए हमेशा झूठ बोलना पड़ता है और जहां तक एक दिन वही सत्य ही आगे आता है और झूठ होने पर हार जाता है तुम्हें कहना चाहूंगा की दास्तां सुनकर झूठ का सहारा लेते हैं जो लोग को एक दिन शब्द के आगे हार जाते तो स हम एक बार बोल देते हैं तो सत्य पर हमारा उस समय बेशक उसकी विजय ना हो मगर अंत समय हमारे दिल में तो यह रहता क्योंकि सत्य बोला तो जातक ओम सत्य की गोली

satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya isliye log aasaan rasta chun kar jo bata rahe the dekhiye jhuth ka hi rasta bahut kathin hota hai kyonki yah jhuth bolne ko ramesh aur jhuth bolne padate hain us bachav ke liye kisi bachav ke liye aur hum ek shabd bol dete hain toh jaha tak hota hai mera wahan baccha ho jata hai toh main yahi kahunga ki shabd ka rasta bahut aasaan hai aur agar hum ek jhuth bolte hain toh us jhuth chhupaane ke liye hamesha jhuth bolna padta hai aur jaha tak ek din wahi satya hi aage aata hai aur jhuth hone par haar jata hai tumhe kehna chahunga ki dastan sunkar jhuth ka sahara lete hain jo log ko ek din shabd ke aage haar jaate toh s hum ek baar bol dete hain toh satya par hamara us samay beshak uski vijay na ho magar ant samay hamare dil me toh yah rehta kyonki satya bola toh jatak om satya ki goli

सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुन कर जो बता रहे

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  132
WhatsApp_icon
play
user

Vimla Bidawatka

Spiritual Thinker

2:12

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका कहना है कि सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या आसान रास्ता चुन का झूठ का सहारा लेना चाहिए बिल्कुल नहीं अभी भी सत्य को छोड़ना नहीं चाहिए क्योंकि सत्य का मतलब भगवान है सत्य का दूसरा नाम ही भगवान है इस पर इसका मतलब अगर कुत्ते के साथ हैं आप मतलब आप भगवान के सकते हैं कि किसी चीज में थोड़ी कभी परीक्षा लेते हो तो लेकिन उन्होंने मनुष्य को विवेक भी दिया है सहन शक्ति दी है उससे वह लड़का पत्ते के रास्ते पर चल सकता है झूठ का सहारा तो कभी नहीं लेना चाहिए क्योंकि एक बार झूठ के रास्ते पर चल पड़े तो पूरा भविष्य आसपास के लोगों में अपनी इज्जत जमाना परिवार में इज्जत जमाना समाज में यह सब चीजें सब कुछ चला जाता है सत्य शायद कड़वा हो सत्य में देर से कुछ पल मिले लेकिन कभी नहीं छोड़ना चाहिए छोटी मोटी मुश्किल है तो हर एक के जीवन में आती है तो लेकिन अगर यह विश्वास होगा कि भगवान मेरे साथ है तो फिर झूठ का सहारा लेने की क्या जरूरत सोचना ही नहीं चाहिए कि मैं झूठ का सहारा ले लूंगा यह आसान है कभी कभी दूसरे की तरफ जाती है तो मेरे से गरीब होता है फिर भी वो कितना आगे बढ़ गया वह छूट का रास्ता पकड़ के आगे बढ़ गया मैं ही क्या सत्य के रास्ते में मेहनत कर रहा हूं लेकिन नहीं अगर कोई गलत चलता है तो हमको भी गलत चलने की जरूरत नहीं है हमारा विवेक अगर जागा हुआ है तो वह जरूर बोलेगा कि नहीं तुम गलत हो तुम सही हो तो सकते को मुझे लगता है कभी छोड़ना नहीं चाहिए और अपने आप पर भरोसा होना चाहिए जिनको अपने आप पर भरोसा नहीं है वह झूठ का रास्ता अपनाते हैं सत्य के साथ ईश्वर है हमेशा सत्य का रास्ता कभी मुश्किल आती है लेकिन मुश्किल करने की हमें हिम्मत भी तो है इसीलिए सकते का ही रास्ता चुना एकदम ठीक है थैंक यू

aapka kehna hai ki satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya aasaan rasta chun ka jhuth ka sahara lena chahiye bilkul nahi abhi bhi satya ko chhodna nahi chahiye kyonki satya ka matlab bhagwan hai satya ka doosra naam hi bhagwan hai is par iska matlab agar kutte ke saath hain aap matlab aap bhagwan ke sakte hain ki kisi cheez me thodi kabhi pariksha lete ho toh lekin unhone manushya ko vivek bhi diya hai sahan shakti di hai usse vaah ladka patte ke raste par chal sakta hai jhuth ka sahara toh kabhi nahi lena chahiye kyonki ek baar jhuth ke raste par chal pade toh pura bhavishya aaspass ke logo me apni izzat jamana parivar me izzat jamana samaj me yah sab cheezen sab kuch chala jata hai satya shayad kadwa ho satya me der se kuch pal mile lekin kabhi nahi chhodna chahiye choti moti mushkil hai toh har ek ke jeevan me aati hai toh lekin agar yah vishwas hoga ki bhagwan mere saath hai toh phir jhuth ka sahara lene ki kya zarurat sochna hi nahi chahiye ki main jhuth ka sahara le lunga yah aasaan hai kabhi kabhi dusre ki taraf jaati hai toh mere se garib hota hai phir bhi vo kitna aage badh gaya vaah chhut ka rasta pakad ke aage badh gaya main hi kya satya ke raste me mehnat kar raha hoon lekin nahi agar koi galat chalta hai toh hamko bhi galat chalne ki zarurat nahi hai hamara vivek agar jaaga hua hai toh vaah zaroor bolega ki nahi tum galat ho tum sahi ho toh sakte ko mujhe lagta hai kabhi chhodna nahi chahiye aur apne aap par bharosa hona chahiye jinako apne aap par bharosa nahi hai vaah jhuth ka rasta apanate hain satya ke saath ishwar hai hamesha satya ka rasta kabhi mushkil aati hai lekin mushkil karne ki hamein himmat bhi toh hai isliye sakte ka hi rasta chuna ekdam theek hai thank you

आपका कहना है कि सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या आसान रास्ता चुन का झूठ क

Romanized Version
Likes  122  Dislikes    views  1945
WhatsApp_icon
user

Nisha Bhagat

Ex.teacher

2:04
Play

Likes  10  Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय श्री कृष्णा आपने पूछा कि सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आशा रास्ता छोड़कर झूठ का सहारा लेते सत्य को सत्य कहते इससे जुड़ना कठिन रास्ता नहीं है जब इससे जुड़ जाता है तो वह हमारी समस्या को जान लेते और किसी रितेश मिटा देती जैसे हमारे शरीर को कोई पहले बात हुई घायल कभी इसका और कभी भी देता है तो ईश्वर सामने प्रार्थना करते हैं तो इससे हमारे सभी को ठीक कर देते हैं कोई बड़ी समस्या हो तो हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं तो ठीक कर लेते हो कोई मुश्किल नहीं है उनके लिए क्योंकि पूरी सृष्टि रहते हैं 8400000 योनियों बनाते हैं हमारे शरीर बनाते बनाते लीवर बनाते हैं आपके बढ़ाते हैं आपके बनाते हैं तो उनके लिए ठीक करना कोई मुश्किल काम नहीं है ईश्वर को यह कृष्ण जी को एक ही बात है मैंने इसे पर काफी ऑडियो अपलोड किए नया ध्यान पूर्वक सुने और संसद से बाहर निकले हरे कृष्णा जी हरे कृष्ण हरे कृष्ण से हो आप पूछे इसवी के पास में और से बताऊंगा मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं हरे कृष्ण जी कृष्ण जी कृष्ण कृष्ण कैसे करें

jai shri krishna aapne poocha ki satya ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya isliye log asha rasta chhodkar jhuth ka sahara lete satya ko satya kehte isse judna kathin rasta nahi hai jab isse jud jata hai toh vaah hamari samasya ko jaan lete aur kisi ritesh mita deti jaise hamare sharir ko koi pehle baat hui ghayal kabhi iska aur kabhi bhi deta hai toh ishwar saamne prarthna karte hain toh isse hamare sabhi ko theek kar dete hain koi badi samasya ho toh hum ishwar se prarthna karte hain toh theek kar lete ho koi mushkil nahi hai unke liye kyonki puri shrishti rehte hain 8400000 yoniyon banate hain hamare sharir banate banate liver banate hain aapke badhate hain aapke banate hain toh unke liye theek karna koi mushkil kaam nahi hai ishwar ko yah krishna ji ko ek hi baat hai maine ise par kaafi audio upload kiye naya dhyan purvak sune aur sansad se bahar nikle hare krishna ji hare krishna hare krishna se ho aap pooche iswi ke paas me aur se bataunga meri subhkamnaayain aapke saath hain hare krishna ji krishna ji krishna krishna kaise kare

जय श्री कृष्णा आपने पूछा कि सत्य का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आश

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  164
WhatsApp_icon
user
1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार का सवाल है सब का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता चुनकर झूठ का सहारा लेते हैं झूठ का रास्ता भले ही आपको आसान लगता हो तो एक कुछ पल के लिए कुछ समय के लिए ही रहता है क्योंकि एक न एक दिन हमारा झूठ पकड़ा जाता है तो हमारा रास्ता कठिन हो जाता है और हम बदनामी हो जाते हैं लेकिन अफसोस के रास्ते पर चलना है तो भले ही पहले कट नहीं आती है लेकिन इसका आगे चलने के बाद हमें बहुत से सफलताएं मिलती है और हम एक महान व्यक्ति मन को भरते हैं देखिए सदके राह पर चलने से आपको थोड़ी बहुत कठिनाई लगती है लेकिन आप सत्य के मार्ग में चल रहे हैं तो आपके साथ कुमार को चलने से आपके समाज के देश का कल्याण होता है और अपने देश की भलाई होती है और अपने समाज की उधारी होती है और झूठ के रास्ते पर चल रहे हैं तो उसमें आपको तो फायदा होगा लेकिन आपको फायदा तभी पहुंचेगा जब आप किसी किसी का नुकसान पहुंच रहा है पहुंच रहा है तो उसका फल भुगतना ही पड़ेगा एक ना एक दिन इसलिए हमारे को ही चलना चाहिए

namaskar ka sawaal hai sab ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai toh kya isliye log aasaan rasta chunkar jhuth ka sahara lete hain jhuth ka rasta bhale hi aapko aasaan lagta ho toh ek kuch pal ke liye kuch samay ke liye hi rehta hai kyonki ek na ek din hamara jhuth pakada jata hai toh hamara rasta kathin ho jata hai aur hum badnami ho jaate hain lekin afasos ke raste par chalna hai toh bhale hi pehle cut nahi aati hai lekin iska aage chalne ke baad hamein bahut se safalataen milti hai aur hum ek mahaan vyakti man ko bharte hain dekhiye sadke raah par chalne se aapko thodi bahut kathinai lagti hai lekin aap satya ke marg me chal rahe hain toh aapke saath kumar ko chalne se aapke samaj ke desh ka kalyan hota hai aur apne desh ki bhalai hoti hai aur apne samaj ki udhari hoti hai aur jhuth ke raste par chal rahe hain toh usme aapko toh fayda hoga lekin aapko fayda tabhi pahunchaega jab aap kisi kisi ka nuksan pohch raha hai pohch raha hai toh uska fal bhugatna hi padega ek na ek din isliye hamare ko hi chalna chahiye

नमस्कार का सवाल है सब का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है तो क्या इसलिए लोग आसान रास्ता च

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user
0:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न सबसे का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है क्या इसलिए नहीं लेते चलना कठिन है अक्सर झूठ बोल जाते हैं लेकिन मैंने पता नहीं होता कि झूठ बोलने का क्या दंड होता है

aapka prashna sabse ka rasta kathin hota hai sabko maloom hai kya isliye nahi lete chalna kathin hai aksar jhuth bol jaate hain lekin maine pata nahi hota ki jhuth bolne ka kya dand hota hai

आपका प्रश्न सबसे का रास्ता कठिन होता है सबको मालूम है क्या इसलिए नहीं लेते चलना कठिन है अक

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!