क्या आज आम आदमी खुश हैं?...


user

Vatsal

Engineering Student

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या आम आदमी खुश है या नहीं निश्चित तौर पर 125 करोड़ जनता में कोई एक राय बना पाना बिल्कुल संभव नहीं है कुछ लोग खुश होंगे कुछ लोग खुश नहीं हो कुछ लोगों के दुखी होने का कारण पूछूंगा कुछ कि दुखी खान होने का कारण हल्ला हुआ है कुछ नहीं है क्योंकि उन्हें देख रहा है कि उसके देश को सोने की चिड़िया कहलाता था उसका जो देश सबसे मजबूत लोकतांत्रिक देश कहलाता था वहां पर आज राजनीतिक पार्टियों ने देश को बेचने की नौबत ले आएंगे देश को बर्बाद करके रख दिया अपनी राजनीतिक रोटियां सेकने में लगे हुए हैं और उन्हें कोई फिक्र नहीं देश किस दिशा में जा रहा है और अपनी महत्वकांक्षा पूरी करने के लिए केवल वोट हासिल करने के लिए 4 साल तक जनता को बेवकूफ बनाते हैं और आखिरी साल में कुत्ते जो वादे पूरे कर देते हैं जिससे जो है वह सब चीजें भूल जाए और दोबारा से चुनकर में हैं किस तरीके की सोच रखने वाले जो केवल लुभावने वादे करके छलावा करते हैं और लगातार भ्रष्टाचार में लेती है जनता को कुछ फायदा नहीं पहुंच रहा है पेट्रोल-डीजल महंगाई और कालाधन जो हम एक परसेंट लोगों के पास ही है केवल 75% देश का पैसा पैसा और ऐसी स्थिति में मुझे नहीं लगता आम आदमी कोई भी खुश हो पाएगा तो जरूरत है और दूसरी चीज मीडिया जैसी संस्थाएं जो हैं वह भी नियंत्रण में काम कर रही है केंद्र सरकारों के विदेश की फ्रीडम जो होती है ना वह सब कुछ

kya aam aadmi khush hai ya nahi nishchit taur par 125 crore janta mein koi ek rai BA na paana bilkul sambhav nahi hai kuch log khush honge kuch log khush nahi ho kuch logo ke dukhi hone ka karan poochhoonga kuch ki dukhi khan hone ka karan halla hua hai kuch nahi hai kyonki unhe dekh raha hai ki uske desh ko sone ki chidiya kehlata tha uska jo desh sabse majboot loktantrik desh kehlata tha wahan par aaj raajnitik partiyon ne desh ko bechne ki naubat le aayenge desh ko BA rbad karke rakh diya apni raajnitik rotiyan sekne mein lage hue hai aur unhe koi fikra nahi desh kis disha mein ja raha hai aur apni mahatwakanksha puri karne ke liye keval vote hasil karne ke liye 4 saal tak janta ko bewakoof BA nate hai aur aakhiri saal mein kutte jo waade poore kar dete hai jisse jo hai vaah sab cheezen bhool jaaye aur dobara se chunkar mein hai kis tarike ki soch rakhne waale jo keval lubhawane waade karke chalava karte hai aur lagatar bhrashtachar mein leti hai janta ko kuch fayda nahi pohch raha hai petrol diesel mahangai aur kaladhan jo hum ek percent logo ke paas hi hai keval 75 desh ka paisa paisa aur aisi sthiti mein mujhe nahi lagta aam aadmi koi bhi khush ho payega toh zarurat hai aur dusri cheez media jaisi sansthayen jo hai vaah bhi niyantran mein kaam kar rahi hai kendra sarkaro ke videsh ki freedom jo hoti hai na vaah sab kuch

क्या आम आदमी खुश है या नहीं निश्चित तौर पर 125 करोड़ जनता में कोई एक राय बना पाना बिल्कुल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  156
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!