भगवान पर विश्वास नहीं करता उसे क्या कहते हैं?...


user

Ghanshyamvan

मंदिर सेवा

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो भगवान पर विश्वास नहीं करते उन्हें नास्तिक कहते हैं हमें यह कहते हैं कि भगवान नहीं है और वे अपने कार्यों से ही संतुष्ट रहते हैं और कहते हैं कि जो मिलता है काम से मिलता है लेकिन ईश्वर की कृपा से यह उन लोगों का मत है

jo bhagwan par vishwas nahi karte unhe nastik kehte hain hamein yah kehte hain ki bhagwan nahi hai aur ve apne karyo se hi santusht rehte hain aur kehte hain ki jo milta hai kaam se milta hai lekin ishwar ki kripa se yah un logo ka mat hai

जो भगवान पर विश्वास नहीं करते उन्हें नास्तिक कहते हैं हमें यह कहते हैं कि भगवान नहीं है और

Romanized Version
Likes  152  Dislikes    views  2290
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रत्न मिला है कि भगवान पर विश्वास नहीं करता उसे क्या कहा जाता है उसका स्पष्ट उत्तरा नास्तिक किंतु प्रारंभिक अवस्था में आस्तिक या नास्तिक वह भगवान पर विश्वास करने पर आश्रित शब्द नहीं थे आस्तिक दर्शन नास्तिक दर्शन उसे कहते थे जो दर्शन दे दो विश्वास नहीं करता था बल्कि यह भी कहना अनुचित होगा कहना उचित यह होगा कि जो दर्शन वेदों को ऑफ और उसे नहीं मानता था उन्हें नास्तिक तथा जो दर्शन वेदों को ऑफ और उसे मानता था उन्हें आस्तिक दर्शन कहा जाता था लेकिन कालांतर में चलकर यह पुरुषों पर भी प्रभावी होने लगा वेद से प्रतिरूप होकर यह ईश्वर की अवधारणा पर आश्रित हो गया सत्य और यह कहा जाने लगा कि जो लोग ईश्वर पर विश्वास करते हैं वह आस्तिक हैं और जो लोग ऐश्वर्या भगवान पर विश्वास नहीं करते वह नास्तिक होंगे इस प्रकार इस प्रश्न का उत्तर दिया हुआ कि जो भगवान पर विश्वास नहीं करते नास्तिक कहलाते हैं

ratna mila hai ki bhagwan par vishwas nahi karta use kya kaha jata hai uska spasht uttara nastik kintu prarambhik avastha me astik ya nastik vaah bhagwan par vishwas karne par aashrit shabd nahi the astik darshan nastik darshan use kehte the jo darshan de do vishwas nahi karta tha balki yah bhi kehna anuchit hoga kehna uchit yah hoga ki jo darshan vedo ko of aur use nahi maanta tha unhe nastik tatha jo darshan vedo ko of aur use maanta tha unhe astik darshan kaha jata tha lekin kalantar me chalkar yah purushon par bhi prabhavi hone laga ved se pratirup hokar yah ishwar ki avdharna par aashrit ho gaya satya aur yah kaha jaane laga ki jo log ishwar par vishwas karte hain vaah astik hain aur jo log aishwarya bhagwan par vishwas nahi karte vaah nastik honge is prakar is prashna ka uttar diya hua ki jo bhagwan par vishwas nahi karte nastik kehlate hain

रत्न मिला है कि भगवान पर विश्वास नहीं करता उसे क्या कहा जाता है उसका स्पष्ट उत्तरा नास्तिक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!