2019 लोकसभा चुनाव में एम-3 ईवीएम मशीन का उपयोग किया जाएगा ,इस मशीन की क्या विशेषता है?...


user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यदि हां बहुत सारी पार्टियों ने ईवीएम की क्रेडिबिलिटी पर क्वेश्चन मार्क उठाई थी लेकिन उसके बाद भी मुझे लगता है कि 2019 के चुनाव में वीवीपैट मशीन का ही प्रयोग होगा क्योंकि उसे बहुत सारे फायदे एक तो जब आप बैलेट पेपर को यूज करते तो कागज का बहुत ज्यादा खर्चा हो जाता है और जब काउंटिंग होती है तो उसमें बहुत ज्यादा टाइम लग जाता 1112 2 दिन लग जाते थे आपको याद होगा आज से लगभग 15 साल पहले जब काउंटिंग होती थी बैलेट पेपर से तो बहुत ज्यादा टाइम खर्च हो जाता था आज भी देखिए पड़ोसी देश पाकिस्तान में भी बैलेट पेपर से वोटिंग होती है और वहां काफी टाइम लगता है लेकिन वीवीपैट मशीन का फायदा यही है कि अब तो बहुत आसान है गवर्मेंट भी जब चुनाव आता है तो इसके बारे में बताती है कि कैसे आप को वोट करना है सारे सारे चुनाव चिन्ह दिए होते हैं उसके सामने एक बटन दिया होता है और जिसको आप पसंद करते उसके सामने का बटन दबाएंगे बीप की आवाज आएगी तो आपका वोट सबसे अच्छा फायदा उसका यही के काउंटिंग बहुत जल्दी हो जाती है एकदम फैजल फ्री है ज्यादा दिमाग नहीं लगाना पड़ आपको सामने लिस्ट होती है कागज का कम यूज होता है तो क्रिएटिविटी की जहां तक बात है तो मुझे लगता है कि बिल्कुल ठीक है वह तो अपोजीशन पार्टी जब हार रही थी तो उन्होंने को कोई बहाना नहीं मिला वह अपना आत्ममंथन दोनों नहीं किया लेकिन हां उन्होंने आरोपी प्लेट मशीन पर लगा दिए लेकिन 2019 के चुनाव में यह सच है कि ईवीएम मशीन से ही चुनाव होगा

yadi haan bahut saree partiyon ne evm ki credibility par question mark uthayi thi lekin uske baad bhi mujhe lagta hai ki 2019 ke chunav mein vivipait machine ka hi prayog hoga kyonki use bahut saare fayde ek toh jab aap ballet paper ko use karte toh kagaz ka bahut zyada kharcha ho jata hai aur jab counting hoti hai toh usme bahut zyada time lag jata 1112 2 din lag jaate the aapko yaad hoga aaj se lagbhag 15 saal pehle jab counting hoti thi ballet paper se toh bahut zyada time kharch ho jata tha aaj bhi dekhiye padosi desh pakistan mein bhi ballet paper se voting hoti hai aur wahan kaafi time lagta hai lekin vivipait machine ka fayda yahi hai ki ab toh bahut aasaan hai government bhi jab chunav aata hai toh iske bare mein batati hai ki kaise aap ko vote karna hai saare saare chunav chinh diye hote hain uske saamne ek button diya hota hai aur jisko aap pasand karte uske saamne ka button dabaenge beep ki awaaz aayegi toh aapka vote sabse accha fayda uska yahi ke counting bahut jaldi ho jaati hai ekdam faijal free hai zyada dimag nahi lagana pad aapko saamne list hoti hai kagaz ka kam use hota hai toh creativity ki jaha tak baat hai toh mujhe lagta hai ki bilkul theek hai vaah toh apojishan party jab haar rahi thi toh unhone ko koi bahana nahi mila vaah apna atmamanthan dono nahi kiya lekin haan unhone aaropi plate machine par laga diye lekin 2019 ke chunav mein yah sach hai ki evm machine se hi chunav hoga

यदि हां बहुत सारी पार्टियों ने ईवीएम की क्रेडिबिलिटी पर क्वेश्चन मार्क उठाई थी लेकिन उसके

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  124
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!