जर्मन राष्ट्र का स्वरूप क्या था वह किस बात का प्रतीक था?...


play
user
2:43

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्राचीन रोमन लेने यूपी नदी के उत्तर में रहने वाले बर्बर तबले वाले देशों को गुरु मनिया कहा करते थे जिसके नाम पर अंग्रेजी शब्द जर्मनी पढ़ाई यह अगले पुरानी जर्मन भाषा की बोलियां बोलते थे धीरे-धीरे इनका ईसाई करण हुआ और जर्मन देश इसाई पवित्र रोमन साम्राज्य का केंद्र बन गया दूसरी शताब्दी से पूर्व में पश्चिमी यूरोप में जर्मन जातियों के अभिनय का उल्लेख मिलता है कुछ जातियां जैसे अनुमान edi5 लंबा उसको गोद और बीजों को पूर्व में गाय नदी के मुहाने पश्चिम में एल्बम नदी और दक्षिणी व उत्तरी के भागों के बीच रे धीरे बसे उनमें से कुछ नहीं फ्री प्राप्त किया और रोमन साम्राज्य का विनाश किया अन्य फ्रांस और ब्रिटेन में बस गए राइन नदी के दोनों और कच्छ क्षेत्र कुश्ती मेवात रहने के पश्चात शाम को नहीं रोमन सम्राट सारणी द्वारा नवी शताब्दी में अधिकृत किया गया लेकिन शताब्दी के अंतिम दिनों जर्मन सम्राट तीन भागों में बट गया सिस्टर सम्राट ऑटो प्रथम ने 1962 में इटली और जर्मनी को एक सूत्र में बांध आगे चलकर शांतिकुंज स्थिति उत्पन्न हुई फ्रेडरिक ज्योति ने अपने शासन को चिकली में ही केंद्रित रखा इस प्रकार जर्मनी लगभग उपेक्षित रहा 1273 में आप सुबह का रूट आफ सम्राट निर्वाचित हुआ किंतु उसके लिए बड़े सम्राट को कायम रखना शादी हो गया रोमन साम्राज्य समझ रखा रहा था इंग्लैंड फ्रांस और स्पेन सकता ली राज्य बनने से जर्मनी उस समय संबंध था इसके उपयोग तीन राज्य में संधि की लेकिन जनवरी की राजनीतिक स्थिति के कारण वहां 16वीं शताब्दी में मार्टिन लूथर के नेतृत्व में अंदर हुआ अंत में इस आंगन में 30 वर्षीय धर्मेद्र 1648 1648 का रूप लिया इसमें जर्मनी की भक्ति से टुकड़े हुए थे इस दादू की छोटी-छोटी स्वतंत्र इकाई होने पर अधिक उन्नत की फ्रांसीसी क्रांति और नेपोलियन के युद्ध के समय जर्मनी में राष्ट्रीय चेतना का असर हुआ या चेतना आगे चलकर उदारवादी अभियान के रूप में बदली अट्ठारह सौ इकहत्तर में तत्कालीन ऑटो वर्ल्ड स्मालेस्ट बर्ड इन मार्गो से युद्ध करके जर्मन राज्य के संकेत किया फ्रांस की पराजय के बाद जर्मनी ने सैनिक उद्योगी क्रांति क्षेत्र में तेजी से प्रगति स्मारक में स्थित में यूरोपीय शक्तियों से संबंध स्थापित किया अट्ठारह सौ अट्ठासी सिविलियन तीसरा देश को अंतरराष्ट्रीय जिसमें सभी चीज का प्रथम विश्वयुद्ध का रूप लिया धन्यवाद

prachin roman lene up nadi ke uttar me rehne waale barbar table waale deshon ko guru maniya kaha karte the jiske naam par angrezi shabd germany padhai yah agle purani german bhasha ki boliyan bolte the dhire dhire inka isai karan hua aur german desh isai pavitra roman samrajya ka kendra ban gaya dusri shatabdi se purv me pashchimi europe me german jaatiyo ke abhinay ka ullekh milta hai kuch jatiya jaise anumaan edi5 lamba usko god aur beejon ko purv me gaay nadi ke muhane paschim me album nadi aur dakshini va uttari ke bhaagon ke beech ray dhire base unmen se kuch nahi free prapt kiya aur roman samrajya ka vinash kiya anya france aur britain me bus gaye rhine nadi ke dono aur kacch kshetra kushti mevat rehne ke pashchat shaam ko nahi roman samrat sarni dwara navi shatabdi me adhikrit kiya gaya lekin shatabdi ke antim dino german samrat teen bhaagon me but gaya sister samrat auto pratham ne 1962 me italy aur germany ko ek sutra me bandh aage chalkar shantikunj sthiti utpann hui fredrick jyoti ne apne shasan ko chikli me hi kendrit rakha is prakar germany lagbhag upekshit raha 1273 me aap subah ka root of samrat nirvachit hua kintu uske liye bade samrat ko kayam rakhna shaadi ho gaya roman samrajya samajh rakha raha tha england france aur Spain sakta li rajya banne se germany us samay sambandh tha iske upyog teen rajya me sandhi ki lekin january ki raajnitik sthiti ke karan wahan vi shatabdi me martin luther ke netritva me andar hua ant me is aangan me 30 varshiye dharmedra 1648 1648 ka roop liya isme germany ki bhakti se tukde hue the is dadu ki choti choti swatantra ikai hone par adhik unnat ki francisi kranti aur napoleon ke yudh ke samay germany me rashtriya chetna ka asar hua ya chetna aage chalkar udarvaadi abhiyan ke roop me badli attharah sau ikahattar me tatkalin auto world smallest bird in margo se yudh karke german rajya ke sanket kiya france ki parajay ke baad germany ne sainik udhyogi kranti kshetra me teji se pragati smarak me sthit me european shaktiyon se sambandh sthapit kiya attharah sau atthasi civilian teesra desh ko antararashtriya jisme sabhi cheez ka pratham vishwayudh ka roop liya dhanyavad

प्राचीन रोमन लेने यूपी नदी के उत्तर में रहने वाले बर्बर तबले वाले देशों को गुरु मनिया कहा

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  104
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!