गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक में धक्के क्यों खिलाते हैं?...


user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

1:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक के क्यों खिलाते हैं तो कोई वित्त पोषण करने वाली संस्था ही देगी वह क्या प्राइवेट संस्थाओं के सरकारी संस्थाओं और v11 नेशनलाइज बैंकों का निजीकरण किया जा रहा है कि बैंक बैंक इन के अस्मिता और जो कार पुरानी है इनको एकरूपता इन में लाया जा सके क्योंकि बहुत जगह बैंकों में अनियमितताओं और बैंकों में 20 शिकायतें आई हैं वास्तव में नींद कोई भी खराब नहीं होती सरकार दिव्यांगों को लोन देने के लिए सरकार की मंशा अच्छी है लेकिन कर्मचारी व्यक्तिगत रूप से उनके अंदर सहयोग की भावना आते हैं आगे पीछे करते हैं चाय में इस तरह की बातें समान देखने को मिलती है इसमें सरकार की नीतियों को क्या अमित करने के जिन लोगों को जिम्मेदारी है उनके अंदर कर्तव्य निष्ठा और पारदर्शिता का भाव नहीं है और वास्तव में उनके रिकॉर्ड और कार्यशैली होना चाहिए

aapka prashna gujarat me sarkar ne divyango ke liye loan ke liye bank ke kyon khilaate hain toh koi vitt poshan karne wali sanstha hi degi vaah kya private sasthaon ke sarkari sasthaon aur v11 neshanalaij bankon ka nijikaran kiya ja raha hai ki bank bank in ke asmita aur jo car purani hai inko ekrupta in me laya ja sake kyonki bahut jagah bankon me anniyamitaaon aur bankon me 20 shikayaten I hain vaastav me neend koi bhi kharab nahi hoti sarkar divyango ko loan dene ke liye sarkar ki mansha achi hai lekin karmchari vyaktigat roop se unke andar sahyog ki bhavna aate hain aage peeche karte hain chai me is tarah ki batein saman dekhne ko milti hai isme sarkar ki nitiyon ko kya amit karne ke jin logo ko jimmedari hai unke andar kartavya nishtha aur pardarshita ka bhav nahi hai aur vaastav me unke record aur karyashaili hona chahiye

आपका प्रश्न गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक के क्यों खिलाते हैं तो क

Romanized Version
Likes  211  Dislikes    views  2796
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने कहा गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक में अपने भक्तों की लाज गुजरात में ही संपूर्ण भारत में से हिंडौन के लिए हजार पोस्टर हैं हजारों विज्ञापन हजारों स्थिति में हजारों जुमले हैं लेकिन सच्चाई यह है कि कहीं भी लोनी न्यूटन गरीबों को दिव्यांगों को या कमजोर तबके के लोगों को लोन मिलता केवल उद्योगपतियों को और उनको जुनून देखकर आसानी से आंसू निकल जाते हैं किसान को जवान को विद्यार्थी को उनके जन्मदिन लोन की इतनी कठोर चर्चा होती है कि हो जाए जो कर्मी घायल बन जाता है और उसे लोन नहीं मिल पाता

aapne kaha gujarat me sarkar ne divyango ke liye loan ke liye bank me apne bhakton ki laj gujarat me hi sampurna bharat me se hindaun ke liye hazaar poster hain hazaro vigyapan hazaro sthiti me hazaro jumle hain lekin sacchai yah hai ki kahin bhi loni newton garibon ko divyango ko ya kamjor tabke ke logo ko loan milta keval udyogpatiyon ko aur unko junun dekhkar aasani se aasu nikal jaate hain kisan ko jawaan ko vidyarthi ko unke janamdin loan ki itni kathor charcha hoti hai ki ho jaaye jo karmi ghayal ban jata hai aur use loan nahi mil pata

आपने कहा गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक में अपने भक्तों की लाज गुजर

Romanized Version
Likes  293  Dislikes    views  3994
WhatsApp_icon
user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

5:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक में बच्चे क्यों चलाते विकसित गुजरात की बात नहीं है पूरे भारत देश में दिव्यांग सहित जो भी छोटे उद्यमी और जो कुटीर उद्योग या जो छोटे किसान या जो अपना कारोबार शुरू करना चाहते हैं उन्हें तरह-तरह के बहाने से सभी बैंक लोन के लिए धक्के खिलाते हैं बहुत सारी कागजी कार्रवाई होती है प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करने पड़ते हैं उसमें नुस्खे निकाले जाते सिक्योरिटी के लिए जमीन गिरी के लिए कुछ ना कुछ डिमांड की जाती है इंटरव्यू के लिए कहा जाता है और इंटर के रूप में भी लोगों को बताया जाता है कि आपको ग्रैंड i10 ग्रैंड अभी देना है सिक्योर लोन के लिए ऐप को अपना कुछ ना कुछ गिरे और फिर भी लोन देने में बहुत तेज बहानेबाजी की जाती है इसके अलावा बहुत धक्के खिलाया जाते हैं कि पूरे भारत पर सिर्फ गुजराती बात नहीं और निर्मला सीतारमण ने एसबीआई स्टेट बैंक ऑफ इंडिया उनके चेयरमैन उनसे इस बारे में जानकारी मांगी तो वह जवाब नहीं दे पाए थे परसों की न्यूज़ पेपर में आया था निर्मला सीतारमण पब्लिक के सामने बहुत कुछ बुरा भला कहा था कि आप छोटे लोगों को भी छोटे उद्यमी उनको या नहीं कराते इससे बैंकिंग उद्योग और सरकार को पक्का आपको तो शक करते और बड़े उद्यमी लोन कितनी ज्यादा दे देते हैं डिफॉल्टर होते हैं तब बैंक पहनती है बढ़ता है इंडियन नॉन परफॉर्मिंग ऐसेट नॉन परफॉर्मिंग ऐसेट वह बड़े उद्योगपति की वजह से बढ़ता है छोटे-छोटे रोना है उनकी वजह से एमपी में बढ़ोतरी नहीं होती और उन्हीं छोटे उद्यमियों को लोन देने बहुत अखाड़े किए जाते हैं अंधभक्ति खिलाया जाता है बहुत परेशान किया जाता है बैंक से लोन सैंक्शन होना याने की समझ लीजिए बहुत बड़ी सिद्धि हो गई ऐसी बातें होती जबकि बड़े कॉरपोरेट सेक्टर के लोग होते हैं तो उनसे मिलीभगत करके और लोन दे दी जाती है ताजा उदाहरण है यस बैंक यस बैंक के जो राणा कपूर थे उन्होंने डीएचएफएल जी ग्रुप और कंपनियां को रिलायंस के अनिल अंबानी ग्रुप को बहुत बड़े-बड़े लोग दिए वह कभी बहुत अच्छे से है और एसबीआई को उनके हस्तक्षेप करना पड़ा यस बैंक को और जो अकाउंट होल्डर है उनको ₹50000 की निकालने की अनुमति से लाखों रुपया कपड़ा हो यस बैंक से ₹50000 से ज्यादा नहीं निकाल सकते अब जाकर अच्छे यस बैंक में सांप का कितना रुपया है वह मिल पाएगा लेकिन इसमें एसबीआई की दखल भाई एक करनी पड़ेगी तब जाकर हुआ पैसे से बैंक के होते रहेंगे तो क्या कितनी बैंक को एसबीआई संभालेगा वैसे ही के चेयरमैन खुद लोन देने में काफी सावधानी बरत रहे हैं ऐसा बोलते हैं लेकिन एसबीआई कभी कम नहीं है इसलिए आम जनता के लिए लोन मुहैया कराना छोटे दिनों के लिए वह काफी जरूरी हो गया और इसके लिए निर्मला सीतारमण ने उनके ध्यान में आया उन्होंने इसके लिए हिदायत दी है हो सकता है कि आने वाले समय में अप्लाई बैंक अपने अधिकारियों को हिदायत दें कि छोटे लो न तो है जो छोटी डिमांड होती है छोटे लोगों की क्यों पर गंभीरता से ध्यान दें और संपूर्ण सहयोग लोन लेने वाले के साथ करें ताकि हमारे देश में जो समस्या है लेकिन पेशे में बैंक की सुधर सकते हैं कि इसमें बदलाव जनों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं धन्यवाद

gujarat me sarkar ne divyango ke liye loan ke liye bank me bacche kyon chalte viksit gujarat ki baat nahi hai poore bharat desh me divyang sahit jo bhi chote udyami aur jo kutir udyog ya jo chote kisan ya jo apna karobaar shuru karna chahte hain unhe tarah tarah ke bahaane se sabhi bank loan ke liye dhakke khilaate hain bahut saari kagji karyawahi hoti hai project report taiyar karne padate hain usme nuskhe nikale jaate Security ke liye jameen giri ke liye kuch na kuch demand ki jaati hai interview ke liye kaha jata hai aur inter ke roop me bhi logo ko bataya jata hai ki aapko grand i10 grand abhi dena hai secure loan ke liye app ko apna kuch na kuch gire aur phir bhi loan dene me bahut tez bahanebaji ki jaati hai iske alava bahut dhakke khilaya jaate hain ki poore bharat par sirf gujarati baat nahi aur nirmala sitaraman ne sbi state bank of india unke chairman unse is bare me jaankari maangi toh vaah jawab nahi de paye the parso ki news paper me aaya tha nirmala sitaraman public ke saamne bahut kuch bura bhala kaha tha ki aap chote logo ko bhi chote udyami unko ya nahi karate isse banking udyog aur sarkar ko pakka aapko toh shak karte aur bade udyami loan kitni zyada de dete hain defaulter hote hain tab bank pahanti hai badhta hai indian non parafarming asset non parafarming asset vaah bade udyogpati ki wajah se badhta hai chote chote rona hai unki wajah se MP me badhotari nahi hoti aur unhi chote udhyamiyon ko loan dene bahut akhade kiye jaate hain andhbhakti khilaya jata hai bahut pareshan kiya jata hai bank se loan sanction hona yane ki samajh lijiye bahut badi siddhi ho gayi aisi batein hoti jabki bade corporate sector ke log hote hain toh unse milibhagat karke aur loan de di jaati hai taaza udaharan hai Yes bank Yes bank ke jo rana kapur the unhone DHFL ji group aur companiya ko reliance ke anil ambani group ko bahut bade bade log diye vaah kabhi bahut acche se hai aur sbi ko unke hastakshep karna pada Yes bank ko aur jo account holder hai unko Rs ki nikalne ki anumati se laakhon rupya kapda ho Yes bank se Rs se zyada nahi nikaal sakte ab jaakar acche Yes bank me saap ka kitna rupya hai vaah mil payega lekin isme sbi ki dakhal bhai ek karni padegi tab jaakar hua paise se bank ke hote rahenge toh kya kitni bank ko sbi sambhalega waise hi ke chairman khud loan dene me kaafi savdhani barat rahe hain aisa bolte hain lekin sbi kabhi kam nahi hai isliye aam janta ke liye loan muhaiya krana chote dino ke liye vaah kaafi zaroori ho gaya aur iske liye nirmala sitaraman ne unke dhyan me aaya unhone iske liye hidayat di hai ho sakta hai ki aane waale samay me apply bank apne adhikaariyo ko hidayat de ki chote lo na toh hai jo choti demand hoti hai chote logo ki kyon par gambhirta se dhyan de aur sampurna sahyog loan lene waale ke saath kare taki hamare desh me jo samasya hai lekin peshe me bank ki sudhar sakte hain ki isme badlav jano ko bahut bahut subhkamnaayain dhanyavad

गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक में बच्चे क्यों चलाते विकसित गुजरात

Romanized Version
Likes  315  Dislikes    views  6309
WhatsApp_icon
user

RISHAV RAJ

Social Worker | Motivational Speaker | Life Coach | Young Politician | Corporate Trainer

9:01
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए हर जगह सेम होता है गुजरात और बिहार हो यूपी यूपी हो दिल्ली हो झारखंड हो कोई भी स्टेट हो कोई भी राज्य हो इंडिया में हां हमारे यहां लोगों को यह समझ नहीं आता कि अगर सामने वाला दिव्यांग है उसको फिजिकली अनफिट है या कुछ भी है तो उसको प्रॉब्लम हो रहा है इतना कष्ट हो रहा है क्योंकि वह नष्ट नहीं कर सकता कर पाते हैं अंदर से हिल नहीं कर पाते उन लोगों के प्रति को मेरे भाई होंगे तो मैं कैसा फील करता अगर आपने नहीं है तो वह लोग ही नहीं करते हैं उनको लगता कोई भी हो धक्के खा रहे हैं कुछ और हैं होने दो उनको नहीं पढ़ा होता उनके लिए तो सबसे पहले तू उनकी जो भी मानसिकता है दूसरे के प्रति वह दूसरे हैं तो उनकी यही मानसिकता दो के लिए आया टाइम पर वर्क करना टाइम पर रविवार को फिनिश करना वह लोग नहीं चाहते हो रहा है हो रहा होने दो तो मानसिकता वालों की भी है कमजोर है दिव्यांग दिव्यांगों के प्रति दिव्यांग वह नहीं है जो कि लाइन में खड़े हैं असली में दिव्यांग वह है जो लाइन में खड़े कर आ रहे हैं जो कि हमारे सरकार के अंदर का काम करने वाले कुछ ऐसे लोग हैं बहुत लोग अच्छे भी होते हैं बहुत लोग अच्छे नहीं होते हैं जैसा कि हम आप सब जानते हैं तो यह जो अच्छे होते हैं उनकी अच्छी सोच होती है मानसिकता अच्छी होती है वह सारे लोगों को अपना समझते हैं अपने जैसा मानते हैं अपने भाई बहन जैसा मानते हैं तो उनको पता होता है कि अगर मैं 10 मिनट आधे घंटे 6 घंटे से लाइन में खड़ा हूं धक्के मार रहा है धक्के हो रहे हैं तुमको कष्ट होगा अगर उसके जगह अपने भाई रहते मेरे भाई रहते तुमको भी ऐसा कष्ट होता है तो उनको कैसा फील होता तो ऐसा उन लोग जज करते हैं जो अच्छे होते हैं जो बुरे होते हैं जिनको नहीं पढ़ रहा था वह जल्दी नहीं करते उनको उनको कोई पर वाहन तो गुजरात सरकार में चाहे कोई भी सरकार में आप इंडिविजुअली उनको सपोर्ट करते हैं उनको लाते हैं कि नहीं सिर्फ इसी राज्य में खराब हो तो ऐसा नहीं कि हमारी कुछ लोगों की यह हम सब की मानें तो मैं मान सकता है कि यहां हो रहा है से ड्यूटी में हो रहा है से बिहार निवासी गुजरात का हर जगह है और इसलिए उसको ठीक करने के लिए हमारे अंदर जो भी जो भी है सरकार के जो भी लोग हैं क्योंकि सरकार कौन है सरकार प्रधानमंत्री जी सरकार जो लोगों का लिख सकते हैं लोग को कंट्रोल कर सकते हैं लोग को इंप्लीमेंट कर सकते हैं तो वह लोग सरकार है सरकार को पावर कौन दे रहा है हम लोग दे रहे हैं संविधान हम लोग के लिए बना है ना कि संविधान के लिए हम लोग बने हैं तो हम लोगों को बोल होना होगा हम लोगों को अगर कहीं भी ऐसा दिखे तो हम लोगों का आवाज उठाना होगा सोशल मीडिया बहुत बड़ा प्लेटफार्म वीडियो से निकाले अपलोड करें उसमें बताएं कि कहां किसके साथ क्या हो रहा है कहां का स्टाफ क्या अच्छे से बात कर रहे हैं नहीं कर रहे हैं जिसमें लिखे सरकार किए हैं वह भी नहीं है हम मैं कहना चाहूंगा कि हम घूमें जो है जो अहम रोल होता है वह हमारा होता है पब्लिक का होता है अब हम लोग कहीं भी गलत देखे क्योंकि पब्लिक 120 करो प्लस है सरकार महात्मा गांधी वन है तू एक बंदा पूरे देश को हर एक कोने में जाकर हर एक डिस्ट्रिक्ट में जाकर अरे ब्लॉक में जाकर नहीं कर सकता यह इंपॉसिबल रही है आप भी जानते हैं क्योंकि अगर हमारा 10 शामली का नंबर होता है उसको नहीं संभाल पाते का नंबर बताओ उसको नहीं संभालता एक बंदा नाली पावरफुल है इतने लोगों को नहीं लिख सकता क्योंकि कहीं ना कहीं हर एक के अंदर थोड़ी मानसिकता होती है लोग सोचते हैं कि अगर एक कोलकाता न्यू टेंडर पास हुआ है तो छह सौ दस लाख में अपने घर वालों के लिए रख लो घर बना लूंगा रिचिंग का शहर के साथ होता है तो मैं यह कहना चाहूंगा अपनी मानसिकता ठीक कीजिए अगर कहीं और के अगल-बगल आपके आसपास कुछ भी गलत हो तो उसको रिपोर्ट कीजिए रिकॉर्ड कीजिए लोगों को बताइए प्लीज को कंप्लेन कीजिए मानव अधिकार का जो उसको साइट है उस पर जाइए पीएम का वेबसाइट होता है वहां जाइए पीएम का वेबसाइट होता है वहां जाइए सीएम के अंतर्गत भी आप कंहा डाल सकते हैं कंप्लेंट कर सकते हैं एटीएम से भी टच में आप रह सकते हो गया पुलिस फोन करते अच्छा रिस्पांस देते हैं देखिए हमारे अंदर पावर है हमारे हाथ में पावर है हम कैसे उसको यूज करते हो हम पर डिपेंड करता है अगर हम कंप्लेंट करते रह जाएंगे तो सिर्फ पूरी लाइफ कंपनी करेंगे तो दिव्यांग कोई शरीर से होता ना कि मानसिकता की दिमाग से आपका दिमाग से स्ट्रांग है तो आप स्ट्रांग तो यह बात मान कर चलिए की कोई दिव्यांग नहीं है अगर हम किसी पर ब्लेम करते हैं तो ठीक हूं कि गलती होती है लेकिन उससे ज्यादा गलती होती है कि हम उसको सुधार नहीं पाते सुधारने नहीं चाहते तो पहले हमको यह चेक करना चाहिए हमको यह सोचना चाहिए कि पहले हम कुछ भी गलत हो तो उसको आवाज़ उठाएं उसके प्रति विरोध करें विरोध हर 1 महीने में होती है ना कि सिर्फ किसी को मार के कारण वहां पर जाम करके देखिए पब्लिक में काम करते हैं किसी भी लॉक लिए सरकार को कुछ नहीं होता उसे हमारे भाई बंधू आसपास का दुकान में चलता शौक नहीं चलता उसके बच्चे भूखे रह जाते हैं आप लोग हम लोग तो ऐसी मानसिकता होती हैं जो कि बदलनी है सरकार को सपोर्ट कीजिए सरकार से सवाल जवाब करना उसके लिए भी अच्छा तरीका है बना हुआ वह होता है बनता है सरकार को भी मालूम है आप को ही मालूम है तुम जानते हुए भी वह सारे काम करते हम लोग पीछे पीछे जो भी होते हैं उनके पीछे चल देते हैं तुमको बताना क्या गलत जा रहे हो अगर आप बोलो जा रहे हो तो और भी 10 लोग मारे जा रहे हैं पहले हम लोग को खुद की मानसिकता सही करनी चाहिए और सरकार को ब्लेम ना करते हुए पहले अगर कुछ भी होता है तो हमें सरकार तक बात पहुंच आनी चाहिए पता सरकार अपना काम कर रहे हो हमारे बीच में जो बैठे वह अपना काम नहीं कर रहे हो तो हर तरीके से सोचिए और अपने आसपास ही अपने पूरे इंडिया में कोई भी लोग हैं सब मेरे भाई बंध में असामान्य हमारे फैमिली के मेंबर हैं सामान्य मानसिकता ठीक कीजिए हर एक बच्चे से बच्चे जानवर से जानवर के लिए भी मानसिकता चेक कीजिए देवी रोड पर कुत्ते को लात मार देना ढीले मानसिकता का शिकार है जो भी ऐसा करते हैं तो मानसिकता बहुत बढ़िया चीज है इस पर पूरा दुनिया पूरा देश पूरा घर पर आकर लाइट डिपेंड करता है तो अगर अच्छा सोच अच्छा विचार अगर आप कब सही है और आपको अच्छा विचार अच्छा सोचें तो आप कभी गलत होगा तो आप एक्शन जरूर लेंगे लेंगे तो दिखेगा तो सरकार को किसी को भी ब्लॉक करने से पहले हम लोग उसके प्रति एक्शन ले डिलीट होता है मैं भी आपको बताना चाहते डिले होता मैं भी समझ सकता हूं बट देर है अंधेर नहीं है ऐसा कहा तो अगर आप आप टेप लेते हैं तो वह आगे सर से शुरू होता है और आपको फिर खुद ऐसा फील हुआ कि नहीं मैंने कुछ अच्छा किया थोड़ा लेट हुआ देर हुआ बच्चा किया तो दिव्यांगों के लिए किसी के लिए भी लोन के लिए धक्के मुख्य खाने पड़ रहे हैं बट कुछ कारण से कारणों से जो मैंने आपको मेंशन किया तो अगर कुछ भी ऐसा हो आपके नियर बाई तो आप प्लीज वीडियो बनाया उसको वर्णन करें प्लीज जो भी आप अगर ऐसा कर रहे हैं डिलीट करें किसी चीज में डॉक्यूमेंट डॉक्यूमेंटेशन वेरीफाई करने में या कुछ भी तो आप ऐसा ना करें जल्दी से जल्दी प्रोसीजर करें ताकि इनको गेट ना करना पड़े धोखे में करना खाना पड़े तो थोड़ा रिक्वेस्ट भी करें क्योंकि अगर हम प्यार से बोलते हैं तो काम भी अच्छा प्यार से होता सामने वालों को लगता है कि नहीं बंदा प्यार से बोल रहा है तो आप पहले प्यार से बोले अगर ज्यादा अगर वह लोग नहीं मानते तो फिर अपना एक्शन ले वीडियोस बनाकर सोशल मीडिया पर दिखाएं सरकार को जो भी है जो कि आप फाइंड किए हैं जो कि हमारे टैक्स का पैसा उसके सर जी को जाता है तो आपके ऊपर काम ना करें तो उनका सैलरी बंद किया जाए अगर अच्छे से काम नहीं करेंगे पब्लिक के लिए तो फिर कब लिखा परेशान को सैलरी के तौर पर क्यों दिया जा रहा है ना दिया जाए तो बिल्कुल पॉसिबल है तो उसके लिए हम लोगों को स्टेप लेना होगा और अच्छा स्टेट लेना होगा अच्छे तरीके से ना कि अपने भाई बंधुओं को नुकसान पहुंचा दिया किसी को नुकसान पहुंचाते अच्छे तरीके से सच का बहुत बड़ा अपना एक हथियार होता है सच-सच पर चले अच्छे से चलें थके भाई बंधु भी खुश हैं किसी को नुकसान ना हो किसी को कुछ ना हो और कभी भी काला बाजार पैसा लूट यह सब जो भी है उधर सच्चाई आपके पास बहुत बड़ी हथियार है तो फिर इंप्लीमेंट कीजिए आई होप कि आपको मेरा आंसर सही लगाओ

dekhiye har jagah same hota hai gujarat aur bihar ho up up ho delhi ho jharkhand ho koi bhi state ho koi bhi rajya ho india me haan hamare yahan logo ko yah samajh nahi aata ki agar saamne vala divyang hai usko physically unfit hai ya kuch bhi hai toh usko problem ho raha hai itna kasht ho raha hai kyonki vaah nasht nahi kar sakta kar paate hain andar se hil nahi kar paate un logo ke prati ko mere bhai honge toh main kaisa feel karta agar aapne nahi hai toh vaah log hi nahi karte hain unko lagta koi bhi ho dhakke kha rahe hain kuch aur hain hone do unko nahi padha hota unke liye toh sabse pehle tu unki jo bhi mansikta hai dusre ke prati vaah dusre hain toh unki yahi mansikta do ke liye aaya time par work karna time par raviwar ko finish karna vaah log nahi chahte ho raha hai ho raha hone do toh mansikta walon ki bhi hai kamjor hai divyang divyango ke prati divyang vaah nahi hai jo ki line me khade hain asli me divyang vaah hai jo line me khade kar aa rahe hain jo ki hamare sarkar ke andar ka kaam karne waale kuch aise log hain bahut log acche bhi hote hain bahut log acche nahi hote hain jaisa ki hum aap sab jante hain toh yah jo acche hote hain unki achi soch hoti hai mansikta achi hoti hai vaah saare logo ko apna samajhte hain apne jaisa maante hain apne bhai behen jaisa maante hain toh unko pata hota hai ki agar main 10 minute aadhe ghante 6 ghante se line me khada hoon dhakke maar raha hai dhakke ho rahe hain tumko kasht hoga agar uske jagah apne bhai rehte mere bhai rehte tumko bhi aisa kasht hota hai toh unko kaisa feel hota toh aisa un log judge karte hain jo acche hote hain jo bure hote hain jinako nahi padh raha tha vaah jaldi nahi karte unko unko koi par vaahan toh gujarat sarkar me chahen koi bhi sarkar me aap indivijuali unko support karte hain unko laate hain ki nahi sirf isi rajya me kharab ho toh aisa nahi ki hamari kuch logo ki yah hum sab ki manen toh main maan sakta hai ki yahan ho raha hai se duty me ho raha hai se bihar niwasi gujarat ka har jagah hai aur isliye usko theek karne ke liye hamare andar jo bhi jo bhi hai sarkar ke jo bhi log hain kyonki sarkar kaun hai sarkar pradhanmantri ji sarkar jo logo ka likh sakte hain log ko control kar sakte hain log ko implement kar sakte hain toh vaah log sarkar hai sarkar ko power kaun de raha hai hum log de rahe hain samvidhan hum log ke liye bana hai na ki samvidhan ke liye hum log bane hain toh hum logo ko bol hona hoga hum logo ko agar kahin bhi aisa dikhe toh hum logo ka awaaz uthana hoga social media bahut bada platform video se nikale upload kare usme bataye ki kaha kiske saath kya ho raha hai kaha ka staff kya acche se baat kar rahe hain nahi kar rahe hain jisme likhe sarkar kiye hain vaah bhi nahi hai hum main kehna chahunga ki hum ghuman jo hai jo aham roll hota hai vaah hamara hota hai public ka hota hai ab hum log kahin bhi galat dekhe kyonki public 120 karo plus hai sarkar mahatma gandhi van hai tu ek banda poore desh ko har ek kone me jaakar har ek district me jaakar are block me jaakar nahi kar sakta yah Impossible rahi hai aap bhi jante hain kyonki agar hamara 10 shamili ka number hota hai usko nahi sambhaal paate ka number batao usko nahi sambhalata ek banda nali powerful hai itne logo ko nahi likh sakta kyonki kahin na kahin har ek ke andar thodi mansikta hoti hai log sochte hain ki agar ek kolkata new tender paas hua hai toh cheh sau das lakh me apne ghar walon ke liye rakh lo ghar bana lunga riching ka shehar ke saath hota hai toh main yah kehna chahunga apni mansikta theek kijiye agar kahin aur ke agal bagal aapke aaspass kuch bhi galat ho toh usko report kijiye record kijiye logo ko bataiye please ko complain kijiye manav adhikaar ka jo usko site hai us par jaiye pm ka website hota hai wahan jaiye pm ka website hota hai wahan jaiye cm ke antargat bhi aap kaha daal sakte hain complaint kar sakte hain atm se bhi touch me aap reh sakte ho gaya police phone karte accha response dete hain dekhiye hamare andar power hai hamare hath me power hai hum kaise usko use karte ho hum par depend karta hai agar hum complaint karte reh jaenge toh sirf puri life company karenge toh divyang koi sharir se hota na ki mansikta ki dimag se aapka dimag se strong hai toh aap strong toh yah baat maan kar chaliye ki koi divyang nahi hai agar hum kisi par blame karte hain toh theek hoon ki galti hoti hai lekin usse zyada galti hoti hai ki hum usko sudhaar nahi paate sudhaarne nahi chahte toh pehle hamko yah check karna chahiye hamko yah sochna chahiye ki pehle hum kuch bhi galat ho toh usko awaz uthaye uske prati virodh kare virodh har 1 mahine me hoti hai na ki sirf kisi ko maar ke karan wahan par jam karke dekhiye public me kaam karte hain kisi bhi lock liye sarkar ko kuch nahi hota use hamare bhai bandhu aaspass ka dukaan me chalta shauk nahi chalta uske bacche bhukhe reh jaate hain aap log hum log toh aisi mansikta hoti hain jo ki badalni hai sarkar ko support kijiye sarkar se sawaal jawab karna uske liye bhi accha tarika hai bana hua vaah hota hai banta hai sarkar ko bhi maloom hai aap ko hi maloom hai tum jante hue bhi vaah saare kaam karte hum log peeche peeche jo bhi hote hain unke peeche chal dete hain tumko batana kya galat ja rahe ho agar aap bolo ja rahe ho toh aur bhi 10 log maare ja rahe hain pehle hum log ko khud ki mansikta sahi karni chahiye aur sarkar ko blame na karte hue pehle agar kuch bhi hota hai toh hamein sarkar tak baat pohch aani chahiye pata sarkar apna kaam kar rahe ho hamare beech me jo baithe vaah apna kaam nahi kar rahe ho toh har tarike se sochiye aur apne aaspass hi apne poore india me koi bhi log hain sab mere bhai bandh me asamanya hamare family ke member hain samanya mansikta theek kijiye har ek bacche se bacche janwar se janwar ke liye bhi mansikta check kijiye devi road par kutte ko laat maar dena dheele mansikta ka shikaar hai jo bhi aisa karte hain toh mansikta bahut badhiya cheez hai is par pura duniya pura desh pura ghar par aakar light depend karta hai toh agar accha soch accha vichar agar aap kab sahi hai aur aapko accha vichar accha sochen toh aap kabhi galat hoga toh aap action zaroor lenge lenge toh dikhega toh sarkar ko kisi ko bhi block karne se pehle hum log uske prati action le delete hota hai main bhi aapko batana chahte delay hota main bhi samajh sakta hoon but der hai andher nahi hai aisa kaha toh agar aap aap tape lete hain toh vaah aage sir se shuru hota hai aur aapko phir khud aisa feel hua ki nahi maine kuch accha kiya thoda late hua der hua baccha kiya toh divyango ke liye kisi ke liye bhi loan ke liye dhakke mukhya khane pad rahe hain but kuch karan se karanon se jo maine aapko mention kiya toh agar kuch bhi aisa ho aapke near bai toh aap please video banaya usko varnan kare please jo bhi aap agar aisa kar rahe hain delete kare kisi cheez me document documentation verify karne me ya kuch bhi toh aap aisa na kare jaldi se jaldi procedure kare taki inko gate na karna pade dhokhe me karna khana pade toh thoda request bhi kare kyonki agar hum pyar se bolte hain toh kaam bhi accha pyar se hota saamne walon ko lagta hai ki nahi banda pyar se bol raha hai toh aap pehle pyar se bole agar zyada agar vaah log nahi maante toh phir apna action le videos banakar social media par dikhaen sarkar ko jo bhi hai jo ki aap find kiye hain jo ki hamare tax ka paisa uske sir ji ko jata hai toh aapke upar kaam na kare toh unka salary band kiya jaaye agar acche se kaam nahi karenge public ke liye toh phir kab likha pareshan ko salary ke taur par kyon diya ja raha hai na diya jaaye toh bilkul possible hai toh uske liye hum logo ko step lena hoga aur accha state lena hoga acche tarike se na ki apne bhai bandhuon ko nuksan pohcha diya kisi ko nuksan pahunchate acche tarike se sach ka bahut bada apna ek hathiyar hota hai sach sach par chale acche se chalen thake bhai bandhu bhi khush hain kisi ko nuksan na ho kisi ko kuch na ho aur kabhi bhi kaala bazaar paisa loot yah sab jo bhi hai udhar sacchai aapke paas bahut badi hathiyar hai toh phir implement kijiye I hope ki aapko mera answer sahi lagao

देखिए हर जगह सेम होता है गुजरात और बिहार हो यूपी यूपी हो दिल्ली हो झारखंड हो कोई भी स्टेट

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  149
WhatsApp_icon
user

Paras

Blessing Baba

0:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुजरात सरकार दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बेल में धक्के खिलाते हैं तो ऐसा कुछ नहीं है यह पूरे इंडिया में ही है और इंडिया के अंदर ही गुजरात आता है तो गुजरात में स्पेशल नहीं है कोई दूसरे राज्यों मध्यप्रदेश हो गया महाराष्ट्र हो गया यहां कोई अमेरिका थोड़ी ना बना हुआ है तो आप बोल रहे हैं कि गुजरात में ही ऐसी सुविधा से बेकार बेकार सुविधा है तो दूसरे राज्यों में भी दे रखी है यहां तो धक्के लगाते हैं वहां तो पूछता ही नहीं हो कोई ऐसा कुछ नहीं है इंडिया में और भी राज्य में हो तो अमेरिका नहीं बन गए और गुजरात को छोड़कर सभी जगह इंडिया का हालात से मैं चाहे दिव्यांग हो या कोई भी हो सभी के लिए धक्के लगते ही हैं तभी जाकर कठोर बनता है इंसान और मजबूत हो पाता है इसलिए मुझे लगता की टाइमिंग देती है सरकार की धक्के खाओ और मजबूत बनो और आगे बढ़ो

gujarat sarkar divyango ke liye loan ke liye bell me dhakke khilaate hain toh aisa kuch nahi hai yah poore india me hi hai aur india ke andar hi gujarat aata hai toh gujarat me special nahi hai koi dusre rajyo madhya pradesh ho gaya maharashtra ho gaya yahan koi america thodi na bana hua hai toh aap bol rahe hain ki gujarat me hi aisi suvidha se bekar bekar suvidha hai toh dusre rajyo me bhi de rakhi hai yahan toh dhakke lagate hain wahan toh poochta hi nahi ho koi aisa kuch nahi hai india me aur bhi rajya me ho toh america nahi ban gaye aur gujarat ko chhodkar sabhi jagah india ka haalaat se main chahen divyang ho ya koi bhi ho sabhi ke liye dhakke lagte hi hain tabhi jaakar kathor banta hai insaan aur majboot ho pata hai isliye mujhe lagta ki timing deti hai sarkar ki dhakke khao aur majboot bano aur aage badho

गुजरात सरकार दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बेल में धक्के खिलाते हैं तो ऐसा कुछ नहीं है यह प

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  225
WhatsApp_icon
user

Ashwani Thakur

👤Teacher & Advisor🙏

0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार गुड मॉर्निंग एप्लीकेशन क्या है आपने पूछा है गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए लोन के लिए बैंक में खिला करते हैं या अभी मरा अब जगह को बुलाकर दिक्कत का सामना करना पड़ता है

namaskar good morning application kya hai aapne poocha hai gujarat me sarkar ne divyango ke liye loan ke liye bank me khila karte hain ya abhi mara ab jagah ko bulakar dikkat ka samana karna padta hai

नमस्कार गुड मॉर्निंग एप्लीकेशन क्या है आपने पूछा है गुजरात में सरकार ने दिव्यांगों के लिए

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  1240
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!