गर्मी के दिनों में शरीर में दाने क्यों निकल आते हैं?...


play
user

Dr Kailash Bhatia

Dermatologist

0:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

छात्र जो गर्मियों में जो दाने निकलता है हाथ है युनिलीवर तरंग पर होते हैं बॉडी पर होते हैं ना चेस्ट पर है बेहतर होते उसका अंकित स्ट्रिक्टली ही 12 मिनट लेट सूट के मिली मिली मिली वह ब्लॉक हो जाती है इसी वजह से तो वह पसीना बाहर नहीं आ पाता वह अंदर 1 मिनट हो जाता है तो इस गाने के रूप में देखता है अगर वह ज्यादा सीधे रहती हो तो बॉडी उसे रिजेक्ट करता क्योंकि बॉडी समझते फॉरेन बॉडी है क्योंकि डॉक्टरों की एक होल्डिंग कैपेसिटी होती है उसके बाद क्या है वह लिख करता है पसीना और व्यक्त करता बॉडी के साथी बनना शुरू हो जाता है तो उसका इलाज के शौक बदले दिन में दो-तीन बार ठंडे पानी से और कुछ कैलामाइन लोशन से बोला कर सकते हैं उसे वह ठीक हो जाते हैं

chatra jo garmiyo mein jo daane nikalta hai hath hai yunilivar tarang par hote hain body par hote hain na chest par hai behtar hote uska ankit striktali hi 12 minute late suit ke mili mili mili vaah block ho jaati hai isi wajah se toh vaah paseena bahar nahi aa pata vaah andar 1 minute ho jata hai toh is gaane ke roop mein dekhta hai agar vaah zyada sidhe rehti ho toh body use reject karta kyonki body samajhte foreign body hai kyonki doctoron ki ek holding capacity hoti hai uske baad kya hai vaah likh karta hai paseena aur vyakt karta body ke sathi banna shuru ho jata hai toh uska ilaj ke shauk badle din mein do teen baar thande paani se aur kuch kailamain lotion se bola kar sakte hain use vaah theek ho jaate hain

छात्र जो गर्मियों में जो दाने निकलता है हाथ है युनिलीवर तरंग पर होते हैं बॉडी पर होते हैं

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  406
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अभी गर्मी के दिनों में शरीर पर दाने क्यों निकल आते हैं तो बिजली रानी HD जो घमोरियां होती है उसे भेजिए निकल आती है सिर्फ रीजन है कि गर्मी के दिन में सेटिंग ज्यादा होता है सेटिंग कर दो धूल मिट्टी को हमारे स्क्रीन पर जल्दी चिपक जाती है आज सेकंड बैक्टीरिया होते हैं और शरीर की गर्मी भ्रष्ट करने के लिए तो पसीने के तौर पर या पिंपल्स के तौर पर हमारे शरीर में बाहर निकलते हैं

abhi garmi ke dino mein sharir par daane kyon nikal aate hai toh bijli rani HD jo ghamoriyan hoti hai use bhejiye nikal aati hai sirf reason hai ki garmi ke din mein setting zyada hota hai setting kar do dhul mitti ko hamare screen par jaldi chipak jaati hai aaj second bacteria hote hai aur sharir ki garmi bhrasht karne ke liye toh pasine ke taur par ya pimples ke taur par hamare sharir mein bahar nikalte hain

अभी गर्मी के दिनों में शरीर पर दाने क्यों निकल आते हैं तो बिजली रानी HD जो घमोरियां होती ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  146
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
garmi ke din aate hain ; garmi ke gane ; garmiyon ke gane ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!