जैव विविधता का अर्थ समझाइए और उसका राष्ट्रीय स्तर पर क्या उल्लेख किए जा सकते हैं?...


user

Dinesh Mishra

Theosophists | Accountant

6:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैव विविधता का अर्थ समझाइए उसका राष्ट्रीय स्तर पर क्या उल्लेख किए जा सकते हैं देखिए जय विविधता प्रत्येक जीव वह सुरक्षित रहे जीवित रहे और उनकी नस्ल बनी रहे और वह एक स्थान पर एकत्रित रहे उसको जय विविधता का करते हैं इसमें विभिन्न विभिन्न जो राष्ट्र जय विविधता जो है वह उसका जो उद्देश्य है वह यह है कि जितने भी जीव प्राणी है वह सुरक्षित रहे और उनकी जो उनकी जो प्रजाति है वह नष्ट ना हो और यद्यपि आज के परिवेश में कई प्रजातियां लुप्त हो गई हैं तो जातियों को लुप्त होने से बचाने के लिए राष्ट्रीय स्तर पर और राज्य स्तर पर कई योजनाएं संचालित हो रहे हैं उनके लिए एक बेहद क्षेत्र का मनाया जा रहा है और उस क्षेत्र में सारे जीव जंतु जो है वो संग्रहित किए जा रहे हैं और उनको वह सब सुरक्षित रहें सुरक्षित रहें और उनके भोजन पा की सारी व्यवस्थाएं बनी रहे ऐसी देवता की श्रेणी में कहा जाता है जय विविधता के लिए अब जो राष्ट्रीय स्तर की सरकार और राज्य के स्तर की सरकारें भी जागरूक होने लगी है वह चाहती हैं कि जो प्रत्येक जो प्राणी है जीव जंतु हैं कीट पतंगे हैं और जितनी भी वह प्रजातियां सुरक्षित रहें सुरक्षित रहें और उनका पालन पोषण होता रहे और उनकी जो नस्ल है वह उनकी जो प्रजाति है वह विलुप्त ना हो यह द भी बहुत सी जो प्रजातियां हैं विलुप्त हो गई हैं उनमें डायनासोर भी है और भी कई अन्य प्रजाति चाहे वह पक्षियों में हूं जहां जीव जंतुओं में हूं वह जो पहले हुआ करती थी वह ब्लॉक हो गई है अब वैज्ञानिकों ने यह विचार किया है कि सारी जितनी भी वर्तमान में प्रजातियां उपलब्ध है जीव जंतुओं से संबंधित वह सब के किसान में उनको रहने का बढ़ने का और अपनी प्रजातियों को विकसित करने का स्थान मिले इसको जैव विविधता की श्रेणी में कहा जाता है अब राज्य सरकारों ने भी अपने-अपने क्षेत्रों से जिला कलेक्टरों को योजनाएं भेजी हैं और वह यह देखा करती हैं के द्वारा जो फॉरेस्ट है वह उस विभाग को यह कार सौंपा गया है वह इस चित्र का चयन करते हैं उस विषारी प्राणी रह सके चाहे वाइस सिटी से लेकर के हाथी तक को उसमें रहने के लिए अवसर मुहैया कराने का प्रयास चल रहा है जिसमें सारे जीव जंतु रहे और वे अपनी अपना जो है जीवित रहे और उनकी जो अपनी नस्ल है जो उनकी प्रजाति है उसकी बॉय वृद्धि कर सकें कोई प्रजाति विलुप्त ना इसको जैव विविधता की श्रेणी में आ जाता है इस हेतु सरकारी जॉब सजा हो गई हैं उन्होंने योजनाएं बनाकर की तलाश शुरू पर दे दी हैं जिला स्तर के लिए चयन कर रहे हैं एक एरिया का डेवलपमेंट कर रहे हैं उस एरिया में जितने भी जीव जंतु हैं वह सब इकट्ठे करके उनको संरक्षित करने का प्रयास किया जा रहा है चाहे घड़ियाल हो चाहे चींटी से लेकर के और हां जी तक उसमें जीव जंतु सभी रहेंगे और भी अपनी प्रजाति का प्रजनन आदि करके अपनी प्रजाति को बढ़ाने का प्रयास करेंगे और वह प्रजाति विलुप्त ना हो बनी रहे यह यह व्यवस्था में प्रमुख विषय है

jaiv vividhata ka arth samjhaiye uska rashtriya sthar par kya ullekh kiye ja sakte hain dekhiye jai vividhata pratyek jeev vaah surakshit rahe jeevit rahe aur unki nasl bani rahe aur vaah ek sthan par ekatrit rahe usko jai vividhata ka karte hain isme vibhinn vibhinn jo rashtra jai vividhata jo hai vaah uska jo uddeshya hai vaah yah hai ki jitne bhi jeev prani hai vaah surakshit rahe aur unki jo unki jo prajati hai vaah nasht na ho aur yadyapi aaj ke parivesh me kai prajatiya lupt ho gayi hain toh jaatiyo ko lupt hone se bachane ke liye rashtriya sthar par aur rajya sthar par kai yojanaye sanchalit ho rahe hain unke liye ek behad kshetra ka manaya ja raha hai aur us kshetra me saare jeev jantu jo hai vo sangrahit kiye ja rahe hain aur unko vaah sab surakshit rahein surakshit rahein aur unke bhojan paa ki saari vyavasthaen bani rahe aisi devta ki shreni me kaha jata hai jai vividhata ke liye ab jo rashtriya sthar ki sarkar aur rajya ke sthar ki sarkaren bhi jagruk hone lagi hai vaah chahti hain ki jo pratyek jo prani hai jeev jantu hain kit patange hain aur jitni bhi vaah prajatiya surakshit rahein surakshit rahein aur unka palan poshan hota rahe aur unki jo nasl hai vaah unki jo prajati hai vaah vilupt na ho yah the bhi bahut si jo prajatiya hain vilupt ho gayi hain unmen dinosaur bhi hai aur bhi kai anya prajati chahen vaah pakshiyo me hoon jaha jeev jantuon me hoon vaah jo pehle hua karti thi vaah block ho gayi hai ab vaigyaniko ne yah vichar kiya hai ki saari jitni bhi vartaman me prajatiya uplabdh hai jeev jantuon se sambandhit vaah sab ke kisan me unko rehne ka badhne ka aur apni prajatiyo ko viksit karne ka sthan mile isko jaiv vividhata ki shreni me kaha jata hai ab rajya sarkaro ne bhi apne apne kshetro se jila kalektaron ko yojanaye bheji hain aur vaah yah dekha karti hain ke dwara jo forest hai vaah us vibhag ko yah car saupaan gaya hai vaah is chitra ka chayan karte hain us vishari prani reh sake chahen voice city se lekar ke haathi tak ko usme rehne ke liye avsar muhaiya karane ka prayas chal raha hai jisme saare jeev jantu rahe aur ve apni apna jo hai jeevit rahe aur unki jo apni nasl hai jo unki prajati hai uski boy vriddhi kar sake koi prajati vilupt na isko jaiv vividhata ki shreni me aa jata hai is hetu sarkari job saza ho gayi hain unhone yojanaye banakar ki talash shuru par de di hain jila sthar ke liye chayan kar rahe hain ek area ka development kar rahe hain us area me jitne bhi jeev jantu hain vaah sab ikatthe karke unko sanrakshit karne ka prayas kiya ja raha hai chahen ghadiyal ho chahen chinti se lekar ke aur haan ji tak usme jeev jantu sabhi rahenge aur bhi apni prajati ka prajanan aadi karke apni prajati ko badhane ka prayas karenge aur vaah prajati vilupt na ho bani rahe yah yah vyavastha me pramukh vishay hai

जैव विविधता का अर्थ समझाइए उसका राष्ट्रीय स्तर पर क्या उल्लेख किए जा सकते हैं देखिए जय विव

Romanized Version
Likes  138  Dislikes    views  1551
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!