क्या देश में बेरोज़गारी का कारण बढ़ती जनसँख्या है?...


user

Shubham

Software Engineer in IBM

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भारत में बेरोजगारी के कई सारे कारण है और उन का रण में से एक जनसंख्या भी कारण है भारत की जनसंख्या काफी ज्यादा अधिक है और बहुत बड़े रेट से बढ़ती जा रही है लेकिन उस बड़े रेट से जॉब्स क्रिएट नहीं हो पा रही हो तो यह कारण है बेरोजगारी का और भी कई सारे कारण है जैसे आप भारत में जो क्वालिटी ऑफ एजुकेशन प्रोवाइड की जाती है लोगों को वह नहीं होती अच्छी इस वजह से उनकी फिल्में जॉब होती है फिर भी उनको नहीं मिलती है उसके बाद यह है कि भारत में कोई ना कोई प्राइवेट सेक्टर का इनवेस्टमेंट है वह भी कम है क्या कितना भी बोलने की प्राइवेट सेक्टर बहुत ज्यादा है लेकिन मुझे लगता है कि भारत में और प्राइवेट सेक्टर का इनवेस्टमेंट होना चाहिए ताकि लोग ज्यादा क्रिएट हो और भी कई सारे कारण है तो जनसंख्या के कारण

dekhiye bharat mein berojgari ke kai saare karan hai aur un ka ran mein se ek jansankhya bhi karan hai bharat ki jansankhya kaafi zyada adhik hai aur bahut bade rate se badhti ja rahi hai lekin us bade rate se jobs create nahi ho paa rahi ho toh yah karan hai berojgari ka aur bhi kai saare karan hai jaise aap bharat mein jo quality of education provide ki jaati hai logo ko vaah nahi hoti achi is wajah se unki filme job hoti hai phir bhi unko nahi milti hai uske baad yah hai ki bharat mein koi na koi private sector ka investment hai vaah bhi kam hai kya kitna bhi bolne ki private sector bahut zyada hai lekin mujhe lagta hai ki bharat mein aur private sector ka investment hona chahiye taki log zyada create ho aur bhi kai saare karan hai toh jansankhya ke karan

देखिए भारत में बेरोजगारी के कई सारे कारण है और उन का रण में से एक जनसंख्या भी कारण है भारत

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  185
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश की जनसंख्या आज चीन के बाद दूसरे नंबर पर आती है और आने वाले कुछ वर्षों में मुझे लगता है कि भारत पूरे विश्व में सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश बन जाएगा तो भारत में जितनी भी समस्याएं हैं जो सामाजिक हैं जैसे कि बेरोजगारी गरीबी भुखमरी उन सब का सीधा रिलेशन मेरे मुताबिक तो जनसंख्या वृद्धि सही है क्योंकि अगर भारत की जनसंख्या इतनी अधिक नहीं होती तो सभी लोगों को सभी चीजें मिल पाती और इतनी परेशानियां नहीं होती तो अभी भी अगर सरकार जनसंख्या पर लगाम लगाने के लिए कोई कानून बनाती है जिस प्रकार से चाइना में वन चाइल्ड पॉलिसी लागू की गई थी वैसा ही कुछ अगर भारत में भी किया जाता है तो आने वाले समय में यह जितनी भी समस्याएं हैं बेरोजगारी गरीबी भुखमरी इन पर लगाम लगाई जा सकती है

hamare desh ki jansankhya aaj china ke baad dusre number par aati hai aur aane waale kuch varshon mein mujhe lagta hai ki bharat poore vishwa mein sabse zyada jansankhya vala desh ban jaega toh bharat mein jitni bhi samasyaen hai jo samajik hai jaise ki berojgari garibi bhukhmari un sab ka seedha relation mere mutabik toh jansankhya vriddhi sahi hai kyonki agar bharat ki jansankhya itni adhik nahi hoti toh sabhi logo ko sabhi cheezen mil pati aur itni pareshaniya nahi hoti toh abhi bhi agar sarkar jansankhya par lagaam lagane ke liye koi kanoon banati hai jis prakar se china mein van child policy laagu ki gayi thi waisa hi kuch agar bharat mein bhi kiya jata hai toh aane waale samay mein yah jitni bhi samasyaen hai berojgari garibi bhukhmari in par lagaam lagayi ja sakti hai

हमारे देश की जनसंख्या आज चीन के बाद दूसरे नंबर पर आती है और आने वाले कुछ वर्षों में मुझे ल

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  158
WhatsApp_icon
play
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी बढ़ती बेरोजगारी और बढ़ती जनसंख्या को बिल्कुल हमेशा जोड़ सकते हैं क्योंकि अगर मानव ज्यादा रहेंगे तो जवाब दिया फिर गिरफ्तारी को ज्यादा ही होगी क्योंकि जब मिलेंगे तो तो ऐसी बातें बेरोजगारी दादा होगी तो एक कारण बेरोजगारी के लिए भी हो सकता है कि हमारी जनसंख्या बढ़ रही है

ji badhti berojgari aur badhti jansankhya ko bilkul hamesha jod sakte hain kyonki agar manav zyada rahenge toh jawab diya phir giraftari ko zyada hi hogi kyonki jab milenge toh toh aisi batein berojgari dada hogi toh ek karan berojgari ke liye bhi ho sakta hai ki hamari jansankhya badh rahi hai

जी बढ़ती बेरोजगारी और बढ़ती जनसंख्या को बिल्कुल हमेशा जोड़ सकते हैं क्योंकि अगर मानव ज्याद

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  166
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!