क्या देश को सिर्फ नेताओं द्वारा ही चलाया जा सकता है?...


play
user

Vivek Shukla

Life coach

1:13

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखिए लोकतंत्र में बात होती है कि बिना एक के चुनाव के मने एक लीडर हुई कोई भी काम नहीं होता ऐसे में नेता कहो मत जहां तक जरूरी है लेकिन यदि आदमी चाहे तो अपने देश का विकास खुद ही कर सकता है यदि भारत का प्रत्येक नागरिक अपनी जिम्मेदारियों को समझें अपने व्यवहार को समझे मेरी सबसे ज्यादा से ज्यादा योजनाएं बनाने की जरूरत नहीं होगी क्योंकि जब लोग ही की मानसिकता है इतनी कमजोर है लोग लालची होती जा रहे हैं ऐसे में नेता लोग तुम और उनकी हिसाब से जब सब लोग लालची होंगे तो कोई दिक्कत नहीं होगा क्योंकि वह चाहते हैं कि एक दूसरे से लोग लड़के आपस में भिड़े ताकि उनका फायदा होगा तो आप ने जारी बंधन चाहती माने धर्म में तरह-तरह के भाषण देकर आप लोगों के मन से खेल रहे हैं आप के लोगों के स्वास्थ्य के लिए धर्म किए गए और आप लोग आपस में लड़ते हैं ऐसे में मुझे नहीं लगता कि नेताओं को किसी प्रकार से कोई दिक्कत होने वाली है और आपको यदि आप देश चलाने के लिए सिर्फ नेताओं की जरूरत नहीं है तो आप खुद से काम कीजिए और आपको लीडर बन जाएगी मैंने कोई भी किसी भी प्रकार से लीडर की आवश्यकता है सबको बढ़ती है तो जनतंत्र का सवाल है तो नेताओं की आवश्यकता बस यही होगा कि आप अच्छे नेताओं को चुने जो आपको लगता है कि देश का भविष्य बना सकते हैं ऐसे और बिना वजह की यह राजनीति में तुम हमारे पार्टी हमारे जाती है ऐसी व्यवहार जैसी मानसिकता ना रखे बाथरूम

likhiye loktantra mein baat hoti hai ki bina ek ke chunav ke mane ek leader hui koi bhi kaam nahi hota aise mein neta kaho mat jaha tak zaroori hai lekin yadi aadmi chahen toh apne desh ka vikas khud hi kar sakta hai yadi bharat ka pratyek nagarik apni jimmedariyon ko samajhe apne vyavhar ko samjhe meri sabse zyada se zyada yojanaye banane ki zarurat nahi hogi kyonki jab log hi ki mansikta hai itni kamjor hai log lalchi hoti ja rahe hai aise mein neta log tum aur unki hisab se jab sab log lalchi honge toh koi dikkat nahi hoga kyonki vaah chahte hai ki ek dusre se log ladke aapas mein bhide taki unka fayda hoga toh aap ne jaari bandhan chahti maane dharm mein tarah tarah ke bhashan dekar aap logo ke man se khel rahe hai aap ke logo ke swasthya ke liye dharm kiye gaye aur aap log aapas mein ladte hai aise mein mujhe nahi lagta ki netaon ko kisi prakar se koi dikkat hone wali hai aur aapko yadi aap desh chalane ke liye sirf netaon ki zarurat nahi hai toh aap khud se kaam kijiye aur aapko leader ban jayegi maine koi bhi kisi bhi prakar se leader ki avashyakta hai sabko badhti hai toh jantantra ka sawaal hai toh netaon ki avashyakta bus yahi hoga ki aap acche netaon ko chune jo aapko lagta hai ki desh ka bhavishya bana sakte hai aise aur bina wajah ki yah raajneeti mein tum hamare party hamare jaati hai aisi vyavhar jaisi mansikta na rakhe bathroom

लिखिए लोकतंत्र में बात होती है कि बिना एक के चुनाव के मने एक लीडर हुई कोई भी काम नहीं होता

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  317
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!