क्या देश की जनता भाषणों को सुनकर वोट देती हैं?...


user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां पर देश की जनता अशिक्षित है और उन्हें खुद का विवेक इस्तेमाल करना नहीं आता वहां पर लोग नेताओं की चिकनी चुपड़ी बातों में आ जाते हैं और भाषण को सुनकर किसी भी पार्टी के लिए वोट कर देते हैं कई बार हम देखते हैं कि गांव के अधिकांश लोग चुनावी सभाओं में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते हैं और अलग-अलग पार्टियों के सभाओं में जाते हैं वहां के नेताओं के भाषण को सुनते हैं और नेताओं की जो लुभावने वादे होते हैं उस के चक्कर में फस कर ऐसी पार्टी को वोट कर देते हैं जो बाद में चलकर उनका विकास नहीं कर पाती तो सभी लोगों को खुद की बीवी के हिसाब से वोट करना चाहिए और हर एक नेता को इस बात से तौलना चाहिए कि क्या वह चुनाव जीतने के बाद उनकी समस्याओं को हल करेगा भी या फिर नहीं जैसा कि हम देख रहे हैं कि अभी सत्ताधारी बीजेपी पार्टी जिन्होंने बहुत सारे चुनावी वादे कर दिए थे और इसी वजह से बहुमत की प्राप्त हुआ लेकिन अब जब उनकी सरकार 2014 में बन गई उसके बाद से उन्होंने जनता के जो भी दुख तकलीफ थे उसके बारे में सोचना मुनासिब नहीं समझा जिसकी वजह से आज हमारे देश की जनता परेशान हैं किसान आत्महत्या कर रहे हैं और पढ़े लिखे युवा बेरोजगार बैठे हैं तो यह तमाम मुद्दे हैं जिस पर वर्तमान सरकार विफल साबित हुई है इसीलिए आने वाले लोकसभा चुनाव में मुझे लगता है सभी लोगों को सिर्फ भाषणबाजी पर नहीं देना चाहिए बल्कि ऐसे उम्मीदवार ऐसी पार्टी के लिए वोट करना चाहिए जो सही मायनों में उनका विकास कर पाए

jahan par desh ki janta ashikshit hai aur unhe khud ka vivek istemal karna nahi aata wahan par log netaon ki chikani chupadi baaton mein aa jaate hain aur bhashan ko sunkar kisi bhi party ke liye vote kar dete hain kai baar hum dekhte hain ki gaon ke adhikaansh log chunavi sabhaon mein badh chadhakar hissa lete hain aur alag alag partiyon ke sabhaon mein jaate hain wahan ke netaon ke bhashan ko sunte hain aur netaon ki jo lubhawane waade hote hain us ke chakkar mein fas kar aisi party ko vote kar dete hain jo baad mein chalkar unka vikas nahi kar pati toh sabhi logo ko khud ki biwi ke hisab se vote karna chahiye aur har ek neta ko is baat se taulna chahiye ki kya vaah chunav jitne ke baad unki samasyaon ko hal karega bhi ya phir nahi jaisa ki hum dekh rahe hain ki abhi sattadhari bjp party jinhone bahut saare chunavi waade kar diye the aur isi wajah se bahumat ki prapt hua lekin ab jab unki sarkar 2014 mein ban gayi uske baad se unhone janta ke jo bhi dukh takleef the uske bare mein sochna munasib nahi samjha jiski wajah se aaj hamare desh ki janta pareshan hain kisan atmahatya kar rahe hain aur padhe likhe yuva berozgaar baithe hain toh yah tamaam mudde hain jis par vartaman sarkar vifal saabit hui hai isliye aane waale lok sabha chunav mein mujhe lagta hai sabhi logo ko sirf bhashanabaji par nahi dena chahiye balki aise ummidvar aisi party ke liye vote karna chahiye jo sahi maayano mein unka vikas kar paye

जहां पर देश की जनता अशिक्षित है और उन्हें खुद का विवेक इस्तेमाल करना नहीं आता वहां पर लोग

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  300
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!