कविता नाम की लड़की कैसी होती है?...


user

DR. I.P.SINGH

Doctorate in Literature

3:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटा आपने पूछा कम उम्र की लड़की कैसी होती है नाम से ही अगर लोग बड़े होते ना तो यह देश पता नहीं कहां पहुंच जाता मैं अपना नाम बड़े और दर्शन छोटे वाली मानसिकता है कथन इसीलिए प्रचलित हुआ है तो ध्यान रखें कि यह तो पारिवारिक संस्कारों के धरातल पर आप देखें सुने आपने क्योंकि लड़की को आप किस रूप में देख रहे हैं बहन के रूप में बेटी के रूप में जीवन साथी के रूप में या किसी और रूप में सभी आपने होता है कि हमारे देश माना गया है कि सच्ची लड़की हुआ है यह सौभाग्य से हमें मिलती है किसी भी रूप में उसके 5 गुण होते त्याग दया करुणा ममता और धैर्य वह रश्मि में भी हो सकती है रजनी में भी हो सकती है कविता में भी हो सकती है गीता में भी हो सकती सीता में भी हो सकते लेकिन उल्टा चले कि पारिवारिक संस्कार अगर नहीं तो कर कथा स्वरूप गीता का भी हो सकता सीता का भी हो सकता है रीता का भी हो सकता है समझे अपना नाम से नहीं क्योंकि वह पहले माना जाता था नाम राशि के आधार पर निर्धारित होता था पंडित जी निर्धारित करते थे और उसका फिर बाद में मिला ना दिया जाता था आज भी लोग मिलाते हैं राशि के नामों से सादिया करते हैं और सीधी बातें की जहां सफल हो जाते हैं ना कहा जाता देखो पंडित जी ने बड़े अच्छे गुण मिलाए लेकिन मेरा एक गाना है यह संयोग है अपना हर लड़की भारत में दिमाग में बैठा कर चलती है कि मुझे किसी घर जाना है वह पराया घर ही मेरा घर होगा और जिस व्यक्ति के साथ मुझे जोड़ा जाएगा जिंदगी उसी के साथ काटनी है और 90% का तो समर्पण होता है इसलिए वह बिता लेते हैं 10 परसेंट ऐसे होते हैं जिनके संस्कार ऐसे नहीं होते हैं जो लड़की है जिंदगी जीने की कोशिश करते हैं राज मंचों पर पति पत्नी के विवादों की बात आती है तो मेरा तो एक ही निवेदन है नाम देखने की कोशिश की बजाय गुड़ देखने की कोशिश करिए समझे आप ना तो ज्यादा अच्छा होगा कोई निर्णय नहीं हो गई हो देख रही हो तो क्या करोगे उसमें भेजने कल्पना करिए और उसकी आंखें आपको देख रही हो पता लगेगी दूसरी तरफ को देख रही है तो ऐसा नहीं बेटा बहुत जो सुंदर होता है वह भी दूर तो हो सकता है विश्व बंपर मौका तो सुंदर है पर भी मत जाइए माता पिता के संस्कार पारिवारिक पृष्ठभूमि है जो होते हैं ऐसी पिक्चर के निर्माण में विशिष्ट भूमिका निभाते हैं थैंक यू

beta aapne poocha kam umar ki ladki kaisi hoti hai naam se hi agar log bade hote na toh yah desh pata nahi kaha pohch jata main apna naam bade aur darshan chote wali mansikta hai kathan isliye prachalit hua hai toh dhyan rakhen ki yah toh parivarik sanskaron ke dharatal par aap dekhen sune aapne kyonki ladki ko aap kis roop me dekh rahe hain behen ke roop me beti ke roop me jeevan sathi ke roop me ya kisi aur roop me sabhi aapne hota hai ki hamare desh mana gaya hai ki sachi ladki hua hai yah saubhagya se hamein milti hai kisi bhi roop me uske 5 gun hote tyag daya karuna mamata aur dhairya vaah rashmi me bhi ho sakti hai rajni me bhi ho sakti hai kavita me bhi ho sakti hai geeta me bhi ho sakti sita me bhi ho sakte lekin ulta chale ki parivarik sanskar agar nahi toh kar katha swaroop geeta ka bhi ho sakta sita ka bhi ho sakta hai rita ka bhi ho sakta hai samjhe apna naam se nahi kyonki vaah pehle mana jata tha naam rashi ke aadhar par nirdharit hota tha pandit ji nirdharit karte the aur uska phir baad me mila na diya jata tha aaj bhi log milaate hain rashi ke namon se sadiya karte hain aur seedhi batein ki jaha safal ho jaate hain na kaha jata dekho pandit ji ne bade acche gun milae lekin mera ek gaana hai yah sanyog hai apna har ladki bharat me dimag me baitha kar chalti hai ki mujhe kisi ghar jana hai vaah paraaya ghar hi mera ghar hoga aur jis vyakti ke saath mujhe joda jaega zindagi usi ke saath kaatani hai aur 90 ka toh samarpan hota hai isliye vaah bita lete hain 10 percent aise hote hain jinke sanskar aise nahi hote hain jo ladki hai zindagi jeene ki koshish karte hain raj manchon par pati patni ke vivadon ki baat aati hai toh mera toh ek hi nivedan hai naam dekhne ki koshish ki bajay good dekhne ki koshish kariye samjhe aap na toh zyada accha hoga koi nirnay nahi ho gayi ho dekh rahi ho toh kya karoge usme bhejne kalpana kariye aur uski aankhen aapko dekh rahi ho pata lagegi dusri taraf ko dekh rahi hai toh aisa nahi beta bahut jo sundar hota hai vaah bhi dur toh ho sakta hai vishwa bumper mauka toh sundar hai par bhi mat jaiye mata pita ke sanskar parivarik prishthbhumi hai jo hote hain aisi picture ke nirmaan me vishisht bhumika nibhate hain thank you

बेटा आपने पूछा कम उम्र की लड़की कैसी होती है नाम से ही अगर लोग बड़े होते ना तो यह देश पता

Romanized Version
Likes  58  Dislikes    views  968
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!