अपनी खबर पुस्तक की विधा क्या है?...


play
user

Anjali

Student

0:21

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखिए हिंदी साहित्य में आत्मकथा और डायरी लिखने में बहुत ही बड़ा मतभेद होता है फिर इतना ऐसी होती हैं जो हमको लगता तो है कि यह आप बताएं लेकिन वास्तव में वह किसी भी खबर रचना है

likhiye hindi sahitya mein atmakatha aur diary likhne mein BA hut hi BA da matbhed hota hai phir itna aisi hoti hai jo hamko lagta toh hai ki yah aap BA tayen lekin vaastav mein vaah kisi bhi khabar rachna hai

लिखिए हिंदी साहित्य में आत्मकथा और डायरी लिखने में बहुत ही बड़ा मतभेद होता है फिर इतना ऐसी

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

shekhar11

Volunteer

0:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह अपनी खबर जो पुस्तक है वह पांडे बेचन शर्मा की रचना है

yah apni khabar jo pustak hai vaah pandey bechan sharma ki rachna hai

यह अपनी खबर जो पुस्तक है वह पांडे बेचन शर्मा की रचना है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Munmun 🌈

Volunteer

0:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी खबर पुस्तक की विधा की रचना पंडित बेचन शर्मा द्वारा की गई है

apni khabar pustak ki vidhaa ki rachna pandit bechan sharma dwara ki gayi hai

अपनी खबर पुस्तक की विधा की रचना पंडित बेचन शर्मा द्वारा की गई है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  74
WhatsApp_icon
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

5:00 बजे आपको इतना चाहते हैं कि अपनी खबर पुस्तक की विधा क्या है तो और पुस्तक कहां जनों ने लिखा था उनका नाम था पांडेय बेचन शर्मा और यह जो ओरिजिनल पब्लिक हुई थी बहुत सन 2006 में पब्लिक हुई थी और इसमें जो है बहुत अच्छा एग्जांपल दिया हुआ है हरिवंश राय बच्चन की ऑटोबायोग्राफी का जो किसकी डिफरेंट वॉल्यूम में है

5 00 BA je aapko itna chahte hai ki apni khabar pustak ki vidhaa kya hai toh aur pustak kahaan jano ne likha tha unka naam tha pandey bechan sharma aur yah jo original public hui thi BA hut san 2006 mein public hui thi aur isme jo hai BA hut accha example diya hua hai harivansh rai BA chchan ki autobiography ka jo kiski different volume mein hai

5:00 बजे आपको इतना चाहते हैं कि अपनी खबर पुस्तक की विधा क्या है तो और पुस्तक कहां जनों ने

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  265
WhatsApp_icon
user

Sohan Prasad

Junior Volunteer

0:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी खबर पुस्तक की विधा क्या है तो बेसिकली विधा नहीं है एक डायरी लेखन है मैटर में डायरी है अपनी खबर पुस्तक

apni khabar pustak ki vidhaa kya hai toh BA sically vidhaa nahi hai ek diary lekhan hai matter mein diary hai apni khabar pustak

अपनी खबर पुस्तक की विधा क्या है तो बेसिकली विधा नहीं है एक डायरी लेखन है मैटर में डायरी है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  45
WhatsApp_icon
user

Sid Malhotra

Volunteer

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी खबर लेना या अपनी खबर देना जीवनी साहित्य की दो बुनियादी विशेषताएं हैं और फिर पूर्व जैसे लेखक की अपनी खबर उनके जैसी ए वेरी बेवफा बेवफा और विवाह की साफगोई और जीवंत भाषा शैली हिंदी में आज भी दुर्लभ है पांडेय बेचन शर्मा उग्र हिंदी के प्रारंभिक इतिहास के एक स्तंभ रहे हैं और यह कृति उनके जीवन के प्रारंभिक 21 वर्षों के विविधता भरे क्रिया व्यापारियों का उद्घाटन करती है तो यह तरह की आत्मकथा है

apni khabar lena ya apni khabar dena jeevni sahitya ki do buniyadi visheshtayen hai aur phir purv jaise lekhak ki apni khabar unke jaisi a very bewafaa bewafaa aur vivah ki safgoi aur jivant bhasha shaili hindi mein aaj bhi durlabh hai pandey bechan sharma ugra hindi ke prarambhik itihas ke ek stambh rahe hai aur yah kriti unke jeevan ke prarambhik 21 varshon ke vividhata bhare kriya vyapariyon ka udghatan karti hai toh yah tarah ki atmakatha hai

अपनी खबर लेना या अपनी खबर देना जीवनी साहित्य की दो बुनियादी विशेषताएं हैं और फिर पूर्व जैस

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  49
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी मां का पुस्तक की विधा जो है वह पांडे बेचन शर्मा के द्वारा लिखी गई है और इसमें जो हरिवंश राय बच्चन की लाइफ की बायोग्राफी की बहुत अच्छी के सैंपल दी गई है

apni maa ka pustak ki vidhaa jo hai vaah pandey bechan sharma ke dwara likhi gayi hai aur isme jo harivansh rai BA chchan ki life ki Biography ki BA hut achi ke sample di gayi hai

अपनी मां का पुस्तक की विधा जो है वह पांडे बेचन शर्मा के द्वारा लिखी गई है और इसमें जो हरिव

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
apni khabar kis vidha ki rachna hai ; apni khabar pustak ki vidha hai ; अपनी खबर किस प्रकार की विधा है ; apni khabar ; apni khabar pustak ki vidha kya hai ; अपनी खबर किस विधा की रचना है ; अपनी खबर पुस्तक की विधा ; apni khabar kiski rachna hai ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!