हमें दुनिया के प्रति किस तरह की भावना रखनी चाहिए?...


user

Vinod Kumar Pandey

Life Coach | Career Counsellor ::Relationship Counsellor :: Parenting Counsellor

2:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने जो पोस्ट किया उसका उत्तर में मैं यही कहना चाहता हूं कि हमें जीवन में दुनिया के प्रति हमेशा ही बहुत सकारात्मक नजरिया रखना चाहिए सकारात्मक और अच्छा सोच रखना चाहिए और उसी प्रकार की धारणा रखनी चाहिए जैसा हम अपने आप से रखते हैं जय इतना हम अपने आप को प्यार देते हैं सम्मान देते हैं उतना ही प्यार सम्मान हमें दुनिया के हर एक प्राणी के साथ करना चाहिए ध्यान रखना होगा कि इस धरती पर मनुष्य ही सबसे ज्यादा प्रतिभावान और बुद्धिमान सिर्फ इसलिए प्रकृति ने बनाया होता है कि हम अपने साथ-साथ दूसरों का भी ध्यान रखें इस धरती पर पाए जाने वाले जितने भी जीव जंतु पेड़ पौधे हम सबका ध्यान रखें सबके लिए अच्छी भावना रखें क्योंकि जब तक आप सबके लिए अच्छी भावना नहीं रखेंगे तब तक आप क्यों न कुछ ऐसा नहीं करेंगे जो सबके लिए अच्छा हो और जब तक हम ऐसा नहीं करते हैं तब तक हमारे जीवन में बहुत बड़ी सफलता भी नहीं मिलती है जीवन की आपकी सफलता इस पर निर्भर करती है कि आप ने कितनी जीवन को कुछ अच्छा बनाया कितने जीवन को कुछ अच्छा बनाने में अपना योगदान दिया इसलिए यह बहुत बड़ी चीज होती है कि आप अपने जीवन को बहुत महान बना सके बहुत कामयाब बना सके तो उसके लिए बहुत जरूरी होता है कि आप दुनिया के लिए जो आपकी भावना हो अथवा दुनिया के लिए आपकी सोच को बहुत सकारात्मक हो बहुत ही सम्मानजनक हो क्योंकि जब तक आप इस दुनिया के लिए हर एक व्यक्ति के लिए हर एक प्राणी के लिए जब तक ऐसी भावना आप रखेंगे नहीं तब तक आप लोगों को इज्जत प्यार सम्मान नहीं दे पाएंगे या तब तक आप अपने जीवन में कुछ ऐसा नहीं करेंगे कि जो सबके लिए बहुत लाभदायक हो जब तक हमेशा करते नहीं हैं तब तक हमारे जीवन में इतनी सफलता भी नहीं मिलती कि हम जीवन में कुछ बहुत महान हो सके कि ध्यान रखना होगा कि हर व्यक्ति के अंदर इतनी प्रतिभा और क्षमता पाई जाती है कि वह जीवन में बहुत महान कार्य कर सके और महापुरुष बन सके लेकिन केवल कुछ ही लोग ऐसा कर पाते हैं वह सिर्फ इसलिए कि जिस भी व्यक्ति की भावना दुनिया के लिए बहुत सी हो जाती है बहुत सम्मानजनक भावना हो जाती है बहुत सकारात्मक भावना हो जाती है तो निश्चित तौर से वह व्यक्ति के द्वारा कुछ ऐसा कार्य दुनिया में जरूर होता है जो दुनिया के लिए ही बहुत लाभदाई होता है और हम पूरे दुनिया के लिए जितना अधिक से अधिक लाभदायक होते चले जाते हैं उतनी ही हमारी महानता बढ़ती चली जाती है और हम महापुरुष बन जाते हैं इसीलिए बहुत जरूरी है कि अगर आप अपने जीवन को बहुत कामयाब और बहुत सफल बनाना चाहते हैं महान बनाना चाहते हैं तो आप दुनिया के लिए अपनी भावना बहुत अच्छी रखी है मेरी शुभकामनाएं आप ले धन्यवाद

aapne jo post kiya uska uttar me main yahi kehna chahta hoon ki hamein jeevan me duniya ke prati hamesha hi bahut sakaratmak najariya rakhna chahiye sakaratmak aur accha soch rakhna chahiye aur usi prakar ki dharana rakhni chahiye jaisa hum apne aap se rakhte hain jai itna hum apne aap ko pyar dete hain sammaan dete hain utana hi pyar sammaan hamein duniya ke har ek prani ke saath karna chahiye dhyan rakhna hoga ki is dharti par manushya hi sabse zyada pratibhavan aur buddhiman sirf isliye prakriti ne banaya hota hai ki hum apne saath saath dusro ka bhi dhyan rakhen is dharti par paye jaane waale jitne bhi jeev jantu ped paudhe hum sabka dhyan rakhen sabke liye achi bhavna rakhen kyonki jab tak aap sabke liye achi bhavna nahi rakhenge tab tak aap kyon na kuch aisa nahi karenge jo sabke liye accha ho aur jab tak hum aisa nahi karte hain tab tak hamare jeevan me bahut badi safalta bhi nahi milti hai jeevan ki aapki safalta is par nirbhar karti hai ki aap ne kitni jeevan ko kuch accha banaya kitne jeevan ko kuch accha banane me apna yogdan diya isliye yah bahut badi cheez hoti hai ki aap apne jeevan ko bahut mahaan bana sake bahut kamyab bana sake toh uske liye bahut zaroori hota hai ki aap duniya ke liye jo aapki bhavna ho athva duniya ke liye aapki soch ko bahut sakaratmak ho bahut hi sammanjanak ho kyonki jab tak aap is duniya ke liye har ek vyakti ke liye har ek prani ke liye jab tak aisi bhavna aap rakhenge nahi tab tak aap logo ko izzat pyar sammaan nahi de payenge ya tab tak aap apne jeevan me kuch aisa nahi karenge ki jo sabke liye bahut labhdayak ho jab tak hamesha karte nahi hain tab tak hamare jeevan me itni safalta bhi nahi milti ki hum jeevan me kuch bahut mahaan ho sake ki dhyan rakhna hoga ki har vyakti ke andar itni pratibha aur kshamta payi jaati hai ki vaah jeevan me bahut mahaan karya kar sake aur mahapurush ban sake lekin keval kuch hi log aisa kar paate hain vaah sirf isliye ki jis bhi vyakti ki bhavna duniya ke liye bahut si ho jaati hai bahut sammanjanak bhavna ho jaati hai bahut sakaratmak bhavna ho jaati hai toh nishchit taur se vaah vyakti ke dwara kuch aisa karya duniya me zaroor hota hai jo duniya ke liye hi bahut labhdai hota hai aur hum poore duniya ke liye jitna adhik se adhik labhdayak hote chale jaate hain utani hi hamari mahanata badhti chali jaati hai aur hum mahapurush ban jaate hain isliye bahut zaroori hai ki agar aap apne jeevan ko bahut kamyab aur bahut safal banana chahte hain mahaan banana chahte hain toh aap duniya ke liye apni bhavna bahut achi rakhi hai meri subhkamnaayain aap le dhanyavad

आपने जो पोस्ट किया उसका उत्तर में मैं यही कहना चाहता हूं कि हमें जीवन में दुनिया के प्रति

Romanized Version
Likes  262  Dislikes    views  2666
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!