ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले यह सही बात बताइए?...


user

Brijpal Singh Chouhan

Social Worker, journalist

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय माता की जय गुरुवर की आपका प्रश्न है ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले सही बात बताइए देखिए एक बात तो है आप समझ ले ब्रह्मांड गिरने वाली चीज ही नहीं ब्रह्मांड तो एक पूरा वातावरण है स्पर्श है और उसमें अनेकों ग्रह बराबर घूमते रहते हैं एक दूसरे के चक्कर लगाते रहते हैं कुछ उल्कापिंड गिरती है तो निश्चित है वहां से हमें ऐसा लगता है कि गिर रही है और वहां से ऊपर से गिरते गिरते धीरे-धीरे क्षीण होते हुए घर तक तक कुछ पहुंची नहीं पाती हैं उसे उल्कापिंड है जो आंशिक रूप से जाति भी है और अगर कोई उल्का पिंड बड़े रूप से इस पर गिरेगी तो पृथ्वी खत्म भी हो सकती है यह सारी परिस्थितियां रहती है और समय-समय से वैज्ञानिक इस बात का विश्लेषण करके बताते हैं कि हमारे नजदीक किस तरह कुल का पिंड निकलने वाली है और अभी तक तो फिलहाल ऐसी स्थिति नहीं आई है पर अगर भविष्य में आई तो उसको उल्का पिंड का क्या साइज है कितने पूर्व से हमारी पृथ्वी भी गिर रही है सब उस पर निर्भर करेगा इसलिए आप इसमें ज्यादा परेशान ना हो और उस पर 70 पर ध्यान दें महत्वपूर्ण यही है भगवान सबकी रक्षा करें बकाया करके जब गिरना होगा तो उसे कोई नहीं रोक पाएगा हां उतर कर सकता चाहे तो जो चाहे वह कर सकती है या उनके भेजे हुए देवदूत या अवतार प्यारी सी जो इस प्रतिवेदन में लिए हो उस समय यह वह चाहे तो रोक सकते हैं परंतु ध्यान रहे प्रकृत के कार्यों में कोई भी सद्गुरु या कोई इस तरह के जो भी अवतार है वह जल्दी-जल्दी हस्तक्षेप नहीं करते हैं धन्यवाद

jai mata ki jai guruvar ki aapka prashna hai brahmaand dharti par gir raha hai ya nahi pehle sahi baat bataiye dekhiye ek baat toh hai aap samajh le brahmaand girne wali cheez hi nahi brahmaand toh ek pura vatavaran hai sparsh hai aur usme anekon grah barabar ghumte rehte hain ek dusre ke chakkar lagate rehte hain kuch ulkapind girti hai toh nishchit hai wahan se hamein aisa lagta hai ki gir rahi hai aur wahan se upar se girte girte dhire dhire kshin hote hue ghar tak tak kuch pahuchi nahi pati hain use ulkapind hai jo aanshik roop se jati bhi hai aur agar koi ulka pind bade roop se is par giregi toh prithvi khatam bhi ho sakti hai yah saari paristhiyaann rehti hai aur samay samay se vaigyanik is baat ka vishleshan karke batatey hain ki hamare nazdeek kis tarah kul ka pind nikalne wali hai aur abhi tak toh filhal aisi sthiti nahi I hai par agar bhavishya me I toh usko ulka pind ka kya size hai kitne purv se hamari prithvi bhi gir rahi hai sab us par nirbhar karega isliye aap isme zyada pareshan na ho aur us par 70 par dhyan de mahatvapurna yahi hai bhagwan sabki raksha kare bakaya karke jab girna hoga toh use koi nahi rok payega haan utar kar sakta chahen toh jo chahen vaah kar sakti hai ya unke bheje hue devadut ya avatar pyaari si jo is prativedan me liye ho us samay yah vaah chahen toh rok sakte hain parantu dhyan rahe prakrit ke karyo me koi bhi sadguru ya koi is tarah ke jo bhi avatar hai vaah jaldi jaldi hastakshep nahi karte hain dhanyavad

जय माता की जय गुरुवर की आपका प्रश्न है ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले सही बात ब

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  906
KooApp_icon
WhatsApp_icon
17 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!