ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले यह सही बात बताइए?...


user

Brijpal Singh Chouhan

Social Worker, journalist

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय माता की जय गुरुवर की आपका प्रश्न है ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले सही बात बताइए देखिए एक बात तो है आप समझ ले ब्रह्मांड गिरने वाली चीज ही नहीं ब्रह्मांड तो एक पूरा वातावरण है स्पर्श है और उसमें अनेकों ग्रह बराबर घूमते रहते हैं एक दूसरे के चक्कर लगाते रहते हैं कुछ उल्कापिंड गिरती है तो निश्चित है वहां से हमें ऐसा लगता है कि गिर रही है और वहां से ऊपर से गिरते गिरते धीरे-धीरे क्षीण होते हुए घर तक तक कुछ पहुंची नहीं पाती हैं उसे उल्कापिंड है जो आंशिक रूप से जाति भी है और अगर कोई उल्का पिंड बड़े रूप से इस पर गिरेगी तो पृथ्वी खत्म भी हो सकती है यह सारी परिस्थितियां रहती है और समय-समय से वैज्ञानिक इस बात का विश्लेषण करके बताते हैं कि हमारे नजदीक किस तरह कुल का पिंड निकलने वाली है और अभी तक तो फिलहाल ऐसी स्थिति नहीं आई है पर अगर भविष्य में आई तो उसको उल्का पिंड का क्या साइज है कितने पूर्व से हमारी पृथ्वी भी गिर रही है सब उस पर निर्भर करेगा इसलिए आप इसमें ज्यादा परेशान ना हो और उस पर 70 पर ध्यान दें महत्वपूर्ण यही है भगवान सबकी रक्षा करें बकाया करके जब गिरना होगा तो उसे कोई नहीं रोक पाएगा हां उतर कर सकता चाहे तो जो चाहे वह कर सकती है या उनके भेजे हुए देवदूत या अवतार प्यारी सी जो इस प्रतिवेदन में लिए हो उस समय यह वह चाहे तो रोक सकते हैं परंतु ध्यान रहे प्रकृत के कार्यों में कोई भी सद्गुरु या कोई इस तरह के जो भी अवतार है वह जल्दी-जल्दी हस्तक्षेप नहीं करते हैं धन्यवाद

jai mata ki jai guruvar ki aapka prashna hai brahmaand dharti par gir raha hai ya nahi pehle sahi baat bataiye dekhiye ek baat toh hai aap samajh le brahmaand girne wali cheez hi nahi brahmaand toh ek pura vatavaran hai sparsh hai aur usme anekon grah barabar ghumte rehte hain ek dusre ke chakkar lagate rehte hain kuch ulkapind girti hai toh nishchit hai wahan se hamein aisa lagta hai ki gir rahi hai aur wahan se upar se girte girte dhire dhire kshin hote hue ghar tak tak kuch pahuchi nahi pati hain use ulkapind hai jo aanshik roop se jati bhi hai aur agar koi ulka pind bade roop se is par giregi toh prithvi khatam bhi ho sakti hai yah saari paristhiyaann rehti hai aur samay samay se vaigyanik is baat ka vishleshan karke batatey hain ki hamare nazdeek kis tarah kul ka pind nikalne wali hai aur abhi tak toh filhal aisi sthiti nahi I hai par agar bhavishya me I toh usko ulka pind ka kya size hai kitne purv se hamari prithvi bhi gir rahi hai sab us par nirbhar karega isliye aap isme zyada pareshan na ho aur us par 70 par dhyan de mahatvapurna yahi hai bhagwan sabki raksha kare bakaya karke jab girna hoga toh use koi nahi rok payega haan utar kar sakta chahen toh jo chahen vaah kar sakti hai ya unke bheje hue devadut ya avatar pyaari si jo is prativedan me liye ho us samay yah vaah chahen toh rok sakte hain parantu dhyan rahe prakrit ke karyo me koi bhi sadguru ya koi is tarah ke jo bhi avatar hai vaah jaldi jaldi hastakshep nahi karte hain dhanyavad

जय माता की जय गुरुवर की आपका प्रश्न है ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले सही बात ब

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  905
WhatsApp_icon
17 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:29
Play

Likes  56  Dislikes    views  1466
WhatsApp_icon
user

Anurag C Chaturvedi

Journalist & motivater

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दीजिए यदि आप कह देते कि आसमान पते पर रहता हूं फिर मान लेते अब पृथ्वी ऐसा तो है नहीं है सारे रसातल में हैं पूरे कल में है कि ब्रह्मांड से गिर जाएगा एवं मंडल पृथ्वी मिलेगी ना भैया ब्रह्मांड में पृथ्वी से करने वाली बात जो है इधर नासमझी है उसका कोई तर्क नहीं है उत्तर पत्रक है वह उसको वापिस चरस मैसेज दें कि वह सिर्फ और सिर्फ मूर्खता है और कुछ नहीं है आप इस चीज से समझ जाइए कि पृथ्वी तो कुछ रोमांटिक कैसा है यदि ब्रह्मांड करेगा तो पृथ्वी भी तो करेगी ना खा लेते की खेती करने का सिस्टम ही नहीं है प्रति बिक्री की जाएगी कहां यदि ग्रेविटी होती तू तो ब्रह्मांड कर पाता उस पर

dijiye yadi aap keh dete ki aasman pate par rehta hoon phir maan lete ab prithvi aisa toh hai nahi hai saare rasatal me hain poore kal me hai ki brahmaand se gir jaega evam mandal prithvi milegi na bhaiya brahmaand me prithvi se karne wali baat jo hai idhar nasamajhi hai uska koi tark nahi hai uttar patrak hai vaah usko vaapas charas massage de ki vaah sirf aur sirf murkhta hai aur kuch nahi hai aap is cheez se samajh jaiye ki prithvi toh kuch romantic kaisa hai yadi brahmaand karega toh prithvi bhi toh karegi na kha lete ki kheti karne ka system hi nahi hai prati bikri ki jayegi kaha yadi gravity hoti tu toh brahmaand kar pata us par

दीजिए यदि आप कह देते कि आसमान पते पर रहता हूं फिर मान लेते अब पृथ्वी ऐसा तो है नहीं है सार

Romanized Version
Likes  43  Dislikes    views  365
WhatsApp_icon
user

Ashok Bajpai

Rtd. Additional Collector P.C.S. Adhikari

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धरती पर धरती पर बिल्कुल नहीं कर रहा है कमांड धरती पर कैसे कर सकता है ब्रह्मांड में धरती की हैसियत क्या है ब्रह्मांड में धरती की हैसियत ऐसी ही है जैसे कि एक विशाल महासागर में समुद्र की बूंद की जो हैसियत होती है वह पृथ्वी कैसी है ब्रह्मांड में इसलिए ब्रह्मांड पृथ्वी पर गिरी नहीं सकता कैसे हैं रहमान के बारे में 1 वैज्ञानिकों ने निकाला है वह यह है कि ब्रह्मांड का निरंतर बनी करोड़ों वर्ष और अभी भी ब्रह्मांड में कई सारी ऐसी हैं कई ग्रह ऐसी हैं जिनका प्रकाश पृथ्वी पर अभी तक नहीं आया है करोड़ों वर्षों से पृथ्वी पर प्रकाश नहीं आया है जबकि प्रकाश की गति 186000 किलोमीटर प्रति सेकंड है वापसी प्रमाण कितना बड़ा है तो इतना बड़ा प्रमाण पत्र कैसे कर सकता है

dharti par dharti par bilkul nahi kar raha hai command dharti par kaise kar sakta hai brahmaand me dharti ki haisiyat kya hai brahmaand me dharti ki haisiyat aisi hi hai jaise ki ek vishal mahasagar me samudra ki boond ki jo haisiyat hoti hai vaah prithvi kaisi hai brahmaand me isliye brahmaand prithvi par giri nahi sakta kaise hain rahman ke bare me 1 vaigyaniko ne nikaala hai vaah yah hai ki brahmaand ka nirantar bani karodo varsh aur abhi bhi brahmaand me kai saari aisi hain kai grah aisi hain jinka prakash prithvi par abhi tak nahi aaya hai karodo varshon se prithvi par prakash nahi aaya hai jabki prakash ki gati 186000 kilometre prati second hai wapsi pramaan kitna bada hai toh itna bada pramaan patra kaise kar sakta hai

धरती पर धरती पर बिल्कुल नहीं कर रहा है कमांड धरती पर कैसे कर सकता है ब्रह्मांड में धरती क

Romanized Version
Likes  129  Dislikes    views  2060
WhatsApp_icon
user

Avinash Dubey

Career Coach

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात तो मैं आपको बता दूं कि ब्रह्मांड के अंदर भर्ती आती है तो यह बात तो बिल्कुल गलत है कि ब्रह्मांड में जो है वह धरती पर गिर रहा है धरती जो है ब्रह्मांड का पाठ है उसे ब्रह्मांड में बहुत सारे ग्रह होते हैं बहुत सारे सोलर सिस्टम होते हैं सौर निकाय होते हैं मतलब जैसे हमारी धरती है वैसे बहुत सारी भर्तियां होंगी से हमारा सूर्य है बहुत सारी सूर्य होंगे हमें तो ब्रह्मांड के बारे में भी कुछ हम बस कुछ ही चीज जानते हैं हम अभी अगर हमारा जान अगर में मुख्य जानकारियों की बात करो तो अभी हम अपने सोलर सिस्टम में ही सीमित है हर दिन हर क्षण फैल रहा है बड़ा हो रहा है भानु धरती पर गिर रहा है ऐसा कुछ नहीं है

pehli baat toh main aapko bata doon ki brahmaand ke andar bharti aati hai toh yah baat toh bilkul galat hai ki brahmaand me jo hai vaah dharti par gir raha hai dharti jo hai brahmaand ka path hai use brahmaand me bahut saare grah hote hain bahut saare solar system hote hain sour nikaay hote hain matlab jaise hamari dharti hai waise bahut saari bhartiyan hongi se hamara surya hai bahut saari surya honge hamein toh brahmaand ke bare me bhi kuch hum bus kuch hi cheez jante hain hum abhi agar hamara jaan agar me mukhya jankariyon ki baat karo toh abhi hum apne solar system me hi simit hai har din har kshan fail raha hai bada ho raha hai bhanu dharti par gir raha hai aisa kuch nahi hai

पहली बात तो मैं आपको बता दूं कि ब्रह्मांड के अंदर भर्ती आती है तो यह बात तो बिल्कुल गलत है

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user

Shambhu Das

Officer In Maharatna Company | Motivational Coach | Solution Provider

0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गलत बात है यह रिमाइंड आया गया है कि कोई उल्कापिंड आकर धरती से टकराएगा यह बहुत दूर से गुजरेगा इसका कोई प्रभाव भारत पर नहीं पड़ेगा घबराए नहीं अभी बहुत जिंदा रहेगा आपकी ही रहेगी धन्यवाद

galat baat hai yah remind aaya gaya hai ki koi ulkapind aakar dharti se takaraega yah bahut dur se gujarega iska koi prabhav bharat par nahi padega ghabraye nahi abhi bahut zinda rahega aapki hi rahegi dhanyavad

गलत बात है यह रिमाइंड आया गया है कि कोई उल्कापिंड आकर धरती से टकराएगा यह बहुत दूर से गुजरे

Romanized Version
Likes  86  Dislikes    views  1019
WhatsApp_icon
user

Rajeev Kumar Pandey

Engineer | SSC CGL Qualified

0:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बम्हन धरती पर गिर रहा है या नहीं पोषण सही नहीं आता ब्रह्मांड ब्रह्मांड बहुत ही अच्छा बहुत ही बड़ा है धर्म और बौद्ध धर्म

bamhan dharti par gir raha hai ya nahi poshan sahi nahi aata brahmaand brahmaand bahut hi accha bahut hi bada hai dharm aur Baudh dharm

बम्हन धरती पर गिर रहा है या नहीं पोषण सही नहीं आता ब्रह्मांड ब्रह्मांड बहुत ही अच्छा बहुत

Romanized Version
Likes  121  Dislikes    views  1379
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिशप ने पूछा है कि ब्रह्मांड धरती पर गिर जाए या नहीं पहले यह सही बात बताएं तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि ब्रह्मांड अंतरिक्ष को बोलते हैं और ब्रह्मांड एक अपने आप में बहुत मतलब बहुत बड़ा मंडल है खुद का और इसमें मतलब अगर हम वैज्ञानिकों की बात सुने तो वह बोलते हैं कि बहुत सारे ब्रम्हांड है ऐसे ही जैसे कि हमारी पृथ्वीश ब्रह्मांड में रहती है ऐसे बहुत सारे ब्रह्मांड में तो धरती तो एक बहुत छोटी चीज है पृथ्वी बहुत छोटी चीज है जो एक ब्रह्मांड में आती है बाकी बहुत सारे ब्रह्मांड में लेकिन मैं आपको एक बात बताना चाहता हूं कि ऐसा कुछ नहीं है कि ब्रह्मांड धरती पर गिर जाए क्योंकि ब्रह्मांड का कोई आकार रानी है धरती का तो एक निश्चित आकार है लेकिन ब्रह्मांड का कोई निश्चित आकार नहीं है और वह गिर भी नहीं सकता क्योंकि वहां पर गुरुत्वाकर्षण वगैरह कुछ है नहीं ऊपर कैसे गिरेगा तो धरती का तो खुद का गुरुत्वाकर्षण है लेकिन ब्रह्मांड का तो कोई ग्रुप आकर्षण नहीं है तो मेरे हिसाब से अभी तक तो किसी वैज्ञानिक ने यह बोला नहीं है कि ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है और ना ही ऐसा हो सकता कि ब्रह्मांड धरती पर गिर जाए

bishop ne poocha hai ki brahmaand dharti par gir jaaye ya nahi pehle yah sahi baat bataye toh main aapko batana chahunga ki brahmaand antariksh ko bolte hain aur brahmaand ek apne aap me bahut matlab bahut bada mandal hai khud ka aur isme matlab agar hum vaigyaniko ki baat sune toh vaah bolte hain ki bahut saare bramhand hai aise hi jaise ki hamari prithwish brahmaand me rehti hai aise bahut saare brahmaand me toh dharti toh ek bahut choti cheez hai prithvi bahut choti cheez hai jo ek brahmaand me aati hai baki bahut saare brahmaand me lekin main aapko ek baat batana chahta hoon ki aisa kuch nahi hai ki brahmaand dharti par gir jaaye kyonki brahmaand ka koi aakaar rani hai dharti ka toh ek nishchit aakaar hai lekin brahmaand ka koi nishchit aakaar nahi hai aur vaah gir bhi nahi sakta kyonki wahan par gurutvaakarshan vagera kuch hai nahi upar kaise girega toh dharti ka toh khud ka gurutvaakarshan hai lekin brahmaand ka toh koi group aakarshan nahi hai toh mere hisab se abhi tak toh kisi vaigyanik ne yah bola nahi hai ki brahmaand dharti par gir raha hai aur na hi aisa ho sakta ki brahmaand dharti par gir jaaye

बिशप ने पूछा है कि ब्रह्मांड धरती पर गिर जाए या नहीं पहले यह सही बात बताएं तो मैं आपको बता

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  631
WhatsApp_icon
user

Dharamvir singh

Serviceman Indian Army

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका जन्मदिन पर अनंत है हमारी पृथ्वी जैसी खरगों हजार खरगोश और गृह विज्ञान को नहीं पता किया है कि हमारे सारे ऐसे ही केंद्र खरगोन के अलग-अलग सौरमंडल हैं और उनकी ब्रह्मांड का विस्तार होता जा रहा है ब्रह्मांड का उत्पत्ति का सिद्धांत ब्लैक बैंक और आध्यात्मिक शास्त्रों के अनुसार विमान का निर्माण एक सुंदर सी हुआ है सुंदर से तात्पर्य परमात्मा से उसमें सबकुछ समाहित है सुन के अंदर ही सब को सुनाएं और सोने से ही उत्पत्ति हुई इस ब्रह्मांड का एक समय ऐसा हुआ किस का विस्तार हो जाएगा हो जाएगा अनंत के लिए चले जाते हैं हड़ताल के कारण घूम रही है जाकर अपने सौरमंडल की परिक्रमा करता है गधी तारे पृथ्वी सभी कुछ धीरे धीरे धीरे धीरे कम है इसलिए हमारी पृथ्वी सूर्य के चारों तरफ चक्कर लगा रहे हैं प्रभु की लीला है परमात्मा की शक्ति है उसके कारण ही संभव हो पारा यू धन्यवाद

aapka janamdin par anant hai hamari prithvi jaisi kharagon hazaar khargosh aur grah vigyan ko nahi pata kiya hai ki hamare saare aise hi kendra khargone ke alag alag saurmandal hain aur unki brahmaand ka vistaar hota ja raha hai brahmaand ka utpatti ka siddhant black bank aur aadhyatmik shastron ke anusaar Vimaan ka nirmaan ek sundar si hua hai sundar se tatparya paramatma se usme sabkuch samahit hai sun ke andar hi sab ko sunaen aur sone se hi utpatti hui is brahmaand ka ek samay aisa hua kis ka vistaar ho jaega ho jaega anant ke liye chale jaate hain hartal ke karan ghum rahi hai jaakar apne saurmandal ki parikrama karta hai gadhi taare prithvi sabhi kuch dhire dhire dhire dhire kam hai isliye hamari prithvi surya ke charo taraf chakkar laga rahe hain prabhu ki leela hai paramatma ki shakti hai uske karan hi sambhav ho para you dhanyavad

आपका जन्मदिन पर अनंत है हमारी पृथ्वी जैसी खरगों हजार खरगोश और गृह विज्ञान को नहीं पता किया

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  587
WhatsApp_icon
user

Sapna

Social Worker

2:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैंने आप मैंने जो भी उत्तर दिए हैं उनमें मैंने कई बार एक बात को अवगत कराया है कि कुछ लोग ऐसे हैं जो हमें अंधविश्वास दिखाते डराते हैं और हमें ऐसे अंधविश्वासों से डरना नहीं चाहिए बल्कि हम से जो कहा जाता है उसके लिए हमें यह सोचना चाहिए कि जो होगा वह देखा जाएगा क्योंकि जो अपना है उसे कोई रोक नहीं सकता और जो नहीं सकता उसे कोई हरा नहीं सकता इसलिए जो ईश्वर ने पहले ही लिख दी है जीवन के लिए वह उसके लिए हम ईश्वर तो मैंने आपको बताएं कि ब्रह्मांड गिरेगा कि नहीं इसलिए हम आपको यही कहना चाहते हैं कि घर में मत आइए भरे जीवन के लिए बहुत बड़ा होता है और हमें भय दिखाकर डराया जाता है इसलिए हमें से डरना नहीं है बल्कि जो हमें डराने की कोशिश करते हैं फुल से हमेशा हमें यही कहना है जड़ को हम बनाएंगे

maine aap maine jo bhi uttar diye hain unmen maine kai baar ek baat ko avgat karaya hai ki kuch log aise hain jo hamein andhavishvas dikhate darate hain aur hamein aise andhvishvaso se darna nahi chahiye balki hum se jo kaha jata hai uske liye hamein yah sochna chahiye ki jo hoga vaah dekha jaega kyonki jo apna hai use koi rok nahi sakta aur jo nahi sakta use koi hara nahi sakta isliye jo ishwar ne pehle hi likh di hai jeevan ke liye vaah uske liye hum ishwar toh maine aapko bataye ki brahmaand girega ki nahi isliye hum aapko yahi kehna chahte hain ki ghar me mat aaiye bhare jeevan ke liye bahut bada hota hai aur hamein bhay dikhakar daraya jata hai isliye hamein se darna nahi hai balki jo hamein darane ki koshish karte hain full se hamesha hamein yahi kehna hai jad ko hum banayenge

मैंने आप मैंने जो भी उत्तर दिए हैं उनमें मैंने कई बार एक बात को अवगत कराया है कि कुछ लोग ऐ

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user

Vikas Yadav

UPSC Coach

0:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कई दिनों से हम लोग युवा सुनते आ रहे हैं सबसे बड़ी बात है ऐसी कोई भी घटना में ऐसा कोई अभी तक पढ़ नहीं है जो पृथ्वी की ओर अपनी दिशा किए हुए हो यह ऐसा नासा और इसरो के लोगों ने माना है गाना

kai dino se hum log yuva sunte aa rahe hain sabse badi baat hai aisi koi bhi ghatna me aisa koi abhi tak padh nahi hai jo prithvi ki aur apni disha kiye hue ho yah aisa NASA aur isro ke logo ne mana hai gaana

कई दिनों से हम लोग युवा सुनते आ रहे हैं सबसे बड़ी बात है ऐसी कोई भी घटना में ऐसा कोई अभी त

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  242
WhatsApp_icon
play
user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:30

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यद्यपि ठाकुर क्वेश्चन है कि ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले यह सही बात बताइए आप मैं बताना चाहूंगा कि ब्रह्मांड का मतलब होता है आप पूरी अंतरिक्ष जिसमें कि पूरा आप जो भी चीजें देखते हो या जो भी चीजें इस दुनिया में है अब वह सारी ब्रह्मांड के अंतर्गत आती है तो धरती तो उसका एक छोटा सा पार्ट है जो धरती तो ब्रह्मांड के अंदर हो सकती लेकिन ब्रह्मांड होती करना नहीं हो सकता

yadyapi thakur question hai ki brahmaand dharti par gir raha hai ya nahi pehle yah sahi baat bataiye aap main batana chahunga ki brahmaand ka matlab hota hai aap puri antariksh jisme ki pura aap jo bhi cheezen dekhte ho ya jo bhi cheezen is duniya me hai ab vaah saari brahmaand ke antargat aati hai toh dharti toh uska ek chota sa part hai jo dharti toh brahmaand ke andar ho sakti lekin brahmaand hoti karna nahi ho sakta

यद्यपि ठाकुर क्वेश्चन है कि ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले यह सही बात बताइए आप

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  490
WhatsApp_icon
user

Ajay Singh Sikarwar

Educator,career counsellor

0:25
Play

Likes  2  Dislikes    views  71
WhatsApp_icon
user

Nutan

Teaching

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आम ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं यह सब एक विस्मयकारी और रोमांचकारी पहलू है मुद्दा है अभी फेसबुक ट्विटर और यू-ट्यूब पर यह मैसेज आ रहा है कि 29 अप्रैल 29 अप्रैल को कोई आकाशीय पिंड यानी उनका जैसी पीने दे वह पृथ्वी की कक्षा में आ रहा है तो उससे उसका टक्कर हो सकता है तो यह नहीं भी हो सकता है यह बहुत ही जरूरी नहीं है कि वह आकाशीय पिंड दे व पृथ्वी की कक्षा में आकर उससे तक लड़ाई और संभवत ऐसा कुछ भी हो सकता है हो सकता है कि वह उनका पिंजरा किसी महासागर में गिरे तो इससे धरती को कोई नुकसान नहीं हो सकता धन्यवाद

aam brahmaand dharti par gir raha hai ya nahi yah sab ek vismaykari aur romaanchakaaree pahaloo hai mudda hai abhi facebook twitter aur you tube par yah massage aa raha hai ki 29 april 29 april ko koi akashiy pind yani unka jaisi peene de vaah prithvi ki kaksha me aa raha hai toh usse uska takkar ho sakta hai toh yah nahi bhi ho sakta hai yah bahut hi zaroori nahi hai ki vaah akashiy pind de va prithvi ki kaksha me aakar usse tak ladai aur sambhavat aisa kuch bhi ho sakta hai ho sakta hai ki vaah unka pinjara kisi mahasagar me gire toh isse dharti ko koi nuksan nahi ho sakta dhanyavad

आम ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है या नहीं यह सब एक विस्मयकारी और रोमांचकारी पहलू है मुद्दा ह

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  124
WhatsApp_icon
user

Aman

Student

0:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं ब्रह्मांड धरती पर नहीं गिर रहा है अरे कभी गरीब नहीं सकता क्योंकि ब्रह्मांड कोई अलग से नहीं है ब्रह्मांड बहुत बड़ा है और ब्रह्मांड का एक छोटा सा हिस्सा हमारी धरती है तो यह बात गलत है कि ब्रह्मांड धरती पर गिर रहा है

nahi brahmaand dharti par nahi gir raha hai are kabhi garib nahi sakta kyonki brahmaand koi alag se nahi hai brahmaand bahut bada hai aur brahmaand ka ek chota sa hissa hamari dharti hai toh yah baat galat hai ki brahmaand dharti par gir raha hai

नहीं ब्रह्मांड धरती पर नहीं गिर रहा है अरे कभी गरीब नहीं सकता क्योंकि ब्रह्मांड कोई अलग से

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  91
WhatsApp_icon
user
1:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो सर आपका संभालने क्या मेहमान धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले से यह बात बताइए तो सर मैं आपको बताना चाहूंगा और ऐसा कभी नहीं होगा कि मतलब यह कोई ऐसा हमारे पृथ्वी से धरती पर गिर जाए तो ऐसा वैज्ञानिकों का कहना है जहां तक की कोई एस्ट्रो है जो कि मतलब हमारे पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है और हमारी तरफ हाथ मतलब हमारी पृथ्वी के डायरेक्टर में नहीं है अलग है वो काफी दूर है लेकिन एक साइंटिस्ट है जिन्होंने बताया है कि यह एसएस ट्रेडर जो है लगातार आते रहते हैं और अपनी डर है चेंज करते रहते हैं जिससे कि अंदाजा लगाया जा रहा था कि अगर इसलैस्ट्रीट नहीं अपनी डायरेक्शन चेंज कर दी तो यह पृथ्वी पर आ जाएगा ऐसा बताया गया है कि अगर डर है चेंज कर दी तो लेकिन वह करेगा नहीं कि वो काफी दूर जा रहा है और अपनी पत्नी से हटके हैं तो आप घबराइए मत कि पृथ्वी का विनाश हो जाएगा ऐसा कुछ नहीं है क्योंकि ऐसा नहीं होगा मैं चोर हूं थैंक यू

hello sir aapka sambhalne kya mehmaan dharti par gir raha hai ya nahi pehle se yah baat bataiye toh sir main aapko batana chahunga aur aisa kabhi nahi hoga ki matlab yah koi aisa hamare prithvi se dharti par gir jaaye toh aisa vaigyaniko ka kehna hai jaha tak ki koi aestro hai jo ki matlab hamare prithvi ki aur badh raha hai aur hamari taraf hath matlab hamari prithvi ke director me nahi hai alag hai vo kaafi dur hai lekin ek scientist hai jinhone bataya hai ki yah SS trader jo hai lagatar aate rehte hain aur apni dar hai change karte rehte hain jisse ki andaja lagaya ja raha tha ki agar isalaistrit nahi apni direction change kar di toh yah prithvi par aa jaega aisa bataya gaya hai ki agar dar hai change kar di toh lekin vaah karega nahi ki vo kaafi dur ja raha hai aur apni patni se hatake hain toh aap ghabaraiye mat ki prithvi ka vinash ho jaega aisa kuch nahi hai kyonki aisa nahi hoga main chor hoon thank you

हेलो सर आपका संभालने क्या मेहमान धरती पर गिर रहा है या नहीं पहले से यह बात बताइए तो सर मैं

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  137
WhatsApp_icon
user

devphysics

Teacher

4:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके प्रश्न का जवाब देने से पहले मैं कुछ चीजें क्लियर कर देना चाहता हूं कि ब्रह्मांड क्या होता है ब्रह्मांड किस चीज से मिलकर बना हुआ और ब्रह्मांड में क्या चीजें हैं तो मेरा जवाब यह है कि ब्रह्मांड उन चीजों से मिलकर बना हुआ है जो हमारे आसपास एक्जिस्ट करती है जैसे कि हमारे आसपास या हमारे यूनिवर्स में दो ही चीजें क्रिस्ट करती है या यूं कहो कि हमारा ब्रह्मांड या हमारा यूनिवर्स दो चीजों से मिलकर बना हुआ है पहला तो रेडिएशन और दूसरा व्यक्ति या या मैटर हमारे आसपास आप देखेंगे कि मैटर मैटर kb3 पार्ट होते हैं सॉलिड लिक्विड एंड गैस आप अंदाजा लगाइए आपके आसपास इन तीनों के अलावा कोई चौथी चीज नहीं मिलेगी आपको अदा पूरे यूनिवर्स में इन चीजों का ही समावेश है अब रही बात कि ब्रह्मांड को कैसे एक्सप्लेन किया जाए तो ब्रह्मांड में वह सारी चीजें हैं ऐसे गैलेक्सी हो क्या नाराज हो गए तारे हो गए उसके बाद ग्रहों के उपग्रहों गए इन सभी का समूह ब्रहमांड के लाता है अब रही बात आपके प्रश्न की तो जब यह सारी चीजें यहां तक हमारी अर्थ भी ब्रह्मांड के अंदर ही आती है तो आप बताइए कि प्रमाण हमारे ऐसे कैसे कर सकता है ब्रह्मांड में सबसे पहले गैलेक्सी का निर्माण हुआ है इन गैलेक्सी में लाखों तारे हैं जैसे हमारे पास एक सूर्य भी हमारे तारा ही ऐसे कई सारे तारे मिलकर एक गैलेक्सी का निर्माण करते हैं कई सारी गैलेक्सी मिलती है तब जाकर एक ब्रह्मांड का निर्माण होता है उनके अंदर स्टार होते हैं और उनके आसपास उनके सब प्लेनेट यानी कि उपग्रह घूमते प्लेनेट अब आप शाम को ही ले लीजिए सर एक हमारा एक तारा है का प्रकार का जो एक किसी गैलेक्सी का हिस्सा है उस तरह के आसपास हमारे ग्रह यानि हमारी आरती घूम रही है और हमारे आरती के आसपास उपग्रह जो कि नेचुरल हमारे पास मून है यह सब अपना अपना काम कर रहे हैं कंटिनयसली घूम रहे हैं सभी के पास काइनेटिक एनर्जी है कमिश्नर फूल के कारण यह अपना रोटेशन कंप्लीट करती है अतः आपको मैं एक उदाहरण से समझाता हूं जैसे कि एक तो किसी ऑफिस में क्यों होता है किसके चक्कर लगाता है उनके कोई बड़े साहब के चक्कर लगाता है अब उनका चोपड़ा साहब है वह किसी और बड़े साहब के चक्कर लगाता होगा इसी प्रकार जो हमारी अर्थ है वह अर्थ किसके चक्कर लगाएगी स्थान के चक्कर लगाएगी सन किस में घूम रहा होगा गैलेक्सी में घूम रहा होगा इलेक्ट्रिक इसमें घूम रही होगी हमें यह आईडिया नहीं है या अभी हम यह नहीं कह सकते कि ब्रह्मांड कितना बड़ा है क्योंकि हम हमारा जो साइंस में इतना आगे तक डर लग नहीं हो पाया है कि हम आगे ब्रह्मांड की खोज करें हम खाली इतनी इंफॉर्मेशन जुटा पाए हैं किस सन के आसपास नो प्लेनेट थे बस से बाहर नहीं जा सके हैं इससे बाहर क्या हम तो हमारा प्लेनेट छोड़कर दूसरे प्लेनेट पर जाने में भी बड़ी मुश्किल है हुई है तो आप इस भ्रम में मत रहिए कि पृथ्वी पर ब्रहमांड गिर रहा है हम सब ब्रह्मांड में ही घूम रहे हैं हम कोई भी रेस्ट पोजीशन में नहीं है हम सभी के सभी हमारे प्लेयर पर घूम रहे हैं आरती के साथ साथ एहसान के आसपास घूम रहे हैं जिनके आसान अपने को लेकर पर गैलेक्सी में घूम रहे किसी भी चीज को देखने के लिए आपको उस चीज से बाहर निकलना पड़ेगा जैसे अगर आपको हवा में है अगर आप हवा को देखना चाहते हो तो आपको हवा से बाहर जाना पड़ेगा जैसे पानी को देखना है तो पानी को देखने के लिए आपको किसी दूसरे माध्यम जैसे कि हम को हवा में रहना पड़ता है तब जाकर हमको ताला वगैरह यह दिखाई देते हैं अगर हम तालाब में चले जाएंगे तो हमें पानी नहीं दिखा देगा या हवा आने दे

aapke prashna ka jawab dene se pehle main kuch cheezen clear kar dena chahta hoon ki brahmaand kya hota hai brahmaand kis cheez se milkar bana hua aur brahmaand me kya cheezen hain toh mera jawab yah hai ki brahmaand un chijon se milkar bana hua hai jo hamare aaspass ekjist karti hai jaise ki hamare aaspass ya hamare Universe me do hi cheezen krist karti hai ya yun kaho ki hamara brahmaand ya hamara Universe do chijon se milkar bana hua hai pehla toh radiation aur doosra vyakti ya ya matter hamare aaspass aap dekhenge ki matter matter kb3 part hote hain solid liquid and gas aap andaja lagaaiye aapke aaspass in tatvo ke alava koi chauthi cheez nahi milegi aapko ada poore Universe me in chijon ka hi samavesh hai ab rahi baat ki brahmaand ko kaise explain kiya jaaye toh brahmaand me vaah saari cheezen hain aise galaxy ho kya naaraj ho gaye taare ho gaye uske baad grahon ke upgraho gaye in sabhi ka samuh brahamand ke lata hai ab rahi baat aapke prashna ki toh jab yah saari cheezen yahan tak hamari arth bhi brahmaand ke andar hi aati hai toh aap bataiye ki pramaan hamare aise kaise kar sakta hai brahmaand me sabse pehle galaxy ka nirmaan hua hai in galaxy me laakhon taare hain jaise hamare paas ek surya bhi hamare tara hi aise kai saare taare milkar ek galaxy ka nirmaan karte hain kai saari galaxy milti hai tab jaakar ek brahmaand ka nirmaan hota hai unke andar star hote hain aur unke aaspass unke sab planet yani ki upgrah ghumte planet ab aap shaam ko hi le lijiye sir ek hamara ek tara hai ka prakar ka jo ek kisi galaxy ka hissa hai us tarah ke aaspass hamare grah yani hamari aarti ghum rahi hai aur hamare aarti ke aaspass upgrah jo ki natural hamare paas moon hai yah sab apna apna kaam kar rahe hain kantinayasali ghum rahe hain sabhi ke paas kinetic energy hai commissioner fool ke karan yah apna rotation complete karti hai atah aapko main ek udaharan se samajhaata hoon jaise ki ek toh kisi office me kyon hota hai kiske chakkar lagaata hai unke koi bade saheb ke chakkar lagaata hai ab unka chopra saheb hai vaah kisi aur bade saheb ke chakkar lagaata hoga isi prakar jo hamari arth hai vaah arth kiske chakkar lagaegi sthan ke chakkar lagaegi san kis me ghum raha hoga galaxy me ghum raha hoga electric isme ghum rahi hogi hamein yah idea nahi hai ya abhi hum yah nahi keh sakte ki brahmaand kitna bada hai kyonki hum hamara jo science me itna aage tak dar lag nahi ho paya hai ki hum aage brahmaand ki khoj kare hum khaali itni information jutta paye hain kis san ke aaspass no planet the bus se bahar nahi ja sake hain isse bahar kya hum toh hamara planet chhodkar dusre planet par jaane me bhi badi mushkil hai hui hai toh aap is bharam me mat rahiye ki prithvi par brahamand gir raha hai hum sab brahmaand me hi ghum rahe hain hum koi bhi rest position me nahi hai hum sabhi ke sabhi hamare player par ghum rahe hain aarti ke saath saath ehsaan ke aaspass ghum rahe hain jinke aasaan apne ko lekar par galaxy me ghum rahe kisi bhi cheez ko dekhne ke liye aapko us cheez se bahar nikalna padega jaise agar aapko hawa me hai agar aap hawa ko dekhna chahte ho toh aapko hawa se bahar jana padega jaise paani ko dekhna hai toh paani ko dekhne ke liye aapko kisi dusre madhyam jaise ki hum ko hawa me rehna padta hai tab jaakar hamko tala vagera yah dikhai dete hain agar hum taalab me chale jaenge toh hamein paani nahi dikha dega ya hawa aane de

आपके प्रश्न का जवाब देने से पहले मैं कुछ चीजें क्लियर कर देना चाहता हूं कि ब्रह्मांड क्या

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  89
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!