हमारे देश में शिक्षा रोज़गार बन गया है इसे सुधारने के लिए क्या करना चाहिए?...


user

꧁Dℰℰℙ ЅℋᎯℛℳᎯ꧂

Public Prossicutor ;(Sessions court Ahmedabad)

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने देश के अंदर जो अभी फिलहाल तो ऐसी कृष्ण चल रही है एजुकेशन सिस्टम है वह सिस्टम एक कॉमन सिस्टम है उसके अंदर कोई स्पेशल पर्टिकुलर टेकरी नहीं बनाने की शुरुआत सारी बुक्स की जाती है इसके कम पर जो फॉरेंस में है उसको फिर उस में इंटरेस्ट नहीं है यहां के संचालक विजय category-wise से क्या होता है कि नहीं चल रहा है 4 की भर्ती होती है कि भर्ती में पहले ऐसा था कि टेंट वाले चलते उसका दृश्य और अभी इस समय डॉक्टर किया हुआ पीएनजी की आवाज हिंदी क्लास की भर्ती में जाता है उसका रीजन कि हमारे यहां तो बैलेंस बनना चाहिए एजुकेशन का और जो जवाब का वह दोनों बैलेंस एंड बैलेंस नहीं है सेकंड कि हमारे यहां प्राचीन से जो हमारी जो पहले की जो सभ्यता थी जो हमारी तो हिंदू शब्द जो संस्कृति थी उसमें जो संस्कृति के अंदर देश की संस्कृति क्या कारण हो सकता है जिस कारण उसको इंटरेस्टेड वह कला सिखाई जाती व्यवस्था हम लोगों को किसी हो गया लेकिन पढ़ने के बाद आगे क्या करना उसका कोई गाइडेंस नहीं है और उसके हिसाब से कोई जवाब भी नहीं देते कि भी चपरासी की नौकरी में भी ग्रेजुएशन पीएचडी करे हुए भी चपरासी की नौकरी में जा रहे हैं तो हमारे यहां नहीं हो पा रहा है इसका सबसे बड़ा कारण है

apne desh ke andar jo abhi filhal toh aisi krishna chal rahi hai education system hai vaah system ek common system hai uske andar koi special particular tekari nahi banane ki shuruat saree books ki jaati hai iske kam par jo farens mein hai usko phir us mein interest nahi hai yahan ke sanchalak vijay category wise se kya hota hai ki nahi chal raha hai 4 ki bharti hoti hai ki bharti mein pehle aisa tha ki tent waale chalte uska drishya aur abhi is samay doctor kiya hua png ki awaaz hindi class ki bharti mein jata hai uska reason ki hamare yahan toh balance banna chahiye education ka aur jo jawab ka vaah dono balance and balance nahi hai second ki hamare yahan prachin se jo hamari jo pehle ki jo sabhyata thi jo hamari toh hindu shabd jo sanskriti thi usme jo sanskriti ke andar desh ki sanskriti kya karan ho sakta hai jis karan usko interested vaah kala sikhai jaati vyavastha hum logo ko kisi ho gaya lekin padhne ke baad aage kya karna uska koi guidance nahi hai aur uske hisab se koi jawab bhi nahi dete ki bhi chaprasi ki naukri mein bhi graduation phd kare hue bhi chaprasi ki naukri mein ja rahe hain toh hamare yahan nahi ho paa raha hai iska sabse bada karan hai

अपने देश के अंदर जो अभी फिलहाल तो ऐसी कृष्ण चल रही है एजुकेशन सिस्टम है वह सिस्टम एक कॉमन

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  295
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!