क्या मोदी कोई भी प्रधानमंत्री जनता के लिए नहीं जीता? क्या संविधान और लोकतंत्र कठपुतली बन कर रह गए हैं?...


user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे लगता है कि संविधान और लोकतंत्र कुल कठपुतली नहीं है देश संविधान से चलता है और सरकार का भी विश्वास संविधान में हां यह मैं यह बात को जरूर मानता हूं कुछ प्रकार की घटनाएं हो जाती है जिस पर जिसकी वजह से जो अपोजीशन पार्टी उनको मौका मिल जाता है इस बात को ज्यादा उत्साहित करने का देश में लोकतंत्र खत्म हो चुका है मुझे लगता है कि देश में लोकतंत्र जो कांग्रेस पार्टी की सरकार थी देश में लोकतंत्र अभी तक मोदी जी की सरकार है

mujhe lagta hai ki samvidhan aur loktantra kul kathaputali nahi hai desh samvidhan se chalta hai aur sarkar ka bhi vishwas samvidhan mein haan yah main yah baat ko zaroor manata hoon kuch prakar ki ghatnaye ho jaati hai jis par jiski wajah se jo apojishan party unko mauka mil jata hai is baat ko zyada utsaahit karne ka desh mein loktantra khatam ho chuka hai mujhe lagta hai ki desh mein loktantra jo congress party ki sarkar thi desh mein loktantra abhi tak modi ji ki sarkar hai

मुझे लगता है कि संविधान और लोकतंत्र कुल कठपुतली नहीं है देश संविधान से चलता है और सरकार का

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  173
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Rajsi

Sports Commentator & Reporter

1:14

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रधानमंत्री का काम होता है जनता की सेवा करना अब अगर वह नहीं कर पा रहा है या वह नहीं कर रहा है तो फिर उसके लिए कुछ और संविधान में चीजें आती हैं जिसके चलते आप उन्हें मतलब उस जगह से निकाल सकते हैं या हटा सकते हैं पर मुसीबत है कि इस तरह से तोड़ा मरोड़ा गया हमारे संविधान का मतलब वकीलों द्वारा या उसके प्रकार पंडितों द्वारा कि अब तो हर चीज उनके हाथ में धन की सरकार है मतलब बेलना के समायोजन की पूर्व प्रधानमंत्री हैं उनके हाथ में सब कुछ है वह करें ना करें वह सब उनके ऊपर निर्भर करता है उस तरीके से चीजों को मरोड़कर इस्तेमाल करते हैं तो मुझे लगता है कि थोड़ा चेंजेस की जरूरत है बदलावों की जरूरत है जिस तरह से उसका मीनिंग निकाला गया है तो उससे काफी हद तक सुविधा रहेगी लोगों के लिए जैसे कि मुझे भी दिल्ली में देख कर लगता है कि जिस तरह से संविधान को वहां पर फिर से मैं कहूंगी कि अरविंद केजरीवाल जी के यहां सब कुछ नहीं है अभी भी सब कुछ होते हुए भी कि वह CM है लेकिन फिर भी LG सोनू को मेरा बढ़ता है तो मुझे लगता है कि वैसे कुछ प्रेसिडेंट का भी हाथ होना चाहिए प्राइम मिनिस्टर से मतलब जो भी वह काम करने चलें क्योंकि ऐसे तो फिर से हेराफेरी चलेगा और वह अक्सर नुकसान देता है

pradhanmantri ka kaam hota hai janta ki seva karna ab agar vaah nahi kar paa raha hai ya vaah nahi kar raha hai toh phir uske liye kuch aur samvidhan mein cheezen aati hain jiske chalte aap unhe matlab us jagah se nikaal sakte hain ya hata sakte hain par musibat hai ki is tarah se toda maroda gaya hamare samvidhan ka matlab vakilon dwara ya uske prakar pandito dwara ki ab toh har cheez unke hath mein dhan ki sarkar hai matlab belna ke samaayojan ki purv pradhanmantri hain unke hath mein sab kuch hai vaah kare na kare vaah sab unke upar nirbhar karta hai us tarike se chijon ko marodakar istemal karte hain toh mujhe lagta hai ki thoda changes ki zarurat hai badlaon ki zarurat hai jis tarah se uska meaning nikaala gaya hai toh usse kaafi had tak suvidha rahegi logo ke liye jaise ki mujhe bhi delhi mein dekh kar lagta hai ki jis tarah se samvidhan ko wahan par phir se main kahungi ki arvind kejriwal ji ke yahan sab kuch nahi hai abhi bhi sab kuch hote hue bhi ki vaah CM hai lekin phir bhi LG sonu ko mera badhta hai toh mujhe lagta hai ki waise kuch president ka bhi hath hona chahiye prime minister se matlab jo bhi vaah kaam karne chalen kyonki aise toh phir se heraferi chalega aur vaah aksar nuksan deta hai

प्रधानमंत्री का काम होता है जनता की सेवा करना अब अगर वह नहीं कर पा रहा है या वह नहीं कर रह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  152
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!