हमारे देश में इतनी ज़्यादा जनसँख्या में लोग हैं फिर भी हमारे देश का जुडिशरी सिस्टम इतना कमजोर क्यों है। क्यों किसी केस को सॉल्व करने के लिए 10 20 साल लग जाते हैं?...


user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां हमारे देश में इतनी ज्यादा जनसंख्या में लोग हैं फिर भी हमारे देश का जुडिशरी सिस्टम इतना कमजोर है क्योंकि मैं क्या लोगों के होने से कोई फर्क नहीं पड़ता है जब तक जुडिशरी में जर्जिस ज्यादा नहीं आऊंगी कैसे जल्दी सॉल्व नहीं होंगे तब तक कोई भी फर्क नहीं पड़ेगा कि हमारे देश की जनसंख्या कितनी बढ़ रही है और कितनी नहीं बढ़ रही है और किसी भी केस को 10:00 20 साल साल होने में इसलिए लग जाते हैं क्योंकि उस केस की सुनवाई की तारीख आगे बढ़ती जाती है और कोई इतना खाली नहीं होता है कि उसका फैसला सुना सके उसके अलावा हमारे देश में कहीं एक लाख लोगों पर एक जज होता है जिसकी आकाश संख्या बहुत ज्यादा काम है क्योंकि जब तक हमारे देश में झज्जर से नहीं बढ़ेंगे और और लोगों के को किस जल्दी से जल्दी सॉल्व नहीं होंगे तब तक हमारे देश में जुडिशरी की हालत काफी कमजोर रहेगी तो लोगों के ज्यादा होने से कोई फर्क नहीं पड़ता जब तक लोग जज नहीं बनेंगे और जगजीत की जनसंख्या है वह हमारे देश में नहीं बढ़ेगी तब तक ऐसे जैसे ही टाइम लगाएंगे सॉल्व होने में

ji haan hamare desh mein itni zyada jansankhya mein log hain phir bhi hamare desh ka judiciary system itna kamjor hai kyonki main kya logo ke hone se koi fark nahi padta hai jab tak judiciary mein jarjis zyada nahi aaungi kaise jaldi solve nahi honge tab tak koi bhi fark nahi padega ki hamare desh ki jansankhya kitni badh rahi hai aur kitni nahi badh rahi hai aur kisi bhi case ko 10 00 20 saal saal hone mein isliye lag jaate hain kyonki us case ki sunvai ki tarikh aage badhti jaati hai aur koi itna khaali nahi hota hai ki uska faisla suna sake uske alava hamare desh mein kahin ek lakh logo par ek judge hota hai jiski akash sankhya bahut zyada kaam hai kyonki jab tak hamare desh mein jhajjar se nahi badhenge aur aur logo ke ko kis jaldi se jaldi solve nahi honge tab tak hamare desh mein judiciary ki halat kaafi kamjor rahegi toh logo ke zyada hone se koi fark nahi padta jab tak log judge nahi banenge aur jagjeet ki jansankhya hai vaah hamare desh mein nahi badhegi tab tak aise jaise hi time lagayenge solve hone mein

जी हां हमारे देश में इतनी ज्यादा जनसंख्या में लोग हैं फिर भी हमारे देश का जुडिशरी सिस्टम इ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  143
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!