समाजशास्त्र की 4 विशेषता बताएं?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

समाजशास्त्र समाजशास्त्र का शाब्दिक अर्थ होता है समाज का शास्त्र समाजशास्त्र क्या है परिभाषा विशेषता इन पूछिए तो चार विशेषताएं इस प्रकार से समाज शास्त्र में सर्वप्रथम विशेषता है समाज का अध्ययन समाजशास्त्र समाज का दिन करता है जिसे नाम इसके नाम से ही पता चलता है कि समाजशास्त्र में सामाजिक तत्वों का अध्ययन किया जाता है दूसरी विशेषता इसमें समाज में उपस्थित लोगों के व्यवहार का भी अध्ययन समाजशास्त्र में होता है क्योंकि समाज लोगों से मिलकर बना होता है इसीलिए लोगों का दिन अभिषेक के लोगों के व्यवहार का अध्ययन आवश्यक है यह समाज शास्त्र के अध्ययन अंतर्गत होता है समाजशास्त्र तीसरा इसकी विशेषताएं समाजशास्त्र के दिन से देश की संस्कृति के बारे में अध्ययन का पता चलता है देश की संस्कृति किस प्रकार से यदि लोगों के व्यवहार का अध्ययन किया जाए लोगों का अध्ययन किया जाए समाज का अध्ययन किया जाए तो उनकी संस्कृति का एक दिन भी हमें पता चलता है इसके बाद में लोगों की देश लोगों के व्यवहार का अध्ययन लोगों का अध्ययन समाज का डेट फिर बाद में इनकी संस्कृति का यज्ञ यह तीनों आपस में जॉइंट हो जाते हैं इसके बाद में तीनों के दिन के बाद में छोटा दिन होता है वह समझ पूरे देश का दिन होता है पूरे देश में दिन होता है जैसे लोगों से मिलकर समाज बनता है और अनेक समाज से मिलकर पूरा देश बनता है यही तो है देश का दिन करना है तो फिर छोटी-छोटी पॉइंट को सबसे छोटे घटक का अध्ययन करना होता है वह देश का सबसे छोटा घटक होता है लोग उन लोगों से मिलकर बना होता है देश अब समाजशास्त्र के अंतर्गत लोगों का दिन तो होता ही है इसीलिए लोगों का अध्ययन करने के कारण से यह देश व्यापी यानी कि पूरे देश व्यापी अध्यन के अंतर्गत आता है समाजशास्त्र में संस्कृति का दिन हो जाता है लोगों का दिन हो जाता है समाज का दिन हो जाता है समाचार में अनेक धर्मों का नियम होता है धर्मों का दिन अलग-अलग मजहब धर्म इन का भी अध्ययन होता है किस प्रकार से समाज में व्याप्त है लोगों की इनके प्रति भावना क्या है फिर बाद में धर्म से ऊपर उठकर हम वर्ण व्यवस्था के अंतर्गत आते हैं समाजशास्त्र में वर्ण व्यवस्था का भी अध्ययन किया जाता है कि व्यक्ति अपने कर्म के आधार पर ऋण व्यवस्था किए हुए या जन्म के आधार पर तो हम प्राचीन समय की बात करते हैं तो कर्म के आधार पर वर्ण व्यवस्था थी परंतु वर्तमान युग में यह जन्म के आधारित हो चुकी है पता चलता है बड़ी माने जाते हैं और कोई मत धीमी स्थिति में माने जाते हैं और यह समाज की विशेषताओं को बताता है इसीलिए समाजशास्त्र में व्यवस्थाओं का भी अध्ययन किया जाता है धन्यवाद

samajshastra samajshastra ka shabdik arth hota hai samaj ka shastra samajshastra kya hai paribhasha visheshata in puchiye toh char visheshtayen is prakar se samaj shastra mein sarvapratham visheshata hai samaj ka adhyayan samajshastra samaj ka din karta hai jise naam iske naam se hi pata chalta hai ki samajshastra mein samajik tatvon ka adhyayan kiya jata hai dusri visheshata isme samaj mein upasthit logo ke vyavhar ka bhi adhyayan samajshastra mein hota hai kyonki samaj logo se milkar bana hota hai isliye logo ka din abhishek ke logo ke vyavhar ka adhyayan aavashyak hai yah samaj shastra ke adhyayan antargat hota hai samajshastra teesra iski visheshtayen samajshastra ke din se desh ki sanskriti ke bare mein adhyayan ka pata chalta hai desh ki sanskriti kis prakar se yadi logo ke vyavhar ka adhyayan kiya jaaye logo ka adhyayan kiya jaaye samaj ka adhyayan kiya jaaye toh unki sanskriti ka ek din bhi hamein pata chalta hai iske baad mein logo ki desh logo ke vyavhar ka adhyayan logo ka adhyayan samaj ka date phir baad mein inki sanskriti ka yagya yah tatvo aapas mein joint ho jaate hain iske baad mein tatvo ke din ke baad mein chota din hota hai vaah samajh poore desh ka din hota hai poore desh mein din hota hai jaise logo se milkar samaj baata hai aur anek samaj se milkar pura desh baata hai yahi toh hai desh ka din karna hai toh phir choti choti point ko sabse chote ghatak ka adhyayan karna hota hai vaah desh ka sabse chota ghatak hota hai log un logo se milkar bana hota hai desh ab samajshastra ke antargat logo ka din toh hota hi hai isliye logo ka adhyayan karne ke karan se yah desh vyapi yani ki poore desh vyapi adhyan ke antargat aata hai samajshastra mein sanskriti ka din ho jata hai logo ka din ho jata hai samaj ka din ho jata hai samachar mein anek dharmon ka niyam hota hai dharmon ka din alag alag majhab dharm in ka bhi adhyayan hota hai kis prakar se samaj mein vyapt hai logo ki inke prati bhavna kya hai phir baad mein dharm se upar uthakar hum varn vyavastha ke antargat aate hain samajshastra mein varn vyavastha ka bhi adhyayan kiya jata hai ki vyakti apne karm ke aadhar par rin vyavastha kiye hue ya janam ke aadhar par toh hum prachin samay ki baat karte hain toh karm ke aadhar par varn vyavastha thi parantu vartaman yug mein yah janam ke aadharit ho chuki hai pata chalta hai badi maane jaate hain aur koi mat dheemi sthiti mein maane jaate hain aur yah samaj ki visheshtaon ko batata hai isliye samajshastra mein vyavasthaon ka bhi adhyayan kiya jata hai dhanyavad

समाजशास्त्र समाजशास्त्र का शाब्दिक अर्थ होता है समाज का शास्त्र समाजशास्त्र क्या है परिभाष

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  126
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!