ऐसा क्यों कहा जाता है कि भूखा पेट, खाली जेब और झूठा प्रेम इंसान को ज़िंदगी में बहुत कुछ सीखा देता है। क्या आप इस बात से सहमत हो?...


user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां तक हो मैं आपकी इस बात से सहमत हूं कि भूखा पेट खाली जेब झूठा प्रेम इंसान को बहुत कुछ सिखाता है यह जिंदगी हमें हर कदम पर कुछ ना कुछ सिखाने के लिए तरह-तरह की चीजें हमारी हमारी सामने लाती है आप बहुत सिंपल गेम एमएस को आप को समझाना चाहूंगी कि मार लीजिए एक इंसान एक बच्चे का जन्म हुआ बहुत अमीर खानदान ने उसके सामने हर समय खाने की इतनी ऑप्शन से उसकी डाइनिंग टेबल पर 50 तरह की जो चीजें रखी होती है रायपुर उसका भंडार होता है जो वह चाहे वह खा सकता है तो उस बच्चे के लिए कितनी अहमियत होगी खाने की या हेल्प किया हेल्दी फूड की और एक बच्चा जो बिल्कुल गरीब है सड़क पर रहता है शायद उसके मां-बाप भी ना हो और उसको एक वक्त के खाने के लिए भी चारों तरफ सोचना पड़ता है देखना पड़ता है किसी के सामने हाथ फैलाना पड़ता है उस बच्चे के लिए खाने की चीजों की क्या वैल्यू होगी तो अगर आप इन दोनों बच्चों की तरफ से सोच कर देखेंगे तो आपको बहुत आसानी से समझ आ जाएगा कि कैसे भूखा पेट हमें कुछ सिखा रहा है कैसे खाली जेब हमें सिखाती है कि जब एक छोटा बच्चा है उसके पास पैसे नहीं है और उसको कोई बहुत ही इंटरेस्टिंग का गेम चाहिए अब वह गेम को पाने के लिए क्या कर सकता है उसके अंदर कितना जोश है उसको पानी का और उसको कितना मुश्किल दिख रहा है वह चीज पाना तो इन चीजों से जिंदगी हमें सिखाती है हर चीज की वैल्यू करना कि इस यूनिवर्स में जो कुछ है उसकी वैल्यू करो जो हमारे पास है जितना उसमें खुश रहो और और पाने की कोशिश करते रहो

jahan tak ho main aapki is baat se sahmat hoon ki bhukha pet khaali jeb jhutha prem insaan ko bahut kuch sikhata hai yah zindagi hamein har kadam par kuch na kuch sikhane ke liye tarah tarah ki cheezen hamari hamari saamne lati hai aap bahut simple game ms ko aap ko samajhana chahungi ki maar lijiye ek insaan ek bacche ka janam hua bahut amir khandan ne uske saamne har samay khane ki itni option se uski dining table par 50 tarah ki jo cheezen rakhi hoti hai raipur uska bhandar hota hai jo vaah chahen vaah kha sakta hai toh us bacche ke liye kitni ahamiyat hogi khane ki ya help kiya healthy food ki aur ek baccha jo bilkul garib hai sadak par rehta hai shayad uske maa baap bhi na ho aur usko ek waqt ke khane ke liye bhi charo taraf sochna padta hai dekhna padta hai kisi ke saamne hath faillana padta hai us bacche ke liye khane ki chijon ki kya value hogi toh agar aap in dono baccho ki taraf se soch kar dekhenge toh aapko bahut aasani se samajh aa jaega ki kaise bhukha pet hamein kuch sikha raha hai kaise khaali jeb hamein sikhati hai ki jab ek chota baccha hai uske paas paise nahi hai aur usko koi bahut hi interesting ka game chahiye ab vaah game ko paane ke liye kya kar sakta hai uske andar kitna josh hai usko paani ka aur usko kitna mushkil dikh raha hai vaah cheez paana toh in chijon se zindagi hamein sikhati hai har cheez ki value karna ki is Universe mein jo kuch hai uski value karo jo hamare paas hai jitna usme khush raho aur aur paane ki koshish karte raho

जहां तक हो मैं आपकी इस बात से सहमत हूं कि भूखा पेट खाली जेब झूठा प्रेम इंसान को बहुत कुछ स

Romanized Version
Likes  85  Dislikes    views  1796
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
khaalijeb ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!