चीनी और चाय के ऊपर तक की किस-किस में रूप होते हैं?...


play
user
0:42

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप तो बिजनेस चीनी और चाय के ऊपर तक की किस-किस रूप में होते हैं सबसे पहले 1815 में कुछ अंग्रेज यात्रियों का ध्यान असम में होने वाली चाय की झाड़ियों पर गाड़ी से स्थानीय कबायली लोग एक पर बनाकर पीते थे भारत के गवर्नर जनरल लॉर्ड बैंटिक ने 1834 में चाय की परंपरा भारत में शुरू करने और उसका की उत्पादन करने की संभावना तलाशने के लिए एक समिति का गठन किया इसके बाद 1834 में असम में चाय के बाग लगाए गए धन्य

aap toh business chini aur chai ke upar tak ki kis kis roop me hote hain sabse pehle 1815 me kuch angrej yatriyon ka dhyan assam me hone wali chai ki jhadiyon par gaadi se sthaniye kabayali log ek par banakar peete the bharat ke governor general lord baintik ne 1834 me chai ki parampara bharat me shuru karne aur uska ki utpadan karne ki sambhavna talashane ke liye ek samiti ka gathan kiya iske baad 1834 me assam me chai ke bagh lagaye gaye dhanya

आप तो बिजनेस चीनी और चाय के ऊपर तक की किस-किस रूप में होते हैं सबसे पहले 1815 में कुछ अंग्

Romanized Version
Likes  32  Dislikes    views  561
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!