आज़ादी के इस साल के बाद शैक्षिक व्यवस्था क्यों खराब है?...


play
user

Manish Singh

VOLUNTEER

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दी क्या आपने सही कहा कि आजादी कितने साल हो गए हैं लेकिन एजुकेशन सिस्टम हमारा क्यों खराब है अभी भी आप एजुकेशन सिस्टम पर देखेंगे तो बजट का कितना पर्सेंट ना हिसाब उस पर जा रहा है 2345 बजट विचार पसंद है जिस कंट्री में एजुकेशन पर जाता हो और बजट कम मैक्सिमम सा मिसाइल पर गम खरीदने पर जा रहा हो उस देश का एजुकेशन का क्या हाल होगा यही होगा क्योंकि जो यूनिवर्सिटी से हमारी जो कि हमारे Whatsapp वह बिल्कुल ही पुरानी स्टाइल में पढ़ा रहे हैं जबकि जमाना चेंज हो रहा है बड़ी यूनिवर्सिटी है सब देख भी रहेगी जो बड़ी यूनिवर्सिटी हां को किस प्रकार चल रही है फिर भी उसको फॉलो करने की तकनीक कोशिश नहीं हो रही है इंडिया में CBSE वही चीज है कि पढ़ो एग्जाम में बंद करके आओ मार्क्स अच्छे लेकर आओ दूसरी की सीन वही चीज है SSC बोर्ड पर हो कमेंट करो मां कची लेकर आओ आपको यह रीजन पता है कि आपने अभी रिजल्ट देखा होगा ट्रेन का स्टॉप हंड्रेड मैक्सिमम लड़कियां हैं लेकिन क्यों टॉप हंड्रेड में IIT में सफरचंद के अंदर भी लड़कियों का परसेंटेज 60% क्यों है क्योंकि लड़कियां एक से बेस्ट होती है रट्टा मारने में वह सीबीएसई में तो डाटा मार के पास होगी लेकिन आयआयटी जिला में लॉजिकल एग्जाम है उसमें नहीं करती तो उसमें लड़कियां पास नहीं हो पाए अच्छे मार्क्स नहीं लेकर पाइप हिंदी में क्या होता है ऐसा क्यों नहीं करे क्यों आती में संबंध में जाने के लिए इतना मेहनत करते हैं बाकी दिन इस कॉलेज का भक्ति में 4 दिन क्लास 2 दिन तक टिक करते हैं लेकिन IIT क्या करता है आईआईटी बिल्कुल कम अपोजिट खत्म मैक्सिमम प्रैक्टिकल थ्योरी और प्रैक्टिकल सिस्टम को बढ़ाया जाए और थोड़ी कम की जाए तो खुद ब खुद हमारे जो दर्शन सिस्टम में बेहतर होगा कुछ यूनिवर्सिटीज है कुछ बोर्ड से इंडिया में क्योंकि प्रेक्टिकल का बेस्ट सुपर बढ़ाते हैं जो आपका एक मन है जो आप इस फिल्म में आगे जाना चाहते उस बेसिस मैं आपको तैयार करते हैं लेकिन तू जो है वह इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी से और अपने सेट स्टार्स के बच्चे पढ़ते हैं इतना फोन नहीं कर सकते नॉर्मल पेरेंट्स लाख दो लाख रूपय साल के छोटे बच्चे के लिए कि वह स्कूल में अपने बच्चों को पढ़ा पाए

di kya aapne sahi kaha ki azadi kitne saal ho gaye hain lekin education system hamara kyon kharab hai abhi bhi aap education system par dekhenge toh budget ka kitna percent na hisab us par ja raha hai 2345 budget vichar pasand hai jis country mein education par jata ho aur budget kam maximum sa missile par gum kharidne par ja raha ho us desh ka education ka kya haal hoga yahi hoga kyonki jo university se hamari jo ki hamare Whatsapp vaah bilkul hi purani style mein padha rahe hain jabki jamana change ho raha hai badi university hai sab dekh bhi rahegi jo badi university haan ko kis prakar chal rahi hai phir bhi usko follow karne ki taknik koshish nahi ho rahi hai india mein CBSE wahi cheez hai ki padho exam mein band karke aao marks acche lekar aao dusri ki seen wahi cheez hai SSC board par ho comment karo maa kachi lekar aao aapko yah reason pata hai ki aapne abhi result dekha hoga train ka stop hundred maximum ladkiyan hain lekin kyon top hundred mein IIT mein safarchand ke andar bhi ladkiyon ka percentage 60 kyon hai kyonki ladkiyan ek se best hoti hai ratta maarne mein vaah cbse mein toh data maar ke paas hogi lekin IIT jila mein logical exam hai usme nahi karti toh usme ladkiyan paas nahi ho paye acche marks nahi lekar pipe hindi mein kya hota hai aisa kyon nahi kare kyon aati mein sambandh mein jaane ke liye itna mehnat karte hain baki din is college ka bhakti mein 4 din class 2 din tak tick karte hain lekin IIT kya karta hai IIT bilkul kam opposite khatam maximum practical theory aur practical system ko badhaya jaaye aur thodi kam ki jaaye toh khud bsp khud hamare jo darshan system mein behtar hoga kuch universities hai kuch board se india mein kyonki practical ka best super badhate hain jo aapka ek man hai jo aap is film mein aage jana chahte us basis main aapko taiyar karte hain lekin tu jo hai vaah international university se aur apne set stars ke bacche padhte hain itna phone nahi kar sakte normal parents lakh do lakh rupay saal ke chote bacche ke liye ki vaah school mein apne baccho ko padha paye

दी क्या आपने सही कहा कि आजादी कितने साल हो गए हैं लेकिन एजुकेशन सिस्टम हमारा क्यों खराब है

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  149
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!