क्या प्यार मैरिज में अरेंज मैरिज से ज़्यादा प्यार होता है?...


user

vedprakash singh

Psychologist

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है क्या प्यार मैरिज में अरेंज मेरे से ज्यादा प्यार होता है प्यार मैरिज में अरेंज मेरे से ज्यादा प्यार होता है बात सही है क्योंकि कोई हमें तभी प्रेम करता है जब वह अकेला जब वह निहत्था हो जब उन्हें कोई ना देखता हूं जब उन्हें सारे देखकर वह सारे रिश्ते निभाने पढ़ेंगे तो प्रेम कहां से करें हर यही होता है कि जो प्रेम मरीज होता है जिसमें लव मैरिज बोलते हैं उनमें हमें ज्यादा प्रेम मिलता है और उस समय हम एक दूसरे को इज्जत भी करना होता है बल्कि अरेंज मैरिज के मुकाबला में क्योंकि अरेंज मैरिज में सब को लेकर चलना होता हर किसी की बातें सुनने होती है हर किसी की बातें सुननी होती और बाद में भी यदि परिवार जॉइंट हो तो फिर उस समय हमारी बीवी ही नहीं और हमें अब के साथ मिलकर चलना होता सबको साथ मिलकर चलेंगे उनकी बातें सुनेंगे फिर नहीं डालेंगे मतलब हम नहीं कोई और भी हमार मालिक ऐसा हो जाता लेकिन प्यार में क्या लाभ है हम दो एक दूसरे दूसरे के प्यार में राज मैरिज में हम क्रिया करते हैं लेकिन अरेंज मैरिज में प्रतिक्रिया करते उल्टा करते हैं दूसरे का

aapka sawaal hai kya pyar marriage mein arrange mere se zyada pyar hota hai pyar marriage mein arrange mere se zyada pyar hota hai baat sahi hai kyonki koi hamein tabhi prem karta hai jab vaah akela jab vaah nihattha ho jab unhe koi na dekhta hoon jab unhe saare dekhkar vaah saare rishte nibhane padhenge toh prem kahaan se kare har yahi hota hai ki jo prem marij hota hai jisme love marriage bolte hain unmen hamein zyada prem milta hai aur us samay hum ek dusre ko izzat bhi karna hota hai balki arrange marriage ke muqabla mein kyonki arrange marriage mein sab ko lekar chalna hota har kisi ki batein sunne hoti hai har kisi ki batein sunnani hoti aur baad mein bhi yadi parivar joint ho toh phir us samay hamari biwi hi nahi aur hamein ab ke saath milkar chalna hota sabko saath milkar chalenge unki batein sunenge phir nahi daalenge matlab hum nahi koi aur bhi hamar malik aisa ho jata lekin pyar mein kya labh hai hum do ek dusre dusre ke pyar mein raj marriage mein hum kriya karte hain lekin arrange marriage mein pratikriya karte ulta karte hain dusre ka

आपका सवाल है क्या प्यार मैरिज में अरेंज मेरे से ज्यादा प्यार होता है प्यार मैरिज में अरेंज

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  166
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!