चांद हर दिन छोटा और बड़ा क्यों होता है ?...


play
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह चांद है हर बार छोटा या बड़ा क्यों होती जाता है इसके पीछे जो रीजन है कि यह दर्शन सूर्य सूर्य से दूरी के पढ़ने वाली जयप्रकाश होती है प्रकाश की विविधता के कारण चंद्रमा जो हमें घटता-बढ़ता दिखाइए तो चंद्रमा को पृथ्वी की एक परिक्रमा करने में लगभग 29 दिन लगते हैं तो बस गिरी सूर्य सूर्य के प्रकाश से चंद्रमा कैसे चमकता है उसे पढ़ने वाली सूर्य के प्रकाश से परावर्तित होकर धरती पर पहुंचता है और चंद्रमा का एक भाग पृथ्वी पर रहता है और दूसरा भाग हमें दिखाई देता है जब चंद्रमा सूर्य और धरती के बीच में आ जाता है तो चमकने वाला जो भाग है पृथ्वी जो पृथ्वी पर लोग हैं हमें दिखाई देता है कि वह अंधेरे वाला स्थान जो है वही पृथ्वी के सामने होता है इसलिए हमें चंद्रमा का कोई भाग चमकता हुआ दिखाई नहीं देता किसी को हम अमावस्या का चांद कहते और पृथ्वी के दिन पूर्णिमा के दिन पृथ्वी पर जो दिखाई देने वाला जो पूरा प्रकाशित होता है उसमें चंद्र पूर्णिमा का चांद कहते हैं तो यह ग्रहों की स्थिति के अनुसार से लगातार बढ़ता रहता है इसी का चंद्रमा जो है हमें कभी बड़ा दिखाई देता है कभी छोटा दिखाई देता है

yah chand hai har BA ar chota ya BA da kyon hoti jata hai iske peeche jo reason hai ki yah darshan surya surya se doori ke padhne wali jayprakash hoti hai prakash ki vividhata ke karan chandrama jo hamein ghatata BA dhta dikhaaiye toh chandrama ko prithvi ki ek parikrama karne mein lagbhag 29 din lagte hai toh bus giri surya surya ke prakash se chandrama kaise chamakta hai use padhne wali surya ke prakash se paravartit hokar dharti par pahuchta hai aur chandrama ka ek bhag prithvi par rehta hai aur doosra bhag hamein dikhai deta hai jab chandrama surya aur dharti ke beech mein aa jata hai toh chamakane vala jo bhag hai prithvi jo prithvi par log hai hamein dikhai deta hai ki vaah andhere vala sthan jo hai wahi prithvi ke saamne hota hai isliye hamein chandrama ka koi bhag chamakta hua dikhai nahi deta kisi ko hum amavasya ka chand kehte aur prithvi ke din poornima ke din prithvi par jo dikhai dene vala jo pura prakashit hota hai usme chandra poornima ka chand kehte hai toh yah grahon ki sthiti ke anusaar se lagatar BA dhta rehta hai isi ka chandrama jo hai hamein kabhi BA da dikhai deta hai kabhi chota dikhai deta hai

यह चांद है हर बार छोटा या बड़ा क्यों होती जाता है इसके पीछे जो रीजन है कि यह दर्शन सूर्य स

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  170
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
चाँद का आकार छोटा बड़ा क्यों होता है ; चाँद घटता बढ़ता क्यों है ; chand ka aakar chota bada kyu hota hai ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!