यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी?...


user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

0:59
Play

Likes  285  Dislikes    views  1282
WhatsApp_icon
13 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फिल्मी दुनिया कैसे बनी

filmy duniya kaise bani

फिल्मी दुनिया कैसे बनी

Romanized Version
Likes  189  Dislikes    views  2034
WhatsApp_icon
play
user

Ved prakash Mishra

Journalist Dainik jagran { Naidunia}

1:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रारंभ में मनुष्य ने जब व्यापार शुरू किया तो वस्तुओं का विनिमय प्रारंभ हुआ वस्तुओं के बदले प्रस्तुति चाहती थी लेकिन धीरे-धीरे रुपए प्रारंभ में रुपए तो नहीं थे सिक्के थे जो सोने या चांदी होते थे या तांबे की वजह से अंकित मुद्रा जीने का निमंत्रण जो है प्रारंभ हुआ क्योंकि हर जगह से किसी को आवश्यकता है वस्तु की जड़ी खाने वाले को भी उस वस्तु की आवश्यकता हो इसलिए फिर किस प्रकार की मुद्रा का चलन प्रारंभ हुआ प्रणामी सोने चांदी के सिक्के चलते थे बाद में फिर सांकेतिक मुद्रा जोरू का एग्जाम का चरण प्रारंभ हुआ इस प्रकार जो है मुद्रा का प्रारंभ जो है या रुपए का कारण जो है व्यापार व्यवसाय ढूंढें हातिम देखते हैं अलग-अलग देश की सबसे बड़ी करेंसी है

prarambh mein manushya ne jab vyapar shuru kiya toh vastuon ka vinimay prarambh hua vastuon ke badle prastuti chahti thi lekin dhire dhire rupaye prarambh mein rupaye toh nahi the sikke the jo sone ya chaandi hote the ya tambe ki wajah se ankit mudra jeene ka nimantran jo hai prarambh hua kyonki har jagah se kisi ko avashyakta hai vastu ki jadi khane waale ko bhi us vastu ki avashyakta ho isliye phir kis prakar ki mudra ka chalan prarambh hua pranami sone chaandi ke sikke chalte the baad mein phir sanketik mudra joru ka exam ka charan prarambh hua is prakar jo hai mudra ka prarambh jo hai ya rupaye ka karan jo hai vyapar vyavasaya dhundhe hatim dekhte hain alag alag desh ki sabse badi currency hai

प्रारंभ में मनुष्य ने जब व्यापार शुरू किया तो वस्तुओं का विनिमय प्रारंभ हुआ वस्तुओं के बदल

Romanized Version
Likes  159  Dislikes    views  2162
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दुनिया कैसे बनी कैसे बनी इस दुनिया में ईमानदारी से जो पैसा आता है आता है कठोर परिश्रम इमानदारी रात जिनका बेस्ट टर्म रहना और अपने सुखों का होम करना और से उपयोग करना निश्चित रूप से पैसा आता है लेकिन इसके पश्चात इंसान इतना व्यस्त हो जाता है कि उसको अपने लिए वक्त नहीं मिलता और वह अपना आपको खुद सूची तरह से जो पैसा आता है उसमें 90 परसेंट पैसा इंसान की बेईमानी भ्रष्टाचारी और दूसरों के साथ विद्या दूसरों के साथ प्ले बाकी गलत बयानी गलत तरीके से पैसा आता है और इन संसाधनों से आया पैसा टिकाऊ नहीं होता है क्योंकि जिस गलत रास्ते से आया उसे गलत रास्ते से चला जाएगा प्रश्न योगदान अमीर लोग पैसे से बनते हैं और यह दुनिया भी तो है कुछ लोग समझदारी का परिचय दे देते हैं और जहां जरूरत होती वहां पैसा लगाते हैं और जहां जरूरत नहीं होती वहां पहचान नहीं लगाते तो पैसे को पैसा खींचता है और इस प्रकार से दुनिया पैसे वाली

yah duniya kaise bani kaise bani is duniya mein imaandaari se jo paisa aata hai aata hai kathor parishram imaandari raat jinka best term rehna aur apne sukho ka home karna aur se upyog karna nishchit roop se paisa aata hai lekin iske pashchat insaan itna vyast ho jata hai ki usko apne liye waqt nahi milta aur vaah apna aapko khud suchi tarah se jo paisa aata hai usme 90 percent paisa insaan ki baimani bhrashtachaari aur dusro ke saath vidya dusro ke saath play baki galat bayani galat tarike se paisa aata hai aur in sansadhano se aaya paisa tikauu nahi hota hai kyonki jis galat raste se aaya use galat raste se chala jaega prashna yogdan amir log paise se bante hain aur yah duniya bhi toh hai kuch log samajhdari ka parichay de dete hain aur jaha zarurat hoti wahan paisa lagate hain aur jaha zarurat nahi hoti wahan pehchaan nahi lagate toh paise ko paisa khinchata hai aur is prakar se duniya paise waali

यह दुनिया कैसे बनी कैसे बनी इस दुनिया में ईमानदारी से जो पैसा आता है आता है कठोर परिश्रम इ

Romanized Version
Likes  293  Dislikes    views  4175
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी और पैसे बनाने के लिए आजकल सबसे बड़ा काम है झूठ बोलो मक्कारी करो हेरा फेरी करो ठीक है किसी के पैसे ले लो उसे वापस नहीं करो प्लीज दुनिया जो अमीर बन रही है इस चीज से बन रही है जितनी बड़ी बड़ी इंडस्ट्रीज हैं लाखों रुपया करोड़ों का कर्जा है लेकिन झुकाने की जगह दूसरे बैंक से एक और कर देते हैं खूब अपने खाने-पीने की ऐश करने के दिन है उनकी खूब करते हैं लेकिन देने के लिए वर्कर को पैसे नहीं है बैंक कुल जानकारी को फांसी नहीं है बाकी के पैसों की कोई कमी नहीं है जितना यह है पिछले साल मैंने जो लूट पार्टी है उसी वजह से आज जो करोड़पति है और करोड़पति हो गया गरीब आदमी लोन लेने जाता है उसको 1000 चीजें बताई जाती हैं आप एक रहिस आदमी लोग नहीं जाता है उसके लिए कहा जाता ठीक है अब साइन कर दीजिए किसी का फोन आ जाता है उसका साथ देना है हमको मैया पर लगता है यह लो यह लो यह लो ना तो यह दुनिया का दस्तूर है कि हेराफेरी करने वाला ही पैसे वाला बना है ठीक है हवाई का परिचय सब्जी बन रहा है सब्जी वाला है और क्या करता है ₹10 की रोशनी ज्यादा ₹30 किलो बेचता है फल वाला है 30 विकेट लेकर आता है सो रुपए किलो भेजता है तो इन लोगों की कमाई ऐसी चीज से है झूठ का धंधा है और ऐसे ही पलसारी है पंसारी है सौ ग्राम का वेट करके आपको देखा लेकिन निकलेगा पर जब श्रावस्ती ग्राम तो यह जो आप देख रहे हैं ना यह सब झूठ है झूठ बोलोगे तो पैसा बनाओगे सच बोलोगे कुछ नहीं कर पाओगे

aapne poocha yah duniya paise wali kaise bani aur paise banne liye aajkal sabse bada kaam hai jhuth bolo makkari karo hera pheri karo theek hai kisi ke paise le lo use wapas nahi karo please duniya jo amir ban rahi hai is cheez se ban rahi hai jitni badi badi industries hain laakhon rupya karodo ka karja hai lekin jhukane ki jagah dusre bank se ek aur kar dete hain khoob apne khane peene ki aish karne ke din hai unki khoob karte hain lekin dene ke liye worker ko paise nahi hai bank kul jaankari ko fansi nahi hai baki ke paison ki koi kami nahi hai jitna yah hai pichle saal maine jo loot party hai usi wajah se aaj jo crorepati hai aur crorepati ho gaya garib aadmi loan lene jata hai usko 1000 cheezen batai jaati hain aap ek rahis aadmi log nahi jata hai uske liye kaha jata theek hai ab sign kar dijiye kisi ka phone aa jata hai uska saath dena hai hamko maiya par lagta hai yah lo yah lo yah lo na toh yah duniya ka dastoor hai ki heraferi karne vala hi paise vala bana hai theek hai hawai ka parichay sabzi ban raha hai sabzi vala hai aur kya karta hai Rs ki roshni zyada Rs kilo bechta hai fal vala hai 30 wicket lekar aata hai so rupaye kilo bhejta hai toh in logo ki kamai aisi cheez se hai jhuth ka dhandha hai aur aise hi palsari hai pansari hai sau gram ka wait karke aapko dekha lekin niklega par jab Shravasti gram toh yah jo aap dekh rahe hain na yah sab jhuth hai jhuth bologe toh paisa banaaoge sach bologe kuch nahi kar paoge

आपने पूछा यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी और पैसे बनाने के लिए आजकल सबसे बड़ा काम है झूठ बोलो

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  2881
WhatsApp_icon
user

Kishan Kumar

Motivational speaker

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों आपका क्वेश्चन है यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी दोस्तों दुनिया पहले पैसे वाली नहीं थी लेकिन जो यह समाज है एक दूसरे को इस चेंज करने के लिए जिसको जो चीज जरूर पढ़ता था पहले सामान देकर चेंज करते थे लेकिन धीरे-धीरे कैसा आया कि पैसे की टाइम आ गया और उसके को यूज करने लगे पैसे कुछ करने लगी है जो कि वह सही तरीके से उठ कर दे से लेकिन अब के टाइम में पैसे का इस्तेमाल गलत तरीके से किया जा रहा है वेकेशन होनी चाहिए लेकिन पैसा बनाया गया था तो लोगों को एक सही तरीके से एक दूसरे को नींद निकालना यज्ञ कंटेंस दूसरी कंट्री शैलेंद्र छोटी चीजों को लेकर लेकिन हां आप लोग इस पैसे को गलत यूज़ करें भ्रष्टाचार के लिए तो गलत बात है लेकिन पैसे अच्छे के लिए बनाया गया था अच्छे था अरे कंट्री का अलग अलग तरीके से पैसा होता है थैंक यू

namaskar doston aapka question hai yah duniya paise wali kaise bani doston duniya pehle paise wali nahi thi lekin jo yah samaj hai ek dusre ko is change karne ke liye jisko jo cheez zaroor padhata tha pehle saamaan dekar change karte the lekin dhire dhire kaisa aaya ki paise ki time aa gaya aur uske ko use karne lage paise kuch karne lagi hai jo ki vaah sahi tarike se uth kar de se lekin ab ke time mein paise ka istemal galat tarike se kiya ja raha hai vacation honi chahiye lekin paisa banaya gaya tha toh logo ko ek sahi tarike se ek dusre ko neend nikalna yagya kantens dusri country shailendra choti chijon ko lekar lekin haan aap log is paise ko galat use kare bhrashtachar ke liye toh galat baat hai lekin paise acche ke liye banaya gaya tha acche tha are country ka alag alag tarike se paisa hota hai thank you

नमस्कार दोस्तों आपका क्वेश्चन है यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी दोस्तों दुनिया पहले पैसे वाल

Romanized Version
Likes  155  Dislikes    views  1980
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए दुनिया पैसे वाली इस तरह बनी है कि कई लोग तो पहले के लोग जो थे वह दूसरे को लूटना चालू कर दिया था उन्होंने और लूटना चालू कर दिया था तो इस तरीके से भी बहुत लोग पैसे वाली बन चुकी और कुछ लोग अशिक्षित नहीं थी तो उन्हें किस तरह उनकी जमीनों को हड़पना चालू कर दिया तो उस तरह भी लोग अमीर बने थे लेकिन आज के समय में यह सब नहीं हो रहा है आज के समय में मेहनत करने की आवश्यकता है जो मेहनत कर रहा है वही कामयाब हो रहा है

dekhiye duniya paise wali is tarah bani hai ki kai log toh pehle ke log jo the vaah dusre ko lootna chaalu kar diya tha unhone aur lootna chaalu kar diya tha toh is tarike se bhi bahut log paise wali ban chuki aur kuch log ashikshit nahi thi toh unhe kis tarah unki zameeno ko hadpana chaalu kar diya toh us tarah bhi log amir bane the lekin aaj ke samay mein yah sab nahi ho raha hai aaj ke samay mein mehnat karne ki avashyakta hai jo mehnat kar raha hai wahi kamyab ho raha hai

देखिए दुनिया पैसे वाली इस तरह बनी है कि कई लोग तो पहले के लोग जो थे वह दूसरे को लूटना चालू

Romanized Version
Likes  136  Dislikes    views  1165
WhatsApp_icon
user

मधुपाल सिंह नागपुरे

लाइब्रेरियन( ग्रंथपाल) मार्गदर्शक । मित्र सलाहकार। सुलभ ज्ञान। सत्य दर्शक ।

2:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने प्रश्न किया है यह दुनिया पैसे वाले कैसे बनी तो पैसे वाली बनने के लिए पीछे अनेक कहानियां होती है और ऐसे व्यक्तियों के पीछे उनका लगातार मेहनत होता है लगातार कोशिश होती है एक अच्छा नॉलेज होता है एक अच्छी प्रैक्टिस होती है और सिर्फ एक ही दिशा में उनका इंटरेस्ट होता है तो ऐसे लोग अपने जो मूल उद्देश्य उसके लिए अपना टारगेट सेट करते हैं अपने लक्ष्य सेट करते हैं और उस पर लगातार काम करते रहते हैं तब जाकर ऐसे लोगों को बिल्कुल ही सफलता मिलती है तो हमने यह ना देखते भी है कि इनके पास कैसे आया इसके बजाय यह सोचना चाहिए कि इनके पास किस रास्ते से चलकर आया तो ऐसे ही रास्तों पर अगर हम चले तो हमारे पास भी यह सब हो सकता है तो कठोर परिश्रम और लगातार प्रयास अच्छी प्रैक्टिस अच्छा नॉलेज और सही अनुभव और सही चीजों का चयन और अच्छा बुरा का ख्याल करके सही चीजों का निर्णय करना सही समय पर सही निर्णय लेना और हमारे अंदर कौन सा अच्छा गुण है उसके मुताबिक अपने बिजनेस को बिजनेस प्लान को चैंज करना और उस बिजनेस को शुरू करना कहीं ना कहीं फायदेमंद होता है और साथी को अगर सरकारी नौकरी की बात है तो उस चित्र में अगर हम परफेक्ट हैं तो हमें सरकारी नौकरियां और से मिलती है या कोई रोजगार करना चाहते हैं तो उसे त्रिलोकी सबसे पहले हमको अच्छा नॉलेज होना चाहिए उसको उस काम को शुरू करने से पहले हमको उसमें पूरा इंटरेस्ट होना चाहिए साथ ही बाजार में उसकी डिमांड कितनी है इस बार यह सबसे बड़ा फैक्टर है कि बाजार में हम जो शुरू करना चाहते हैं उसके अच्छी डिमांड होनी चाहिए साथ ही हम अगर कोई चीज शुरू करना चाहते तो बाजार में सबसे बेस्ट प्रोडक्ट हमारा होना चाहिए उसकी मार्केटिंग स्ट्रेटजी जो है वह बहुत अच्छी होनी चाहिए तब जाकर हमको हमारे बिजनेस में पूरा-पूरा फायदा मिलता है और अत्यधिक फायदा और से मिलता है तो संसार इन सारी चीजों के इन सारी चीजों को अच्छे से मैनेज करती है तब जाकर संसार पैसे वाली बनती है अतः संसार में पैसे इन सारे उधेड़बुन से और अच्छे प्लानिंग से और अच्छे योजना बनाकर के आदमी अच्छे रोजगार करते या अच्छी नौकरी में जाकर पैसा कमा सकते हैं आप भी कुछ ऐसा कर सकते हैं कुछ अच्छा अनुभव कीजिए अच्छा रिचार्ज कीजिए आपको भी हमारी ओर से शुभकामनाएं धन्यवाद

apne prashna kiya hai yah duniya paise waale kaise bani toh paise wali banne ke liye peeche anek kahaniya hoti hai aur aise vyaktiyon ke peeche unka lagatar mehnat hota hai lagatar koshish hoti hai ek accha knowledge hota hai ek achi practice hoti hai aur sirf ek hi disha mein unka interest hota hai toh aise log apne jo mul uddeshya uske liye apna target set karte hain apne lakshya set karte hain aur us par lagatar kaam karte rehte hain tab jaakar aise logo ko bilkul hi safalta milti hai toh humne yah na dekhte bhi hai ki inke paas kaise aaya iske bajay yah sochna chahiye ki inke paas kis raste se chalkar aaya toh aise hi raston par agar hum chale toh hamare paas bhi yah sab ho sakta hai toh kathor parishram aur lagatar prayas achi practice accha knowledge aur sahi anubhav aur sahi chijon ka chayan aur accha bura ka khayal karke sahi chijon ka nirnay karna sahi samay par sahi nirnay lena aur hamare andar kaun sa accha gun hai uske mutabik apne business ko business plan ko chainj karna aur us business ko shuru karna kahin na kahin faydemand hota hai aur sathi ko agar sarkari naukri ki baat hai toh us chitra mein agar hum perfect hain toh hamein sarkari naukriyan aur se milti hai ya koi rojgar karna chahte hain toh use triloki sabse pehle hamko accha knowledge hona chahiye usko us kaam ko shuru karne se pehle hamko usme pura interest hona chahiye saath hi bazaar mein uski demand kitni hai is baar yah sabse bada factor hai ki bazaar mein hum jo shuru karna chahte hain uske achi demand honi chahiye saath hi hum agar koi cheez shuru karna chahte toh bazaar mein sabse best product hamara hona chahiye uski marketing strategy jo hai vaah bahut achi honi chahiye tab jaakar hamko hamare business mein pura pura fayda milta hai aur atyadhik fayda aur se milta hai toh sansar in saari chijon ke in saari chijon ko acche se manage karti hai tab jaakar sansar paise wali banti hai atah sansar mein paise in saare udhedbun se aur acche planning se aur acche yojana banakar ke aadmi acche rojgar karte ya achi naukri mein jaakar paisa kama sakte hain aap bhi kuch aisa kar sakte hain kuch accha anubhav kijiye accha recharge kijiye aapko bhi hamari aur se subhkamnaayain dhanyavad

अपने प्रश्न किया है यह दुनिया पैसे वाले कैसे बनी तो पैसे वाली बनने के लिए पीछे अनेक कहानिय

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  305
WhatsApp_icon
user

Rashmin Trivedi

Motivational Speaker | Writer | Life Coach

2:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दुनिया पैसे वाली कैसे बने यह सवाल थोड़ा अजीब सा है कि सभी लोग पैसे वाले बन सकते हैं मगर उसके लिए इनकम का बैलेंस होना चाहिए कि ज्यादा पैसे वाले लोग अपनी कम से कम पैसे वाले लोगों को शेडिंग करें या उसको बांट दें तो यह दुनिया ऐसे ही पैसे वाली हो जाती है इंडोनेशिया सिंगापुर में ऐसा हुआ था कि यह कवच पति ने उसकी बहुत सारी संपत्ति थी तो उसने यहां बहुत सारे जरूरत वाले लोगों को अपनी सारी संपत्ति नोटों के रूप में बांट दी थी तो वहां हर व्यक्ति हजारों रुपए का कुछ व्यक्ति लाखों रुपए का मालिक हो गया था एक ही दिन में और उसको बोला था कि मैं भी मर जाऊंगा ऐसा लगा उसे उम्र वाला भी था तो उसने अपनी सारी संपत्ति लोगों में बांट दी तो इस तरह से जब भी संपत्ति को सरकार की तरफ से बांटा जाए या तो संपत्ति को कोई श्रीमंत जितने लोग हैं वह बांटते जैसे कि आज वारेन बुफेट बिल गेट्स यह सब ऐसा कर रहे हैं कि अपनी संपत्ति का कुछ हिस्सा है वह समाज को यह को ऐसी संस्थाओं को देते हैं कि जो गरीबों के लिए काम करते हैं यहां टाटा रतन टाटा काम करते हैं और यह इन विप्रो के मालिक अजीम प्रेमजी अजीत साहब काम कर रहे हैं तो इसके बहुत सारे पैसे वाले लोग हैं जो अपनी इनकम में से कुछ पैसा शेयर करते हैं मगर ऐसा ज्यादा हो तो उसके लिए यह समस्या सॉल्व हो जाएगी दुबई में और जो अरब देशों में जहां से किए कोई निकला है वहां लोगों को टेक्स्ट कुछ नहीं देना होता है कुछ जगह पर मिनिमम मोती है तो ऐसे लोगों को मिनिमम इनकम भी यहां से पैसे वालों लोगों की इनकम जितनी हो जाती है तो इस तरह के कायदे कानून से इस तरह की बैठने की सिस्टम से और बाकी जो उनको जहां जहां दिक्कत होती है वहां वहां पैसे का प्रॉब्लम कैसे सॉल्व हो जाए उसके लिए व्यवस्था करने से यह दुनिया पैसे वाली बन सकती है

yah duniya paise wali kaise bane yah sawaal thoda ajib sa hai ki sabhi log paise waale ban sakte hain magar uske liye income ka balance hona chahiye ki zyada paise waale log apni kam se kam paise waale logo ko shedding kare ya usko baant de toh yah duniya aise hi paise wali ho jaati hai indonesia singapore me aisa hua tha ki yah kavach pati ne uski bahut saari sampatti thi toh usne yahan bahut saare zarurat waale logo ko apni saari sampatti noton ke roop me baant di thi toh wahan har vyakti hazaro rupaye ka kuch vyakti laakhon rupaye ka malik ho gaya tha ek hi din me aur usko bola tha ki main bhi mar jaunga aisa laga use umar vala bhi tha toh usne apni saari sampatti logo me baant di toh is tarah se jab bhi sampatti ko sarkar ki taraf se baata jaaye ya toh sampatti ko koi shrimant jitne log hain vaah bantate jaise ki aaj Warren bufet bill gates yah sab aisa kar rahe hain ki apni sampatti ka kuch hissa hai vaah samaj ko yah ko aisi sasthaon ko dete hain ki jo garibon ke liye kaam karte hain yahan tata ratan tata kaam karte hain aur yah in wipro ke malik ajeem premji ajit saheb kaam kar rahe hain toh iske bahut saare paise waale log hain jo apni income me se kuch paisa share karte hain magar aisa zyada ho toh uske liye yah samasya solve ho jayegi dubai me aur jo arab deshon me jaha se kiye koi nikala hai wahan logo ko text kuch nahi dena hota hai kuch jagah par minimum moti hai toh aise logo ko minimum income bhi yahan se paise walon logo ki income jitni ho jaati hai toh is tarah ke kayade kanoon se is tarah ki baithne ki system se aur baki jo unko jaha jaha dikkat hoti hai wahan wahan paise ka problem kaise solve ho jaaye uske liye vyavastha karne se yah duniya paise wali ban sakti hai

यह दुनिया पैसे वाली कैसे बने यह सवाल थोड़ा अजीब सा है कि सभी लोग पैसे वाले बन सकते हैं मगर

Romanized Version
Likes  20  Dislikes    views  395
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पूरी दुनिया पैसे वाली नहीं है 7055 तो गरीब लोग हैं 20 पर्सनल मध्यम वर्ग के हैं 10 पशुओं की दुनिया में अमीर लोग हैं तो आप अपने आप को समाज से समायोजित करके वह जो बहुत बड़े लोगों को इग्नोर करते थे

puri duniya paise wali nahi hai 7055 toh garib log hain 20 personal madhyam varg ke hain 10 pashuo ki duniya mein amir log hain toh aap apne aap ko samaj se samayojit karke vaah jo bahut bade logo ko ignore karte the

पूरी दुनिया पैसे वाली नहीं है 7055 तो गरीब लोग हैं 20 पर्सनल मध्यम वर्ग के हैं 10 पशुओं की

Romanized Version
Likes  141  Dislikes    views  1684
WhatsApp_icon
user

Deepak Deshwal

Stock Market Researcher

0:49
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी मतलब कहना आप यह चाह रहे हो कि दुनिया में पैसा कैसा है सबसे पहले जैसे आपको पता ही है कि व्यापार होता था पहले मतलब जैसे पशुओं की अदला-बदली का समाचार चाहिए आपको बता कर उसके बाद मतलब कौन आया जैसे बीमार पड़ते आफ गोल्ड भगवान होता है उसके बाद कागज की करेंसी i10 का बताओ खाना हुआ और फिर चल रही है इत्यादि कॉल आपको समझ में आ गया होगा कि दुनिया पैसे वाली कैसे बनी

yah duniya paise wali kaise bani matlab kehna aap yah chah rahe ho ki duniya me paisa kaisa hai sabse pehle jaise aapko pata hi hai ki vyapar hota tha pehle matlab jaise pashuo ki adla badli ka samachar chahiye aapko bata kar uske baad matlab kaun aaya jaise bimar padate of gold bhagwan hota hai uske baad kagaz ki currency i10 ka batao khana hua aur phir chal rahi hai ityadi call aapko samajh me aa gaya hoga ki duniya paise wali kaise bani

यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी मतलब कहना आप यह चाह रहे हो कि दुनिया में पैसा कैसा है सबसे पह

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  255
WhatsApp_icon
user

अनिल कुमार मिश्रा

पुजारी,, जन सेवा ,देशी जड़ी द्वारा

1:18
Play

Likes  46  Dislikes    views  916
WhatsApp_icon
user

Ravi Yadav

R.s production

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी कुछ लोगों ने तो काला धंधा किया है और कुछ लोगों ने अपना बिजनेस किया है कुछ लोगों ने दिनांक लगाया है इस तरह से यह दुनिया पैसे वाली बन गई

yah duniya paise wali kaise bani kuch logo ne toh kaala dhandha kiya hai aur kuch logo ne apna business kiya hai kuch logo ne dinank lagaya hai is tarah se yah duniya paise wali ban gayi

यह दुनिया पैसे वाली कैसे बनी कुछ लोगों ने तो काला धंधा किया है और कुछ लोगों ने अपना बिजनेस

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!