अगर भारत में जाती धर्म नहीं होता तो भारत कैसा होता?...


user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सही है कि जो जाति व्यवस्था हमारे देश में प्रचलित है उसने हमारी देश की समृद्धि को डेवलपमेंट को भाईचारे को काफी हद तक सेट किया है लेकिन यह जो जाति व्यवस्था है यह इस तरीके से देखा जाता क्लास सिस्टम है मतलब लोगों को अलग अलग क्लास में बांटने का और यह पुराने सिस्टम में हजारों साल पहले जब भी सिस्टम शुरू किया गया तो यह भी गाली था प्रोफेशन के पैसे से मतलब कि आदमी जो काम करे उस हिसाब से उसकी जाति का निर्धारण हो तो अगर आदमी उसकी जाति भी ऑटोमेटिक भी बदल जाना चाहिए ब्राह्मण का काम है पढ़ाना छतरी का काम है युद्ध करना और बढ़िया का काम है मालिया व्यापार करना तो जब भी आपने चेंज किया अपना प्रोफेशन तो आपकी जाति चेंज में आनी चाहिए जो लोग जो है वही काम करते थे उनके पेरेंट्स करते थे तो जाति व्यवस्था जो है वह प्रोफेशन के बजाय वह आपकी जन्म के बीच होने लगी और जब जन्म की विशेषता इस तरीके से उसका कोई निदान बाकी नहीं रहेगा वर्ष के हिसाब से जो व्यवस्था हो गई यह चीज जो है यह प्रैक्टिस वह बाजार से किसका ओरिजिनल ज्वाइन टेंशन था इसके चश्मा हुआ है इसका एक पॉजिटिव साइड यह था कि अगर आप की जनरेशन भाई जनरेशन अगर एक ही प्रोफेशन करती है तो डेफिनेटली आप उस फील्ड में सप्लाई हो जाएंगे तो जैसे ब्राह्मण हैं वह पढ़ने में सप्लाई हो गए क्षत्रिय युद्ध करने में स्पष्ट हो गया और वैश्य व्यापार में स्पेशल आई हो गया आज भी आप देखें तो बहुत सारे जो व्यापारियों को व्यस्त हैं लेकिन जो अभी व्यवस्था जिसको हमें बदलने की जरूरत है और इस तरीके

yeh sahi hai ki jo jati vyavastha hamare desh mein prachalit hai usne hamari desh ki samridhi ko development ko bhaichare chahiye ko kaafi had tak set kiya chahiye hai lekin yeh jo jati vyavastha hai yeh is tarike se dekha jata class system hai matlab logo chahiye ko alag alag class mein baantne ka chahiye aur yeh purane system mein hajaron chahiye saal pehle jab bhi system shuru kiya chahiye gaya to yeh bhi gaali tha profession ke paise se matlab ki aadmi jo kaam kare us chahiye hisab se uski jati ka chahiye nirdharan ho to agar aadmi uski jati bhi Automatic bhi badal jana chahiye brahman ka chahiye kaam hai padhana chatri ka chahiye kaam hai yudh karna aur badhiya ka chahiye kaam hai malia vyapar karna to jab bhi aapne change kiya chahiye apna profession to aapki jati change mein aani chahiye chahiye jo log jo hai wahi kaam karte the unke parents karte the to jati vyavastha jo hai wah profession ke bajay wah aapki janm ke bich hone lagi aur jab janm ki visheshata is tarike se uska koi nidan baki nahi rahega varsh ke hisab se jo vyavastha ho gayi yeh cheez jo hai yeh practice wah bazar se kiska original join tension tha iske chashma hua hai iska ek chahiye positive side yeh tha ki agar aap ki generation bhai generation agar ek chahiye hi profession karti chahiye hai to definetli aap us chahiye field mein supply ho jaenge to jaise brahman hai wah padhne mein supply ho gaye kshatriy yudh karne mein spasht ho gaya aur vaiishay vyapar mein special I ho gaya aaj bhi aap dekhen to bahut sare jo vyapariyon ko vyasta hai lekin jo abhi vyavastha jisko hume badalne ki zarurat hai aur is tarike

यह सही है कि जो जाति व्यवस्था हमारे देश में प्रचलित है उसने हमारी देश की समृद्धि को डेवलपम

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  1261
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
chinta chita saman vishay par apne vichar likhiye ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!