अगर भारत में जाती धर्म नहीं होता तो भारत कैसा होता?...


user

Amit Chowdhry

Operational Head

6:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं धन्यवाद करना चाहूंगा जिस तरह का प्रश्न आपने पूछा यह प्रश्न अपने आप में बहुत ही अद्भुत है और इसके ऊपर विचार होना चाहिए भारतवर्ष में जहां तक मैं अपने क्योंकि मैं जिस धर्म से बिलॉन्ग करता हूं और जिस माहौल जी पर चल रहा हूं उसमें कॉल जी की ही चीजों का में विवेचना करना चाहूंगा उससे मैंने पढ़ी हुई है परंतु मुझे विश्वास है कि दूसरे धर्म में भी सेमी चीजें होंगी पहले हम क्या करते हैं जाति और धर्म को दो भागों में जाकर विभाजित कर देते हैं की जाति क्या है और धर्म क्या है धर्म को विवेचना करते हैं धर्म की विवेचना करें धर्म अपने आप में इतना पूछा कि इतने कम शब्दों में इसकी विवेचना कर पाना ही अपने आप में एक कठिन कार्य है क्योंकि अगर आप धर्म के ऊपर डिस्कशन कर रहे हैं जाओगे तो शायद कई दिन बिक जायेंगे और यह डिस्कशन मेरे विचार से धर्म एक ऐसा सन्मार्ग है एक ऐसी सशक्त शक्ति है जो कि आपको अपनी मंजिल तक पहुंचने में सहायता प्रदान करती है सहायता प्रदान करने के साथ-साथ आपको एक रास्ता दिखाती है जब आप अकेले होते हो तो आप का साथ देती है यह आत्मविश्वास पैदा करती है कि कोई तो है मेरे साथ और एक ऐसी शक्ति प्रदान करती है कि कोई भी नहीं होगा मेरे साथ तो भी ऊपर वाला होगा मेरे साथ तो धर्म अपने आप में एक ऐसा पूर्ण चीज है एक ऐसा शब्द है जो स्वयं ही सत्य है हर किसी को किसी ना किसी चीज के लिए जरूरत पड़ती है आगे बढ़ने के लिए 1 मार्च दर्शक की जरूरत होती है धर्म को एक मार्गदर्शक है वह पाते वो किताब है आप कह सकते हो जिसको पढ़ कर आप सन्मार्ग पर चल सकते हो अब हम आते हैं जाति पर जाति क्या है जाति देखिए अगर मैं रामायण के काल में जा कर के देखो तो शाम बाल्मीकि जी क्या थे और बाद में वह क्या बने ऐसे महर्षि बने कि स्वयं माता सीता ने जा कर के उनके यहां अपना समय व्यतीत कर और लव कुश ने उनसे शिक्षा दी स्वयं राम जी ने उनको नमन करा श्रम रामचंद्र जी क्या थे क्षत्रिय थे उन्होंने कई वर्षों तक अपने राज्य का संचालन किया राज के संचालन में हम सभी को पता है कि इनॉमिक्स आती आती है तो उन्होंने वैश्विक धर्म का भी पालन किया विष्णु मंत्र क्या है क्षत्रिय थे और उन्होंने क्या करें विश्वामित्र जी ने शिक्षा प्रदान करें और वह एक महा ऋषि है समय से कई दाम पर मिल जाते हैं कि स्वयं श्री राम ने लंका का अधिपति लंकेश के उपरांत उन्हीं के छोटे भाई विभीषण को बना दिया था वह एक राक्षस कुल के थे केवट जो कि आगे चलकर भगवान श्याम राम ने उनको राजा जी केवट क्या करके पुकारा धर्म का विश्लेषण करें तो हमें एक ही बात में बोल देते हैं जाति और धर्म धर्म एक अलग विषय है और जातीय कलर है जाती मेरे अनुसार लोगों ने अपनी सुविधा के लिए बना ली कि हम पीड़ित पीडी हमारी इसी जाति के हिसाब से चलती रहे और जिससे उस जो सुख और वह हम प्राप्त कर रहे हो वैसे ही चलता रहे अब कई लोग यह कहते हैं कि हम लोगों को 4 जातियों में विभाजित किया ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र यह जो जातियों में विभाजित किया गया था यह लोगों के कार्यों के अनुसार विभाजित किया गया था और यह इसलिए था कि अगर आप यह सोचो कि अगर हमने जो जिस तरह हम काम करेंगे उस तरह की चीजों में हम चले जाएंगे अब वहां पर क्या हुआ धीरे धीरे जैसे-जैसे वंशावली आगे बढ़ती चली गई राजा का बेटा राजा हो गया वकील का बेटा वकील हो गया व्यास का बेटा मैं सो गया वैसे-वैसे जातियों में परिवर्तन होता चला गया उन्होंने एक जाति के रूप दे दिया और जाति का रूप देने का एक अब इसके बेनिफिट डे के हर एक चीज के हैं और फायदे भी दोनों चीजों के नुकसान भी दोनों की जो बेनिफिट था वह यह था कि लोगों को जो है इसके स्पेशलाइजेशन आ जाएगा और स्कूल सेट आपको अपने बेटे को देते हुए और सिखाते हुए खुशी होगी तो आप उसे चुप आओगे नहीं तो वह आगे बढ़ने की प्रक्रिया शुरू हो जाती नुकसान क्या हुआ कि आगे जाकर के यह जातियां भी कई सारी जाते हैं / हो गई जो आपस में ही कई सारे विभिन्न विषयों पर विवादास्पद तरीके से लड़ने लगी और पतन का कारण भी हो रहा है मनुष्य के पतन का कारण में जाति का एक प्रमुख योगदान है और यह जाति यही एक ऐसी जाती है जो कि रामराज्य की स्थापना ना करने देने के लिए सर्वप्रथम महत्वपूर्ण है और मैं इसको इसलिए कहता हूं कि जब श्रीराम ने अपने टाइम पर इस तरह की चीजों को नहीं माना और उन्होंने स्वयं रामायण में वाल्मीकि जी ने लिखा है वाल्मीकि कृत रामायण की सारी चीजें उन्होंने लिख दी है और उन्होंने स्वयं कई सारे एग्जांपल भी उसमें दे रखे हो तो फिर आज की डेट में हम लोग हां मैं यह जरूर कहूंगा कि रामराज की स्थापना के लिए सबको समान अधिकार देना बहुत जरूरी है जब आप सबको समान अधिकार दोगे और सब की तरक्की के लिए एक समान है और अच्छा एक वातावरण उत्पन्न करोगे तो राम राज्य जरूर आएगा और भारत का उत्थान अवश्य होगा धन्यवाद

dekhiye main dhanyavad karna chahunga jis tarah ka prashna aapne poocha yah prashna apne aap mein bahut hi adbhut hai aur iske upar vichar hona chahiye bharatvarsh mein jaha tak main apne kyonki main jis dharm se Belong karta hoon aur jis maahaul ji par chal raha hoon usme call ji ki hi chijon ka mein vivechna karna chahunga usse maine padhi hui hai parantu mujhe vishwas hai ki dusre dharm mein bhi semi cheezen hongi pehle hum kya karte hain jati aur dharm ko do bhaagon mein jaakar vibhajit kar dete hain ki jati kya hai aur dharm kya hai dharm ko vivechna karte hain dharm ki vivechna kare dharm apne aap mein itna poocha ki itne kam shabdon mein iski vivechna kar paana hi apne aap mein ek kathin karya hai kyonki agar aap dharm ke upar discussion kar rahe hain jaoge toh shayad kai din bik jayenge aur yah discussion mere vichar se dharm ek aisa sanmarg hai ek aisi sashakt shakti hai jo ki aapko apni manjil tak pahuchne mein sahayta pradan karti hai sahayta pradan karne ke saath saath aapko ek rasta dikhati hai jab aap akele hote ho toh aap ka saath deti hai yah aatmvishvaas paida karti hai ki koi toh hai mere saath aur ek aisi shakti pradan karti hai ki koi bhi nahi hoga mere saath toh bhi upar vala hoga mere saath toh dharm apne aap mein ek aisa purn cheez hai ek aisa shabd hai jo swayam hi satya hai har kisi ko kisi na kisi cheez ke liye zarurat padti hai aage badhne ke liye 1 march darshak ki zarurat hoti hai dharm ko ek margadarshak hai vaah paate vo kitab hai aap keh sakte ho jisko padh kar aap sanmarg par chal sakte ho ab hum aate hain jati par jati kya hai jati dekhiye agar main ramayana ke kaal mein ja kar ke dekho toh shaam balmiki ji kya the aur baad mein vaah kya bane aise maharshi bane ki swayam mata sita ne ja kar ke unke yahan apna samay vyatit kar aur love kush ne unse shiksha di swayam ram ji ne unko naman kara shram ramachandra ji kya the kshatriya the unhone kai varshon tak apne rajya ka sanchalan kiya raj ke sanchalan mein hum sabhi ko pata hai ki inamiks aati aati hai toh unhone vaishvik dharm ka bhi palan kiya vishnu mantra kya hai kshatriya the aur unhone kya kare vishwamitra ji ne shiksha pradan kare aur vaah ek maha rishi hai samay se kai daam par mil jaate hain ki swayam shri ram ne lanka ka adhipati lankesh ke uprant unhi ke chote bhai vibhishan ko bana diya tha vaah ek rakshas kul ke the kevat jo ki aage chalkar bhagwan shyam ram ne unko raja ji kevat kya karke pukaara dharm ka vishleshan kare toh hamein ek hi baat mein bol dete hain jati aur dharm dharam ek alag vishay hai aur jatiye color hai jaati mere anusaar logo ne apni suvidha ke liye bana li ki hum peedit PD hamari isi jati ke hisab se chalti rahe aur jisse us jo sukh aur vaah hum prapt kar rahe ho waise hi chalta rahe ab kai log yah kehte hain ki hum logo ko 4 jaatiyo mein vibhajit kiya brahman kshatriya vaiishay aur shudra yah jo jaatiyo mein vibhajit kiya gaya tha yah logo ke karyo ke anusaar vibhajit kiya gaya tha aur yah isliye tha ki agar aap yah socho ki agar humne jo jis tarah hum kaam karenge us tarah ki chijon mein hum chale jaenge ab wahan par kya hua dhire dhire jaise jaise vanshavali aage badhti chali gayi raja ka beta raja ho gaya vakil ka beta vakil ho gaya vyas ka beta main so gaya waise waise jaatiyo mein parivartan hota chala gaya unhone ek jati ke roop de diya aur jati ka roop dene ka ek ab iske benefit day ke har ek cheez ke hain aur fayde bhi dono chijon ke nuksan bhi dono ki jo benefit tha vaah yah tha ki logo ko jo hai iske specialisation aa jaega aur school set aapko apne bete ko dete hue aur sikhaate hue khushi hogi toh aap use chup aaoge nahi toh vaah aage badhne ki prakriya shuru ho jaati nuksan kya hua ki aage jaakar ke yah jatiya bhi kai saree jaate hain ho gayi jo aapas mein hi kai saare vibhinn vishyon par vivadaspad tarike se ladane lagi aur patan ka karan bhi ho raha hai manushya ke patan ka karan mein jati ka ek pramukh yogdan hai aur yah jati yahi ek aisi jaati hai jo ki ramrajya ki sthapna na karne dene ke liye sarvapratham mahatvapurna hai aur main isko isliye kahata hoon ki jab shriram ne apne time par is tarah ki chijon ko nahi mana aur unhone swayam ramayana mein valmiki ji ne likha hai valmiki krit ramayana ki saree cheezen unhone likh di hai aur unhone swayam kai saare example bhi usme de rakhe ho toh phir aaj ki date mein hum log haan main yah zaroor kahunga ki ramraj ki sthapna ke liye sabko saman adhikaar dena bahut zaroori hai jab aap sabko saman adhikaar doge aur sab ki tarakki ke liye ek saman hai aur accha ek vatavaran utpann karoge toh ram rajya zaroor aayega aur bharat ka utthan avashya hoga dhanyavad

देखिए मैं धन्यवाद करना चाहूंगा जिस तरह का प्रश्न आपने पूछा यह प्रश्न अपने आप में बहुत ही अ

Romanized Version
Likes  325  Dislikes    views  4800
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
chinta chita saman vishay par apne vichar likhiye ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!