भारत में आने वाली बुलेट ट्रेन को क्या आप सही मानते हैं, जबकि देश की 95% आबादी इसको अफ़ॉर्ड नहीं कर सकती, या मोदी जी का यह एक वोट बटोरने वाला प्रोजेक्ट है?...


play
user

RAM SINGH

Politician

0:19

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बुलेट ट्रेन जो है उसे देश का विकास ही होगा अरे भाई कुछ लोग तो शौकिया होंगे पैसा किसके पास नहीं आज सभी लोग आज आज देखिए हवाई जहाज से ज्यादा से ज्यादा बहुत चंद लोग चल पाते थे आज हवाई जहाज में जान लीजिए कि 50 परसेंट लोग उड़ान भरने की तैयारी नहीं है

bullet train jo hai use desh ka vikas hi hoga are bhai kuch log toh shaukiya honge paisa kiske paas nahi aaj sabhi log aaj aaj dekhiye hawai jahaj se zyada se zyada bahut chand log chal paate the aaj hawai jahaj mein jaan lijiye ki 50 percent log udaan bharne ki taiyari nahi hai

बुलेट ट्रेन जो है उसे देश का विकास ही होगा अरे भाई कुछ लोग तो शौकिया होंगे पैसा किसके पास

Romanized Version
Likes  78  Dislikes    views  1525
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:30
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं आपकी बात से पूर्ण रुप से सहमत हूं कि हमारे देश में जो बुलेट ट्रेन मोदी जी ला रहे हैं और जिसके लिए जापान से भारी भरकम कर्ज भी लिया जा रहा है उसकी हमारे देश में कोई आवश्यकता नहीं है क्योंकि इस का टिकट ऑलरेडी बहुत ज्यादा महंगा होगा और हो सकता है फ्लाइट के किराए से भी महंगा तू अगर कोई व्यक्ति फ्लाइट से कम समय में एक जगह से दूसरे जगह पर पहुंच सकता है तो फिर वह बुलेट ट्रेन में अधिक पैसे देकर और ज्यादा समय लगा कर क्यों जाना चाहेगा इसके अलावा आज हमारे देश में जो रेल व्यवस्था है उसकी हालत सभी को पता है आए दिन रेल दुर्घटनाएं हो रही है कोई भी ट्रेन सही समय पर नहीं चल पाती ट्रेनों में मिलने वाला खाना निम्न स्तर का होता है यात्रियों को सही सुविधाएं नहीं मिल पाती और साफ-सफाई की तो बात आप थोड़ी दीजिए तो इसी वजह से मुझे लगता है कि बुलेट ट्रेन बस वोट पाने का एक जरिया है जिसका मोदी सरकार इस्तेमाल कर रही है और अभी हमारे देश में वर्तमान जो रेल गाड़ियां चलती हैं उनकी स्थिति ही अग्रसर का शुद्ध कर देती तो ज्यादा बेहतर होगा क्योंकि ज्यादातर जो लोग हैं वह जनरल कैटेगरी से ट्रैवल करते हैं स्लीपर बोगियों में जाते हैं इसी डब्बों में भी लोग कम ही ट्रैवल करते हैं या फिर जो पैसे वाले हैं वही चाहते हैं इसी वजह से मुझे लगता है कि भारत के आम नागरिकों के बारे में सोचते हुए मोदी सरकार को वर्तमान रेलवे की हालत सुधारने के बारे में सोचना चाहिए था ना कि नई बुलेट ट्रेन लाने के बारे में और यह बिलकुल वोट बैंक की राजनीति के तहत किया जाने वाला एक काम है

main aapki baat se purn roop se sahmat hoon ki hamare desh mein jo bullet train modi ji la rahe hain aur jiske liye japan se bhari bharakam karj bhi liya ja raha hai uski hamare desh mein koi avashyakta nahi hai kyonki is ka ticket already bahut zyada mehnga hoga aur ho sakta hai flight ke kiraye se bhi mehnga tu agar koi vyakti flight se kam samay mein ek jagah se dusre jagah par pohch sakta hai toh phir vaah bullet train mein adhik paise dekar aur zyada samay laga kar kyon jana chahega iske alava aaj hamare desh mein jo rail vyavastha hai uski halat sabhi ko pata hai aaye din rail durghatanaen ho rahi hai koi bhi train sahi samay par nahi chal pati traino mein milne vala khana nimn sthar ka hota hai yatriyon ko sahi suvidhaen nahi mil pati aur saaf safaai ki toh baat aap thodi dijiye toh isi wajah se mujhe lagta hai ki bullet train bus vote paane ka ek zariya hai jiska modi sarkar istemal kar rahi hai aur abhi hamare desh mein vartaman jo rail gadiyan chalti hain unki sthiti hi agrasar ka shudh kar deti toh zyada behtar hoga kyonki jyadatar jo log hain vaah general category se travel karte hain sleeper bogiyon mein jaate hain isi dabbon mein bhi log kam hi travel karte hain ya phir jo paise waale hain wahi chahte hain isi wajah se mujhe lagta hai ki bharat ke aam nagriko ke bare mein sochte hue modi sarkar ko vartaman railway ki halat sudhaarne ke bare mein sochna chahiye tha na ki nayi bullet train lane ke bare mein aur yah bilkul vote bank ki raajneeti ke tahat kiya jaane vala ek kaam hai

मैं आपकी बात से पूर्ण रुप से सहमत हूं कि हमारे देश में जो बुलेट ट्रेन मोदी जी ला रहे हैं औ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

1:27
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कल की भारत में जो बुलेट ट्रेन आ रहा है क्या सही मानते कि नहीं बिल्कुल सही मानते हैं कि कब इसलिए कुछ रिप्लेसमेंट हो रहा है कुछ अच्छी चीजें आ रही है तो अवश्य ही अच्छा है जहां तक हम बात करते हैं कपड़े बल्कि सपोर्ट कर सकते हैं नहीं कर सकते तो देखिए इंडिया में इतनी इतनी पॉपुलेशन है वह फ्लाइट की बात कर चुकी है 9:00 बजे ट्रेन से सब महंगा फेरी फुल होता है तभी ट्रेवल करने वाले लोग हैं और बिजली और जिनको की टाइम की बहुत ज्यादा कदर होती है और जल्दी पहुंचना है और और फोन जरुर कर सकते हैं ऐसा नहीं कर सकते जो प्राइस हो गया जिसमें प्राइस होगा बहुत ज्यादा तो नहीं होगा इस दूसरे कंट्री में है जहां पर सिर्फ बैटरी नहीं चलती जवानी सरकी जो कंट्री में बैटरी ज्यादा चलती है तो असली रेट डीजल रेट होता है यहां पर कुछ रेट होगा अभी तो आए नहीं आने के बाद ही डेट भी रहता है होता है अभी पहले से हम वह नहीं कर सकते कितना रेट होगा और बिजली सोए कि जो ट्रेन आती है तो डेज ओरिजिनल रखा जाएगा नाटक बात नहीं वोट बटोरने के लिए हर चीज को पॉलिटिक्स नहीं जोड़ सकते ठीक है और कुछ डेवलपमेंट हो रहा है तो उसके पति बोलेंगे कि गांव में कुछ नहीं हो रहा है उसके पति बोले कि कॉमेंट जिम्मेदार है तभी यह कहना मुझे लगता नहीं है सही होगा कि वोट मांगने के लिए प्रोजेक्ट प्रोजेक्ट नहीं है उसके साथ नहीं जोत जागी ज्यादा बेहतर होगा

kal ki bharat mein jo bullet train aa raha hai kya sahi maante ki nahi bilkul sahi maante hain ki kab isliye kuch replacement ho raha hai kuch achi cheezen aa rahi hai toh avashya hi accha hai jaha tak hum baat karte hain kapde balki support kar sakte hain nahi kar sakte toh dekhiye india mein itni itni population hai vaah flight ki baat kar chuki hai 9 00 baje train se sab mehnga pheri full hota hai tabhi travel karne waale log hain aur bijli aur jinako ki time ki bahut zyada kadar hoti hai aur jaldi pahunchana hai aur aur phone zaroor kar sakte hain aisa nahi kar sakte jo price ho gaya jisme price hoga bahut zyada toh nahi hoga is dusre country mein hai jaha par sirf battery nahi chalti jawaani sarki jo country mein battery zyada chalti hai toh asli rate diesel rate hota hai yahan par kuch rate hoga abhi toh aaye nahi aane ke baad hi date bhi rehta hai hota hai abhi pehle se hum vaah nahi kar sakte kitna rate hoga aur bijli soye ki jo train aati hai toh days original rakha jaega natak baat nahi vote batorane ke liye har cheez ko politics nahi jod sakte theek hai aur kuch development ho raha hai toh uske pati bolenge ki gaon mein kuch nahi ho raha hai uske pati bole ki comment zimmedar hai tabhi yah kehna mujhe lagta nahi hai sahi hoga ki vote mangne ke liye project project nahi hai uske saath nahi jot jaagi zyada behtar hoga

कल की भारत में जो बुलेट ट्रेन आ रहा है क्या सही मानते कि नहीं बिल्कुल सही मानते हैं कि कब

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मान लेते हैं अभी कि भारत में बुलेट ट्रेन आ जाती है अगले 2 से 3 या 5 साल के अंदर भी बुलेट ट्रेन भारत में आ जाती है 95% जनता है उसको सपोर्ट नहीं कर सकती है तो आज यह भी हम मान सकते हैं कि इंडिया में मान्यता का 95% में 35% जो चलता है या फिर 75% जनता है वह तो प्रेम व्यापार नहीं कर पाती तो हम यह भी कह सकती कि प्रताप लेना फोन नहीं कर सकती तो हमारे देश में प्लेन क्यों चलते हैं हमारे देश में मां ऐसी भी बहुत सारी होटल्स हैं ताज होटल जिसमें हंड्रेड परसेंट है 29% जनता फोन नहीं कर सकती तो हम यह भी कह सकते हैं कि जब यह रेस्टोरेंट जो है कि जनता पार्टी नहीं कर सकती है तो फिर क्यों यह रेस्टोरेंट चलते हैं रेस्टोरेंट बंद करके इनका पैसा जो है वह लगा देना चाहिए गरीबों की भलाई करने के लिए तो ऐसी बहुत सारी चीजें हम मानते हैं कि यह सरकार की खर्च पर आ रहा है तो एक तरीके से 95% जनता फोन नहीं कर सकती तो यह थोड़ा गलत हो सकता है लेकिन देखिए तो आज का घर अलग नजरिया हम देखें तो हर चीज का देश में प्राइवेटाइजेशन हो रहा है प्लीज का एयर इंडिया का CM गवर्नमेंट का बाकी जो SpiceJet है गुर्जर है Indigo है इशारे तो प्राइवेट आई है यह सारे अपने अलग अलग होना चला रहे हैं तो अगर एक बार टेक्नोलॉजी आ जाती हमारे देश के अंदर की बुलेट ट्रेन की टेक्नोलॉजी देश के अंदर आ जाती है तू कहीं भी प्रॉपर टाइट हो जाए यह भी प्राइवेट आईज हो जाएगी तो सारी कंपनियां अलग-अलग उम्र से अपने-अपने मेट्रो ट्रेन निकाल पाएंगे अगर गवर्नमेंट स्कोर प्राइवेट टाइप करने की परमिशन दे दे अगर अलग-अलग कंपनियों इसकी अपने-अपने डिटेल निकालेंगे तो इससे जो कंपटीशन है वह पड़ेगा कंपटीशन बढ़ने से जनता का सबसे ज्यादा फायदा होता है किसमें प्राइस से जो है काटेंगे तो अगर आज पॉसिबल नहीं है तो क्या कल भी भारत भारतीय जो है वह अमीर नहीं हो सकते हैं ऐसा तो नहीं है कल अमीर होंगे कल जब अमीर होंगे उसके बाद तो मिस नहीं सो सकते क्या अब हम अमीर हो गए अब हमें अगले 5 साल लगेंगे कि मेट्रो 13 अंबा बैठे हैं तू अगर पहले से मेट्रो ट्रेन है अभी अगर नहीं कोई चढ़ पा रहा तो कोई से पूछ तो नहीं कर रहा जनता को कि नहीं तुम्हारे पास पैसे नहीं तो तुम चाहे वो

maan lete hain abhi ki bharat mein bullet train aa jaati hai agle 2 se 3 ya 5 saal ke andar bhi bullet train bharat mein aa jaati hai 95 janta hai usko support nahi kar sakti hai toh aaj yah bhi hum maan sakte hain ki india mein manyata ka 95 mein 35 jo chalta hai ya phir 75 janta hai vaah toh prem vyapar nahi kar pati toh hum yah bhi keh sakti ki pratap lena phone nahi kar sakti toh hamare desh mein plane kyon chalte hain hamare desh mein maa aisi bhi bahut saree hotels hain taj hotel jisme hundred percent hai 29 janta phone nahi kar sakti toh hum yah bhi keh sakte hain ki jab yah restaurant jo hai ki janta party nahi kar sakti hai toh phir kyon yah restaurant chalte hain restaurant band karke inka paisa jo hai vaah laga dena chahiye garibon ki bhalai karne ke liye toh aisi bahut saree cheezen hum maante hain ki yah sarkar ki kharch par aa raha hai toh ek tarike se 95 janta phone nahi kar sakti toh yah thoda galat ho sakta hai lekin dekhiye toh aaj ka ghar alag najariya hum dekhen toh har cheez ka desh mein privatisation ho raha hai please ka air india ka CM government ka baki jo SpiceJet hai gurjar hai Indigo hai ishare toh private I hai yah saare apne alag alag hona chala rahe hain toh agar ek baar technology aa jaati hamare desh ke andar ki bullet train ki technology desh ke andar aa jaati hai tu kahin bhi proper tight ho jaaye yah bhi private eyes ho jayegi toh saree companiya alag alag umr se apne apne metro train nikaal payenge agar government score private type karne ki permission de de agar alag alag companion iski apne apne detail nikalenge toh isse jo competition hai vaah padega competition badhne se janta ka sabse zyada fayda hota hai kisme price se jo hai katenge toh agar aaj possible nahi hai toh kya kal bhi bharat bharatiya jo hai vaah amir nahi ho sakte hain aisa toh nahi hai kal amir honge kal jab amir honge uske baad toh miss nahi so sakte kya ab hum amir ho gaye ab hamein agle 5 saal lagenge ki metro 13 amba baithe hain tu agar pehle se metro train hai abhi agar nahi koi chad paa raha toh koi se puch toh nahi kar raha janta ko ki nahi tumhare paas paise nahi toh tum chahen vo

मान लेते हैं अभी कि भारत में बुलेट ट्रेन आ जाती है अगले 2 से 3 या 5 साल के अंदर भी बुलेट ट

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  113
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!