सबको पता होता है नेता झूठे होते है तब भी लोग वोट उन्हें ही देते है क्यों?...


play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां आपकी बात बिल्कुल सही है और मुझे लगता है यही इंसानी फितरत की सबसे बड़ी कमजोरी भी है कि वह कई बार जानते-बूझते मुझे दी वही काम करता है जो उसे नहीं करना चाहिए लेकिन आज परिस्थितियां बदल गई है आज हमारे देश की ज्यादा जनता युवा है पहले हमारे देश में शिक्षा का अभाव था लोग शिक्षित नहीं थी उन्हें पता नहीं था कि उन्हें क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए वह सिर्फ सुनी सुनाई बातों पर और लोगों के कहे अनुसार अपना मस्त डाल देते थे और अपना विचार उदी उदी मोड़ लेते थे लेकिन आज की जनता जागरुक है आज व्यक्ति को समझ है कि उसे अपना वोट किसे देना चाहिए और इसीलिए अभी भी आपने देखा होगा कि 2015 के जो चुनाव में बीजेपी बहुमत से जीती है वह जनता की जागरूकता का ही नतीजा है और उसके बाद कहीं जगह उपचुनाव में जो अलग-अलग नतीजे आए वह भी जनता की जागरूकता का नतीजा है जनता जानती है कि अगर इस प्रदेश के प्रतिनिधि ने सही काम नहीं किया है तो हमें उस से नकारना है हमें वोट नहीं देना है और यही एकजुटता अगर और बढ़ जाए लोग आपस में एक दूसरे को समझ कर और एक सही प्रतिनिधि को चुने तो जरूर यह चीज धीरे-धीरे खत्म हो जाएगी हालांकि पहले के मुकाबले आज की छुट्टी खत्म हो गई है जनता जागरुक हो गई है जनता को समझ आने लगा है कि कौन सा नेता उसे चुनना चाहिए जो उसके प्रदेश के लिए देश के लिए और जनता की भलाई और विकास के लिए काम करें इसलिए मुझे लगता है कि पहले के मुकाबले अब जनता जाग गई है उसे अपने मत का महत्व पता चल गया है और वो उन नेताओं को नकार रही है जो भ्रष्टाचारी हैं अपराधी हैं और जो किसी भी तरह से देश के विकास में हो जाए तो जरूर यह कि धीरे-धीरे खत्म हो जाएगी हालांकि पहले के मुकाबले आज की छुट्टी खत्म हो गई है जनता जागरुक हो गई है जनता को समझ आने लगा है कि कौन सा नेता उसे चुनना चाहिए जो उसके पर इसके लिए देश के लिए और जनता की भलाई और विकास के लिए काम करें इसलिए मुझे लगता है कि पहले के मुकाबले अब जनता जाग गई है उसे अपने मत का महत्व पता चल गया है और वो उन नेताओं को नकार रही है जो भ्रष्टाचारी हैं अपराधी हैं और जो किसी भी तरह से देश के विकास में और जनता की भलाई के लिए काम नहीं कर

ji haan aapki baat bilkul sahi hai aur mujhe lagta hai yahi insani phitarat ki sabse badi kamzori bhi hai ki vaah kai baar jante bujhte mujhe di wahi kaam karta hai jo use nahi karna chahiye lekin aaj paristhiyaann badal gayi hai aaj hamare desh ki zyada janta yuva hai pehle hamare desh mein shiksha ka abhaav tha log shikshit nahi thi unhe pata nahi tha ki unhe kya karna chahiye aur kya nahi karna chahiye vaah sirf suni sunayi baaton par aur logo ke kahe anusaar apna mast daal dete the aur apna vichar udi udi mod lete the lekin aaj ki janta jagruk hai aaj vyakti ko samajh hai ki use apna vote kise dena chahiye aur isliye abhi bhi aapne dekha hoga ki 2015 ke jo chunav mein bjp bahumat se jeeti hai vaah janta ki jagrukta ka hi natija hai aur uske baad kahin jagah upchunav mein jo alag alag natije aaye vaah bhi janta ki jagrukta ka natija hai janta jaanti hai ki agar is pradesh ke pratinidhi ne sahi kaam nahi kiya hai toh hamein us se nakarana hai hamein vote nahi dena hai aur yahi ekjutata agar aur badh jaaye log aapas mein ek dusre ko samajh kar aur ek sahi pratinidhi ko chune toh zaroor yah cheez dhire dhire khatam ho jayegi halaki pehle ke muqable aaj ki chhutti khatam ho gayi hai janta jagruk ho gayi hai janta ko samajh aane laga hai ki kaun sa neta use chunana chahiye jo uske pradesh ke liye desh ke liye aur janta ki bhalai aur vikas ke liye kaam kare isliye mujhe lagta hai ki pehle ke muqable ab janta jag gayi hai use apne mat ka mahatva pata chal gaya hai aur vo un netaon ko nakar rahi hai jo bhrashtachaari hain apradhi hain aur jo kisi bhi tarah se desh ke vikas mein ho jaaye toh zaroor yah ki dhire dhire khatam ho jayegi halaki pehle ke muqable aaj ki chhutti khatam ho gayi hai janta jagruk ho gayi hai janta ko samajh aane laga hai ki kaun sa neta use chunana chahiye jo uske par iske liye desh ke liye aur janta ki bhalai aur vikas ke liye kaam kare isliye mujhe lagta hai ki pehle ke muqable ab janta jag gayi hai use apne mat ka mahatva pata chal gaya hai aur vo un netaon ko nakar rahi hai jo bhrashtachaari hain apradhi hain aur jo kisi bhi tarah se desh ke vikas mein aur janta ki bhalai ke liye kaam nahi kar

जी हां आपकी बात बिल्कुल सही है और मुझे लगता है यही इंसानी फितरत की सबसे बड़ी कमजोरी भी है

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  128
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!