त्वचा का ख़याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को पसंद क्यों कर र है हैं?...


user

khusi

Ayurvedic Doctor

0:36
Play

Likes  49  Dislikes    views  686
WhatsApp_icon
20 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dr. Rosy

Beauty and Health Expert | Motivational Speaker

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को आसान कर रहे हैं क्यों आप सब को मेरा नमस्कार देखिए बच्चा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को इसलिए पसंद कर रहे हैं क्योंकि इसमें सभी नाचू जी से होती हैं और इसमें कोई केमिकल सी यूज नहीं करते जो स्किन को खराब करते हैं तो जितनी मार्केट में महंगी क्रीम में भी हैं लोशंस भी हैं उन सब में हानिकारक केमिकल से वह जैसे ही स्किन के कोंटेक्ट में आते हैं तरह-तरह की लरजिश थाने कर देते उसके निकाली होनी शुरू हो जाती है और हम बिना सोचे समझे उन्हें यूज करी जाती हैं तो आयुर्वेद जो है वह इन चीजों पर रिप्लाई नहीं करता वह अपनी नेचुरल चीजें यूज़ करता है तो इसलिए लोग आयुर्वेद को पसंद कर रहे हैं उसके जो है रिजल्ट आपको दिख जाते हैं आपका दिन शुभ रहे थे

aapka prashna hai twacha ka khayal rakhne ke liye log ayurveda ko aasaan kar rahe hain kyon aap sab ko mera namaskar dekhiye baccha ka khayal rakhne ke liye log ayurveda ko isliye pasand kar rahe hain kyonki isme sabhi nachu ji se hoti hain aur isme koi chemical si use nahi karte jo skin ko kharab karte hain toh jitni market me mehengi cream me bhi hain loshans bhi hain un sab me haanikarak chemical se vaah jaise hi skin ke contact me aate hain tarah tarah ki larjish thane kar dete uske nikali honi shuru ho jaati hai aur hum bina soche samjhe unhe use kari jaati hain toh ayurveda jo hai vaah in chijon par reply nahi karta vaah apni natural cheezen use karta hai toh isliye log ayurveda ko pasand kar rahe hain uske jo hai result aapko dikh jaate hain aapka din shubha rahe the

आपका प्रश्न है त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को आसान कर रहे हैं क्यों आप सब को म

Romanized Version
Likes  109  Dislikes    views  1309
WhatsApp_icon
user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

0:24
Play

Likes  43  Dislikes    views  592
WhatsApp_icon
user

Kavita

Ayurvedic Doctor

1:09
Play

Likes  9  Dislikes    views  210
WhatsApp_icon
user

Dr Jitesh

Doctor( MD,Homeopathy)

0:08
Play

Likes  3  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Dr. Rajesh Suri

Ayurvedic Doctor

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका सवाल है कि त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को पसंद क्यों करते हैं सर खाली पचा के लिए नहीं पूरे शरीर के लिए लोग आयुर्वेद को पसंद करते हैं और करते रहेंगे क्योंकि आयुर्वेद में ही ऐसी गुण है जो कि हमेशा के लिए रोग से मुक्ति दिला सकते हैं तो आयुर्वेद को ही अपनाया

namaskar aapka sawaal hai ki twacha ka khayal rakhne ke liye log ayurveda ko pasand kyon karte hain sir khaali pacha ke liye nahi poore sharir ke liye log ayurveda ko pasand karte hain aur karte rahenge kyonki ayurveda me hi aisi gun hai jo ki hamesha ke liye rog se mukti dila sakte hain toh ayurveda ko hi apnaya

नमस्कार आपका सवाल है कि त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को पसंद क्यों करते हैं सर

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  508
WhatsApp_icon
user
1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डॉक्टर निशांत सॉन्ग ऑफ नेशंस आयुर्वेदा के दशक का ख्याल रखने के लिए लुगाई को क्यों पसंद कर रहे हैं नाम आशीष है कि आज के टाइम में लोग काफी सदा हेल्थ कॉन्शियस है युवराज के लिए सबको पता है कि क्या खाना चाहिए क्या नहीं खाना चाहिए क्या हमारे लिए अच्छा है क्या हमारे लिए बुरा है लोगों को पता साइड इफेक्ट क्या होते हैं लोगों को पता क्या होते हैं अक्सर से बॉडी में टॉक्सिन क्यों आ जाते हैं तो उनको पता है कि आप आज के टाइम में केमिकल्स के पास आकर रिएक्शन सारी बॉडी के अंदर ईश्वर से कुछ ना कुछ वेट करेगा तो हमारा ही हो आजकल काफी समझदार है इसलिए उनका जो थोड़ा सा झुकाव बढ़ा है वह आयुर्वेदा की तरह पढ़ा है और दूसरे से नहीं है कि उनको अलविदा में कोई साइड इफेक्ट नहीं है ठीक है रवि किशन के सर्जन सोने लगते आवेदक को थोड़ा सा लोगों को समझ में आने लगा है किसी से क्यों बैठे हैं

doctor nishant song of nations ayurveda ke dashak ka khayal rakhne ke liye lugai ko kyon pasand kar rahe hain naam aashish hai ki aaj ke time me log kaafi sada health kanshiyas hai yuvraj ke liye sabko pata hai ki kya khana chahiye kya nahi khana chahiye kya hamare liye accha hai kya hamare liye bura hai logo ko pata side effect kya hote hain logo ko pata kya hote hain aksar se body me toxin kyon aa jaate hain toh unko pata hai ki aap aaj ke time me Chemicals ke paas aakar reaction saari body ke andar ishwar se kuch na kuch wait karega toh hamara hi ho aajkal kaafi samajhdar hai isliye unka jo thoda sa jhukaav badha hai vaah ayurveda ki tarah padha hai aur dusre se nahi hai ki unko alvida me koi side effect nahi hai theek hai ravi kishan ke Surgeon sone lagte avedak ko thoda sa logo ko samajh me aane laga hai kisi se kyon baithe hain

डॉक्टर निशांत सॉन्ग ऑफ नेशंस आयुर्वेदा के दशक का ख्याल रखने के लिए लुगाई को क्यों पसंद कर

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  97
WhatsApp_icon
user

Purbi Dixit

Career Counsellor, Fashion Expert,Social Worker

1:44
Play

Likes  8  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
user

Drmehul_rajgor

Ayurvedic Doctor

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को पसंद क्यों कर रहे हैं यही आपका सवाल है तो इसका सीधा अर्थ यही निकलता है क्या आयुर्वेद हमारी प्राचीन संस्कृति है और आयुर्वेद में कोई ऐसी दवाई है ऐसा केमिकल यूज नहीं होते हैं जो हमारे बॉडी के अंदर हार्मफुल इफ़ेक्ट करें जिससे कोई बॉडी में साइड इफेक्ट हो और आजकल आप देख रहे लोग बहुत सारे केमिकल प्रोडक्ट यूज कर रहे हैं वह सारे केमिकल फेस वॉश फेस की क्रीम के अंदर लाइटनिंग क्रीम व्हाइटनिंग क्रीम पता नहीं क्या क्या क्या आ रहा है तो जिससे दिन भर दिन स्किन बहुत ही खराब हो रही है और वैसे भी देखा जाए तो त्वचा का ख्याल रखने के लिए एलोपैथी में तो कहीं सिटी रोड की क्रीम आ रही है तुष्टि रेट तो और भी हमारी स्किन को डैमेज करता है शुरू शुरू में लहर से ठीक-ठाक हो जाता है बाद में कुछ नहीं होता है ऊपर से वाइट स्किन बहुत बेकार होती है उसके ऑपोजिट देखे तो आयुर्वेद के अंदर स्किन को खराब हो ऐसा कुछ भी नहीं आता है आयुर्वेद 70% की लक्ष्मी होती है हां पर एक है कि आप आयुर्वेद के कोई जानकार से डॉक्टर से उसकी एडवाइज के अनुसार कुछ करेंगे तो आपको हंड्रेड परसेंट फायदा होगा

twacha ka khayal rakhne ke liye log ayurveda ko pasand kyon kar rahe hain yahi aapka sawal hai toh iska seedha arth yahi nikalta hai kya ayurveda hamari prachin sanskriti hai aur ayurveda mein koi aisi dawai hai aisa chemical use nahi hote hain jo hamare body ke andar harmful effect karein jisse koi body mein side effect ho aur aajkal aap dekh rahe log bahut saare chemical product use kar rahe hain wah saare chemical face wash face ki cream ke andar Lightning cream whitening cream pata nahi kya kya kya aa raha hai toh jisse din bhar din skin bahut hi kharab ho rahi hai aur waise bhi dekha jaye toh twacha ka khayal rakhne ke liye allopathy mein toh kahin city road ki cream aa rahi hai tushti rate toh aur bhi hamari skin ko damage karta hai shuru shuru mein lahar se theek thak ho jata hai baad mein kuch nahi hota hai upar se white skin bahut bekar hoti hai uske opposite dekhe toh ayurveda ke andar skin ko kharab ho aisa kuch bhi nahi aata hai ayurveda 70% ki laxmi hoti hai haan par ek hai ki aap ayurveda ke koi janakar se doctor se uski advise ke anusaar kuch karenge toh aapko hundred percent fayda hoga

त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को पसंद क्यों कर रहे हैं यही आपका सवाल है तो इसका

Romanized Version
Likes  93  Dislikes    views  1818
WhatsApp_icon
user

Nidi Sharma

Beauty Blogger|Reviewer|GK

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अखिलेश के ऊपर डिपेंड करता है कि आयुर्वेदा की तरह सोलंकी

akhilesh ke upar depend karta hai ki ayurveda ki tarah solanki

अखिलेश के ऊपर डिपेंड करता है कि आयुर्वेदा की तरह सोलंकी

Romanized Version
Likes  70  Dislikes    views  1159
WhatsApp_icon
user

Dr Kailash Bhatia

Dermatologist

2:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ओबीसी कल ही रीजन क्या है लोगों में अगर इसकी कमी है लोग यह मानते हैं कि आयुर्वेदिक में कोई एलर्जी नहीं होती यार वेरी स्वीट है ना ऐसा कुछ भी नहीं है हमने आप आप आप के हाथों की नींद काफी अच्छा है फैलती है लोग खाते भी हैं उसका पानी भी यूज कर सकते हैं करते हैं लेकिन हमने देखे हैं जिनको नीम डर्मेटाइटिस हुआ है नींद से एलर्जी हुआ है तो ऐसा बात नहीं अल्टीमेटली बॉबी उसमें कुछ केमिकल है जो होराइजन अभी जैसे आप देख रहे हो कि हमारे पास अभी काफी चार पेशेंट आ रहे हैं जो टूथपेस्ट एक पटना टाइप का पोस्ट जो आयुर्वेदिक टूथपेस्ट यूज करते मेदान तो नहीं बताऊंगा यूज करते हैं और उससे मैंने कम से कम 20 या 25 स्टेशन पिछले 1 साल में देखेंगे जिनको सफेद दाग हो गए हो हटके और कुछ रिएक्शन भी एलर्जी होती है एक्स के आस पास वह उसी से पेट सही करने के लिए हम सोच रहे हो सही है कि न तो यह जरूरी नहीं है कि आयुर्वेदिक है तो सिर्फ इतना ही अंश ऐसा कुछ नहीं हुआ है डेटाबेस तैयार नहीं है इसलिए लोग मानते हैं लेकिन जो एलोपैथिक में हर चीज की हर मेडिसिंस कि उसका काफी हर स्टेप पर उसका रिसर्च होती है स्टेप 1234 जब अंधेरा होता है एनिमल्स में स्टडी होती है उसके बाद वॉलिंटियर्स पर स्टडीज होती हैं उसके बाद ह्यूमन बींग के ऊपर स्टडी होती है और पोस्ट मार्केटिंग भी स्टडी होती है तो यह लेवल की स्टडी होती है उसमें अप्रूव होता है जो डायरेक्टर चैनल उसको मेडिसिन चाहिए अप्रूव करता है कि हाईएस्ट एक दवाई है और यह बता जाती तो मार्केट में लाभ होना शुरू हो जाती आयुर्वेदिक दवाई

obc kal hi reason kya hai logo mein agar iski kami hai log yah maante hain ki ayurvedic mein koi allergy nahi hoti yaar very sweet hai na aisa kuch bhi nahi hai humne aap aap aap ke hathon ki neend kaafi accha hai failati hai log khate bhi hain uska paani bhi use kar sakte hain karte hain lekin humne dekhe hain jinako neem darmetaitis hua hai neend se allergy hua hai toh aisa baat nahi altimetli bobby usme kuch chemical hai jo horizon abhi jaise aap dekh rahe ho ki hamare paas abhi kaafi char patient aa rahe hain jo toothpaste ek patna type ka post jo ayurvedic toothpaste use karte medan toh nahi bataunga use karte hain aur usse maine kam se kam 20 ya 25 station pichle 1 saal mein dekhenge jinako safed daag ho gaye ho hatake aur kuch reaction bhi allergy hoti hai x ke aas paas vaah usi se pet sahi karne ke liye hum soch rahe ho sahi hai ki na toh yah zaroori nahi hai ki ayurvedic hai toh sirf itna hi ansh aisa kuch nahi hua hai database taiyar nahi hai isliye log maante hain lekin jo allopathic mein har cheez ki har medisins ki uska kaafi har step par uska research hoti hai step 1234 jab andhera hota hai animals mein study hoti hai uske baad valintiyars par studies hoti hain uske baad human bing ke upar study hoti hai aur post marketing bhi study hoti hai toh yah level ki study hoti hai usme apoorav hota hai jo director channel usko medicine chahiye apoorav karta hai ki highest ek dawai hai aur yah bata jaati toh market mein labh hona shuru ho jaati ayurvedic dawai

ओबीसी कल ही रीजन क्या है लोगों में अगर इसकी कमी है लोग यह मानते हैं कि आयुर्वेदिक में कोई

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  415
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

त्वचा का ख्याल रखने के लिए आयुर्वेदिक उपयोग करें आयुर्वेद को पसंद महत्वता के लिए सहयोग है आयुर्वेद का आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में उन सब लोगों का निराकरण है क्योंकि आयुर्वेद रोज दिया है वह निरापद है उनकी कोई साइड इफेक्ट नहीं है उनमें कोई केमिकल्स नहीं है वैसे ही को हानि नहीं जाती है प्रजा के लिखे हैं जो हमारी की चमड़ी है आयुर्वेद में उसके लिए दवाई भी है इसलिए यानी मालिश करने वाली दवाई है तेल में ओसिया डालकर के उन से बाल झड़ते हैं हॉस्पिटल उसका पूरा निकालते हैं हमारी जो बचा है उस बजे विजातीय पदार्थ संचित हो जाते हैं उत्तर तरीके को किस में हो जाते हैं खाज खुजली फोड़े फुंसी होते हैं अगर हो जाए युक्त तेल की मालिश करने अप सी दाल से व्हाट्सएप डिटॉक्सिंग जमे हैं वह निकलते हैं आपकी टीचर निर्भर हो जाती है तो आयुर्वेद पद्धति हेलो के लिए और जितने लोग हैं उनके लिए जिन्होंने श्री को जीने सेंड कर दिया है आपके ऐसे ही को हानि पहुंचा दीजिए अगर आप योग्य चिकित्सक के माध्यम से उसकी सराहनीय के चिकित्सा करते हैं तो मैं समझता हूं कि ऐसी कोई बीमारी नहीं है जिसकी औषधि आयुर्वेद भारतवर्ष की बहुत प्राचीन है इसका सेवन करने से मिलने को दीर्घायु होता है और स्वस्थ है कृपया अपना जीवन यापन करता है ऐसा मैं मानता हूं धन्यवाद

twacha ka khayal rakhne ke liye ayurvedic upyog kare ayurveda ko pasand mahatvata ke liye sahyog hai ayurveda ka ayurveda chikitsa paddhatee mein un sab logo ka nirakaran hai kyonki ayurveda roj diya hai vaah nirapad hai unki koi side effect nahi hai unmen koi Chemicals nahi hai waise hi ko hani nahi jaati hai praja ke likhe hain jo hamari ki chamadi hai ayurveda mein uske liye dawai bhi hai isliye yani maalish karne wali dawai hai tel mein osia dalkar ke un se baal jhadte hain hospital uska pura nikalate hain hamari jo bacha hai us baje vijatiya padarth sanchit ho jaate hain uttar tarike ko kis mein ho jaate hain khaj khujli phoden phunsi hote hain agar ho jaaye yukt tel ki maalish karne up si daal se whatsapp ditaksingh jame hain vaah nikalte hain aapki teacher nirbhar ho jaati hai toh ayurveda paddhatee hello ke liye aur jitne log hain unke liye jinhone shri ko jeene send kar diya hai aapke aise hi ko hani pohcha dijiye agar aap yogya chikitsak ke madhyam se uski sarahniya ke chikitsa karte hain toh main samajhata hoon ki aisi koi bimari nahi hai jiski aushadhi ayurveda bharatvarsh ki bahut prachin hai iska seven karne se milne ko dirghayu hota hai aur swasthya hai kripya apna jeevan yaapan karta hai aisa main maanta hoon dhanyavad

त्वचा का ख्याल रखने के लिए आयुर्वेदिक उपयोग करें आयुर्वेद को पसंद महत्वता के लिए सहयोग है

Romanized Version
Likes  79  Dislikes    views  902
WhatsApp_icon
user

Dr Ramesh Kumar

Ayurvedic Doctor

0:17
Play

Likes  4  Dislikes    views  109
WhatsApp_icon
user

Dr.Amit Agrahari

Alopathic Ayurvedic Unani Doctor

0:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जहां पर स्क्रीन की प्रॉब्लम याद त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग और वेद को पसंद कर रहे हैं उनकी सबसे बड़ी वजह है कि जो भी एलोपैथिक में क्या स्कीम से रिलेटेड दवाएं आ रही है क्या जो भी केमिकल वगैरह है वह क्या है कि कुछ दिन बाद स्कीम को नुकसान पहुंचा रही हैं एलर्जी उत्पन्न कर रही है और स्किन को बदरंग कर रही है और आयुर्वेद की जहां तक बात है वह और वेद का ट्रीटमेंट बहुत ही बढ़िया है उससे कोई एलर्जी कि नहीं है उसे कोई नुकसान नहीं उसे कोई प्रॉब्लम नहीं आती है कि नहीं होता तो इसी वजह से लोग और वेद की तरफ ज्यादा भाग रहे हैं और और वेद ही ज्यादा बेहतर है ज्यादा बेटर है क्योंकि इसमें कोई केमिकल नहीं है जो भी कुछ है सब नेचुरल है प्राकृतिक है

jaha par screen ki problem yaad twacha ka khayal rakhne ke liye log aur ved ko pasand kar rahe hain unki sabse badi wajah hai ki jo bhi allopathic me kya scheme se related davayain aa rahi hai kya jo bhi chemical vagera hai vaah kya hai ki kuch din baad scheme ko nuksan pohcha rahi hain allergy utpann kar rahi hai aur skin ko badrang kar rahi hai aur ayurveda ki jaha tak baat hai vaah aur ved ka treatment bahut hi badhiya hai usse koi allergy ki nahi hai use koi nuksan nahi use koi problem nahi aati hai ki nahi hota toh isi wajah se log aur ved ki taraf zyada bhag rahe hain aur aur ved hi zyada behtar hai zyada better hai kyonki isme koi chemical nahi hai jo bhi kuch hai sab natural hai prakirtik hai

जहां पर स्क्रीन की प्रॉब्लम याद त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग और वेद को पसंद कर रहे हैं उ

Romanized Version
Likes  249  Dislikes    views  1776
WhatsApp_icon
user

Mhadevanand Sarswati

Spiritual Guru

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दशा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद का इस्तेमाल क्यों कर रहे हैं क्योंकि आयुर्वेद ही सही पद्धति है कि आप अपना अपनी तो साका अपने चेहरे का ख्याल रख सके बाकी जो भी आप बाजार उसी से उपयोग करते हैं बाजार कोई भी प्रोडक्ट का उपयोग करते तो उसके साइड इफेक्ट है पर आयुर्वेदिक चीजों का कोई साइड इफेक्ट नहीं है आप यह ट्रीटमेंट करके भली-भांति स्वस्थ सुंदर ताकतवर रह सकते हैं इसलिए लोग इसमें इंटरेस्ट ले रहे हैं और यह कर रहे हैं

dasha ka khayal rakhne ke liye log ayurveda ka istemal kyon kar rahe hain kyonki ayurveda hi sahi paddhatee hai ki aap apna apni toh saka apne chehre ka khayal rakh sake baki jo bhi aap bazaar usi se upyog karte hain bazaar koi bhi product ka upyog karte toh uske side effect hai par ayurvedic chijon ka koi side effect nahi hai aap yah treatment karke bhali bhanti swasth sundar takatwar reh sakte hain isliye log isme interest le rahe hain aur yah kar rahe hain

दशा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद का इस्तेमाल क्यों कर रहे हैं क्योंकि आयुर्वेद ही सही

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  177
WhatsApp_icon
user

Dr. Rajesh Verma

Ayurvedic Doctor

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आयुर्वेदिक इसे हम हर्बल दवाई बोलते हैं इससे ना तो कोई केमिकल होता है और ना ही त्वचा के लिए कोई नुकसान होता है इसलिए लोगों का रुझान अब धीरे-धीरे आयुर्वेद की तरफ बढ़ रहा है

ayurvedic ise hum herbal dawai bolte hain isse na toh koi chemical hota hai aur na hi twacha ke liye koi nuksan hota hai isliye logo ka rujhan ab dhire dhire ayurveda ki taraf badh raha hai

आयुर्वेदिक इसे हम हर्बल दवाई बोलते हैं इससे ना तो कोई केमिकल होता है और ना ही त्वचा के लिए

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  94
WhatsApp_icon
user
3:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आप ने सवाल किया कि त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को क्यों पसंद कर रहे हैं तो देखिए यह चीज जंगली यह हाउसहोल्ड में त्वचा त्वचा है अब यह वही है जो कि स्किन पर वही दिखता है जो आप खाते हैं आपका जो जैसा आपका पेट है अगर आपका डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक है तो आपकी स्किन पर वह चीज आपको दिखाई देगी अगर आपका पेट साफ नहीं है तो आपकी स्किन पर पिंपल जा रहे हैं ऑइली स्किन हो रही है या फिर और ज्यादा कुछ ना कुछ हो रहे हैं किसी को तो वह चीजें आती है अगर आपका सबसे पहली चीज है कि आपका जो आहार है वह प्रॉपर होना चाहिए वह आयुर्वेद इसीलिए पसंद किया जा रहा कि आयुर्वेद में वही चीज बताई गई है और वह चीज अभी धूप भी हो रही है मेहंदी सिंपल जो है अगर आप फ्री में जाते हैं तो क्रीम से बेटर है आई थिंक आई डोंट यूज़ क्रीम मैं खुद के लिए आज तक कोई क्रीम यूज़ नहीं करती हूं तो आप प्रॉपर लिए अगर आप किन के लिए अगर आप देखे तो स्किन के लिए सबसे बेस्ट चीज है कपालभाति करें कपालभाति अगर आप दिल्ली का चार्ट अगर आप चैट करते हैं 5 मिनट से आप चैट करते हैं एंड दिल्ली का ग्राफ 15 मिनट तक 15 से 20 मिनट का ग्राफ कपालभाति करते तो आपके चेहरे पर कोई पिंपल्स अप्रैल पिंपल्स चेहरे पर ग्लो आएगा जैसे कि आपने कभी मत तेज जाता है कपालभाति कपालभाती से वो चीज मैंने खुद भी ट्राई करिए मैं करती भी हूं और अगर आपको इसके लिए वह ड्राइनेस के लिए अगर आपको करना है तो आप बादाम का तेल है अपनी नाभि पर दो ड्राप सोते टाइम पर अगर आप लगा लेंगे तो आपकी स्किन जो है वह देखने की ब्लॉक करेगी वह बहुत अच्छी चीज है यह सारी चीजें आयुर्वेद और अगर लड़ाई करना चाहेंगे तो बहुत सारी जोलिप है जैसे हमारे आयुर्वेद में बताए गए हैं लेप हैं या फिर उबटन है यह सारी चीजें जो है वह आयुर्वेद में हल्दी चंदन दूध दूध दूध करके यार नींबू का रस उसमें ऐड कर लीजिए शायद ऐड कर लीजिए और बेसन ऐड कर लो तो बहुत अच्छा एक क्लिप बन जाता है तो आपको कोई फेशियल की जरूरत नहीं है तो यह सारी चीजें जो है वो पहले हमारे पूर्वज जो थे वही सभी ट्राई करते थे लेकिन तब यह जो मतलब मॉडल मॉडर्नाइजेशन जो वेस्टर्न कंट्री चाहिए तो यह लोग अंग्रेज को अनपढ़ता कहते थे कि यह सही नहीं है अभी वही सारी चीजें वह खुद ट्राई कर रहे हैं और उसी चीज को मार्केट में लाला कर भेजते हैं तो फिर यह अभी आयुर्वेद के नाम पर बेच रहे हैं लेकिन हमें जो हमारी जो हमें बताई गई है हमें हमारे आयुर्वेद में जो हमारे पूर्वज कहते थे जो हमने सुना हुआ बचपन से अपने घरों में तो वह आप चीजों को ही ट्राई करो आप उससे ज्यादा मेरे कैसे मैं अपने लिए कोई बाहर के प्रोडक्ट यूज नहीं करती हो तो मैं ऐसी चीजें ट्राई करती हूं घर में तो अच्छा स्किन मेरी सही रहती है

namaskar aap ne sawaal kiya ki twacha ka khayal rakhne ke liye log ayurveda ko kyon pasand kar rahe hain toh dekhiye yah cheez jungli yah household mein twacha twacha hai ab yah wahi hai jo ki skin par wahi dikhta hai jo aap khate hain aapka jo jaisa aapka pet hai agar aapka digestive system theek hai toh aapki skin par vaah cheez aapko dikhai degi agar aapka pet saaf nahi hai toh aapki skin par pimple ja rahe hain aili skin ho rahi hai ya phir aur zyada kuch na kuch ho rahe hain kisi ko toh vaah cheezen aati hai agar aapka sabse pehli cheez hai ki aapka jo aahaar hai vaah proper hona chahiye vaah ayurveda isliye pasand kiya ja raha ki ayurveda mein wahi cheez batai gayi hai aur vaah cheez abhi dhoop bhi ho rahi hai mehendi simple jo hai agar aap free mein jaate hain toh cream se better hai I think I dont use cream main khud ke liye aaj tak koi cream use nahi karti hoon toh aap proper liye agar aap kin ke liye agar aap dekhe toh skin ke liye sabse best cheez hai kapalbhati kare kapalbhati agar aap delhi ka chart agar aap chat karte hain 5 minute se aap chat karte hain and delhi ka graph 15 minute tak 15 se 20 minute ka graph kapalbhati karte toh aapke chehre par koi pimples april pimples chehre par glow aayega jaise ki aapne kabhi mat tez jata hai kapalbhati kapalbhati se vo cheez maine khud bhi try kariye main karti bhi hoon aur agar aapko iske liye vaah draines ke liye agar aapko karna hai toh aap badam ka tel hai apni nabhi par do drop sote time par agar aap laga lenge toh aapki skin jo hai vaah dekhne ki block karegi vaah bahut achi cheez hai yah saari cheezen ayurveda aur agar ladai karna chahenge toh bahut saari jolip hai jaise hamare ayurveda mein bataye gaye hain lep hain ya phir ubatan hai yah saari cheezen jo hai vaah ayurveda mein haldi chandan doodh doodh doodh karke yaar nimbu ka ras usme aid kar lijiye shayad aid kar lijiye aur besan aid kar lo toh bahut accha ek clip ban jata hai toh aapko koi facial ki zarurat nahi hai toh yah saari cheezen jo hai vo pehle hamare purvaj jo the wahi sabhi try karte the lekin tab yah jo matlab model madarnaijeshan jo western country chahiye toh yah log angrej ko anapdhata kehte the ki yah sahi nahi hai abhi wahi saari cheezen vaah khud try kar rahe hain aur usi cheez ko market mein lala kar bhejate hain toh phir yah abhi ayurveda ke naam par bech rahe hain lekin hamein jo hamari jo hamein batai gayi hai hamein hamare ayurveda mein jo hamare purvaj kehte the jo humne suna hua bachpan se apne gharon mein toh vaah aap chijon ko hi try karo aap usse zyada mere kaise main apne liye koi bahar ke product use nahi karti ho toh main aisi cheezen try karti hoon ghar mein toh accha skin meri sahi rehti hai

नमस्कार आप ने सवाल किया कि त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद को क्यों पसंद कर रहे है

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  255
WhatsApp_icon
user

Dr.Shrivastava Sumit

Ayurvedic Doctor | Ayush Doctor

0:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद इसलिए उपयोग कर रहे हैं क्योंकि त्वचा में उपलब्ध एलोपैथिक दवाइयां फायदा कम करती नुकसान बहुत ज्यादा करते हैं और आयुर्वेद दवाई जो चिरस्थाई असर दिखाती हैं इस वजह से आयुर्वेद दवाओं को लोग उपयोग कर रहे हैं संपन्न के साइड इफेक्ट भी कम होते हैं और असर भी बहुत प्रभावी होते हैं

twacha ka khayal rakhne ke liye log ayurveda isliye upyog kar rahe hain kyonki twacha me uplabdh allopathic davaiyan fayda kam karti nuksan bahut zyada karte hain aur ayurveda dawai jo chirasthai asar dikhati hain is wajah se ayurveda dawaon ko log upyog kar rahe hain sampann ke side effect bhi kam hote hain aur asar bhi bahut prabhavi hote hain

त्वचा का ख्याल रखने के लिए लोग आयुर्वेद इसलिए उपयोग कर रहे हैं क्योंकि त्वचा में उपलब्ध एल

Romanized Version
Likes  34  Dislikes    views  391
WhatsApp_icon
user
0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कुछ लोग आयुर्वेदिक दवाइयां ज्यादा पसंद करते हैं दूसरे इसका सहारा तब लेते हैं जब अन्य प्रणालियों से फायदा नहीं होता भारत के ज्यादातर गांव में आयोजित आज ही काफी प्रचलित है एक परंपरा के रूप में पढ़े-लिखे वर्ग तक में ही काफी मान्यता है इसकी लोकप्रियता का एक कारण हमारे साथ ही प्राकृतिक नजदीकी है इससे भी ज्यादा यह है कि कुछ बीमारियों के लिए आयुर्वेद अन्य प्रणालियों से बेहतर काम करता है

kuch log ayurvedic davaiyan zyada pasand karte hai dusre iska sahara tab lete hai jab anya pranaleeyon se fayda nahi hota bharat ke jyadatar gaon mein ayojit aaj hi kaafi prachalit hai ek parampara ke roop mein padhe likhe varg tak mein hi kaafi manyata hai iski lokpriyata ka ek karan hamare saath hi prakirtik najdiki hai isse bhi zyada yah hai ki kuch bimariyon ke liye ayurveda anya pranaleeyon se behtar kaam karta hai

कुछ लोग आयुर्वेदिक दवाइयां ज्यादा पसंद करते हैं दूसरे इसका सहारा तब लेते हैं जब अन्य प्रणा

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  151
WhatsApp_icon
play
user

Nausheen Mobin

Beauty Expert

1:48

Likes  10  Dislikes    views  323
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!