क्या आप बता सकते हैं कि जीवन के अंधेरे को समाप्त करने का पथ क्या है?...


user

Norang sharma

Social Worker

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों मैं नौरंग शर्मा आज बात करने जा रहा हूं कि जीवन के अंधेरे को समाप्त करने का पद क्या है तो देखिए जैसे ही रोशनी आ जाती है तो अंधेरा अपने आप विदा होने लगता है तो जैसे ही आपके जीवन में ज्ञान की समझ की रोशनी आएगी वैसे ही अज्ञान का अंधेरा अपने आप दूर हो जाएगा मायूसी का अंधेरा भी दूर हो जाएगा तो हमेशा जो भी समस्या जो भी चुनौतियां आपके जीवन में आए चुनौती इसलिए कह रहा हूं कि चुनौती अपने आप में एक आशावादी शब्द है समस्या शब्द बोलने में हम लोग थोड़े से पागल हो जाते हैं उन दिनों में पड़ जाते हैं इसलिए चुनौती कहना ज्यादा बेहतर होगा तो हर चुनौती का पत्नी साहस से सामना करें कोई भी चुनौती आपसे बड़ी नहीं है आप के हौसले से बिल्कुल बड़ी नहीं है इसलिए जो भी निर्णय ले हमेशा उस निर्णय को यही सोच कर ली कि वह निर्णय आपके भविष्य को उज्जवल बनाएगा आपके करियर को बेहतर बनाएगा और हमेशा हमारी अपनों का ध्यान रखिए जो भी आपके परिवार के लोग हैं जो भी आपके दोस्त हैं उन सब से मधुर रिश्ते बना करके रखिए क्योंकि दोस्तों जब इंसान मायूस होता है तो कभी-कभी रिश्ते भी उसे बचा लेते हैं इसलिए रिश्तो को बचाने के लिए अपने आप को मत खोना लेकिन कोशिश करना कि रिश्तो को साथ लेकर चल सकूं क्योंकि परिवार तब आपके साथ होता है जब दुनिया आपका साथ छोड़ देती है इसलिए परिवार की जो भूमिका है परिवार का जो महत्व है उसे कभी कम मत करना धन्यवाद

namaskar doston main naurang sharma aaj baat karne ja raha hoon ki jeevan ke andhere ko samapt karne ka pad kya hai toh dekhiye jaise hi roshni aa jaati hai toh andhera apne aap vida hone lagta hai toh jaise hi aapke jeevan mein gyaan ki samajh ki roshni aayegi waise hi agyan ka andhera apne aap dur ho jaega maayusi ka andhera bhi dur ho jaega toh hamesha jo bhi samasya jo bhi chunautiyaan aapke jeevan mein aaye chunauti isliye keh raha hoon ki chunauti apne aap mein ek aashavadi shabd hai samasya shabd bolne mein hum log thode se Pagal ho jaate hain un dino mein pad jaate hain isliye chunauti kehna zyada behtar hoga toh har chunauti ka patni saahas se samana kare koi bhi chunauti aapse badi nahi hai aap ke hausale se bilkul badi nahi hai isliye jo bhi nirnay le hamesha us nirnay ko yahi soch kar li ki vaah nirnay aapke bhavishya ko ujjawal banayega aapke career ko behtar banayega aur hamesha hamari apnon ka dhyan rakhiye jo bhi aapke parivar ke log hain jo bhi aapke dost hain un sab se madhur rishte bana karke rakhiye kyonki doston jab insaan maayus hota hai toh kabhi kabhi rishte bhi use bacha lete hain isliye rishto ko bachane ke liye apne aap ko mat khona lekin koshish karna ki rishto ko saath lekar chal sakun kyonki parivar tab aapke saath hota hai jab duniya aapka saath chod deti hai isliye parivar ki jo bhumika hai parivar ka jo mahatva hai use kabhi kam mat karna dhanyavad

नमस्कार दोस्तों मैं नौरंग शर्मा आज बात करने जा रहा हूं कि जीवन के अंधेरे को समाप्त करने का

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  394
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!