हिंदू धर्म में क्या श्राद्ध कर्म करना ज़रूरी है?...


user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखो बेटी श्राद्ध कर्म करना जरूरी भी है और नहीं भी जो नास्तिक लोग हैं वह कुछ नहीं करते हैं श्राद्ध कर्म करते हैं ना किसी भगवान का नाम लेते हैं ना कुछ तो वह क्या वजन दे नहीं रहते रहते हैं और आज तक के भगवान का नाम भी लेते हैं श्राद्ध कर्म ही करते हैं सब कुछ करते हैं तो वह भी जिंदे रहते भगवान का ऐसा कुछ नहीं है श्राद्ध कर्म में जो आप बनाते खाते हैं घरों में तो क्या वह मरने वाला व्यक्ति खा जाता है उसके नाम से आप एक ब्राह्मण को भोजन करा देते हैं खाते ओपन सभी के बच्चे खाते हैं उसको इसलिए रात कर्म करना चाहिए आप यदि नहीं करेंगे आपके पूर्वजों का तो आपका कोई भी नहीं करेगा इस मंथ चलो इस बहाने से अपन को बच्चों को खाने बढ़िया खाना मिल जाता है इस बहाने 56 मातम शांति रहती हमने पदों को किया बेचारे परचरी जाति नहीं देखने नहीं आते तो लिखना कहते हैं हमारे साथ ही कहते क्यों बेच उस दिन सुकून शरीर से खुशी घर में रहते हैं इसलिए करना चाहिए क्योंकि आखिर वह हमारे पूर्वज हैं आखिर उन लोगों ने हमारा घर बनाया था उन लोगों ने हमें जन्म दिया हमारा कोलन पालन पोषण किया वह हमारी पीढ़ी के अग्रज हैं इसलिए उनको हमें इस बहाने से नमन करना चाहिए बंधन करना चाहिए स्मरण करना चाहिए

dekho beti shraddh karm karna zaroori bhi hai aur nahi bhi jo nastik log hain vaah kuch nahi karte hain shraddh karm karte hain na kisi bhagwan ka naam lete hain na kuch toh vaah kya wajan de nahi rehte rehte hain aur aaj tak ke bhagwan ka naam bhi lete hain shraddh karm hi karte hain sab kuch karte hain toh vaah bhi jinde rehte bhagwan ka aisa kuch nahi hai shraddh karm me jo aap banate khate hain gharon me toh kya vaah marne vala vyakti kha jata hai uske naam se aap ek brahman ko bhojan kara dete hain khate open sabhi ke bacche khate hain usko isliye raat karm karna chahiye aap yadi nahi karenge aapke purvajon ka toh aapka koi bhi nahi karega is month chalo is bahaane se apan ko baccho ko khane badhiya khana mil jata hai is bahaane 56 maatam shanti rehti humne padon ko kiya bechare parchari jati nahi dekhne nahi aate toh likhna kehte hain hamare saath hi kehte kyon bech us din sukoon sharir se khushi ghar me rehte hain isliye karna chahiye kyonki aakhir vaah hamare purvaj hain aakhir un logo ne hamara ghar banaya tha un logo ne hamein janam diya hamara kolan palan poshan kiya vaah hamari peedhi ke agraj hain isliye unko hamein is bahaane se naman karna chahiye bandhan karna chahiye smaran karna chahiye

देखो बेटी श्राद्ध कर्म करना जरूरी भी है और नहीं भी जो नास्तिक लोग हैं वह कुछ नहीं करते हैं

Romanized Version
Likes  458  Dislikes    views  6420
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!