रोज़गार उपलब्ध कराने में विफल क्यों रही है सरकार?...


user

Harvinder kaur

Municipal councillor

3:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रोजगार उपलब्ध करवाने में विफल क्यों नहीं है सरकार तो हर मुद्दे पर भी पड़ रही है सिर्फ रोजगार उपलब्ध करवाने में रोजगार कम मिलते हैं जो हम रोजगार का सृजन कब होते हैं जब हम अपने लोगों को किसी भी कार्य में निपुण करते हैं उसको कार्य कुशल बना राजमिस्त्री है चाहे वह प्लंबर है इलेक्ट्रीशियन इंजीनियर शिक्षित होगा अपने कार्य में पूर्ण तौर पर निपुण होगा उसको अपना कार्य ठीक ढंग से आता होगा तभी वो उसको रोजगार भी मिलेगा पहली बात तो हम शिक्षा की तरफ ही ध्यान नहीं देते कि हमें किस तरह की शिक्षा किस व्यक्ति को देनी है उसके बाद आ जाता है रोजगार पर जो हमारे मानव संसाधन की कमी हम इलेक्शन के टाइम तो बहुत बड़ी-बड़ी बातें करते हैं बैंक में हमारे रोज बहुत बड़ी-बड़ी बातें बोलते हैं कि लोन देंगे आप अपना काम करें परंतु जब लोन लेने लोग जाते हैं तो बैंक में लोन नहीं देते उसके लिए वह बहुत सारी चीजों को गिरवी रखने के लिए मांगते हैं और एक आम आदमी के पास यह सामान नहीं होता कि वह घर मकान या अपनी जमीन गिरवी रखे और अपना कोई नया रोजगार स्टार्ट कर सके आरंभ करो शर्म नहीं करेगा कोई लोगों को रोजगार रोजगार छोटे-छोटे प्रोजेक्ट छोटे-छोटे उद्योग लगाए एक उद्योग से हम आगे कई लोगों को काम दे सकते हैं जो बहुत बड़े कॉरपोरेट सकते हैं रिलायंस है या हमारे हैं रानी जी हैं उनके जो कॉर्पोरेट सेक्टर है या जो आज फार्मा इंटरेस्ट है हमारी ठीक है चाहे वह हैंड सैनिटाइजर बनाकर बनाकर या किसी भी तरह से बहुत करोड़ों के बहुत अच्छे से रहे हैं बहुत अच्छे उद्योगपति अच्छे से उनको बैंक के कर्ज नहीं इतनी बुरी तरह से पीट दिया है बैंक वालों ने कभी भी कॉर्पोरेट नहीं करते और वह उद्योग जब बंद हो रहे हैं तो वह आगे लोगों को रोजगार कहां से देंगे वह चटनी करेंगे और अच्छी सैलरी नहीं देंगे जो अच्छी सर्विस नहीं मिलेगी तो लोग रोजगार पर जाएंगे दूसरे हमें लोगों को यह भी शिक्षित करना होगा कि कोई भी काम छोटा या बड़ा नहीं होता जब आप अपने कार्य में पूर्ण सक्षम है तो आप को रोजगार मिलेगा तो यही मानना है मेरा कि छोटे के जो उद्योग हैं उनको आप बढ़ावा दें क्योंकि वह नोटबंदी और जीएसटी से पहले ही बहुत बुरी तरह से टूटे हुए थे अब लॉक डाउन की वजह से हो और तरह क्षतिग्रस्त हुए हैं उनकी जो इनकम थे वह बहुत कम हुई है तो इस दौर में हमें अपनी अर्थव्यवस्था को भी संभालना है और इन रोजगार हों को की संभावना है जो उनको भी संभालना तभी आगे लोगों को रोजगार मिलेगा नहीं तो सरकार अपना रोजगार उपलब्ध करवाने में पूरी तरह से विफल

rojgar uplabdh karwane me vifal kyon nahi hai sarkar toh har mudde par bhi pad rahi hai sirf rojgar uplabdh karwane me rojgar kam milte hain jo hum rojgar ka srijan kab hote hain jab hum apne logo ko kisi bhi karya me nipun karte hain usko karya kushal bana rajmistri hai chahen vaah Plumber hai electrician engineer shikshit hoga apne karya me purn taur par nipun hoga usko apna karya theek dhang se aata hoga tabhi vo usko rojgar bhi milega pehli baat toh hum shiksha ki taraf hi dhyan nahi dete ki hamein kis tarah ki shiksha kis vyakti ko deni hai uske baad aa jata hai rojgar par jo hamare manav sansadhan ki kami hum election ke time toh bahut badi badi batein karte hain bank me hamare roj bahut badi badi batein bolte hain ki loan denge aap apna kaam kare parantu jab loan lene log jaate hain toh bank me loan nahi dete uske liye vaah bahut saari chijon ko girvi rakhne ke liye mangate hain aur ek aam aadmi ke paas yah saamaan nahi hota ki vaah ghar makan ya apni jameen girvi rakhe aur apna koi naya rojgar start kar sake aarambh karo sharm nahi karega koi logo ko rojgar rojgar chote chote project chote chote udyog lagaye ek udyog se hum aage kai logo ko kaam de sakte hain jo bahut bade corporate sakte hain reliance hai ya hamare hain rani ji hain unke jo corporate sector hai ya jo aaj pharma interest hai hamari theek hai chahen vaah hand sainitaijar banakar banakar ya kisi bhi tarah se bahut karodo ke bahut acche se rahe hain bahut acche udyogpati acche se unko bank ke karj nahi itni buri tarah se peat diya hai bank walon ne kabhi bhi corporate nahi karte aur vaah udyog jab band ho rahe hain toh vaah aage logo ko rojgar kaha se denge vaah chatni karenge aur achi salary nahi denge jo achi service nahi milegi toh log rojgar par jaenge dusre hamein logo ko yah bhi shikshit karna hoga ki koi bhi kaam chota ya bada nahi hota jab aap apne karya me purn saksham hai toh aap ko rojgar milega toh yahi manana hai mera ki chote ke jo udyog hain unko aap badhawa de kyonki vaah notebandi aur gst se pehle hi bahut buri tarah se tute hue the ab lock down ki wajah se ho aur tarah kshatigrast hue hain unki jo income the vaah bahut kam hui hai toh is daur me hamein apni arthavyavastha ko bhi sambhaalna hai aur in rojgar ho ko ki sambhavna hai jo unko bhi sambhaalna tabhi aage logo ko rojgar milega nahi toh sarkar apna rojgar uplabdh karwane me puri tarah se vifal

रोजगार उपलब्ध करवाने में विफल क्यों नहीं है सरकार तो हर मुद्दे पर भी पड़ रही है सिर्फ रोजग

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  271
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Mohd Naseem

Politician

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सरकार कोई भी हो सरकार कोई भी हो कि कल रहेगी और कभी भी रोजगार देने में कभी भी कोई भी साधन करेगी कोई सरकार आ जाए यह तो हमारी है जो करेक्शन होता है ना वह बहुत खतरनाक तरीके का होता है जो बैठ गया सत्ता में आ गया वह बात कीजिए

sarkar koi bhi ho sarkar koi bhi ho ki kal rahegi aur kabhi bhi rojgar dene mein kabhi bhi koi bhi sadhan karegi koi sarkar aa jaaye yah toh hamari hai jo correction hota hai na vaah bahut khataranaak tarike ka hota hai jo baith gaya satta mein aa gaya vaah baat kijiye

सरकार कोई भी हो सरकार कोई भी हो कि कल रहेगी और कभी भी रोजगार देने में कभी भी कोई भी साधन क

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  232
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रोजगार उपलब्ध कराने में क्यों पड़ रही है सरकार तो मैं सबसे पीछे बेसिक शिक्षा नहीं दिला पाए गांव में लोग चाहे तो खुद ही स्टार्ट कर सकते हैं ठीक है उसे रोजगार दिलाने की कोशिश करना है कर सकते हैं कि अधिकतर लोग जो है ऊंचे दर्जे काम जो होते हैं वह करते हैं भारत में तो यह भी एक कारण है जिस अच्छा रोजगार जो है अच्छी जिंदगी नहीं मिल पा रही है

rojgar uplabdh karane mein kyon pad rahi hai sarkar toh main sabse peeche basic shiksha nahi dila paye gaon mein log chahen toh khud hi start kar sakte hain theek hai use rojgar dilaane ki koshish karna hai kar sakte hain ki adhiktar log jo hai unche darje kaam jo hote hain vaah karte hain bharat mein toh yah bhi ek karan hai jis accha rojgar jo hai achi zindagi nahi mil paa rahi hai

रोजगार उपलब्ध कराने में क्यों पड़ रही है सरकार तो मैं सबसे पीछे बेसिक शिक्षा नहीं दिला पाए

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
play
user

Ranjan Khatumaria

Politician, Social Worker

0:37

Likes  17  Dislikes    views  204
WhatsApp_icon
user
3:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

रोजगार उपलब्ध कराने में विफल क्यों हो रही है सरकार बिल्कुल बहुत ही बड़ा प्रश्नचिन्ह खड़ा करता है अपने आप में यह सरकारें अगर इसमें विफल हो रही है तो कहीं न कहीं यह देखा जाए आप की आम जनता की आंखों पर जो सरकार ने धर्म नाम की एक पट्टी बांध रखी है जब तक आप से दूर नहीं होंगे उन चीजों से जब तक आप बाहर नहीं निकलेंगे आप एक डाटा उठा कर के देख लेंगे कि लोग हिंदू मुस्लिम ऊंच-नीच सबड दलित और न जाने कितने कितने ऐसे मामले हैं जो इन में उलझे रहते हैं वह अपनी पढ़ाई पर ध्यान नहीं देते समय आता है कि बच्चा बच्चा जब किसी कॉलेज से ग्रेजुएशन कर रहा होता है तू वहां पर इन्हीं चीजों ने वह जो है लगा रहता है इसके चलते उसके कर उसका कैरियर खराब होता है जो आगे चलकर के उसको जवाब नहीं मिल पाती तो फिर वो सरकार को तो ठीक है और बहुत सारी है कि बहुत सारे अच्छे स्कॉलर सागर आवाज उठाते इनके खिलाफ तो उनका करियर बर्बाद कर दिया जाता है इसमें कोई कहने की बात नहीं है सब कोई सिस्टर को बढ़ाना पड़ेगा शिक्षा का स्तर आपका सरकार अगर नहीं बढ़ाती है तो बिल्कुल वह रोजगार में कमी आए साथ ही साथ रोजगार को बढ़ाने के लिए जो संसाधन उपलब्ध है उनका उपयोग करना चाहिए बहुत सारी सुशील जैसे तुम्हारे पास अवेलेबल होते हुए भी हम उसको यूज नहीं कर रहे तो बिल्कुल सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए और हर क्षेत्रों में प्रतिवर्ष इनका मां को बनाया हर क्षेत्रों में जो है संसाधनों का उपयोग करें जिससे रोजगार उपलब्ध हो सके और युवाओं को नया रोजगार मुहैया कराया जा सके आप बिल्कुल सरकार से यह चीजें रख सकते हैं रोजगार अगर मिलेगा आज के युवाओं को अपनी मां के रखेगा तू ही आप उनको वोट करेंगे नो रोजगार नोटिस आप कह सकते हैं चाहे वह किसानों से लेकर के आज के नए नौजवानों के लिए हो सरकारें केवल हर जगह अपना राजनीतिक उल्लू सीधा करते हैं अपने कुर्सियां गर्म होती हैं कुछ भी नहीं करती हैं उनको एक दूसरे को लड़ाने में जो मजा है वह रोजगार दिलवाने में कहां है रोजगार उपलब्ध करवाने में कहां है तो बिल्कुल एक चीज पर ध्यान देना चाहिए सरकारी पदों के साथ-साथ भी उनको जो है प्राइवेट सेक्टर में भी पब्लिक सेक्टर में प्राइवेट सेक्टर दोनों का ध्यान देना चाहिए हर तरफ उनको जो वैकेंसी आ निकालने चाहिए पता चलता है कि कुछ अयोग्य लोगों को कहीं से वैकेंसी वैकेंसी यों का पता चलता है और वैकेंसी पर वह आ जाते हैं बाद में उसका नुकसान जो है पढ़े लिखे लोगों को होता है शिक्षित लोगों को होता है जोकि हीनता की भावना अंदर पैदा कर देती है तो वह बहुत ही कुछ करने को गुजरने को तैयार रहते हैं जो तूने नहीं करनी चाहिए थी ध्यान देना चाहिए इससे जो है भ्रष्टाचार मुक्त भारत भी होगा अच्छे रोजगार मिलेंगे और लोगों के अंदर जागरूकता होगी लोग अपने शिक्षा स्तर को भी मजबूत करें धन्यवाद

rojgar uplabdh karane me vifal kyon ho rahi hai sarkar bilkul bahut hi bada prashnachinh khada karta hai apne aap me yah sarkaren agar isme vifal ho rahi hai toh kahin na kahin yah dekha jaaye aap ki aam janta ki aakhon par jo sarkar ne dharm naam ki ek patti bandh rakhi hai jab tak aap se dur nahi honge un chijon se jab tak aap bahar nahi nikalenge aap ek data utha kar ke dekh lenge ki log hindu muslim unch neech sabad dalit aur na jaane kitne kitne aise mamle hain jo in me ulajhe rehte hain vaah apni padhai par dhyan nahi dete samay aata hai ki baccha baccha jab kisi college se graduation kar raha hota hai tu wahan par inhin chijon ne vaah jo hai laga rehta hai iske chalte uske kar uska carrier kharab hota hai jo aage chalkar ke usko jawab nahi mil pati toh phir vo sarkar ko toh theek hai aur bahut saari hai ki bahut saare acche scholar sagar awaaz uthate inke khilaf toh unka career barbad kar diya jata hai isme koi kehne ki baat nahi hai sab koi sister ko badhana padega shiksha ka sthar aapka sarkar agar nahi badhati hai toh bilkul vaah rojgar me kami aaye saath hi saath rojgar ko badhane ke liye jo sansadhan uplabdh hai unka upyog karna chahiye bahut saari sushil jaise tumhare paas available hote hue bhi hum usko use nahi kar rahe toh bilkul sarkar ko is par dhyan dena chahiye aur har kshetro me prativarsh inka maa ko banaya har kshetro me jo hai sansadhano ka upyog kare jisse rojgar uplabdh ho sake aur yuvaon ko naya rojgar muhaiya karaya ja sake aap bilkul sarkar se yah cheezen rakh sakte hain rojgar agar milega aaj ke yuvaon ko apni maa ke rakhega tu hi aap unko vote karenge no rojgar notice aap keh sakte hain chahen vaah kisano se lekar ke aaj ke naye naujavanon ke liye ho sarkaren keval har jagah apna raajnitik ullu seedha karte hain apne kursiyan garam hoti hain kuch bhi nahi karti hain unko ek dusre ko ladane me jo maza hai vaah rojgar dilwane me kaha hai rojgar uplabdh karwane me kaha hai toh bilkul ek cheez par dhyan dena chahiye sarkari padon ke saath saath bhi unko jo hai private sector me bhi public sector me private sector dono ka dhyan dena chahiye har taraf unko jo vacancy aa nikalne chahiye pata chalta hai ki kuch ayogya logo ko kahin se vacancy vacancy yo ka pata chalta hai aur vacancy par vaah aa jaate hain baad me uska nuksan jo hai padhe likhe logo ko hota hai shikshit logo ko hota hai joki hinata ki bhavna andar paida kar deti hai toh vaah bahut hi kuch karne ko guzarne ko taiyar rehte hain jo tune nahi karni chahiye thi dhyan dena chahiye isse jo hai bhrashtachar mukt bharat bhi hoga acche rojgar milenge aur logo ke andar jagrukta hogi log apne shiksha sthar ko bhi majboot kare dhanyavad

रोजगार उपलब्ध कराने में विफल क्यों हो रही है सरकार बिल्कुल बहुत ही बड़ा प्रश्नचिन्ह खड़ा क

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  251
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत की सरकार रोजगार उपलब्ध कराने में इसलिए विफल हो रही है क्योंकि देखिए और सरकार के पास इस तरह का जन्म पर स्ट्रक्चर नहीं है इस तरह की योजनाएं नहीं है जो कि उन लोगों को रोजगार दिलवा सके जिन को उसकी आवश्यकता है उसके अलावा देखिए हमारे देश में कई जगह जनसंख्या है उस देश की वह बहुत ज्यादा है और उसकी वजह से सभी को रोजगार देना ना थोड़ा मुश्किल हो रहा है वही आज भारत सरकार को भी कुछ ऐसी योजनाएं बनानी चाहिए जिसकी वजह से उन लोगों को लाभ मिल सके वह और उन लोगों को रोजगार मिल सके जो कि पढ़े लिखे नहीं होते और जिनके पास ऐसा कोई क्वालिफिकेशन नहीं होती है तो उन लोगों को लाभ दिलवाना ज्यादा जरूरी होता है ताकि वह आगे बढ़ सके अपने परिवार का पालन पोषण कर सकें और जो गरीबी रेखा के नीचे के लोग हैं उन लोगों को जरूर रोजगार मिलना चाहिए ताकि वह पर आ सके और अपने परिवार को अच्छा बना सके तो देखिए रोजगार ना दिलवा पाना और उस में विफल होने का सिर्फ यही कारण है कि उनके पास ऐसी योजनाएं नहीं है ऐसी स्ट्रेटेजी सही है और रोबोट हम इस चीज को मान लेते हैं क्योंकि हम अगर आप हम को रोजगार नहीं दिला रहे हैं और आप पहले वादा करते हैं कि जब आप की सरकार बनेगी तो आप अच्छे दिन लेकर आएंगे उसके बाद जो समस्याएं हैं उनको आप खत्म नहीं कर रहे तो उसका मतलब तो यही है कि आप देश के लिए नहीं बल्कि अपने लिए सरकार बनाएं कि आपने और अपने हित में आप काम कर रहे हैं परंतु देश हित के लिए नहीं कर रहे तो सबसे बड़ा कारण यही है कि रोजगार उपलब्ध नहीं हो पा रहा है क्योंकि जो भी सरकार आती है सत्ता में वह अपने लिए ज्यादा काम करती है 5 साल तक और देश के हित के बारे में कम सोचती है

bharat ki sarkar rojgar uplabdh karane mein isliye vifal ho rahi hai kyonki dekhiye aur sarkar ke paas is tarah ka janam par structure nahi hai is tarah ki yojanaye nahi hai jo ki un logo ko rojgar dilwa sake jin ko uski avashyakta hai uske alava dekhiye hamare desh mein kai jagah jansankhya hai us desh ki vaah bahut zyada hai aur uski wajah se sabhi ko rojgar dena na thoda mushkil ho raha hai wahi aaj bharat sarkar ko bhi kuch aisi yojanaye banani chahiye jiski wajah se un logo ko labh mil sake vaah aur un logo ko rojgar mil sake jo ki padhe likhe nahi hote aur jinke paas aisa koi qualification nahi hoti hai toh un logo ko labh dilwana zyada zaroori hota hai taki vaah aage badh sake apne parivar ka palan poshan kar sake aur jo garibi rekha ke niche ke log hain un logo ko zaroor rojgar milna chahiye taki vaah par aa sake aur apne parivar ko accha bana sake toh dekhiye rojgar na dilwa paana aur us mein vifal hone ka sirf yahi karan hai ki unke paas aisi yojanaye nahi hai aisi strategy sahi hai aur robot hum is cheez ko maan lete hain kyonki hum agar aap hum ko rojgar nahi dila rahe hain aur aap pehle vada karte hain ki jab aap ki sarkar banegi toh aap acche din lekar aayenge uske baad jo samasyaen hain unko aap khatam nahi kar rahe toh uska matlab toh yahi hai ki aap desh ke liye nahi balki apne liye sarkar banaye ki aapne aur apne hit mein aap kaam kar rahe hain parantu desh hit ke liye nahi kar rahe toh sabse bada karan yahi hai ki rojgar uplabdh nahi ho paa raha hai kyonki jo bhi sarkar aati hai satta mein vaah apne liye zyada kaam karti hai 5 saal tak aur desh ke hit ke bare mein kam sochti hai

भारत की सरकार रोजगार उपलब्ध कराने में इसलिए विफल हो रही है क्योंकि देखिए और सरकार के पास इ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!