क्या भारत में नशीली चीज़ों का सेवन बढ़ गया है, कैसे कम किया जा सकता है?...


play
user

Ranjan Khatumaria

Politician, Social Worker

0:24

Likes  17  Dislikes    views  196
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कोई शक नहीं है क्योंकि मेरा एक पड़ोसी है मेरा एक लेबर था उसका नाम शुभम है तो वह पहले तो मैंने देखा कि कुछ भी नहीं पीता था कि कुछ दिन बाद देखा कर बहुत बड़ा सूअर है चैन स्मोकिंग करता गाने लगाओ फिर उसके बाद मुझे लगता है कि आप आशीष सैनी स्मोकिंग कर रहा है कल भी है और पता नहीं क्या जितने भी लेकर जाते हैं उनको यूज करने लगेगा तो कहीं नहीं लिखा रहा है किंतु वास्तव में बहुत बड़ा है क्योंकि जिस बच्चे को मैंने अपनी आंखों से देखा मुझे काफी छोटा है शुभम गुप्ता उसको देखा मैंने वह तो कुछ खाता नहीं तो सुपारी बाटी खा लेता था लेकिन अब देखता हूं तो उसमें बहुत अच्छे से कर लेते दिखाता है की नशीली चीजों का सेवन तो दे समाज में बढ़ रहा है उसको रोकना जरूरी है

koi shak nahi hai kyonki mera ek padosi hai mera ek labour tha uska naam subham hai toh vaah pehle toh maine dekha ki kuch bhi nahi peeta tha ki kuch din baad dekha kar bahut bada suar hai chain smoking karta gaane lagao phir uske baad mujhe lagta hai ki aap aashish saini smoking kar raha hai kal bhi hai aur pata nahi kya jitne bhi lekar jaate hain unko use karne lagega toh kahin nahi likha raha hai kintu vaastav mein bahut bada hai kyonki jis bacche ko maine apni aakhon se dekha mujhe kafi chota hai subham gupta usko dekha maine vaah toh kuch khaata nahi toh supari bati kha leta tha lekin ab dekhta hoon toh usmein bahut acche se kar lete dikhaata hai ki nashili chijon ka seven toh de samaaj mein badh raha hai usko rokna zaroori hai

कोई शक नहीं है क्योंकि मेरा एक पड़ोसी है मेरा एक लेबर था उसका नाम शुभम है तो वह पहले तो मै

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Vatsal

Engineering Student

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

निश्चित तौर पर भारत में नशीली पदार्थों का सेवन कर गया और इसका अंदाजा पैसे लगा सकते हैं कि पहले के समय में आप से कुछ साल पहले तक सेवन करने वालों की उम्र है लेकिन वास्तविकता आज के टाइम में जाने वाले बच्चे क्यों नहीं हो रहा है कितना नुकसान दिमाग में उतरेंगे ही नहीं तुझको मैं स्कूल में तुम बहुत ही खराब थी इसके लिए समझा नहीं सकता कुछ नहीं कर सकता बिल्कुल बंद कर देना चाहिए बंद कर देना चाहिए और अगर नहीं पहुंच पा रहा है तो इतनी ज्यादा रेट बढ़ा देनी चाहिए कितना रेट बढ़ा दो रोटी के मरने वालों की संख्या इसके वजह से बढ़ती जा रही है जा रहे हैं आजकल

nishchit taur par bharat mein nashili padarthon ka seven kar gaya aur iska andaja paise laga sakte hain ki pehle ke samay mein aap se kuch saal pehle tak seven karne walon ki umr hai lekin vastavikta aaj ke time mein jaane waale bacche kyon nahi ho raha hai kitna nuksan dimag mein utarenge hi nahi tujhko main school mein tum bahut hi kharaab thi iske liye samjha nahi sakta kuch nahi kar sakta bilkul band kar dena chahiye band kar dena chahiye aur agar nahi pahunch paa raha hai toh itni zyada rate badha deni chahiye kitna rate badha do roti ke marne walon ki sankhya iske wajah se badhti ja rahi hai ja rahe hain aajkal

निश्चित तौर पर भारत में नशीली पदार्थों का सेवन कर गया और इसका अंदाजा पैसे लगा सकते हैं कि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

शुभम जी आपने बिल्कुल ठीक कहा भारत में नशीली चीजों का ज्योति बने वह बहुत ज्यादा बढ़ता है नशीली चीज है मेरा मैं समझ रही हूं कि आप ब्रिक्स वगैरा की बात कर रहे हैं कि हम रोज सुनते हैं और रोज ही सामने आता है कि पिछली जो नोट पाठक कंट्री का पंजाब वगैरा वहां पर ट्रक का जो सेवर नहीं डटता यूसेज है वह कुछ ज्यादा ही है वृक्ष के लाभ अल्कोहल कंजक्शन हमारे कंट्री में बहुत ज्यादा है जो जो खुद नशीला होता ही है जहां जहां पर कॉल दान है वहां पर गलत ही कुछ हेल्प वालों पर जाई जा रही है ताकि लोग उसे कंज्यूम कर सके और गवर्नमेंट भी कई बार गवर्नमेंट नहीं तो पुलिस जरूर वॉल्यूम इन सब चीजों में नशीली पदार्थों का सेवन इस वजह से जो हमारी युवा पीढ़ी है आगे बढ़ने की बजाय पीछे से होती जा रही है क्योंकि वह इन चीजों के सेवन में इतनी ज्यादा लेट हो गए कि उनके दिमाग में कोई तो कोई आइडियास कुछ आ ही नहीं रहे हैं उनके पास अपनी नार्मल हो से रोटी कमाने का भी कोई इच्छा ही नहीं है उनके अंदर क्योंकि से इंतजार में घुसता है वह उसकी क्राइम रेट के बराबर है क्योंकि देखिए एक युवा व्यक्ति के पास एक लड़की के पास जो 16 साल का है जो ट्रक से कम करो उसके पास इनकम का कोई दोस्त होता नहीं है तो वह चोरी डकैती यही सब चीजे करेगा इस समय में जो एनजीओज है या फिर सोशल आर्गेनाइजेशन सियासत गवर्नमेंट है उन्हें ऐसा करना चाहिए कि इन बच्चों को किसी रोजगार में लगाएं इन लोगों को रोजगार में लगाएं ताकि ध्यान डाइवर्ट इन की काउंसलिंग की जाए साइकोलॉजी को नहीं नेहा ने किया जाएगा कि समझ सके कि आखिर प्रॉब्लम क्या है और इन बच्चों की हेल्प की जाए

subham ji aapne bilkul theek kaha bharat mein nashili chijon ka jyoti bane vaah bahut zyada badhta hai nashili cheez hai mera main samajh rahi hoon ki aap bricks vagaira ki baat kar rahe hain ki hum roj sunte hain aur roj hi saamne aata hai ki pichali jo note pathak country ka punjab vagaira wahan par truck ka jo sevar nahi datata usage hai vaah kuch zyada hi hai vriksh ke labh alcohol kanjakshan hamare country mein bahut zyada hai jo jo khud nasheela hota hi hai jahan jahan par call daan hai wahan par galat hi kuch help walon par jaii ja rahi hai taki log use consume kar sake aur government bhi kai baar government nahi toh police zaroor volume in sab chijon mein nashili padarthon ka seven is wajah se jo hamari yuva peedhi hai aage badhne ki bajay peeche se hoti ja rahi hai kyonki vaah in chijon ke seven mein itni zyada let ho gaye ki unke dimag mein koi toh koi aidiyas kuch aa hi nahi rahe hain unke paas apni normal ho se roti kamane ka bhi koi iccha hi nahi hai unke andar kyonki se intejar mein ghuste hai vaah uski crime rate ke barabar hai kyonki dekhiye ek yuva vyakti ke paas ek ladki ke paas jo 16 saal ka hai jo truck se kam karo uske paas income ka koi dost hota nahi hai toh vaah chori dakaiti yahi sab chije karega is samay mein jo enajioj hai ya phir social organisation siyasat government hai unhe aisa karna chahiye ki in bacchon ko kisi rojgar mein lagaen in logon ko rojgar mein lagaen taki dhyan Divert in ki kaunsaling ki jaaye psychology ko nahi neha ne kiya jaega ki samajh sake ki aakhir problem kya hai aur in bacchon ki help ki jaaye

शुभम जी आपने बिल्कुल ठीक कहा भारत में नशीली चीजों का ज्योति बने वह बहुत ज्यादा बढ़ता है नश

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user

Manish Singh

VOLUNTEER

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इसके बारे में कोई कलेक्ट इंफॉर्मेशन तो नहीं है कि नशीली चीजों का जो उपयोग है वह बढ़ गया है कि नहीं वरना लेकिन इस करेक्ट करने का हमारे पास दो ही सर तरीका है क्या तू इन चीजों तो पूरा बैन लगाया जाए कहीं भी सब बेचा ना जाए यह पहला तरीका है जो कि आसान है वरना दूसरा तरीका जो है जो कि जिसका कंजक्शन करते हैं उन्हें समझाया जाए लेकिन इतना भी आसान तरीका नहीं है क्योंकि अगर एक बार जब इन चीजों के जालों में जाल में कोई फस जाता है नशीली चीजों के जाल में कोई अगर फर्स्ट चाहता है उसे छोड़ना बहुत मुश्किल होता है जब तक उस इंसान के अंदर खुद के डेडिकेशन ना हो तब तक जो बुरी आदतें होती है किसी भी तरह की बुरी आदतें छुट्टी नहीं है

dekhiye iske bare mein koi collect information toh nahi hai ki nashili chijon ka jo upyog hai vaah badh gaya hai ki nahi varana lekin is correct karne ka hamare paas do hi sir tarika hai kya tu in chijon toh pura ban lagaya jaaye kahin bhi sab becha na jaaye yah pehla tarika hai jo ki aasaan hai varana doosra tarika jo hai jo ki jiska kanjakshan karte hain unhe samjhaya jaaye lekin itna bhi aasaan tarika nahi hai kyonki agar ek baar jab in chijon ke jalon mein jaal mein koi fas jata hai nashili chijon ke jaal mein koi agar first chahta hai use chhodna bahut mushkil hota hai jab tak us insaan ke andar khud ke dedication na ho tab tak jo buri aadatein hoti hai kisi bhi tarah ki buri aadatein chhutti nahi hai

देखिए इसके बारे में कोई कलेक्ट इंफॉर्मेशन तो नहीं है कि नशीली चीजों का जो उपयोग है वह बढ़

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
shubham ko call lagao ; कलेक्ट इंफॉर्मेशन ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!