विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व क्या है?...


user

Amit Kumar

Career counselor

2:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं आपको कॉन्फ्रेंस अमित कुमार आपका सवाल है विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का क्या महत्व है विद्यार्थियों का बहुत ही महत्व है बिना परिश्रम के कुछ नहीं हो सकता है उसी प्रकार हम लोग बिना परिश्रम के ज्ञान भी प्राप्त कर सकते हैं विद्यार्थी जीवन बाकी सभी जीवन ऐसे श्रेष्ठ है क्योंकि यहीं से असली जीवन की शुरुआत होती है इसलिए हमें बचपन से ही परेशान होना परिश्रमी होना चाहिए चाहे विद्यार्थी जीवन में चाहे कोई भी जीवन में जिस प्रकार राशि कुए के पत्थर पर निशान बना सकती है उसी प्रकार विद्यार्थी अपने परिश्रम से कुछ भी कर सकता है इसलिए हमें परिश्रम करते रहना चाहिए परिश्रम के एक छोटे से स्टोरी सुंदरपुर गांव में एक किसान रहता था उसके चार बेटे थे आलसी और निकम्मे थे जब किसान बुरा हुआ तो उसी बेटी की चिंता सताने लगी एक बार किसान बहुत बीमार पड़ा देखकर उसी चार बेटों को अपने पास बुलाया उसने उस चारों को कहा मैंने बहुत साधन अपने खेत में गार्ड रखा है तुम लोग उसे निकल निकाल लेना इतना कहते-कहते किसान के प्राण निकल गए पिता का क्रिया कर्म करने के बाद चारों भाई ने सीट की खुदाई शुरू कर दी उन्होंने क्षेत्र का चप्पा चप्पा कोड डाला और उन्हीं कहीं धन नहीं मिला उन्हें उन्होंने पिता को खूब कोसा वर्षा ऋतु आने वाली थी किसान के बेटों ने उस खेत में धान के बीज बो दिए वर्षा का धान का पानी पाकर पहुंचे खूब बड़ी उन पर बड़ी-बड़ी फसलें लगी उस साल खेत में धान की बहुत अच्छी फसल हुए चारों भाई बहुत खुश हुए अब पिताजी की बात का सही अर्थ उसकी समझ में आ गया उन्होंने जीत की खुदाई करने में जो परिश्रम ने हार्डवर्क किया था उसी से उन्हें अच्छी फसल के रूप में बहुत सारा धन मिला इस प्रकार से मिली का महत्व समझने चार भाई ले मन लगाकर खेती करने लगे रिकी परिश्रम ही सच्चा धर्म है - 9 लाइट

main aapko conference amit kumar aapka sawaal hai vidyarthi jeevan mein parishram ka kya mahatva hai vidyarthiyon ka bahut hi mahatva hai bina parishram ke kuch nahi ho sakta hai usi prakar hum log bina parishram ke gyaan bhi prapt kar sakte hain vidyarthi jeevan baki sabhi jeevan aise shreshtha hai kyonki yahin se asli jeevan ki shuruat hoti hai isliye hamein bachpan se hi pareshan hona parishrami hona chahiye chahen vidyarthi jeevan mein chahen koi bhi jeevan mein jis prakar rashi kue ke patthar par nishaan bana sakti hai usi prakar vidyarthi apne parishram se kuch bhi kar sakta hai isliye hamein parishram karte rehna chahiye parishram ke ek chote se story sundarapur gaon mein ek kisan rehta tha uske char bete the aalsi aur nikamme the jab kisan bura hua toh usi beti ki chinta satane lagi ek baar kisan bahut bimar pada dekhkar usi char beto ko apne paas bulaya usne us charo ko kaha maine bahut sadhan apne khet mein guard rakha hai tum log use nikal nikaal lena itna kehte kehte kisan ke praan nikal gaye pita ka kriya karm karne ke baad charo bhai ne seat ki khudai shuru kar di unhone kshetra ka chappa chappa code dala aur unhi kahin dhan nahi mila unhe unhone pita ko khoob kosa varsha ritu aane wali thi kisan ke beto ne us khet mein dhaan ke beej bo diye varsha ka dhaan ka paani pakar pahuche khoob badi un par badi badi faslen lagi us saal khet mein dhaan ki bahut achi fasal hue charo bhai bahut khush hue ab pitaji ki baat ka sahi arth uski samajh mein aa gaya unhone jeet ki khudai karne mein jo parishram ne hardwork kiya tha usi se unhe achi fasal ke roop mein bahut saara dhan mila is prakar se mili ka mahatva samjhne char bhai le man lagakar kheti karne lage riki parishram hi saccha dharm hai 9 light

मैं आपको कॉन्फ्रेंस अमित कुमार आपका सवाल है विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का क्या महत्व है व

Romanized Version
Likes  148  Dislikes    views  639
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

RAZIBUL ISLAM KHAN

Teacher- 10 Years experience in colleges as a assistant professor

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व क्या है विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का बहुत ही बहुत बड़ा है बिना पैसों के कुछ नहीं हो सकता है उसी प्रकार हम लोग बिना परिश्रम के गेम नहीं पड़ता कर सकती है विद्यार्थी जीवन बाकी सभी जीवन ऐसे पोस्ट है क्योंकि यही ऐसे अश्लेष दीवान की जरूरत होती है इसने हमें बचपन से ही परिश्रम में होना चाहिए ऐसा है विद्यार्थी जीवन में चाहे कोई भी जीवन में आप जिस प्रकार की कोई एक एक पत्थर पर निशान बना सकता है उसी प्रकार विद्यार्थी अपने आप और हम से कुछ भी कर सकता है इसलिए हमें थोड़ी तुम कहते रहना चाहिए

vidyarthi jeevan me parishram ka mahatva kya hai vidyarthi jeevan me parishram ka bahut hi bahut bada hai bina paison ke kuch nahi ho sakta hai usi prakar hum log bina parishram ke game nahi padta kar sakti hai vidyarthi jeevan baki sabhi jeevan aise post hai kyonki yahi aise ashlesh deevan ki zarurat hoti hai isne hamein bachpan se hi parishram me hona chahiye aisa hai vidyarthi jeevan me chahen koi bhi jeevan me aap jis prakar ki koi ek ek patthar par nishaan bana sakta hai usi prakar vidyarthi apne aap aur hum se kuch bhi kar sakta hai isliye hamein thodi tum kehte rehna chahiye

विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व क्या है विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का बहुत ही बहुत ब

Romanized Version
Likes  147  Dislikes    views  2018
WhatsApp_icon
user

Prem

Teacher

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका बचाने के विद्यार्थी जीवन पर इसका क्या महत्व देकर में आपदा 2 विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व अधिक क्योंकि यदि विद्यार्थी की जरूरत नहीं होगा तो पढ़ पाएगा ना वो किसी काम को मेहनत से करेगा ना दिल लगाकर करेगा क्योंकि अगर परेशान नहीं करेगा वह तो उसके ना तो मांस अच्छा आप आएंगे ना ही वह अच्छे से किसी भी चीज को समझ पाएगा तो परेशान होना आवश्यक होता है परिश्रम का मतलब यह नहीं कि मजदूरी करने लगे अधिक होता है धन्यवाद

aapka bachane ke vidyarthi jeevan par iska kya mahatva dekar me aapda 2 vidyarthi jeevan me parishram ka mahatva adhik kyonki yadi vidyarthi ki zarurat nahi hoga toh padh payega na vo kisi kaam ko mehnat se karega na dil lagakar karega kyonki agar pareshan nahi karega vaah toh uske na toh maas accha aap aayenge na hi vaah acche se kisi bhi cheez ko samajh payega toh pareshan hona aavashyak hota hai parishram ka matlab yah nahi ki mazdoori karne lage adhik hota hai dhanyavad

आपका बचाने के विद्यार्थी जीवन पर इसका क्या महत्व देकर में आपदा 2 विद्यार्थी जीवन में परिश्

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1503
WhatsApp_icon
play
user

Dhiraj Kumar

Teacher & Advisor

0:36

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दोस्तों आपका पूछा गया प्रश्न है कि विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व क्या है तो दोस्तों मैं आपको बताना चाहूंगा कि विद्यार्थी के जीवन में परिश्रम का बहुत महत्वपूर्ण है जो व्यक्ति विद्यार्थी पढ़ाई को इसमें में परिश्रम करता है वही आगे चलकर बड़े आदमी की ओर बढ़ता है यानी बड़े आदमी में तकदीर का आता है जो बच्चे पढ़ने के समय में खेल कूद गया उधर उधर के चक्कर में पड़ जाते हैं नहीं पढ़ते हैं वह समय अपना बर्बाद कर लेते हैं और भविष्य में वही लोग जाकर छोटे-मोटे नौकरी एक लिए तलाश करते हैं और वही लोग बोलते हैं कि बेरोजगारी है तो आप उम्र पर सही से अगर पढ़ाई करते हैं तो आप अपने जीवन में बहुत आगे जा पाएंगे

doston aapka poocha gaya prashna hai ki vidyarthi jeevan mein parishram ka mahatva kya hai toh doston main aapko batana chahunga ki vidyarthi ke jeevan mein parishram ka bahut mahatvapurna hai jo vyakti vidyarthi padhai ko isme mein parishram karta hai wahi aage chalkar bade aadmi ki aur badhta hai yani bade aadmi mein takdir ka aata hai jo bacche padhne ke samay mein khel kud gaya udhar udhar ke chakkar mein pad jaate hain nahi padhte hain vaah samay apna barbad kar lete hain aur bhavishya mein wahi log jaakar chhote mote naukri ek liye talash karte hain aur wahi log bolte hain ki berojgari hai toh aap umar par sahi se agar padhai karte hain toh aap apne jeevan mein bahut aage ja payenge

दोस्तों आपका पूछा गया प्रश्न है कि विद्यार्थी जीवन में परिश्रम का महत्व क्या है तो दोस्तों

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  706
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!