वर्तनी का प्रयोग कैसे करे विस्तार से बताये?...


play
user

Yogesh Kumar

Engineer

1:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए भाषा की वर्तनी कारतूस भाषा में शब्दों को बड़ों से अभिव्यक्त करने की क्रिया को कहते हैं हिंदी में इसकी आवश्यकता काफी समय तक नहीं समझी जाती थी जबकि अन्य भाषाएं जैसे अंग्रेजी है उर्दू में इसमें इसका उपयोग ज्यादा होता था और हिंदी शब्द सागर तथा संक्षिप्त हिंदी शब्द सागर के प्रारंभिक संस्करणों के साथ ही सन 1950 में प्रकाशित प्रामाणिक हिंदी कोश जो अचार्य रामचंद्र वर्मा ने लिखी थी मैं इसका प्रयोग ना होना यह संकेत करता है कि शताब्दी के मध्य तक इस शब्द की कोई आवश्यकता नहीं समझी गई छठे दशक में वर्तनी शब्द को स्थान मिला जिसका संदर्भ तब प्रकाशित हुई तो पुस्तकों में मिलता है जैसे शुद्ध अक्षरी कैसे सीखे यह लिखी थी प्रोफेसर मुरलीधर श्रीवास्तव ने और हिंदी की वर्तनी पहले की थी प्रोफेसर रमापति स्वरूप श्रीवास्तव के अनुसार हिंदी के वाणी उड़ते धन्यवाद में होने के कारण हिंदी की वर्तनी की समस्या उतनी गंभीर नहीं जितनी अंग्रेजी की थी क्योंकि हिंदी में आज भी लिखित रूप से शब्द अपने उच्चरित रूप से अधिक भिन्न नहीं होते इसलिए अक्षरी शब्द का प्रयोग किया जो प्रचलन में नहीं आ सका क्योंकि उसी समय लेखक ने सिलेबस के लिए अक्षर का प्रयोग अपने डॉक्टरेट के ग्रंथ हिंदी भाषा में अक्षर तथा शब्द की सीमा में स्थित कर दिया

dekhiye bhasha ki vartani kartoos bhasha me shabdon ko badon se abhivyakt karne ki kriya ko kehte hain hindi me iski avashyakta kaafi samay tak nahi samjhi jaati thi jabki anya bhashayen jaise angrezi hai urdu me isme iska upyog zyada hota tha aur hindi shabd sagar tatha sanshipta hindi shabd sagar ke prarambhik sanskaranon ke saath hi san 1950 me prakashit pramanik hindi kosh jo acharya ramachandra verma ne likhi thi main iska prayog na hona yah sanket karta hai ki shatabdi ke madhya tak is shabd ki koi avashyakta nahi samjhi gayi chhathe dashak me vartani shabd ko sthan mila jiska sandarbh tab prakashit hui toh pustakon me milta hai jaise shudh aksharee kaise sikhe yah likhi thi professor muralidhar shrivastav ne aur hindi ki vartani pehle ki thi professor ramapati swaroop shrivastav ke anusaar hindi ke vani udte dhanyavad me hone ke karan hindi ki vartani ki samasya utani gambhir nahi jitni angrezi ki thi kyonki hindi me aaj bhi likhit roop se shabd apne uchcharit roop se adhik bhinn nahi hote isliye aksharee shabd ka prayog kiya jo prachalan me nahi aa saka kyonki usi samay lekhak ne syllabus ke liye akshar ka prayog apne doctorate ke granth hindi bhasha me akshar tatha shabd ki seema me sthit kar diya

देखिए भाषा की वर्तनी कारतूस भाषा में शब्दों को बड़ों से अभिव्यक्त करने की क्रिया को कहते ह

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  256
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!