सूर्यपुत्र कारण का जन्म कब और कहा हुआ था?...


user

NARGIS RAHMAN

Professor

0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

का सवाल है सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब और कहां हुआ था तो उसका जवाब ही नहीं कि सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म हुआ था कुंती कुंती एक कुंवारी लड़की थी और उसको उनको एक पुत्र चाहिए था तो उनको एक वरदान मिला था कि सूर्य देवता की पूजा करें तक उनको का पुत्र की प्राप्ति होगी तब उन्होंने सूर्य की पूजा की और उनको एक पुत्र प्राप्त हुआ दुर्गानंद अपहरण और उसके लिए इनको सूर्यपुत्र कहा जाता है लेकिन कुंती ने अपने पुत्र सूर्य पुत्र को छोड़ दिया था धन्यवाद

ka sawaal hai suryaputra karn ka janam kab aur kaha hua tha toh uska jawab hi nahi ki suryaputra karn ka janam hua tha kuntee kuntee ek kuwaari ladki thi aur usko unko ek putra chahiye tha toh unko ek vardaan mila tha ki surya devta ki puja kare tak unko ka putra ki prapti hogi tab unhone surya ki puja ki aur unko ek putra prapt hua durganand apahran aur uske liye inko suryaputra kaha jata hai lekin kuntee ne apne putra surya putra ko chhod diya tha dhanyavad

का सवाल है सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब और कहां हुआ था तो उसका जवाब ही नहीं कि सूर्यपुत्र कर

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  345
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anuj Rao

Teacher

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब हुआ था और कहां हुआ था तो देखी मैं आपको बताना चाहूंगा कि सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म हुआ था उनकी मां कुंती के कुंती का हुआ था जो कि कुंती कुंवारी थी उन्होंने एक पूजा की थी नहीं की एक ऐसी मेरी द्वारा एक वरदान था कि वह घर पूजा करेंगे तो उन्हें एक पुत्र प्राप्त हो सकता है तो मैं में सूर्य बुध सूर्य की पूजा की और उन्हें एक पत्र प्राप्त हुआ और उन्होंने उस पुत्र को गंगा में छोड़ दिया

aapka sawaal hai suryaputra karn ka janam kab hua tha aur kaha hua tha toh dekhi main aapko batana chahunga ki suryaputra karn ka janam hua tha unki maa kuntee ke kuntee ka hua tha jo ki kuntee kuwaari thi unhone ek puja ki thi nahi ki ek aisi meri dwara ek vardaan tha ki vaah ghar puja karenge toh unhe ek putra prapt ho sakta hai toh main me surya buddha surya ki puja ki aur unhe ek patra prapt hua aur unhone us putra ko ganga me chhod diya

आपका सवाल है सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब हुआ था और कहां हुआ था तो देखी मैं आपको बताना चाहूं

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  619
WhatsApp_icon
play
user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:15

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जो हमारे सूर्यपुत्र से उनको छोड़ दिया

jo hamare suryaputra se unko chhod diya

जो हमारे सूर्यपुत्र से उनको छोड़ दिया

Romanized Version
Likes  138  Dislikes    views  1661
WhatsApp_icon
user

Pushpanjali

Teacher & Carrier Cunsultancy

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तो आपने मुझसे पूछा सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब और कहां हुआ था तो मेरे को बताना चाहूंगी सूर्यपुत्र कर्ण सूर्यपुत्र कर्ण की मां का नाम था कुंती कुंती को ऐसा आशीर्वाद था एक देव ऋषि से कि जब वह जिस जिस जिस भगवान का शंकर भगवान उन्हें आकर उन्हें अपनी शक्ति सिंह बालक प्रदान करेंगे तो कुंती को इस बात का बिल्कुल भी एहसास नहीं था मैं तो उनको लगा कि यह झूठ है ऐसा थोड़ी हो सकता है तो उन्होंने प्रयोग के लिए अपनी शादी से पहले ही जो कुंती कुमारी से जो मैंने भगवान सूर्य की आराधना की और उनको अपने तपोबल से बुलाया तो उसके बाद उसे उसके बुलाने के बाद तो उस सूर्य सूर्य ने अपने अपनी शक्ति जैसा एक उनको पत्र प्रदान किया जो कवच और कुंडल पहने हुए था तो कुंती न्यू पत्र तो स्वीकार कर लिया लेकिन वह सोचने लगी कि रमेश पुत्र को रखूंगी तो दुनिया क्या कहेगी दुनिया यह चाहिए भैया कुमारी मां बन गई है इस वजह से कुंती ने उसको अपने पुत्र को गंगा में बहा दिया और सूर्यपुत्र कर्ण दूसरी ओर चला गया और उसको एक उसको एक नीची जाति के माता-पिता ने पाला तो सूर्यपुत्र जो कथा व सूर्यपुत्र सूर्य का पुत्र था और उसका जब जाना हुआ तो उसके जन्म के साथ-साथ उसके उसके हृदय पर का कवच और उसके दोनों कानों में कुंडल थे जिसके रहनुमा अमर था उसको कोई भी नहीं मार सकता था धन्यवाद

hello doston aapne mujhse poocha suryaputra karn ka janam kab aur kaha hua tha toh mere ko batana chahungi suryaputra karn suryaputra karn ki maa ka naam tha kuntee kuntee ko aisa ashirvaad tha ek dev rishi se ki jab vaah jis jis jis bhagwan ka shankar bhagwan unhe aakar unhe apni shakti Singh balak pradan karenge toh kuntee ko is baat ka bilkul bhi ehsaas nahi tha main toh unko laga ki yah jhuth hai aisa thodi ho sakta hai toh unhone prayog ke liye apni shaadi se pehle hi jo kuntee kumari se jo maine bhagwan surya ki aradhana ki aur unko apne tapobal se bulaya toh uske baad use uske bulane ke baad toh us surya surya ne apne apni shakti jaisa ek unko patra pradan kiya jo kavach aur kundal pehne hue tha toh kuntee new patra toh sweekar kar liya lekin vaah sochne lagi ki ramesh putra ko rakhungi toh duniya kya kahegi duniya yah chahiye bhaiya kumari maa ban gayi hai is wajah se kuntee ne usko apne putra ko ganga me baha diya aur suryaputra karn dusri aur chala gaya aur usko ek usko ek nichi jati ke mata pita ne pala toh suryaputra jo katha va suryaputra surya ka putra tha aur uska jab jana hua toh uske janam ke saath saath uske uske hriday par ka kavach aur uske dono kanon me kundal the jiske rehnuma amar tha usko koi bhi nahi maar sakta tha dhanyavad

हेलो दोस्तो आपने मुझसे पूछा सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब और कहां हुआ था तो मेरे को बताना चाह

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
user
0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब और कहां हुआ था तो दोस्तों सूर्यपुत्र कर्ण जिनको दानवीर कर्ण भी कहा जाता है वह कुंती के पुत्र थे या उसके समर्थन मिलने पर कुंती का गर्भ ठहरा था और वह कुंवारी मां बन गई थी इसलिए उन्होंने करण को छोड़ दिया था तो बाद में करने को कुंती ने उनका कर्जदार में लेकर के अर्जुन की जान बचाई थी थैंक्यू

aapka sawaal suryaputra karn ka janam kab aur kaha hua tha toh doston suryaputra karn jinako daanveer karn bhi kaha jata hai vaah kuntee ke putra the ya uske samarthan milne par kuntee ka garbh thahara tha aur vaah kuwaari maa ban gayi thi isliye unhone karan ko chhod diya tha toh baad me karne ko kuntee ne unka karzdar me lekar ke arjun ki jaan bachai thi thainkyu

आपका सवाल सूर्यपुत्र कर्ण का जन्म कब और कहां हुआ था तो दोस्तों सूर्यपुत्र कर्ण जिनको दानवी

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  808
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!