पितृ मोक्ष अमावस्या क दिन डेथ का महत्व क्या है?...


play
user

कमलेश कुमार पांचाल

शिक्षक और सलाहकार

0:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि पित्र मोक्ष अमावस्या के दिन मौत होने का क्या क्या मृत्यु होने का क्या महत्व तो ऐसी हिंदू पौराणिक मान्यता है कि पित्र मोक्ष अमावस्या के दिन मेरी मौत होती है तो व्यक्ति को मोक्ष मिल जाता है अर्थात उसका तरनतारन हो जाता है क्या वह निर्माण को प्राप्त होता है ऐसी मान्यता है धन्यवाद

aapne poocha hai ki pitra moksha amavasya ke din maut hone ka kya kya mrityu hone ka kya mahatva toh aisi hindu pouranik manyata hai ki pitra moksha amavasya ke din meri maut hoti hai toh vyakti ko moksha mil jata hai arthat uska taranataran ho jata hai kya vaah nirmaan ko prapt hota hai aisi manyata hai dhanyavad

आपने पूछा है कि पित्र मोक्ष अमावस्या के दिन मौत होने का क्या क्या मृत्यु होने का क्या महत्

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  414
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार पितृ अमावस्या का महत्व स्थिति में धरती पर आए पितरों को याद कर उन्हें विदाई की जाती है इस दिन का इतना महत्व है कि अगर पूरे पित्र पक्ष में पितरों का तत्व नहीं किया जा सका तो सिर्फ है अमावस्या के दिन इन्हें याद कर दान करते हैं गरीब को भोजन कराने से पित्र को शांति मिल जाती है

namaskar pitr amavasya ka mahatva sthiti me dharti par aaye pitaron ko yaad kar unhe vidai ki jaati hai is din ka itna mahatva hai ki agar poore pitra paksh me pitaron ka tatva nahi kiya ja saka toh sirf hai amavasya ke din inhen yaad kar daan karte hain garib ko bhojan karane se pitra ko shanti mil jaati hai

नमस्कार पितृ अमावस्या का महत्व स्थिति में धरती पर आए पितरों को याद कर उन्हें विदाई की जाती

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  1017
WhatsApp_icon
user
0:26
Play

Likes  27  Dislikes    views  907
WhatsApp_icon
user
0:34
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने पितृ मोक्ष अमावस्या के दिन दम हो तो फ्रेंड बिल्कुल मैं आपको बताना चाहूंगा अमावस है उसने भी हमारे पूर्वज होते हैं उन सबको याद करते हैं उन्हें पानी दिया जाता है और अगर उसने किसी का देश हो जाता कि यहां एक तरफ से मोक्ष मिलने वाली बात हो जाती है क्योंकि वह जो चिट्ठी आती है बहुत शुभ तिथि मानी जाती है अगर उस दिन किसी का देश होता है तो उसे डायरेक्ट मोक्ष की प्राप्ति होती है ऐसा माना जाता है धन्यवाद बैंड

apne pitr moksha amavasya ke din dum ho toh friend bilkul main aapko batana chahunga amavas hai usne bhi hamare purvaj hote hain un sabko yaad karte hain unhe paani diya jata hai aur agar usne kisi ka desh ho jata ki yahan ek taraf se moksha milne wali baat ho jaati hai kyonki vaah jo chitthi aati hai bahut shubha tithi maani jaati hai agar us din kisi ka desh hota hai toh use direct moksha ki prapti hoti hai aisa mana jata hai dhanyavad band

अपने पितृ मोक्ष अमावस्या के दिन दम हो तो फ्रेंड बिल्कुल मैं आपको बताना चाहूंगा अमावस है उस

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  1632
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!