पर्युषण पर्व का महत्व क्या है?...


user

AMAN KUMAR

TEACHER | UPSC ASPIRANT | UNACADEMY

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न प्रदूषण पर का महत्व प्रदूषण पर्व का महत्व बहुत सारे महत्व जैसे प्रदूषण पर्व के दिन हम नए-नए वृक्षारोपण करते तथा यह शपथ लेते हैं कि हम जीवन में कभी प्रदूषण नहीं काटेंगे हार्दिक धन्यवाद

aapka prashna pradushan par ka mahatva pradushan parv ka mahatva bahut saare mahatva jaise pradushan parv ke din hum naye naye vriksharopan karte tatha yah shapath lete hain ki hum jeevan me kabhi pradushan nahi katenge hardik dhanyavad

आपका प्रश्न प्रदूषण पर का महत्व प्रदूषण पर्व का महत्व बहुत सारे महत्व जैसे प्रदूषण पर्व के

Romanized Version
Likes  53  Dislikes    views  1716
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Prem

Teacher

0:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा पर्यूषण पर्व का महत्व क्या है तो मैं आपको बता दूं जैन समाज में जाए पर्यूषण पर्व का बहुत अधिक महत्व है इस पर्व को परवाह भी और आज भी कहा जाता है परिश्रम पर हो जो है आध्यात्मिक अनुष्ठानों के माध्यम से जाएं आत्मा की शुद्धि का पर्व माना जाता है और इसका मुख्य उद्देश्य भी आत्मा की जो अशुद्धियां हैं उनको दूर करना ही होता है

aapne poocha paryushan parv ka mahatva kya hai toh main aapko bata doon jain samaj mein jaaye paryushan parv ka bahut adhik mahatva hai is parv ko parvaah bhi aur aaj bhi kaha jata hai parishram par ho jo hai aadhyatmik anushthanon ke madhyam se jayen aatma ki shudhi ka parv mana jata hai aur iska mukhya uddeshya bhi aatma ki jo ashuddhiyan hain unko dur karna hi hota hai

आपने पूछा पर्यूषण पर्व का महत्व क्या है तो मैं आपको बता दूं जैन समाज में जाए पर्यूषण पर्व

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  822
WhatsApp_icon
user
0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जल वायु जल मृदा आदि के स्थानीय तत्व भूल कर उसमें इस हद तक गंदा कर देता है कि स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर डालने लगे तो उसको प्रदूषण कहते हैं प्रदूषण प्रकृति अशुद्ध असंतुलन पैदा होता है साथ में यह मानव जीवन के लिए भी खतरे का घंटी है वनों की अंधाधुंध कटाई थी प्रदूषण के कारण में शामिल होते हैं और ज्यादा गाड़ी भी चलने से प्रदूषण होता है जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है

namaskar jal vayu jal mrida aadi ke sthaniye tatva bhool kar usme is had tak ganda kar deta hai ki swasthya par pratikul asar dalne lage toh usko pradushan kehte hain pradushan prakriti ashuddh asantulan paida hota hai saath me yah manav jeevan ke liye bhi khatre ka ghanti hai vano ki andhadhundh katai thi pradushan ke karan me shaamil hote hain aur zyada gaadi bhi chalne se pradushan hota hai jo swasthya ke liye haanikarak hai

नमस्कार जल वायु जल मृदा आदि के स्थानीय तत्व भूल कर उसमें इस हद तक गंदा कर देता है कि स्वास

Romanized Version
Likes  24  Dislikes    views  1198
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!