निबंध लेखन जल का महत्व क्या है?...


user

Sunil

Teacher

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लिखे अगर आप जल के महत्व पर निबंध लिखना चाहते हैं क्या आप इस पर आसानी से निबंध लिख सकते हैं लेकिन की महत्वपूर्ण था के बारे में बताइए इसका उपयोग बताइए और देखिए किस तरह से अमल को बचा सकते हैं इस तरीके से आपको कुछ जल के बारे में अच्छी-अच्छी बातें बना कर बता कर जो है वह जल का जल पर निबंध लिख सकते हैं

likhe agar aap jal ke mahatva par nibandh likhna chahte hain kya aap is par aasani se nibandh likh sakte hain lekin ki mahatvapurna tha ke bare me bataiye iska upyog bataiye aur dekhiye kis tarah se amal ko bacha sakte hain is tarike se aapko kuch jal ke bare me achi achi batein bana kar bata kar jo hai vaah jal ka jal par nibandh likh sakte hain

लिखे अगर आप जल के महत्व पर निबंध लिखना चाहते हैं क्या आप इस पर आसानी से निबंध लिख सकते हैं

Romanized Version
Likes  77  Dislikes    views  1388
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Pushpanjali

Teacher & Carrier Cunsultancy

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो दोस्तो आप ने मुझसे पूछा है निबंध लेखन जल का महत्व क्या है तो मैं आपको बताना चाहूंगी पानी का हमारे जीवन में बहुत महत्व है पानी की विदा हम जिंदा नहीं रह सकते और हमारी जो पूरी पृथ्वी है वह उसका 70 परसेंट जो हिस्सा है सत्तर परसेंट 70% हिस्सा है वह पानी से ही भरा हुआ है और तीस पर्सेंट जो हिस्सा है वही जो सुखी सुखी है उसे पूरा विश्व भरा है जो पूरे विश्व के दिन उसी पर है पानी जो है वह पानी जीवित प्राणियों के लिए जीवित प्राणियों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण चीज होती है खाना बनाने के लिए खाना पकाने के लिए और भी बहुत सारे गति भी और भी बहुत सारी गतिविधियां होती है नहाने के लिए जिस हमें पानी की आवश्यकता होती है तो ऐसे बहुत सारे चीज गतिविधियां है जिसमें हम पानी की आवश्यकता होती है तो हमारे जीवन में पानी का बहुत ही महत्व है इसलिए पानी बचाएं धन्यवाद

hello doston aap ne mujhse poocha hai nibandh lekhan jal ka mahatva kya hai toh main aapko batana chahungi paani ka hamare jeevan me bahut mahatva hai paani ki vida hum zinda nahi reh sakte aur hamari jo puri prithvi hai vaah uska 70 percent jo hissa hai sattar percent 70 hissa hai vaah paani se hi bhara hua hai aur tees percent jo hissa hai wahi jo sukhi sukhi hai use pura vishwa bhara hai jo poore vishwa ke din usi par hai paani jo hai vaah paani jeevit praniyo ke liye jeevit praniyo ke liye ek bahut hi mahatvapurna cheez hoti hai khana banane ke liye khana pakane ke liye aur bhi bahut saare gati bhi aur bhi bahut saari gatividhiyan hoti hai nahane ke liye jis hamein paani ki avashyakta hoti hai toh aise bahut saare cheez gatividhiyan hai jisme hum paani ki avashyakta hoti hai toh hamare jeevan me paani ka bahut hi mahatva hai isliye paani bachaen dhanyavad

हेलो दोस्तो आप ने मुझसे पूछा है निबंध लेखन जल का महत्व क्या है तो मैं आपको बताना चाहूंगी प

Romanized Version
Likes  16  Dislikes    views  731
WhatsApp_icon
play
user
0:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जैसा कि हम सभी जानते हैं जल के बगैर किसी भी प्राणी का अस्तित्व संभव नहीं है इसके बगैर नहीं रहा जा सकता है और आज के दिनों में पूरी दुनिया में जल की कमी होती जा रही है जल का स्तर गिरता जा रहा है सरकार की ओर से भी जल संरक्षण के कई कदम उठाए जा रहे हैं खास करके अफ्रीका के देशों में तो पानी के लिए त्राहिमाम बचा है भारत के कई शहर भी इस स्थिति में आ रहे हैं कि कुछ वर्षों के बाद वहां जल की उपलब्धता नहीं रह जाएगी अतः जल का महत्व जीवन में कितना है इसे इसे व्याख्यान नहीं किया जा सकता है इसके बगैर मानव जीवन ही नहीं किसी भी चाहे वह पशु पक्षी हो या फिर पौधे हो किसी का भी अस्तित्व नहीं बचेगा

jaisa ki hum sabhi jante hain jal ke bagair kisi bhi prani ka astitva sambhav nahi hai iske bagair nahi raha ja sakta hai aur aaj ke dino mein puri duniya mein jal ki kami hoti ja rahi hai jal ka sthar girta ja raha hai sarkar ki aur se bhi jal sanrakshan ke kai kadam uthye ja rahe hain khaas karke africa ke deshon mein toh paani ke liye trahimam bacha hai bharat ke kai shehar bhi is sthiti mein aa rahe hain ki kuch varshon ke baad wahan jal ki upalabdhata nahi reh jayegi atah jal ka mahatva jeevan mein kitna hai ise ise vyakhyan nahi kiya ja sakta hai iske bagair manav jeevan hi nahi kisi bhi chahen vaah pashu pakshi ho ya phir paudhe ho kisi ka bhi astitva nahi bachega

जैसा कि हम सभी जानते हैं जल के बगैर किसी भी प्राणी का अस्तित्व संभव नहीं है इसके बगैर नहीं

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  385
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!