कृष्णा काव्य की विशेषता क्या है बताये?...


user

Shivendra Pratap Singh

Engineer , Assistant Professor

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मिस्ट मित्र आपका प्रश्न है कि कृष्णा काव्य की विशेषता क्या है बताइए तो मैं आपको बताना चाहता हूं कि अलग-अलग कभी उपयुक्त लेते कुछ कभी जो ऐसे थे जिन्होंने भगवान को देखा भी नहीं था लेकिन बोल की छवि कि उनके ऊपर छंद लिखते थे दोहे लिखे जैसे सूरदास सूरदास किस काल के कवि जाते थे उन्होंने कृष्णा के ऊपर बहुत सारे दोहे लिखे थे

mist mitra aapka prashna hai ki krishna kavya ki visheshata kya hai bataiye toh main aapko batana chahta hoon ki alag alag kabhi upyukt lete kuch kabhi jo aise the jinhone bhagwan ko dekha bhi nahi tha lekin bol ki chhavi ki unke upar chhand likhte the dohe likhe jaise surdas surdas kis kaal ke kavi jaate the unhone krishna ke upar bahut saare dohe likhe the

मिस्ट मित्र आपका प्रश्न है कि कृष्णा काव्य की विशेषता क्या है बताइए तो मैं आपको बताना चाहत

Romanized Version
Likes  131  Dislikes    views  1689
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कृष्ण भक्ति शाखा की विशेषता श्री कृष्ण भक्ति धारा के कवियों का वर्ण्य विषय कृष्ण विषय की लीलाओं का वर्णन रहा है कृष्ण काव्य मुल्क अवश्य सिंगार और शांत शांत रस में लिखा गया है श्रृंगार में संयोग और वियोग दोनों पक्ष

krishna bhakti shakha ki visheshata shri krishna bhakti dhara ke kaviyon ka varnya vishay krishna vishay ki lilaon ka varnan raha hai krishna kavya mulk avashya shingar aur shaant shaant ras me likha gaya hai shringar me sanyog aur viyog dono paksh

कृष्ण भक्ति शाखा की विशेषता श्री कृष्ण भक्ति धारा के कवियों का वर्ण्य विषय कृष्ण विषय की ल

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  633
WhatsApp_icon
play
user
0:20

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा कि कृष्णा कभी की विशेषता क्या है तो दोस्तों इसकी रचना गेम मुक्त पदों से हुई है श्री कृष्ण काव्य मुल्तान वाले श्रृंगार और शांत रस में लिखा गया है सिंगार में संयोग और वियोग दोनों पक्ष है इन कवियों की भक्ति शाखा भाव से 10 से भाव की है

aapne poocha ki krishna kabhi ki visheshata kya hai toh doston iski rachna game mukt padon se hui hai shri krishna kavya multan waale shringar aur shaant ras me likha gaya hai shingar me sanyog aur viyog dono paksh hai in kaviyon ki bhakti shakha bhav se 10 se bhav ki hai

आपने पूछा कि कृष्णा कभी की विशेषता क्या है तो दोस्तों इसकी रचना गेम मुक्त पदों से हुई है श

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  937
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!