ज्योतिष शास्त्र में स्वरविज्ञान का महत्व क्या है?...


user

Dr. kishore Ghildiyal

Astrologer,YouTuber,writer,blogger

1:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ज्योतिष शास्त्र में स्वर विज्ञान का काफी महत्व रहा है हमारे ज्योतिष शास्त्र में प्रत्येक ग्रह को कुछ पर प्रदान किए गए हैं उनके अनुसार जातक विशेष का नाम पता है तो उसके अनुसार जातक विशेष के जीवन का तौर तरीका आसानी से समझा जा सकता है यहां मैं स्पष्ट कर दूं कि प्रत्येक ग्रह के अनुसार नाम अक्षर निर्धारित किए गए हैं उनके नाम से जो जातक होता है उस जातक विशेष पर उस नाम की प्रधान वह का प्रतिनिधित्व बन जाता है जैसे शुक्र ग्रह से संबंधित नाम च छ ज झ 9 शब्द से रखे गए हैं इसी प्रकार चंद्रमा से संबंधित नाम हो गए वह य र ल व श से रखे गए यहां एक बात और बता दूं कुछ लोगों के नाम में आधा अक्षर होता है जो आधा अक्षर का नाम किसी भी प्रकार का रखा जाए तो वह केतु ग्रह की प्रधानता को बताता है और इसी पर हर किसी में कोई नाम के अक्षर में एक से ज्यादा बार रिपीटेशन आ जाना या एक ही अक्षर को दो बार लिखा जाना यह राहु ग्रह से संबंधित होता है इस प्रकार स्पष्ट है कि स्वर विज्ञान में जब आप दूसरों का इस्तेमाल करेंगे जो एक खास तरह का प्रयोग करते हैं तो उस जातक विशेष में उस ग्रह की एनर्जी ज्यादा पाई जाएगी जैसे कि हमने स्पष्ट किया कि यह र ल व नाम है यह चंद्र ग्रह से संबंधित है जो कि मांस इसका या जनता से लगाओ का कारक बनता है इस प्रकार जितने भी इस प्रकार के जो लोग होते हैं जिनका नाम न से शुरू होता है वह जनता के द्वारा बहुत जो विशेष रूप से नहीं प्राप्त करते हैं अतः स्पष्ट रूप से कहा जाता है कि ज्योतिष विज्ञान में स्वर विज्ञान का काफी महत्व है

jyotish shastra me swar vigyan ka kaafi mahatva raha hai hamare jyotish shastra me pratyek grah ko kuch par pradan kiye gaye hain unke anusaar jatak vishesh ka naam pata hai toh uske anusaar jatak vishesh ke jeevan ka taur tarika aasani se samjha ja sakta hai yahan main spasht kar doon ki pratyek grah ke anusaar naam akshar nirdharit kiye gaye hain unke naam se jo jatak hota hai us jatak vishesh par us naam ki pradhan vaah ka pratinidhitva ban jata hai jaise shukra grah se sambandhit naam ch chh j jh 9 shabd se rakhe gaye hain isi prakar chandrama se sambandhit naam ho gaye vaah ya r l va sha se rakhe gaye yahan ek baat aur bata doon kuch logo ke naam me aadha akshar hota hai jo aadha akshar ka naam kisi bhi prakar ka rakha jaaye toh vaah Ketu grah ki pradhanta ko batata hai aur isi par har kisi me koi naam ke akshar me ek se zyada baar repetition aa jana ya ek hi akshar ko do baar likha jana yah rahu grah se sambandhit hota hai is prakar spasht hai ki swar vigyan me jab aap dusro ka istemal karenge jo ek khas tarah ka prayog karte hain toh us jatak vishesh me us grah ki energy zyada payi jayegi jaise ki humne spasht kiya ki yah r l va naam hai yah chandra grah se sambandhit hai jo ki maas iska ya janta se lagao ka kaarak banta hai is prakar jitne bhi is prakar ke jo log hote hain jinka naam na se shuru hota hai vaah janta ke dwara bahut jo vishesh roop se nahi prapt karte hain atah spasht roop se kaha jata hai ki jyotish vigyan me swar vigyan ka kaafi mahatva hai

ज्योतिष शास्त्र में स्वर विज्ञान का काफी महत्व रहा है हमारे ज्योतिष शास्त्र में प्रत्येक ग

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  120
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!