होली मानाने का कारन क्या है और उस से कैसे बचा जाये?...


user

AMAN KUMAR

TEACHER | UPSC ASPIRANT | UNACADEMY

0:32
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पृथ्वी बचाएं होली मनाने का कारण क्या है और उसे कैसे बचा जाए मैं आपको बता दूं कि होली हमारे परंपराओं सदियों से चलता आ रहे हैं जिसमें हिरण कश्यप ने अपने बेटे फिलहाल को मारने की कोशिश की थी तब भगवान नरसिम्हा ने उनकी छाती चीरकर उनका वध किया था तभी से होली मनाने की परंपरा शुरू की गई और इससे बचने की कोई आवश्यकता नहीं क्योंकि बहुत सी हंसी खुशी वाली त्यौहार है जिसमें इंसान को हमेशा खुश रहना चाहिए

prithvi bachaen holi manane ka karan kya hai aur use kaise bacha jaaye main aapko bata doon ki holi hamare paramparaon sadiyon se chalta aa rahe hain jisme hiran kashyap ne apne bete filhal ko maarne ki koshish ki thi tab bhagwan narsimha ne unki chhati chirakar unka vadh kiya tha tabhi se holi manane ki parampara shuru ki gayi aur isse bachne ki koi avashyakta nahi kyonki bahut si hansi khushi wali tyohar hai jisme insaan ko hamesha khush rehna chahiye

पृथ्वी बचाएं होली मनाने का कारण क्या है और उसे कैसे बचा जाए मैं आपको बता दूं कि होली हमारे

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  2142
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रश्न है होली मनाने का कारण क्या है और उससे कैसे बचा जाए इसका आंसर है हिरण का चीकू के आदेश दिया कि होलिका प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठे आग में बैठने पर होलिका को जल गई पर पहलाद बच गया ईश्वर भक्त पहलाद की याद में इस दिन होली जलाई जाती है वह और उत्पीड़न की प्रतीक होलिका जलाने की लकड़ी जलती है और प्रेम तथा उल्लास का प्रतीक पहलाद आनंद आश्रम रहता है इससे बचने के लिए मुसलमान बन जाओ साला होली से बचेगा

prashna hai holi manane ka karan kya hai aur usse kaise bacha jaaye iska answer hai hiran ka Chiku ke aadesh diya ki holika prahlad ko god me lekar aag me baithe aag me baithne par holika ko jal gayi par pahlad bach gaya ishwar bhakt pahlad ki yaad me is din holi jalai jaati hai vaah aur utpidan ki prateek holika jalane ki lakdi jalti hai aur prem tatha ullas ka prateek pahlad anand ashram rehta hai isse bachne ke liye musalman ban jao sala holi se bachega

प्रश्न है होली मनाने का कारण क्या है और उससे कैसे बचा जाए इसका आंसर है हिरण का चीकू के आदे

Romanized Version
Likes  35  Dislikes    views  810
WhatsApp_icon
play
user
1:17

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका जवाब है होली मनाने का कारण क्या है उसे कैसे बचा जाए तो आपका जवाब होगा दोस्तों होली जो है यह जो प्रचलित हुआ होलिका दहन से शुरू होता है होलिका दहन जो होता है कहा जाता है कि हिरण कश्यप की जो बेटे थे वह अपने आप को भगवान मानता था बोलता था कि मैं भगवान हूं इसलिए हिरण कश्यप उन्हें अपनी बहन होलिका को उसको बोला कि तुम जो हो क्या करो कि उसे एक चादर उड़ाया उसको चलाओ लेकिन होली का क्या हुआ कि उनका बेटा था मेनू उड़ गया और होलिका दहन जल गई उस दिन से या पौराणिक इतिहास में या पर मनाए लगा और होली जो है यह के मिलन का पर्व है हिंदू समाज का यह महत्वपूर्ण ही पावन पर्व होता है जिसमें एक दूसरे से गले मिलते हैं खुशियां बांटते हैं अभी लगाते हैं गुलाल लगाते हैं आपको अगर होली नहीं खेलना है उससे बचना है तो आप रंगों का इस्तेमाल नहीं करें आप रंग कलर अपने चेहरे पर ना लगाएं

aapka jawab hai holi manane ka karan kya hai use kaise bacha jaaye toh aapka jawab hoga doston holi jo hai yah jo prachalit hua holika dahan se shuru hota hai holika dahan jo hota hai kaha jata hai ki hiran kashyap ki jo bete the vaah apne aap ko bhagwan maanta tha bolta tha ki main bhagwan hoon isliye hiran kashyap unhe apni behen holika ko usko bola ki tum jo ho kya karo ki use ek chadar udaya usko chalao lekin holi ka kya hua ki unka beta tha menu ud gaya aur holika dahan jal gayi us din se ya pouranik itihas me ya par manaye laga aur holi jo hai yah ke milan ka parv hai hindu samaj ka yah mahatvapurna hi paavan parv hota hai jisme ek dusre se gale milte hain khushiya bantate hain abhi lagate hain gulal lagate hain aapko agar holi nahi khelna hai usse bachna hai toh aap rangon ka istemal nahi kare aap rang color apne chehre par na lagaye

आपका जवाब है होली मनाने का कारण क्या है उसे कैसे बचा जाए तो आपका जवाब होगा दोस्तों होली जो

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  1424
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!