धारा 34 क्या है इन हिंदी विस्तार में बताये?...


user

Raghuveer Singh

👤Teacher & Advisor🙏

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न धारा 34 क्या है इन हिंदी विचार में बताइए तो देखे धारा 34 अनुच्छेद 34 की बात कर रहे हैं आप यदि आप सही हैं तो संसद के अनुसार यदि किसी क्षेत्र में यानी किसी राज्य क्षेत्र में गिरी सेना कार्य कर रही है तो वहां के अधिकार एक बार हैं निरस्त हो जाएंगे या नहीं सेना के हाथ में आ जाएंगे धन्यवाद

namaskar aapka prashna dhara 34 kya hai in hindi vichar me bataiye toh dekhe dhara 34 anuched 34 ki baat kar rahe hain aap yadi aap sahi hain toh sansad ke anusaar yadi kisi kshetra me yani kisi rajya kshetra me giri sena karya kar rahi hai toh wahan ke adhikaar ek baar hain nirast ho jaenge ya nahi sena ke hath me aa jaenge dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न धारा 34 क्या है इन हिंदी विचार में बताइए तो देखे धारा 34 अनुच्छेद 34 क

Romanized Version
Likes  123  Dislikes    views  1496
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anuj Rao

Teacher

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल धारा 34 क्या है हिंदी में विस्तार होते तो देखी मैं गौतम शर्मा की आर्थिक दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक अपराधी करते सभी सभी व्यक्तियों ने सामान्य इरादों से हो तो एक व्यक्ति अधिकारी के लिए तुम एसआर होता है जैसे अकेले के द्वारा ही किया गया हो धन्यवाद

aapka sawaal dhara 34 kya hai hindi me vistaar hote toh dekhi main gautam sharma ki aarthik dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar jab ek apradhi karte sabhi sabhi vyaktiyon ne samanya iradon se ho toh ek vyakti adhikari ke liye tum SR hota hai jaise akele ke dwara hi kiya gaya ho dhanyavad

आपका सवाल धारा 34 क्या है हिंदी में विस्तार होते तो देखी मैं गौतम शर्मा की आर्थिक दंड संहि

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  634
WhatsApp_icon
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक आपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों के ने सामान्य इरादे से किया हो तो प्रत्येक व्यक्ति ऐसे कार्य के लिए जिम्मेदार होता है जैसे कि अपराध उसके अकेले के द्वारा ही किया गया हो मरते दम तक 1860 की धारा 34 में किसी अपराध की सजा का प्रावधान नहीं दिया गया है बल्कि इस धारा में ऐसे अपराध के बारे में बताया गया जो किसी अपराध के साथ किया गया वह कभी किसी भी आरोपी पर उसके द्वारा किए गए किसी भी अपराध में केवल एक ही धारा 34 का प्रयोग नहीं हो सकता यदि किसी आरोपी पर धारा 34 लगाई गई है तो उस व्यक्ति पर धारा 347 कोई अन्य अपराध की धारा वशी लगाई गई होगी बात बेटा की धारा 34 के अनुसार यदि किसी आपराधिक कार्य को एक से अधिक व्यक्ति द्वारा उन सभी के सामान्य आवश्यक को अग्रसर बनाने में किया जाता है ऐसे अपराध में सभी अपराधियों के राधे एक समान होते हैं और वे अपने कार्य को अंजाम देने के लिए पहले पहले से ही आपस में उचित प्लान बना चुके हो तो ऐसे व्यक्तियों में हर एक व्यक्ति उस आपराधिक कार्य को करने के लिए सभी लोग इतना दांत निभाता है तो ऐसी स्थिति में अपराध आमिर किला का कोई प्रकार एक बार होता है मानव व्यक्ति ने किया धन्यवाद

bharatiya dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar jab ek apradhik kritya sabhi vyaktiyon ke ne samanya Irade se kiya ho toh pratyek vyakti aise karya ke liye zimmedar hota hai jaise ki apradh uske akele ke dwara hi kiya gaya ho marte dum tak 1860 ki dhara 34 mein kisi apradh ki saza ka pravadhan nahi diya gaya hai balki is dhara mein aise apradh ke bare mein bataya gaya jo kisi apradh ke saath kiya gaya vaah kabhi kisi bhi aaropi par uske dwara kiye gaye kisi bhi apradh mein keval ek hi dhara 34 ka prayog nahi ho sakta yadi kisi aaropi par dhara 34 lagayi gayi hai toh us vyakti par dhara 347 koi anya apradh ki dhara vashi lagayi gayi hogi baat beta ki dhara 34 ke anusaar yadi kisi apradhik karya ko ek se adhik vyakti dwara un sabhi ke samanya aavashyak ko agrasar banane mein kiya jata hai aise apradh mein sabhi apradhiyon ke radhe ek saman hote hain aur ve apne karya ko anjaam dene ke liye pehle pehle se hi aapas mein uchit plan bana chuke ho toh aise vyaktiyon mein har ek vyakti us apradhik karya ko karne ke liye sabhi log itna dant nibhata hai toh aisi sthiti mein apradh aamir kila ka koi prakar ek baar hota hai manav vyakti ne kiya dhanyavad

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक आपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों के ने सामान्य इर

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  612
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि धारा 34 क्या है तो मैं आपको बता दूं कि भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जैविक अपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों ने सम्मान इरादे से किया हो तो प्रत्येक व्यक्ति ऐसे कार्य के लिए जिम्मेदार होता है जैसा कि अपराध उसके अकेले के द्वारा ही किया गया हो

aapne poocha hai ki dhara 34 kya hai toh main aapko bata doon ki bharatiya dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar Jaivik apradhik kritya sabhi vyaktiyon ne sammaan Irade se kiya ho toh pratyek vyakti aise karya ke liye zimmedar hota hai jaisa ki apradh uske akele ke dwara hi kiya gaya ho

आपने पूछा है कि धारा 34 क्या है तो मैं आपको बता दूं कि भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनु

Romanized Version
Likes  83  Dislikes    views  960
WhatsApp_icon
user
0:20
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब अपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों में सामान्य इरादे से किया तो प्रत्येक व्यक्ति ऐसे कार्य के लिए दार होता है जैसे कि अपराध उसके अकेले के द्वारा ही किया गया हो

bharatiya dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar jab apradhik kritya sabhi vyaktiyon me samanya Irade se kiya toh pratyek vyakti aise karya ke liye daar hota hai jaise ki apradh uske akele ke dwara hi kiya gaya ho

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब अपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों में सामान्य इरादे स

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  572
WhatsApp_icon
user
0:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक अपराधी के पास सभी व्यक्तियों ने सामान्य इरादा से क्या हो तो प्रति व्यक्ति ऐसे कार्य के लिए जिम्मेदार होता है जैसे कि अपराध उसके अगले के द्वारा ही किया गया है

bharatiya dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar jab ek apradhi ke paas sabhi vyaktiyon ne samanya irada se kya ho toh prati vyakti aise karya ke liye zimmedar hota hai jaise ki apradh uske agle ke dwara hi kiya gaya hai

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक अपराधी के पास सभी व्यक्तियों ने सामान्य इरादा

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  729
WhatsApp_icon
user

Prabhat Verma

primary teacher government of bihar

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक आपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों ने सामान्य इरादे से किया हो तो प्रत्येक व्यक्ति ऐसे कार्य के लिए जिम्मेदार होता है जैसे कि अपराध उसके अकेले के द्वारा ही किया गया

bharatiya dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar jab ek apradhik kritya sabhi vyaktiyon ne samanya Irade se kiya ho toh pratyek vyakti aise karya ke liye zimmedar hota hai jaise ki apradh uske akele ke dwara hi kiya gaya

भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक आपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों ने सामान्य इरादे

Romanized Version
Likes  38  Dislikes    views  1001
WhatsApp_icon
user
0:25
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

धारा 34 क्या है इन हिंदी में विस्तार से बताइए इसका आंसर है भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक अपराधिक कृत्य सभी व्यक्तियों के समान इरादे से किया हो तो प्रत्येक व्यक्ति ऐसे कार्य के लिए जिम्मेदार होता है जैसे कि अपराध उसके अकेले के द्वारा ही किया गया हो

dhara 34 kya hai in hindi me vistaar se bataiye iska answer hai bharatiya dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar jab ek apradhik kritya sabhi vyaktiyon ke saman Irade se kiya ho toh pratyek vyakti aise karya ke liye zimmedar hota hai jaise ki apradh uske akele ke dwara hi kiya gaya ho

धारा 34 क्या है इन हिंदी में विस्तार से बताइए इसका आंसर है भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  660
WhatsApp_icon
user

Ami sarswat

College Lect.,Business Owner

0:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न धारा 34 क्या है इन हिंदी विस्तार में बताएं आपको बता दें भारतीय दंड संहिता की धारा 34 के अनुसार जब एक अपराधी करते सभी व्यक्तियों के नए सामान इरादे से किया हो तो प्रत्येक व्यक्ति ऐसे कार्य के लिए जिम्मेदार होता है जैसे कि अपराध उसके अकेले द्वारा ही किया गया हो धन्यवाद जय हिंद जय भारत

aapka prashna dhara 34 kya hai in hindi vistaar me bataye aapko bata de bharatiya dand sanhita ki dhara 34 ke anusaar jab ek apradhi karte sabhi vyaktiyon ke naye saamaan Irade se kiya ho toh pratyek vyakti aise karya ke liye zimmedar hota hai jaise ki apradh uske akele dwara hi kiya gaya ho dhanyavad jai hind jai bharat

आपका प्रश्न धारा 34 क्या है इन हिंदी विस्तार में बताएं आपको बता दें भारतीय दंड संहिता की ध

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  535
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
धारा 34 क्या है ; dhara 34 ; धारा 34 ; 34 ipc in hindi ; dhara 34 kya hai ; ipc 34 in hindi ; 34 dhara ; dhara 34 in hindi ; 34 धारा ; dhara 34 kya hai in hindi ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!