कॉमर्स की खोज किसने की और कब की थी?...


user

Janhwee Mall

Teacher (B.com)

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्रशंसा की कमर की खोज किसने और कब की थी और जहां तक हम पढ़ते हैं अपनी व्यवस्था में छोटे से पढ़ा जाता है बहुत लोगों ने कई डेट से होंगे बच्चों को ने किसी विदेशी को बताया होगा लेकिन जहां तक नहीं था आठ निर्भरता के बाद दो अपनी जो प्रक्रिया उन्होंने शुरू कि वह बाद में रिटर्न आ सकता हो सकता बढ़ने लगी बड़ी आवश्यकता हो गई कि हम क्यों ना उसे रिकॉर्ड करके कहीं सुरक्षित रखें यह हमारी व्यवस्था में एक लंबे समय से चला आ रहा है हम इसे किसी की मस्ती की उपज नहीं कह सकते हैं यह किसी की आवश्यकता थी तू लोग अपनी अलग-अलग वीडियो से अलग-अलग तरीकों से रखते थे आप जिस तरह होंगी पढ़ते हैं ना कि हर स्थानीय भाषाओं में लिखी जाती थी अलग अलग तरीके से लिखी जाती थी अपने अपने तरीके से लिखी जाती थी जिसे हम राज्य के पास आओ देख ले तो हर जगह अलग-अलग बोला जाता है इसी तरह हमारे यहां जो था हर जगह अपना अपना अलग नियम था कि हम कैसे करेंगे कैसे अपने काउंटिंग कर रखेंगे कैसे हो अपने रिकॉर्ड कर रखेंगे फिर बाद में जाकर भारती बजाता प्रणाली को मान्यता दी गई भारतीय भाई का था प्रणाली को जवाब देखेंगे ना फिटकरी और 500 ईसा पूर्व पहले इसका उद्गम हुआ था लेकिन तब हम इतना टेक्नोलॉजी से जुड़े हुए नहीं थे हम किसी साथियों को भी रिकॉर्ड नहीं रख सकते थे लंबे समय तक हम डिजिटल भी नहीं थे यह सारी समस्या थी तो यह भर्ती परीक्षा प्रणाली के जनक को पता लगाना मुश्किल है कि किलो किसने किया था या इसी मानक रखा गया था तो सबसे पहले किस किए और कांटा बाई को प्रधानता दी गई थी तो यह अवस्था हमारे पास मौजूद न होने के कारण हम इसे नहीं कह सकते लेकिन हम कई लोग मानते होंगे कि यह जो विकास पचोरी जी हां 1494 इंजीनियरिंग की शुरुआत की थी तो थोड़ा सा की जानकारी के लिए बता दें कि भारतीय पर काटा प्रणाली जो है उसी को लुकास में चोली ने डबल एंट्री सिस्टम में कन्वर्ट कर दिया था यानी एक हिंदी को इंग्लिश में कन्वर्ट कर दिया था अब जब दोनों को मैचिंग करेंगे ना तो दोनों लगभग से मिलेंगे तो इंग्लिश में कन्वर्ट कर दिए तू ही दुनिया जाने लगी लोग कहते हैं कि हम कह सकते हैं कि दुकान से चोरी ही एकाउंटिंग के जन्मदाता लेकिन जहां तक कॉमर्स की बात आ गई कॉमर्स में केवल एक मजे नहीं आती है कॉमर्स में कई विस्तृत चीजें आती है जिसमें एक तरफ से देखे हैं तो वह एडम स्मिथ ने भी को नाम इसका कहीं ना कहीं माने जाते हैं फादर कह जाते हैं कि सारी चीजें हैं तो मेरा जहां तक मानना है हम अब किसी एक कृति और एक डेट को नहीं कह सकते कि कमर की खोज किसने की क्योंकि हमारी व्यवस्था में हमारी जरूरतों के हिसाब से लंबे समय से चला आ रहा है

prashansa ki kamar ki khoj kisne aur kab ki thi aur jaha tak hum padhte hain apni vyavastha me chote se padha jata hai bahut logo ne kai date se honge baccho ko ne kisi videshi ko bataya hoga lekin jaha tak nahi tha aath nirbharta ke baad do apni jo prakriya unhone shuru ki vaah baad me return aa sakta ho sakta badhne lagi badi avashyakta ho gayi ki hum kyon na use record karke kahin surakshit rakhen yah hamari vyavastha me ek lambe samay se chala aa raha hai hum ise kisi ki masti ki upaj nahi keh sakte hain yah kisi ki avashyakta thi tu log apni alag alag video se alag alag trikon se rakhte the aap jis tarah hongi padhte hain na ki har sthaniye bhashaon me likhi jaati thi alag alag tarike se likhi jaati thi apne apne tarike se likhi jaati thi jise hum rajya ke paas aao dekh le toh har jagah alag alag bola jata hai isi tarah hamare yahan jo tha har jagah apna apna alag niyam tha ki hum kaise karenge kaise apne counting kar rakhenge kaise ho apne record kar rakhenge phir baad me jaakar bharati bajata pranali ko manyata di gayi bharatiya bhai ka tha pranali ko jawab dekhenge na fitkari aur 500 isa purv pehle iska udgam hua tha lekin tab hum itna technology se jude hue nahi the hum kisi sathiyo ko bhi record nahi rakh sakte the lambe samay tak hum digital bhi nahi the yah saari samasya thi toh yah bharti pariksha pranali ke janak ko pata lagana mushkil hai ki kilo kisne kiya tha ya isi maanak rakha gaya tha toh sabse pehle kis kiye aur kanta bai ko pradhanta di gayi thi toh yah avastha hamare paas maujud na hone ke karan hum ise nahi keh sakte lekin hum kai log maante honge ki yah jo vikas pachori ji haan 1494 Engineering ki shuruat ki thi toh thoda sa ki jaankari ke liye bata de ki bharatiya par kaata pranali jo hai usi ko lucas me choli ne double entry system me convert kar diya tha yani ek hindi ko english me convert kar diya tha ab jab dono ko matching karenge na toh dono lagbhag se milenge toh english me convert kar diye tu hi duniya jaane lagi log kehte hain ki hum keh sakte hain ki dukaan se chori hi accounting ke janmadata lekin jaha tak commerce ki baat aa gayi commerce me keval ek maje nahi aati hai commerce me kai vistrit cheezen aati hai jisme ek taraf se dekhe hain toh vaah edm smith ne bhi ko naam iska kahin na kahin maane jaate hain father keh jaate hain ki saari cheezen hain toh mera jaha tak manana hai hum ab kisi ek kriti aur ek date ko nahi keh sakte ki kamar ki khoj kisne ki kyonki hamari vyavastha me hamari jaruraton ke hisab se lambe samay se chala aa raha hai

प्रशंसा की कमर की खोज किसने और कब की थी और जहां तक हम पढ़ते हैं अपनी व्यवस्था में छोटे से

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  395
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!